home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन, जानें एक्सपर्ट की राय

डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन, जानें एक्सपर्ट की राय

डायबिटीज आज के समय में सबसे अधिक होने वाली घातक बीमारी है। हर साल इसके लांखों नए केस सामने आते हैं और भारत में वर्तमान समय में कम से कम 63 मिलियन से भी अधिक लोग इस समस्या से प्रभावित हैं। डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिसके होने पर और भी बीमारियों के खतरे अधिक बढ़ जाते हैं। इसलिए डायबिटीज के लेवल का हमेशा कंट्रोल में रहना बहुत जरूरी है। आज हम यहां बात करेंगे डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन (Complete diabetes treatment) के बारे में। डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन की पूरी जानकारी होने पर इसे पूरी तरह से कंट्रोल में रखा जा सकता है। डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन के बारे में जानने से पहले ये जान लेते हैं कि डायबिटीज है क्या और यह किन कारणों से होती है।

और पढ़ें: डायबिटीज पेशेंट के लिए मिक्स्ड मील टॉलरेंस टेस्ट के बारे में जानना है जरूरी!

डायबिटीज (Diabetes) क्या है?

डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन जानने से पहले जान लें कि डायबिटीज है क्या? टाइप 2 डायबिटीज, मधुमेह का सबसे आम प्रकार है और यह एक क्रॉनिक कंडिशन ( Chronic condition) है। इस स्थिति में रोगी के शरीर में रक्त में शर्करा के स्तर बढ़ने लगता है। धीरे-धीरे शरीर रक्त में शर्करा को नियंत्रित करने की क्षमता खो देता है। ऐसा टाइप-2 डायबिटीज के स्तर में होता है। इसमे कोशिकाएं रक्त शर्करा से ऊर्जा का निमार्ण नहीं कर पाती हैं। टाइप 1 मधुमेह (Type 1 diabetes)के विपरीत, टाइप 2 में इंसुलिन (Insulin) का उत्पादन करने के लिए अग्न्याशय होता है, लेकिन कोशिकाएं इसका उपयोग कर नहीं कर पाती हैं। यानि कि जब किसी व्यक्ति को डायबिटीज की बिमारी है, तब उसका शरीर पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है। इस कारण से रक्त में ग्लूकोज जमा होने लगता है।

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज की समस्या है, तो यह व्यायाम आ सकते हैं आपके काम

डायबिटीज के लिए कम्पलीट मेडिकेशन (Complete diabetes treatment)

टाइप 1 डायबिटीज के लिए दवाएं (Medicines for type 1 diabetes)

इंसुलिन (Insulin)

इंसुलिन सबसे आम प्रकार की दवा है जिसका उपयोग टाइप 1 मधुमेह के उपचार में किया जाता है। यदि आपको टाइप 1 मधुमेह है, तो आपका शरीर अपना इंसुलिन नहीं बना सकता है। उपचार का लक्ष्य उस इंसुलिन को बदलना है जिसे आपका शरीर नहीं बना सकता। इंसुलिन का उपयोग टाइप 2 मधुमेह के उपचार में भी किया जाता है। यह इंजेक्शन द्वारा दिया जाता है और विभिन्न प्रकारों में आता है। आपको किस प्रकार के इंसुलिन की आवश्यकता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपका इंसुलिन कितना गंभीर है। विकल्पों में शामिल हैं:

शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन (Short-acting insulin)

नियमित इंसुलिन (हमुलिन और नोवोलिन)

रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन (Rapid-acting insulins)

और पढ़ें: एक्सरसाइज और इंसुलिन रेजिस्टेंस : डायबिटीज पेशेंट एक्सरसाइज से पहले इन बातों का रखें ध्यान

इंसुलिन आइसोफेन (हमुलिन एन, नोवोलिन एन)लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन में शामिल हैं:

  • इंसुलिन डिग्लुडेक (ट्रेसिबा)
  • इंसुलिन डिटैमर (लेवेमीर)
  • इंसुलिन ग्लार्गिन (लैंटस)
  • इंसुलिन ग्लार्गिन (टौजेओ)
  • नोवोलॉग मिक्स 70/30 (इंसुलिन एस्पार्ट प्रोटामाइन-इंसुलिन एस्पार्ट)
  • हेमलोग मिक्स 75/25 (इंसुलिन लिस्प्रो प्रोटामाइन-इंसुलिन लिस्प्रो)
  • हमलोग मिक्स 50/50 (इंसुलिन लिस्प्रो प्रोटामाइन-इंसुलिन लिस्प्रो)
  • Humulin 70/30 (मानव इंसुलिन एनपीएच-मानव इंसुलिन नियमित)
  • नोवोलिन 70/30 (मानव इंसुलिन एनपीएच-मानव इंसुलिन नियमित)
  • Ryzodeg (इंसुलिन डिग्लुडेक-इंसुलिन एस्पार्ट)

और पढ़ेंः टाइप 2 डायबिटीज में मेटफॉर्मिन और एक्सरसाइज एक दूसरे को कर सकती हैं प्रभावित! जानिए कैसे

अमाइलिनोमिमेटिक दवा (Amylinomimetic drug)

प्राम्लिंटाइड (SymlinPen 120, SymlinPen 60) एक अमाइलिनोमिमेटिक दवा है। यह एक इंजेक्शन योग्य दवा है जिसका उपयोग भोजन से पहले किया जाता है।

यह आपके पेट को अपने आप खाली होने में लगने वाले समय में देरी करके काम करता है। यह भोजन के बाद ग्लूकागन स्राव को कम करता है। यह आपके ब्लड शुगर को कम करता है।

और पढ़ें: डायबिटीज पेशेंट के लिए मिक्स्ड मील टॉलरेंस टेस्ट के बारे में जानना है जरूरी!

टाइप 2 मधुमेह के लिए दवाएं (Drugs for type 2 diabetes)

यदि आपको टाइप 2 डायबिटीज है, तो आपका शरीर इंसुलिन बनाता है लेकिन अब इसका ठीक से उपयोग नहीं करता है। आपका शरीर आपके रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य रखने के लिए पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना सकता है। आपके लिए उपचार का लक्ष्य आपके शरीर को आपके इंसुलिन का बेहतर उपयोग करने या आपके रक्त में अतिरिक्त शर्करा से छुटकारा पाने में मदद करना है। टाइप 2 मधुमेह के लिए अधिकांश दवाएं मौखिक दवाएं हैं। हालांकि, कुछ इंजेक्शन के रूप में आते हैं। टाइप 2 मधुमेह वाले कुछ लोगों को इंसुलिन लेने की भी आवश्यकता हो सकती है।

और पढ़ें: प्रोटीन सप्लिमेंट मिथ्स: क्या जिम जाने पर ही आपको पड़ती है प्रोटीन की जरूरत? खेलिए क्विज और जानिए प्रोटीन से जुड़े ये फैक्ट्स

अल्फा-ग्लूकोसिडेस अवरोधक (Alpha-glucosidase inhibitor)

ये दवाएं आपके शरीर को स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ और टेबल शुगर को तोड़ने में मदद करती हैं। यह प्रभाव आपके रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है

सर्वोत्तम परिणामों के लिए, आपको इन दवाओं को भोजन से पहले लेना चाहिए। इन दवाओं में शामिल हैं:

  • एकरबोस (प्रीकोस)
  • माइग्लिटोल (ग्लाइसेट)
  • बिगुआनाइड्स

और पढ़ें: मेटाबॉलिज्म फैक्ट्स: जानिए चयापचय क्या है और उससे जुड़े रोमांचक तथ्य

बिगुआनाइड्स आपके लीवर में बनने वाली शुगर की मात्रा को कम कर देता है। वे कम करते हैं कि आपकी आंतें कितनी चीनी अवशोषित करती हैं, आपके शरीर को इंसुलिन के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती हैं, और आपकी मांसपेशियों को ग्लूकोज को अवशोषित करने में मदद करती हैं। सबसे आम बिगुआनाइड मेटफॉर्मिन (ग्लूकोफेज, मेटफॉर्मिन हाइड्रोक्लोराइड ईआर, ग्लुमेट्ज़ा, रिओमेट, फोर्टामेट) है। मेटफोर्मिन को टाइप 2 मधुमेह के लिए अन्य दवाओं के साथ भी जोड़ा जा सकता है। यह निम्नलिखित दवाओं में एक घटक है:

  • मेटफोर्मिन-एलोग्लिप्टिन (कज़ानो)
  • मेटफोर्मिन-कैनाग्लिफ्लोज़िन (इनवोकामेट)
  • मेटफोर्मिन-डापाग्लिफ्लोज़िन (Xigduo XR)
  • मेटफोर्मिन-एम्पाग्लिफ्लोज़िन (सिनजार्डी)
  • मेटफोर्मिन-ग्लिपीजाइड
  • मेटफोर्मिन-ग्लाइबराइड (ग्लूकोवेंस)
  • मेटफोर्मिन-लिनाग्लिप्टिन (जेंटाड्यूटो)
  • मेटफोर्मिन-पियोग्लिटाज़ोन (एक्टोप्लस)
  • मेटफोर्मिन-रेपैग्लिनाइड (प्रांडीमेट)
  • मेटफोर्मिन-रोसिग्लिटाज़ोन (अवंदामेट)
  • मेटफोर्मिन-सैक्सैग्लिप्टिन (कोम्बिग्लेज़ एक्सआर)
  • मेटफोर्मिन-सीटाग्लिप्टिन (जनुमेट)
  • डोपामाइन एगोनिस्ट
  • ब्रोमोक्रिप्टिन (साइक्लोसेट) एक डोपामाइन एगोनिस्ट है।

यह ठीक से ज्ञात नहीं है कि यह दवा टाइप 2 मधुमेह के इलाज के लिए कैसे काम करती है। यह आपके शरीर में लय को प्रभावित कर सकता है और इंसुलिन प्रतिरोध को रोक सकता है।

और पढ़ें: वर्क फ्रॉम होम के लिए 7 आसान एक्सरसाइज, बढ़े हुए वजन को कम करने के साथ ही देगी स्ट्रेंथ भी!

डाइपेप्टिडाइल पेप्टिडेज़ -4 (डीपीपी -4) अवरोधक
DPP-4 अवरोधक शरीर को इंसुलिन बनाने में मदद करते हैं। वे हाइपोग्लाइसीमिया (निम्न रक्त शर्करा) पैदा किए बिना रक्त शर्करा को कम करके काम करते हैं।

ये दवाएं अग्न्याशय को अधिक इंसुलिन बनाने में भी मदद कर सकती हैं। इन दवाओं में शामिल हैं:

  • एलोग्लिप्टिन (नेसिना)
  • एलोग्लिप्टिन-मेटफोर्मिन (कज़ानो)
  • एलोग्लिप्टिन-पियोग्लिटाज़ोन (ओसेनी)
  • लिनाग्लिप्टिन (ट्रेडजेंटा)
  • लिनाग्लिप्टिन-एम्पाग्लिफ्लोज़िन (ग्लाइक्सांबी)
  • लिनाग्लिप्टिन-मेटफोर्मिन (जेंटाड्यूटो)
  • सैक्सैग्लिप्टिन (ओंग्लीज़ा)
  • सैक्सैग्लिप्टिन-मेटफोर्मिन (कोम्बिग्लीज़ एक्सआर)
  • सीताग्लिप्टिन (जनुविया)
  • सीताग्लिप्टिन-मेटफोर्मिन (जनुमेट और जानुमेट एक्सआर)
  • सीताग्लिप्टिन और सिमवास्टेटिन (जुविसिंक)
  • ग्लूकागन की तरह पेप्टाइड -1 रिसेप्टर एगोनिस्ट (जीएलपी -1 रिसेप्टर एगोनिस्ट)
  • ये दवाएं इन्क्रीटिन नामक प्राकृतिक हार्मोन के समान हैं।

वे बी-सेल की वृद्धि को बढ़ाते हैं और आपका शरीर कितना इंसुलिन का उपयोग करता है। वे आपकी भूख को कम करते हैं और आपका शरीर कितना ग्लूकागन का उपयोग करता है। वे पेट खाली करने को भी धीमा करते हैं।

और पढ़ेंः ग्‍लूटेन फ्री डाइट (Gluten Free Diet) क्‍या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

मधुमेह वाले लोगों के लिए ये सभी महत्वपूर्ण क्रियाएं हैं।

कुछ लोगों के लिए, एथेरोस्क्लोरोटिक कार्डियोवैस्कुलर बीमारी, दिल की विफलता, या क्रोनिक किडनी रोग उनके मधुमेह पर हावी हो सकते हैं। इन दवाओं में शामिल हैं:

  • एल्बिग्लूटाइड (तंजियम)
  • ड्यूलग्लूटाइड (ट्रुलिसिटी)
  • एक्सैनाटाइड (बाइटा)
  • एक्सैनाटाइड विस्तारित-रिलीज़ (बायडुरॉन)
  • लिराग्लूटाइड (विक्टोज़ा)
  • सेमाग्लूटाइड (ओज़ेम्पिक)
  • मेग्लिटिनाइड्स
  • ये दवाएं आपके शरीर को इंसुलिन छोड़ने में मदद करती हैं। हालांकि, कुछ मामलों में, वे आपके रक्त शर्करा को बहुत कम कर सकते हैं।

और पढ़ें: डायबिटीज नर्व पेन के लिए एक्सरसाइज : समस्या में आराम पाने का है अच्छा उपाय!

ये दवाएं सभी के लिए नहीं हैं। उनमे शामिल है:

  • नैटग्लिनाइड (स्टारलिक्स)
  • रेपैग्लिनाइड (प्रैंडिन)
  • रेपैग्लिनाइड-मेटफोर्मिन (प्रैंडिमेट)
  • सोडियम-ग्लूकोज ट्रांसपोर्टर (एसजीएलटी)

डायबिटीज के कप्मलीट मेडिकेशन के बारे में जाना यहां आपने। इस सभी दवाओं में से कोई भी दवा अपने मन से लेने की गलती न करें। आपको कौन सी दवा लेनी है?, दवा के बारे में मेडिकेशन को लेकर अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड