home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए लाइफस्टाइल में बदलाव होता है अहम, इन बातों को क्या जानते हैं आप?

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए लाइफस्टाइल में बदलाव होता है अहम, इन बातों को क्या जानते हैं आप?

हाय कोलेस्ट्रॉल (High cholesterol) का नाम सुनते ही मन में हार्ट संबंधी समस्याओं को लेकर प्रश्न खड़े हो जाते हैं। जी हां! ये सच है कि हाय कोलेस्ट्रॉल के कारण हार्ट संबंधी बीमारियों के खतरे बढ़ जाते हैं। कोलेस्ट्रॉल वैक्स जैसा चिपचिपा पदार्थ होता है, जो हमारे शरीर में पाया जाता है। कुछ फूड्स ऐसे होते हैं, जिनके माध्यम से हमें कोलस्ट्रॉल प्राप्त होता है। हमारे शरीर में दो प्रकार के कोलेस्ट्रॉल होते हैं। एक बुरा कोलस्ट्रॉल और दूसरा अच्छा कोलेस्ट्रॉल। हमारे शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल की जरूरत होती है, क्योंकि यह शरीर की कई गतिविधियों में काम आता है। वहीं बुरा कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए हानिकारक होता है। जहां एक ओर दवाओं का इस्तेमाल कर इसे कंट्रोल किया जाता है। वहीं दूसरी ओर आप रोजमर्रा की लाइफस्टाइल में बदलाव करके भी इसे कम कर सकते हैं। हो सकता है कि आपके मन में यह सवाल आ रहा हो कि कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए किन आदतों को अपनाया जाना चाहिए? आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाली ऐसी आदतों के बारे में जानकारी देंगे, जो आपको हेल्दी रखने के साथ ही कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल करने पर भी मदद करें। जानिए कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव ( Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol) संबंधित कुछ आदतों के बारे में।

और पढ़ें: पोटैटो और कोलेस्ट्रॉल: क्या सही है हाय कोलेस्ट्रॉल की स्थिति में आलू का सेवन करना?

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol)

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव

जैसा कि हमने आपको बताया कि शरीर में अच्छे और बुरे, दोनों ही प्रकार के कोलेस्ट्रॉल पाए जाते हैं। जब शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ जाता है, तो हार्ट संंबंधी बीमारियों का खतरा भी बढ़ने लगता है।

लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (LDL): यह कोलेस्ट्रॉल शरीर को नुकसान पहुंचाता है। इसे ‘खराब’ कोलेस्ट्रॉल कहा जाता है।

अधिक घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (HDL): यह लिपोप्रोटीन (HDL) ब्लड से कोलेस्ट्रॉल को हटा देता है। इसे गुड कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है। इससे शरीर को नुकसान नहीं होता है।

हेल्दी हार्ट या फिर हेल्दी रहने के लिए हमें बहुत मेहनत करने की जरूरत नहीं है। अगर कुछ बातों पर ध्यान दिया जाए, तो शरीर को आसानी से स्वस्थ रखा जा सकता है और कई बीमारियों से बचा भी जा सकता है। जैसा कि हम आपको पहले बता चुके हैं कि कोलेस्ट्रोल का अधिक लेवल शरीर में कई बीमारियों का कारण बनता है। कोलेस्ट्रोल बढ़ने से सबसे पहले हार्ट को समस्या पैदा होती है। अगर आप कोलेस्ट्रॉल को कम करना चाहते हैं, तो आपको रोजाना कुछ बातें अपनानी होंगी। आइए जानते हैं कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol) क्या करने चाहिए।

और पढ़ें: ब्लॉक्ड एब्डॉमिनल आर्टरी और कोलेस्ट्रॉल रिस्क है जोखिम भरा, दोनों बन सकते हैं आपके लिए बड़ी मुसीबत!

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव: रोजाना करें एक्सरसाइज (Do exercise daily)

अगर कोई व्यक्ति स्वस्थ है, तो इसका यह मतलब बिल्कुल भी नहीं है कि उसको एक्सरसाइज की जरूरत नहीं है। सभी लोगों को एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए। रोजाना एक्सरसाइज करने से शरीर में बुरे कोलेस्ट्रोल का लेवल कम होता है और वही अच्छे कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ता है। आप रोजाना 30 से 40 मिनट एक्सरसाइज जरूर करें। अगर आपके पास समय की कमी है, तो आप हफ्ते में तीन से चार बार एक्सरसाइज कर सकते हैं। ऐसा करके आप कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं। अगर आप हार्ट के पेशेंट हैं, तो डॉक्टर से जानकारी लें कि आपको किस तरह की एक्सरसाइज करनी चाहिए और किस तरह की एक्सरसाइज से बचना चाहिए।

और पढ़ें: LDL कोलेस्ट्रॉल को क्यों कहते हैं बुरा कोलेस्ट्रॉल, जानिए इससे जुड़े रिस्क क्या हैं?

एक नहीं सौ बीमारियों की जड़ है ‘मोटापा’

मोटापा (Obesity) एक नहीं बल्कि कई बीमारियों का कारण होता है। अगर आप मोटे हैं तो, आपको डायबिटीज के खतरे (Diabetes) के साथ ही हार्ट संबंधी बीमारियों (Heart diseases) का भी खतरा बढ़ जाता है। मोटापे को कम कर आप कई बीमारियों को दूर कर सकते हैं। अगर आपका वजन अधिक है, तो आप एक्सरसाइज के माध्यम से और अपने डाइट को बदलकर वजन कम कर सकते हैं। वजन कम करने से जहां एक और शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल का लेवल (LDL) कम होता है, वहीं ट्राइग्लिसराइड्स लेवल (Triglyceride levels) भी कम हो जाता है। आप डॉक्टर से इस बारे में पूछें कि आपको डाइट में क्या शामिल करना चाहिए और क्या नहीं। डॉक्टर आपको वजन कम करने के लिए अन्य उपायों के बारे में भी बताएंगे। कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol) में वेट लॉस पर जरूर ध्यान दें।

फ्रूट्स और वेजीटेबल्स न घबराएं!

कहीं आपकी डायट से फ्रूट्स और वेजिटेबल गायब तो नहीं हैं। अगर आपको लगता है कि फ्रूट और वेजिटेबल खाने से इंसान मोटा हो जाता है, तो यह बिल्कुल गलत धारणा है। फ्रूट और वेजिटेबल में बहुत कम मात्रा में फैट होता है। फ्रूट और वेजिटेबल्स में फाइबर, विटामिंस और मिनरल्स भरपूर होते हैं और शरीर की सभी जरूरतों को पूरा भी करते हैं। आपको रोजाना 5 कप फ्रूट्स और वेजिटेबल के खाने चाहिए। यह आपको ऊर्जा से भर देंगे और साथ ही जरूरी कैलोरी भी प्रदान करेंगे लेकिन वजन नहीं बढ़ाएंगे। आपको खाने में कॉर्न, आलू या चावल से दूरी बनानी चाहिए क्योंकि इनमें कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है। कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol) में डायट में फ्रूट्स और सब्जियां शामिल करना न भूलें।

और पढ़ें: कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज: क्या हैं इन व्यायामों के फायदे, जानिए यहां

समझें गुड और बैड फैट के बारे में

आपको गुड फैट और बैड फैट में अंतर समझना होगा। आप डॉक्टर से जानकारी ले सकते हैं कि किन फूड्स में गुड फैट होता है और किन फूड्स में बैड फैट होता है। आपको डेयरी प्रोडक्ट से मिलने वाले फैट की मात्रा को कम करना होगा, वहीं से एनिमल से प्राप्त होने वाले फैट को भी कम मात्रा में लेना होगा। कुछ बातों का ध्यान रख आप अच्छे फैट का सेवन कर सकते हैं। आपको खाने में सैचुरेटेड फैट (Saturated fat) को लिमिट में खाना चाहिए, वहीं ट्रांस फैट पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए। मक्खन, नारियल का तेल, सैचुरेटेड फैट और हायड्रोजनेटेड वेजीटेबल्स फैट , मीट में एनिमल फैट, डेयरी प्रोडक्ट में पाया जाने वाला फैट आदि में सैचुरेटेड और ट्रांस फैट पाया जाता है। आपको इस बारे में डॉक्टर से जानकारी लेनी चाहिए। कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol) के लिए आपको कई जरूरी जानकारी से अपडेट रहना पड़ेगा।

और पढ़ें: हाय कोलेस्ट्रॉल में दूध का सेवन करना चाहिए या नहीं?

स्मोकिंग को कहें ‘न’

क्या आपको पता है आपकी बुरी आदतों के कारण आपके शरीर में बनने वाले अच्छे कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम हो जाता है? अगर आप स्मोकिंग अधिक मात्रा में करते हैं, तो आपके शरीर में बनने वाला अच्छा कोलेस्ट्रॉल (HDL) धीरे-धीरे कम होने लगता है। इस कारण से ब्लैक बुरे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है। अगर आप स्मोकिंग छोड़ देते हैं, तो कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल करने में मदद मिलती है।

इस आर्टिकल में हमने आपको कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Habits That Help Control Cholesterol) के बारे में बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

 

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड