home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर : जानिए कैंसर की इस अडवांस्ड स्टेज के बारे में!

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर : जानिए कैंसर की इस अडवांस्ड स्टेज के बारे में!

हमारे शरीर में कैंसर की शुरुआत तब होती है, जब शरीर में कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से बढ़ने लगती हैं। कोलोरेक्टल कैंसर को कोलन कैंसर या रेक्टल कैंसर भी कहा जाता है। कोलन और रेक्टम में टिश्यू की चार परतें होती हैं। कोलोरेक्टल कैंसर की शुरुआत लार्ज इंटेस्टाइन की वॉल्स की सबसे भीतरी परत में होती है। अधिकांश कोलोरेक्टल कैंसर छोटे पॉलीप्स से शुरू होते हैं। ये पॉलिप्स, कोशिकाओं का एक समूह होते हैं। समय के साथ, इनमें से कुछ पॉलीप्स कैंसर में विकसित होने लगते हैं। यह कैंसर पहले लार्ज इंटेस्टाइन की वॉल में, फिर आसपास के लिम्फ नोड्स में और उसके बाद पूरे शरीर में फैल जाता है। आज हम बात करने वाले हैं स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) के बारे में। जानिए इस कैंसर और इसके उपचार के बारे में विस्तार से।

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर क्या हैं? (Stage4 Colorectal Cancer)

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) तब होता है जब कोलन में कैंसर अन्य टिश्यूज और अन्य अंगों में फैलता है या मेटास्टेसिस (Metastasis) करता है। कोलन कैंसर अक्सर लंग्स में फैलता है, लेकिन यह फेफड़ों, लिम्फ नोड्स या एब्डोमिनल कैविटी की परत तक भी पहुंच सकता है। कोलोरेक्टल कैंसर की स्टेजेस के बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी हैं। इससे कैंसर कितना फैला है और इसके उपचार के बारे में जानने में मदद मिलती है।

कोलोरेक्टल कैंसर को जिस स्टेज पर यह डिस्कवर होता है उसके अनुसार वर्णित किया जा सकता है। इसकी विभिन स्टेजेस के अधिकतर में उपचार में सर्जरी शामिल होती है। लेकिन, कुछ ट्यूमर में कीमोथेरेपी या अन्य रेडिएशन का प्रयोग भी किया जा सकता है। स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) को कई सब स्टेजेस में बांटा गया है, जो इस प्रकार हैं:

और पढ़ें : Colorectal Cancer: कोलोरेक्टल कैंसर क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

  • Stage 4A (Stage 4A): स्टेज 4A का अर्थ है कि कैंसर एक ऐसी जगह या अंग तक पहुंच गया है, जो कोलन या रेक्टम के नजदीक नहीं है जैसे लिवर, लंग्स ओवरी या अन्य दूर के लिम्फ नोड।
  • स्टेज 4B (Stage 4B): इसका अर्थ है कि कैंसर एक या एक से अधिक भागों और ऑर्गन तक पहुंच चुका है, जो कोलन या रेक्टम के नजदीक नहीं है।
  • स्टेज 4C (Stage 4C) : इसमें कैंसर टिश्यू से दूर के भागों में फैल चुका होता है जो पेट की वॉल्स को लायन करती हैं और दूसरे हिस्सों या अंगों तक पहुंच जाते हैं। जानिए, स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) के निदान किस प्रकार संभव है?

कोलोरेक्टल कैंसर के बारे में जानें इस (3-D) मॉडल के माध्यम से


और पढ़ें : घर पर कैसे करें कोलोरेक्टल या कोलन कैंसर का परीक्षण?

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर का निदान (Diagnosis of Stage4 Colorectal Cancer)

कोलोरेक्टल कैंसर के निदान के लिए सब्र की जरूरत होती है। डॉक्टर कैंसर को पहचानने और इसकी सही स्थिति के बारे में जानने के लिए कुछ टेस्ट कराने के लिए कह सकते हैं। जब डॉक्टर कैंसर को पहचान लेते हैं तो वो यह देखने के लिए और अधिक टेस्ट्स का उपयोग करेंगे कि क्या यह फैल गया है या नहीं। कोलोरेक्टल कैंसर के निदान में सहायता करने वाले टेस्ट और प्रक्रियाओं में यह सब शामिल हैं:

इन जरूरी टेस्ट्स को करने के बाद डॉक्टर इसके उपचार के बारे में निर्धारित करेंगे। जानिए किस तरह से हो सकता है इसका उपचार?

Stage 4 Colorectal Cancer

और पढ़ें : Small intestine cancer: छोटी आंत का कैंसर क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर का उपचार कैसे हो सकता है? (Treatment of Stage4 Colorectal Cancer)

इस कैंसर की अन्य स्टेजेस की तुलना में स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर के उपचार के विकल्प सीमित होते हैं। लेकिन, इस स्टेज में भी उपचार के लिए डॉक्टर कई चीजों को ध्यान में रखते हैं। जिनमें यह किस अंग में फैला है और ट्यूमर का आकार आदि शामिल हैं। जानिए, स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) के उपचार के विकल्पों के बारे में:

सर्जरी (Surgery)

जब कैंसर्स सेल्स (Cancerous Cells ) दूर के अंगों और टिश्यूज में फैल जाती हैं, तो सर्जरी से भी कैंसर के ठीक होने की संभावना नहीं होती है। हालांकि, कुछ मामले ऐसे भी होते हैं जिनमें सर्जरी एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। अगर स्कैन से यह पता चलता है कि कैंसर केवल कुछ ही छोटे भागों में फैला है, तो सर्जरी की जा सकती है। सर्जरी में कोलन और उसके आसपास के लिम्फ नोड्स के भागों का रिमूवल शामिल है। सर्जरी टिश्यू के उन क्षेत्रों को हटा सकती है, जिनमें कैंसर फैल गया है।

डॉक्टर आमतौर पर सर्जरी से पहले या बाद में कीमोथेरेपी की भी सलाह देंगे। अगर ट्यूमर सेल रिमूव करने के लिए बहुत बड़ा है या बहुत से ट्यूमर सेल्स हैं, तो डॉक्टर सर्जरी से पहले कीमोथेरेपी की सलाह दे सकते हैं। यदि कैंसर के विकास से कोलन में बाधा आने की संभावना है या यह पहले से ही इसे ब्लॉक कर रहा है, तो भी डॉक्टरों को अतिरिक्त सर्जिकल प्रोसेसेज करने की आवश्यकता हो सकती है। कुछ मामलों में कम इनवेसिव सर्जरी जैसे स्टंट डालना भी मुमकिन है। यही नहीं , डॉक्टर डायवर्टिंग कोलोस्टॉमी (Diverting Colostomy) की सलाह भी दे सकते हैं।

और पढ़ें : घर पर कैसे करें कोलोरेक्टल या कोलन कैंसर का परीक्षण?

कीमोथेरेपी (Chemotherapy)

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) से पीड़ित अधिकतर लोगों को कीमोथेरेपी और खास टार्गेटेड थेरेपीज भी दी जा सकती हैं। ताकि कैंसर को बढ़ने और इसके लक्षणों को कम करने में मदद मिले। इसके अलावा ट्रीटमेंट्स में टार्गेटिंग ड्रग भी शामिल है , जिसमें वैस्कुलर एंडोथेलियल ग्रोथ फैक्टर (Vascular Endothelial Growth Factor) पाथवे या द एपिथेलियल ग्रोथ फैक्टर रिसेप्टर (The Epithelial Growth Factor Receptor) पाथवे शामिल है। स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) की स्थिति में डॉक्टर कई उपचारों की सलाह दे सकते हैं। यदि कैंसर, प्राथमिक उपचार का जवाब नहीं देता है, तो डॉक्टर उस उपचार को रोक सकते हैं और इसके बजाय दूसरा उपचार शुरू कर सकते हैं।

रेडिएशन थेरेपी (Radiation Therapy)

डॉक्टर स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) में रेडिएशन थेरेपी की सलाह भी दे सकते हे ताकि लक्षणों जैसे दर्द और बेचैनी को कम या दूर करने में मदद मिले। इस उपचार से ट्यूमर सिकुड़ सकता है लेकिन इसका इलाज नहीं हो सकता।

और पढ़ें : एक या दो नहीं, बल्कि इतनी तरह की हो सकती है ब्रेन ट्यूमर रेडिएशन थेरेपी!

हिपेटिक आर्टरी इन्फ्यूजन (Hepatic Artery Infusion)

हिपेटिक आर्टरी इन्फ्यूजन का प्रयोग कोलोरेक्टल कैंसर से पीड़ित उन लोगों के लिए इलाज हो सकता है, जिनके लिवर में कैंसर फैल जाता है। हिपेटिक आर्टरी इन्फ्यूजन एक प्रकार की रीजनल कीमोथेरेपी है, जिसमें एक कीमोथेरेपी दवा को सीधे लिवर में हिपेटिक आर्टरी तक पहुंचाया जाता है। इस प्रक्रिया में हेल्दी कोलन सेल्स को नुकसान पहुंचाए बिना कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने में मदद कर सकता है।

और पढ़ें : स्टेज 2 कोलोरेक्टल कैंसर : कितनी घातक हो सकती है कैंसर की यह स्टेज?

अबलेशन या एंबोलाइजेशन (Ablation or Embolization)

अबलेशन या एंबोलाइजेशन उपचार उन लोगों के लिए सही रहता है, जिन्हें कोलोरेक्टल कैंसर मेटास्टैटिक या कोलोरेक्टल कैंसर के फिर से होने की संभावना रहती है। एब्लेशन में रेडियो फ्रीक्वेंसीज, मायक्रोवेव्स का प्रयोग किया जाता है जिसे पर्क्यूटेनियस इथेनॉल इंजेक्शन (Percutaneous Ethanol Injection) कहा जाता है। जबकि एम्बोलिज़ेशन के दौरान, डॉक्टर ब्लड वेसल्स में पदार्थों को इंजेक्ट करेंगे ताकि कोलन में कैंसर सेल्स में रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध करने या कम करने का प्रयास किया जा सके।

और पढ़ें : जानिए स्टमक कैंसर की चौथी स्टेज (Stage 4 stomach cancer) पर कैसे होता है मरीज का इलाज

पॉलिएटिव थेरेपी (Palliative Therapy)

अगर कोलोरेक्टल कैंसर दूसरे ऑर्गन या टिश्यूज तक फैल चुका हो तो सर्जरी अधिक काम नहीं आती है। ऐसे में अन्य उपचारों से आराम तो मिलता है लेकिन इनसे कुछ ऐसे लक्षण पैदा हो सकते हैं। जिससे व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता बदतर हो जाती है। ऐसे में पीड़ित व्यक्ति जीवन को अधिक आरामदायक बनाने की कोशिश करने के लिए पॉलिएटिव थेरेपी का विकल्प चुन सकता है। पॉलिएटिव थेरेपी में आमतौर पर दर्द को प्रबंधित करने और किसी व्यक्ति के लक्षणों को कम करने के तरीके खोजना शामिल होता है, ताकि वे लंबे समय तक आराम से रह सकें।

कोलोरेक्टल कैंसर के उपचार के कई तरीके मौजूद हैं जिसमे सर्जरी और कीमोथेरेपी शामिल है। लेकिन, लेट स्टेज कैंसर में लोग मेडिकल ट्रीटमेंट के साथ पैलिएटिव कैंसर को भी चुनते हैं। अगर किसी व्यक्ति में स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) का निदान हुआ है तो मेडिकल टीम के साथ बात कर के अपने लिए सबसे बेहतर उपचार को चुनना चाहिए।

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर

Quiz : कैंसर के बारे में कितना जानते हैं आप? क्विज से जानें

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी (American Cancer Society) के अनुसार एडवांस्ड कैंसर के लिए रेडिएशन थेरेपी का प्रयोग किया जा सकता है। ताकि ,कोलन में कैंसर के लक्षणों से राहत और छुटकारा पाया जा सके जैसे दर्द। इसे शरीर के अन्य भागों जिसमे कैंसर फैला हुआ हो जैसे फेफड़े और बोन आदि के उपचार के लिए भी प्रयोग किया जाता है। इससे ट्यूमर को शरिंक किया जा सकता है। अगर डॉक्टर आपको रेडिएशन थेरेपी (Radiation Therapy) की सलाह देते हैं तो इस उपचार के उद्देश्य को समझना जरूरी है।

कोलोरेक्टल कैंसर महिलाओं को पुरुषों दोनों को समान रूप से प्रभावित कर सकता है। यह पॉलीप्स नामक प्रीकैंसर्स ग्रोथस (Precancerous Growths) से विकसित होता है। कोलोरेक्टल कैंसर के विकास को रोकने के लिए इन पॉलीप्स को हटाना सबसे प्रभावी तरीका है। अब जानिए कैसे बचा जा सकता है कोलोरेक्टल कैंसर से?

और पढ़ें : Colon polyps: कोलन पॉलीप्स क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कोलोरेक्टल कैंसर के बचाव कैसे संभव है? (Prevention of Stage4 Colorectal Cancer)

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) के बारे में तो आप जान ही गए होंगे। हालांकि कैंसर से बचाव संभव नहीं है लेकिन कुछ तरीकों से न केवल आप कैंसर की संभावना को कम कर सकते हैं। बल्कि, अगर आप इससे पीड़ित हैं तो आपको जल्दी रिकवर होने में भी मदद मिल सकती है। जानिए कौन से हैं यह तरीके:

  • नियमित स्क्रीनिंग कराएं (Regular Screening) : कैंसर के जल्दी निदान के लिए नियमित स्क्रीनिंग जरूरी है। खासतौर पर अगर आपको इसके होने का रिस्क अधिक हो।
  • सही खाएं (Eat Right): संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए आपको सही और पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए। अपने आहार में फैट की मात्रा को कम रखें। अपने आहार में फल और सब्जियों को अधिक मात्रा में रखें। इसके साथ ही कैल्शियम को आहार में शामिल करें। क्योंकि, कैल्शियम पोलिप्स के ग्रोथ रेट को कम कर सकते हैं। अपने डॉक्टर से इस बारे में अवश्य पूछें।
  • नियमित व्यायाम करें (Exercise) : रोजाना कुछ समय शारीरिक गतिविधियों जैसे व्यायाम, योगा या सैर आदि के लिए अवश्य निकालें।
  • स्मोकिंग और एल्कोहॉल से बचें (Avoid Smoking and Alcohol): स्मोकिंग और एल्कोहॉल का सेवन कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकता है, इसलिए इनसे बचें।
  • तनाव से बचें (Stay away from Stress) : तनाव भी कैंसर की जटिलताओं को बढ़ा सकता है इसलिए इससे दूर रहने की कोशिश करे। इसके लिए योग या मैडिटेशन करें, अपने परिवार व दोस्तों के साथ समय बिताएं और डॉक्टर की राय लेना न भूलें।

स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर

और पढ़ें : कोलोरेक्टल कैंसर की पहली स्टेज में ऐसे होता है मरीज का ट्रीटमेंट!

जिन लोगों को स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर (Stage4 Colorectal Cancer) का जोखिम अधिक होता, उन्हें डॉक्टर नियमित रूप से स्क्रीनिंग कराने की सलाह देते हैं। ताकि, इस समस्या का निदान जल्दी हो सके और सही समय पर इस कैंसर का उपचार हो सके। जल्दी निदान और उपचार से जल्दी रिकवर होने में भी मदद मिलती है। रोगी को अपने ट्रीटमेंट के बारे में भी डॉक्टर से पूरी जानकारी अवश्य लेनी चाहिए। इसके साथ ही हेल्दी आदतों से भी आपको अपना सामान्य जीवन जीने में मदद मिल सकती है। कैंसर का कोई भी लक्षण नजर आने या कोई भी समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड