home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर क्या होता है असर?

मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर क्या होता है असर?

डायबिटीज केयर में प्रकाशित हालिया स्टडी के निष्कर्षों के अनुसार, व्यायाम के दौरान ग्लूकोज होमियोस्टेसिस मेटफॉर्मिन से सकारात्मक रूप से प्रभावित होता है। रिसर्चर्स आगे लिखते हैं कि हमने टाइप 2 डायबिटीज के पेशेंट्स में बिगड़ा हुआ मांसपेशी संकुचन-मीडिएटेड ग्लूकोज अपटेक भी देखा। कोपेनहेगन विश्वविद्यालय में जैव चिकित्सा विज्ञान विभाग और सहयोगियों ने टाइप 2 डायबिटीज वाले प्रतिभागियों का मूल्यांकन किया जो मेटफॉर्मिन ट्रीटमेंट पर थे या जो स्वस्थ नियंत्रणकी तुलना में मेटफॉर्मिन नहीं ले रहे थे। व्यायाम के दौरान ग्लूकोज के स्तर पर मेटफॉर्मिन की भूमिका निर्धारित करने के लिए स्टडी की गई। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर (The Effect of Metformin on Glucose Homeostasis) क्या होता है, इस बारे में आपको जानकारी देंगे।

और पढ़ें: डायबिटीज में फ्राइड खाना हो सकता है नुकसानदेह, इन बातों का रखें ध्यान

मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर (The Effect of Metformin on Glucose Homeostasis)

मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर

व्यायाम के दौरान मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर क्या होता है, इसके संबंध में स्टडी हो चुकी है। डायबिटीज लाइफस्टाइल से संबंधित बीमारी है। डायबिटीज की समस्या होने पर ब्लड में शुगर का लेवल बढ़ने लगता है। ब्लड में शुगर का लेवल कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन नामक हॉर्मोन पैंक्रियाज से रिलीज होता है। जब किसी कारण से यह नहीं बन पाता है, तो ब्लड में शुगर का लेवल बिगड़ जाता है। डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए डॉक्टर लाइफस्टाइल में बदलाव की सलाह देते हैं। कुछ लोगों को इंसुलिन इंजेक्शन भी दिए जाते हैं। अगर लाइफस्टाइल में बदलाव किया जाए और साथ ही खानपान की आदतों को बदला जाए, तो डायबिटीज को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है। डायबिटीज के पेशेंट को रोजाना समय पर दवाएं लेने की सलाह दी जाती है ताकि ब्लड में अचानक से शुगर का लेवल ना बढ़ जाए।

मेटफोर्मिन डायबिटीज में इस्तेमाल की जाने वाली डायबिटीज मेडिसिन है, जो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने का काम करती है।मेटफोर्मिन डाइट और एक्सरसाइज के साथ इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है, जिससे ब्लड में शुगर का लेवल कंट्रोल में रहता है।

मेटफोर्मिन का इस्तेमाल इंसुलिन के साथ ही अन्य मेडिकेशंस के साथ भी किया जा सकता है। इस दवा का इस्तेमाल ऑफ लेबल पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome) को ठीक करने में भी किया जाता है।

और पढ़ें: डायबिटीज में मर्दों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए सिल्डेनाफिल साइट्रेट हो सकती है मददगार!

व्यायाम के दौरान मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर क्या होता है?

स्टडी के दौरान मध्यम व्यायाम के दौरान ग्लूकोज कैनेटीक्स पर मेटफॉर्मिन की भूमिका की जांच की गई। रिजल्ट में ये बात सामने आई कि व्यायाम के दौरान प्लाज्मा ग्लूकोज कॉन्संट्रेशन बदली नहीं। लेकिन लेकिन DM2 में बदलाव आ गया। रिजल्ट को लेकर ये कहा जा सकता है कि व्यायाम के दौरान ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर मेटफोर्मिन का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

एक्सरसाइज और वजन घटाना टाइप 2 डायबिटीज की रोकथाम और उपचार के लिए बहुत जरूरी हैं। शरीर के वजन में कमी का समर्थन करने के अलावा, नियमित रूप से किया जाने वाला व्यायाम स्केलिटन इंसुलिन-मेडिएटेड ग्लूकोज अपटेक को स्पष्ट रूप से बढ़ाता है। नतीजे के तौर पर देखने को मिलता है कि एक्सरसाइज के दौरान टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों में ग्लूकोज होमियोस्टेसिस की नॉलेज, ट्रीटमेंट गाइडलाइन को परिभाषित करते समय अत्यधिक प्रासंगिक है। व्यायाम के दौरान मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर (The Effect of Metformin on Glucose Homeostasis) पॉजिटिव होता है, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। आप चाहे तो इस संबंध में डॉक्टर से भी जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें: एथेनिसिटी और सेक्स का डायबिटीज के मामलों और परिणामों पर असर क्या होता है?

टाइप 2 डायबिटीज में, लिवर ग्लूकोज प्रोडक्शन (HGP) के रेग्युलेशन को बदल दिया जाता है। फास्टिंग स्टेट में ग्लूकोनेोजेनेसिस फ्रेक्शन (fraction of gluconeogenesis) अधिक होता है। ग्लूकोज ट्रेसर स्टडीज में टाइप 2 डायबिटीज के पेशेंट्स में एचजीपी पर मध्यम व्यायाम के प्रभाव पर असंगत डेटा के बारे में जानकारी दी। 1980 के दौरान किए गए दो अध्ययनों से पता चला कि मॉडरेट इंटेसिटी वाले व्यायाम के दौरान, प्लाज्मा इंसुलिन कम नहीं हुआ। मेटफोर्मिन एक बिगुआनाइड है और टाइप 2 डायबिटीज के ट्रीटमेंट में सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली ओरल एंटीडायबिटिक दवा है। मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर (The Effect of Metformin on Glucose Homeostasis) क्या होता है, उम्मीद है कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से जानकारी मिल गई होगी। आइए जानते हैं कि डायबिटीज की बीमारी होने पर दवाओं के सेवन के साथ ही किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

और पढ़ें: डायबिटीज में जामुन के सिरके का सेवन क्या पहुंचाता है लाभ?

डायबिटीज की है समस्या, तो इन बातों का रखें ध्यान!

हमने आपको स्टडी के दौरान मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर (The Effect of Metformin on Glucose Homeostasis) के बारे में जानकारी दी है। आइए जानते हैं कि अगर किसी व्यक्ति को मधुमेह की समस्या है, तो ऐसे में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • डायबिटीज की समस्या है, तो आपको सबसे पहले अपने खानपान में लो ग्लाइसेमिक फूड्स को शामिल करना चाहिए।
  • डाइट में परिवर्तन के साथ ही आपको फिजिकल एक्टिविटी पर भी ध्यान देना चाहिए। आप रोजाना भले ही 30 मिनट लेकिन एक्सरसाइज जरूर करें।
  • शरीर के लिए पर्याप्त मात्रा में नींद बहुत जरूरी होती है। नींद के समय ही शरीर की रिपेयरिंग होती है। अगर आप पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं लेते हैं, तो आपको कई अन्य समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है। बेहतर होगा कि रोजाना 8 से 9 घंटे की नींद जरूरी लें।
  • आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में स्ट्रेस आम समस्या बन गया है। जो लोग अधिक स्ट्रेस लेते हैं, उनमें कई बीमारियां जन्म लेती हैं। अगर आपको भी स्ट्रेस की समस्या रहती है, तो बेहतर होगा कि मेडिटेशन के माध्यम से उसे कम करने का प्रयास करें।
  • डॉक्टर से जानकारी ले कि आपको खाने में किन फूड्स को शामिल करना चाहिए और कौन से फूड्स ब्लड में शुगर के लेवल को कंट्रोल रखने में मदद करते हैं।

कुछ बातों का ध्यान रख आप डायबिटीज की बीमारी को कंट्रोल कर सकते हैं। आपको किसी भी प्रकार की समस्या हो, तो आप डॉक्टर से जानकारी जरूर लें।

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज में माइक्रोएल्बुमिन्यूरिया की स्थिति को कैसे करें मैनेज?

इस आर्टिकल में हमने आपको मेटफोर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर असर (The Effect of Metformin on Glucose Homeostasis) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपकोइस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड