home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

इचिंग यानी खुजली को न करें नजरअंदाज, क्योंकि यह हो सकती हैं कैंसर की निशानी!

इचिंग यानी खुजली को न करें नजरअंदाज, क्योंकि यह हो सकती हैं कैंसर की निशानी!

खारिश यानी इचिंग के कई कारण हो सकते हे जैसे ड्राय स्किन, किसी इंसेक्ट का काटना, एलर्जी आदि। आमतौर पर, खुजली होना सामान्य हैं हालांकि कई बार इसकी वजह कई हेल्थ या स्किन कंडीशंस भी हो सकती हैं। किंतु, क्या आप जानते हैं कि जिस इचिंग को हम सामान्य मान रहे हैं, उसका कारण कैंसर भी हो सकता हैं? सुनने में थोड़ा अजीब और डरावना लग सकता हैं, लेकिन यह बिलकुल सच हैं। आज हम इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) के बारे में बात करेंगे। जानिए इची स्किन के कौन से कारण हो सकते हैं और कैसे बचा जा सकता है इचिंग की इस समस्या से।

क्या कैंसर के कारण खारिश हो सकती हैं? (Cancer cause Itching)

इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) के बारे में जानने से पहले हम यह जानते हैं कि क्या कैंसर इची स्किन का कारण सकता हैं? दरअसल कैंसर से संबंधित खारिश भी वैसी ही होती है जैसे स्किन कंडीशंस और अन्य बिनाइन के कारण होने वाली खुजली। हालांकि, इसमें कुछ अंतर भी है। इसके लक्षणों पर आपको ध्यान देना चाहिए, ताकि सही समय पर इन्हें पहचाना जा सके। कैंसर से जुड़ी इचिंग की विशेषताएं इस प्रकार हैं:

और पढ़ें : क्या आप जानते है कि एनीमिया और ब्लड कैंसर हैं ब्लड डिसऑर्डर्स के प्रकार!

  • पानी के संपर्क में आने पर इचिंग होना (Itching when Exposed to Water)
  • रैश और हायव्स का न होना (The Absence of a Rash or Hives)
  • अन्य लक्षण जैसे पीलिया होना यानी त्वचा का पीला होना (Presence of Other Symptoms such as Jaundice)
  • लिम्फोमा के लक्षण होना जैसे बुखार, वजन कम होना अत्यधिक पसीना आना (Symptoms of Lymphoma Like Fever, Weight Loss, and Drenching Night Sweats)
  • इसके अलावा, कैंसर से जुड़ी खारिश निचले पैरों और छाती पर सबसे अधिक महसूस होती है और इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) के कारण जलन भी हो सकती हैं।

कैंसर के कारण खारिश होने के क्या कारण हैं?

ऐसी कई चीजें हैं, जिनके कारण इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) को बढ़ावा मिलता हैं। जैसे शरीर में कुछ नर्व एंडिंग (Nerve Ending) का होना, जो इचिंग का कारण बन सकती हैं जैसे पैन रिसेप्टर्स (Pain Receptors)। सामान्यतया जिस भी चीज से नर्व एंडिंग्स को नुकसान होता है, वो खारिश की वजह बन सकती है। इसके कुछ कारण इस प्रकार हैं:

सूजन (Inflammation)

कुछ कैंसर जैसे स्किन कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर जैसे इंफ्लेमेटरी ब्रेस्ट कैंसर, पगेट’स डिजीज और कुछ ऐसे कैंसर जो त्वचा पर फैलते हैं तो उनसे त्वचा और म्यूकस मेम्ब्रेन (Mucous membranes) प्रभावित होती हैं। यह कैंसर खुजली का स्पष्ट कारण है। सूजन भी वलवर (Vulvar) और गुदा (Anal) कैंसर से जुड़ी खारिश का कारण बन सकती है।

बायल साल्ट्स का बनना (Build-Up of Bile Salts)

बायल डक्ट्स की रुकावट या लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने से त्वचा में बायल साल्ट्स का निर्माण हो सकता है। इसकी वजह से भी अक्सर बहुत अधिक इचिंग होती है। यह ल्यूकेमिया (Leukemias) और लिम्फोमा (Lymphoma) , एब्डोमिनल कैंसर (Abdominal Cancers) जैसे लिवर और गॉलब्लेडर या ऐसे कैंसर जो लिवर से फैलते हैं, उन के कारण हो सकता है। कई बार यह बायल साल्ट्स पीलिया से जुड़े भी हो सकते हैं। बायल साल्ट्स का बनना इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) का एक कारण हो सकता हैं।

केमिकल्सका स्त्राव Secretion of Chemicals

ट्यूमर द्वारा स्रावित पदार्थों या ट्यूमर के कारण शरीर द्वारा रिलीज्ड पदार्थ, इचिंग का कारण हो सकते हैं। यह खारिश आमतौर पर टांगों पर गंभीर हो सकती है। इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) के कारणों में साइटोकिन्स (Cytokines), सब्सटांस पी (Substance P), न्यूरोपेप्टाइड (Neuropeptides), प्रोस्टाग्लैंडिंस (Prostaglandins) आदि शामिल हैं। कुछ केमिकल सीधे तौर पर नर्व एंडिंग पर काम करते हैं जिससे खुलजी होती है। हालांकि, अन्य मैसट सेल्स (Mast Cells) और अन्य तंत्रों द्वारा हिस्टामाइन का रिलीज भी खुजली की वजह बन सकते हैं।

और पढ़ें : कौन से हैं दुर्लभ कैंसर? जानिए इनके उपचार के बारे में विस्तार से!

हॉर्मोन्स में बदलाव (Hormonal Changes)

कैंसर या कैंसर के उपचार से जुड़े हार्मोनल बदलाव कुछ मामलों में इचिंग का कारण बन सकता है। महिलाओं में मेनोपॉज के कारण ड्रायनेस हो सकती है, जो खुजली की वजह बन सकती हैं। यही नहीं, हार्मोनल बदलाव के कारण अचानक गर्मी महसूस हो सकती है। यह गर्मी भी पसीने और खारिश का कारण बन सकती है

अन्य कारण (Other Reasons)

स्किन कैंसर (Skin Cancer) के कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं। जैसे जब मेस्ट सेल्स (Mast Cells) कुछ कैंसरस के संपर्क में आते हैं (जब वह पानी में होते हैं) तो ओवरएक्टिव हो सकते हैं। यह ब्लड रिलेटेड कैंसर और मायलोप्रोलिफेरेटिव डिसऑर्डर (Myeloproliferative Disorders) में होना सामान्य है।

कौन से हैं वो कैंसर, जो खारिश का कारण बन सकते हैं? (Cancers That May Cause Itching)

जैसा की पहले ही बताया गया है कि कुछ इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) ऐसे भी हैं, जिनमें अन्य कैंसर की तुलना में इचिंग की समस्या अधिक होती है। यह खुजली कभी-कभी गंभीर भी हो सकती है और कई बार यह गर्म पानी से स्नान या शॉवर लेने के बाद ही होती है। यह कुछ इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) इस प्रकार हैं:

ल्यूकेमिया, लिम्फोमास और मल्टीपल मायलोमा (Leukemias, Lymphomas and Multiple Myeloma)

किसी भी तरह का ब्लड कैंसर इचिंग का कारण बन सकता है। लेकिन इनमें ल्यूकेमिया (Leukemia) और होडग्किन’स लिम्फोमा (Hodgkin’s Lymphoma) सामान्य है।

स्किन कैंसर (Skin Cancer)

स्किन कैंसर सबसे आम इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) है। मेलेनोमा की तुलना में बेसल सेल कार्सिनोमा (Basal Cell Carcinoma) और स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा (Squamous Cell Carcinoma) के साथ खारिश की समस्या होना सामान्य है।

वलवर कैंसर और एनल कैंसर (Vulvar Cancer and Anal Cancer)

वलवर और योनि या गुदा क्षेत्र में खारिश किसी अन्य समस्या के कारण भी हो सकती है, लेकिन कई बार यह कैंसर के कारण भी होती है।

ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer)

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण के रूप में खुजली होना आम नहीं है, लेकिन ऐसा हो सकता है। ब्रेस्ट कैंसर के अधिक सामान्य प्रकारों के विपरीत, इन्फ्लामेट्री स्तन कैंसर अक्सर शुरू में रैशेज या ब्रेस्ट इंफेक्शन की तरह दिखता है। कई बार यह लक्षण खारिश और छोटे रैशेज से शुरू होते हैं लेकिन बाद में यह समस्या बढ़ सकती है।

इची स्किन कैंसर

लिवर, बायल डक्ट, पैंक्रियाटिक या गॉलब्लेडर कैंसर (Liver, Bile Duct, Pancreatic, and Gallbladder Cancers)

ऐसा कोई भी कैंसर जो बायल डक्ट के साथ इंटरफेयर करता है, वो त्वचा में बायल साल्ट के बनने का कारण हो सकते हैं। यह समस्या पैंक्रियाटिक कैंसर (Pancreatic Cancer) में सामान्य है जो अग्नाशय में होता है

मेटास्टेटिक कैंसर (Metastatic Cancer)

मेटास्टेटिक कैंसर के कारण भी इचिंग हो सकती है। महिलाओं में, ब्रेस्ट कैंसर स्किन मेटास्टेस का सबसे आम कारण है। वहीं पुरुषों में, फेफड़े का कैंसर सबसे आम है। अन्य कुछ कैंसर त्वचा में भी फैल सकते हैं, जैसे पेट का कैंसर। लिवर मेटास्टेसिस से भी इचिंग हो सकती है। यह तो थे कुछ इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) लेकिन, कैंसर ट्रीटमेंट भी खुजली का कारण बन सकते हैं। आइए, अब जानते हैं इनके बारे में।

और पढ़ें : जानिए स्टमक कैंसर की चौथी स्टेज (Stage 4 stomach cancer) पर कैसे होता है मरीज का इलाज

कौन से कैंसर ट्रीटमेंट के कारण खारिश होती है? (Cancer treatments cause itching)

डेना-फर्बर कैंसर इंस्टिट्यूट (Dana Farber Cancer Institute) के अनुसार कुछ कैंसर उपचार भी खारिश, रैशेज और कई अन्य समस्याओं का कारण बन सकते हैं। जो पूरे शरीर में हो सकते हैं या किसी एक अंग को भी प्रभावित कर सकते हैं। इचिंग का एक कारण कैंसर ट्रीटमेंट के कारण होने वाला एलर्जिक रिएक्शन भी हो सकता है। इन उपचारों में कीमोथेरेपी या इम्यूनोथेरेपी भी शामिल है। यह कैंसर ट्रीटमेंट इस प्रकार हैं:

  • कीमोथेरेपी (Chemotherapy)
  • रेडिएशन थेरेपी (Radiation Therapy)
  • बोरटेज़ोमिब (Bortezomib)
  • इंटरफेरॉन्स (interferons)
  • इंटरल्यूकीन-2 (Interleukin-2)
  • इम्यूनोथेरेपी (Immunotherapy)

ब्रेस्ट कैंसर के लिए प्रयोग होने वाली हॉर्मोन थेरेपी (Hormone Therapy) भी इचिंग का कारण हो सकती है।

किन स्थितियों में डॉक्टर की सलाह अनिवार्य है?

अगर आपको लगता है कि आपकी इची स्किन कैंसर (Itchy skin Cancer) के कारण है तो तुरंत डॉक्टर की सलाह जरूरी है ताकि वो सही समय पर आपकी इचिंग का कारण जान सकें और उपचार करें। लेकिन, कुछ अन्य परिस्थितियों में भी आपको जल्दी से जल्दी मेडिकल हेल्प लेनी चाहिए, जैसे:

  • अगर यह इचिंग दो या दो से अधिक दिन से हो (Itching lasts for more Than Two Days)
  • पेशाब का रंग गहरा हो (Your Urine is Dark)
  • त्वचा पीली हो जाए (Skin turns Yellowish)
  • त्वचा से पस निकले और दुर्गंध आए (Pus coming from the Skin with an Unpleasant Odor)
  • इचिंग के कारण आपका सोना मुश्किल हो रहा हो (Unable to Sleep through the Night due to Itching)
  • आपको इतनी इचिंग हो रही हो कि घाव बन जाएं या ब्लीडिंग हो (Wound or Bleeding Because of Itching)
  • किसी क्रीम का दवाई के प्रयोग से रैशेज बदतर बन जाएं (Rash that Worsens with the Application of Ointments or Creams)
  • आपकी त्वचा चमकदार लाल हो या इसमें फफोले या पपड़ी जमी हो (Skin is Bright Red or has Blisters or Crusts)

इचिंग का निदान (Diagnosis of Itching)

जैसा की आप जानते ही हैं कि अगर आपको खुजली की परेशानी है, तो जरूरी नहीं कि इसकी वजह कैंसर ही हो। ऐसे में समस्या का सही निदान जरूरी है। इचिंग का निदान करने के लिए डॉक्टर आपसे आपकीमेडिकल हिस्ट्री के बारे में जानेंगे और शारीरिक जांच करेंगे, ताकि खारिश का सही कारण पता चल सके। इसके साथ ही डॉक्टर आपको कंप्लीट ब्लड काउंट (Complete Blood Count) और लिवर फंक्शन टेस्ट (Liver Function Test) कराने के लिए भी कह सकते हैं। अगर डॉक्टर को लिम्फोमा, ल्यूकेमिया या मायलोप्रोलिफेरेटिव डिसऑर्डर ( Myeloproliferative Disorder) का संदेह है, तो बोन मेरो टेस्ट भी करा सकते हैं। कई मामलों में इमेजिंग टेस्ट जैसे सिटी स्कैन (CT Scan) या एब्डोमिनल कैंसर के मामले में एब्डोमिनल सिटी स्कैन (Abdominal CT Scan) की सलाह भी दे सकते हैं। इसके साथ ही, अन्य कुछ टेस्ट्स की सलाह भी दी जा सकती है।

इची स्किन कैंसर

कैसे करें इचिंग का उपचार (Treatment of Itching)

खुजली का निदान करने के बाद इसके कारण के अनुसार उपचार संभव है। इचिंग से राहत पाने के लिए कुछ ओवर द काउंटर दवाइयां दी जा सकती हैं। लेकिन कुछ दवाएं कैंसर के उपचार में हस्तक्षेप कर सकती हैं। इसलिए, इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) के उपचार के लिए डॉक्टर की सलाह जरूरी हैं। डॉक्टर आपका कारण के अनुसार उपचार करेंगे। लेकिन इस खारिश से राहत पाने के लिए कुछ आसान तरीके भी अपनाएं जा सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • शरीर में पानी की कमी न होने दें।
  • अच्छे लोशन और क्रीम का प्रयोग करें। इस समस्या से राहत पाने के लिए बेकिंग सोडा और ओटमील का मिश्रण त्वचा पर लगाएं।
  • अगर आपके घर की हवा रूखी है, तो ह्यूमिडिफायर (Humidifier) का प्रयोग करें।
  • नहाने के लिए गुनगुने पानी का प्रयोग करें, गर्म पानी का प्रयोग न करें।

Quiz : कैंसर के बारे में कितना जानते हैं आप? क्विज से जानें

और पढ़ें : स्किन कैंसर के संकेत देते हैं यह लक्षण, भूलकर भी न करें नजरअंदाज

कई बार कैंसर के अलावा खारिश के कारण अन्य भी हो सकते हैं। लेकिन, कुछ मामलों में कैंसर की संभावना को भी खारिज नहीं किया जा सकता। अगर आपको ऐसी खुजली हो रही है। जिसका कारण आपको पता नहीं हैं तो जरूरी हैं डॉक्टर की सलाह लेना ताकि इसका सही कारण पता चल सके। अगर किसी को कैंसर नहीं हैं फिर भी असाधारण इचिंग हो रही हो, तो डॉक्टर इस खुजली को दूर करने के तरीकों के बारे में पूरी जानकारी दे सकते हैं। इची स्किन कैंसर (Itchy Skin Cancer) का संकेत हो सकती है, इसलिए इसे नजरअंदाज न करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
AnuSharma द्वारा लिखित
अपडेटेड 3 weeks ago
x