जेस्टेशनल डायबिटीज क्या है? जानें इसके लक्षण और उपचार विधि

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

गर्भवती महिलाएं, गर्भवस्था के दौरान अपने आप में कई तरह के बदलाव महसूस करती हैं| अक्सर देखा गया है कि महिलाएं गर्भकालीन डायबिटीज या जेस्टेशनल डायबिटीज (Gestational diabetes) का शिकार हो जाती हैं जिसमें उनका ब्लड शुगर लेवल बहुत ज्यादा बढ़ जाता है| आमतौर पर महिलाएं प्रेगनेंसी के 24 से 28वें हफ्ते के बीच जेस्टेशनल डायबिटीज की बीमारी जोर पकड़ती है | यह समस्या अस्थायी होती है और बच्चे के जन्म के बाद खुद ही खत्म हो जाती है|

अगर आप प्रेगनेंसी के बीच जेस्टेशनल डायबिटीज का शिकार हों तो यह जरुरी नहीं कि यह बीमारी आप को पहले से थी या आगे चल कर आपके शरीर में अपनी जगह बना लेगी| लेकिन ऐसा होना भविष्य में टाइप 2 के खतरों को बढ़ा देता है| इसके अलावा अगर इसका सही से इलाज न किया जाए या शुगर स्तर को काबू रखने में लापरवाही बरती जाए तो इसका बुरा असर गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ेगा और बच्चे को आगे चल कर डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाएगा| इसके अलावा, प्रेगनेंसी और डिलीवरी में दूसरी कई दिक्कतें पेश आएंगी| 

और पढ़ें: जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

जेस्टेशनल डायबिटीज (Gestational diabetes) के लक्षण: 

जेस्टेशनल डायबिटीज (गर्भकालीन मधुमेह) के लक्षण आमतौर पर पहचान पाना मुश्किल होता है, आप इनमें से किसी लक्षण का अनुभव कर सकती हैं: 

  •       थकान (fatigue)
  •       धुंधली दृष्टि (blurred vision )
  •       बार-बार प्यास लगना (thirstier than usual)
  •       अत्यधिक भूख लगना (hungrier and eat more than usual)
  •       पेशाब करने की अधिक आवश्यकता (mee more than usual)
  •       नींद में खराटे लेना  (Snoring while sleeping)

डॉक्टर को दिखाने की जरूरत कब होती है?

जब आप प्रेग्नेंट होने का सोचे तो बेहतर होगा आप पहले ही जेस्टेशनल डायबिटीज के साथ ओवरऑल हेल्थ चैकअप करा लें। एक बार जब आप प्रेग्नेंट हो जाएंगी तो आपका डॉक्टर जेस्टेशनल डायबिटीज का रुटिन चैकअप करते रहेंगे। यदि आपको जेस्टेशनल डायबिटीज के लक्षण नजर आते हैं तो आपको जल्दी जल्दी चैकअप कराने की जरूरत होगी।

जेस्टेशनल डायबिटीज (गर्भकालीन मधुमेह) के क्या कारण हैं?

गर्भावधि डायबिटीज के कारण ज्ञात नहीं हैं लेकिन कुछ रिसर्च से पता चलता है कि यह बीमारी क्यों होती है|

गर्भवस्था के दौरान, नाल के जरिए गर्भ में पल रहे बच्चे को पोषक तत्व और पानी पहुंचता है| नाल से प्रेगनेंसी के लिए विभिन्न प्रकार के जरुरी हार्मोन भी पैदा होते हैं| इनमें से कुछ हार्मोन (एस्ट्रोजन, कोर्टिसोल)  इंसुलिन (insulin) पर रोक लगा देते हैं| इसे गर्भनिरोधक-इंसुलिन प्रभाव कहा जाता है| 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

जैसे-जैसे प्लेसेंटा बढ़ता है, इन हार्मोनों का अधिक उत्पादन होता है, और इंसुलिन प्रतिरोध का खतरा भी बढ़ने लगता है । आमतौर पर, pancreas इंसुलिन प्रतिरोध को दूर करने के लिए अतिरिक्त इंसुलिन बनाता है, लेकिन जब इंसुलिन का उत्पादन प्लेसेंटल हार्मोन की तुलना में कम होने लगता है तो डायबिटीज अपनी जगह बना लेती है| 

और पढ़ें: बढ़ती उम्र और बढ़ता हुआ डायबिटीज का खतरा

जेस्टेशनल डायबिटीज का खतरा किन महिलाओं को हो सकता है? 

जेस्टेशनल डायबिटीज वैसे तो किसी भी गर्भवती महिला को हो सकती है। लेकिन, नीचे बताए गए कुछ ऐसे फैक्टर्स हैं जिसकी वजह से महिला में इस डायबिटीज का रिस्क बढ़ जाता है। जैसे

  •     अगर गर्भवती महिला की उम्र 25 वर्ष से अधिक है
  •     आप को उच्च रक्तचाप (high blood pressure) की शिकायत रहती है
  •     डायबिटीज का पारिवारिक इतिहास है
  •     गर्भवती होने से पहले का वजन बहुत ज्यादा था
  •     प्रेगनेंसी के दौरान आपका वजन बहुत ज्यादा बढ़ गया है
  •    अगर पहली प्रेग्नेंसी से ऐसे बच्चे को जन्म दिया है जिसका वजन 4 किलो से अधिक है
  •     पहले भी प्रेगनेंसी में डायबिटीज का शिकार रह चुकी हैं
  •     पहले कभी गर्भपात (miscarriage) या स्टिलबर्थ हो चूका है
  •     आप को पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS), अन्य ऐसी ही किसी स्तिथि की शिकायत है जो इंसुलिन प्रतिरोध की जिम्मेदार है
  •     आप अफ्रीकी, मूल अमेरिकी, एशियाई, प्रशांत द्वीपसमूह या हिस्पैनिक वंश से ताल्लुक रखती हैं

और पढ़ें: गर्भावस्था की पहली तिमाही में अपनाएं ये प्रेग्नेंसी डायट प्लान

जेस्टेशनल डायबिटीज (Gestational diabetes) निदान: 

जेस्टेशनल डायबिटीज आमतौर पर गर्भावस्था का आधा वक्त गुजरने के बाद होती है। डॉक्टर 24 से 28 वें हफ्ते के बीच आप को डायबिटीज टेस्ट की सलाह देगा लेकिन अगर आप के शरीर में इस बीमारी के खतरे ज्यादा हैं तो उससे पहले भी डॉक्टर आप से जांच के लिए कह सकता है| 

डायबिटीज के टेस्ट से पहले आप से कोई मीठी चीज पीने को कही जाएगी। यह आपके खून में शुगर लेवल बढ़ाएगा। एक घंटे बाद, टेस्ट के जरिए देखा जाएगा कि आप के शरीर ने उस शुगर पर क्या रिएक्शन किया है| यदि रिजल्ट यह बताते हैं कि आप का ब्लड शुगर एक निश्चित कटऑफ (130 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर [मिलीग्राम / डीएल] या उच्चतर) से जरा भी अधिक है, तो आपको और टेस्ट की आवश्यकता होगी। 3 घंटे के दौरान पहले खली पेट और बाद में खाने के बाद कि फिर शुगर लेवल जांचा जाएगा|

यदि आपके टेस्ट रिजल्ट नॉर्मल हैं, लेकिन आपको गर्भावधि डायबिटीज होने का खतरा अधिक है, तो डॉक्टर आप को आगे चल कर और भी टेस्ट करवाने के लिए कहेगा| 

और पढ़ें: Diabetes insipidus : डायबिटीज इंसिपिडस क्या है ?

गर्भावस्था में मधुमेह का प्रबंधन

यदि प्रेग्नेंट महिलाएं अपनी दिनचर्या में थोड़ी-सी सावधानी बरतें, तो डायबिटीज को आसानी से नियंत्रित कर सकती हैं। इसके लिए नीचे बताए गए ये कुछ टिप्स फॉलो करें-

  • गर्भावधि मधुमेह से ग्रस्त महिला को दिन में तीन से चार बार अपना ब्लड शुगर लेवल की जांच करनी चाहिए।
  • जेस्टेशनल डायबिटीज से पीड़ित गर्भवती महिला को शिशु के जन्म के बाद उसकी रक्त शर्करा (blood sugar) पर नजर बनाएं रखना चाहिए ताकि उसे यह बीमारी भविष्य में परेशान न करे।
  • वैसे तो जेस्टेशनल डायबिटीज में दवाई लेने की जरुरत नहीं पड़ती है लेकिन, अगर आपको परेशानी ज्यादा हो रही है तो डॉक्टर से सलाह लें।
  • जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी पीरियड के दौरान डायबिटीज होता है, उनके शिशु में टाइप-2 मधुमेह होने का खतरा रहता है। इसलिए, डॉक्टर इंसुलिन के इंजेक्शन लेने की सलाह दे सकते हैं।

और पढ़ें: उम्र के हिसाब से जरूरी है महिलाओं के लिए हेल्दी डायट

जेस्टेशनल डायबिटीज (गर्भकालीन मधुमेह) का इलाज कैसे किया जाता है? 

यदि आपको जेस्टेशनल डायबिटीज का पता चला है, तो आप को पूरे दिन अपने शुगर लेवल कंट्रोल में रखने का ध्यान रखना होगा| मुमकिन है कि आपका डॉक्टर आप से खाने से पहले और बाद में शुगर कि जांच करने को कहे| इसके अलावा आप को  स्वस्थ खाने और नियमित व्यायाम करके अपनी स्थिति को बेहतर बनाना होगा| 

कुछ मामलों में, यदि जरुरत हो तो वे इंसुलिन इंजेक्शन (insulin injection) भी लेने पड़ सकते हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, जेस्टेशनल डायबिटीज (gestational diabetes) वाली केवल 10 से 20 प्रतिशत महिलाओं को अपने ब्लड शुगर (blood sugar) को नियंत्रित करने के लिए इंसुलिन की आवश्यकता पड़ती है। गर्भवस्था में ब्लड शुगर (blood sugar) बहुत कम या बहुत ज्यादा होने पर क्या करना चाहिए, इस बारे में अपने डॉक्टर से पूरी जानकारी प्राप्त करें|

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

टाइप-1 डायबिटीज क्या है? जानें क्या है जेनेटिक्स का टाइप-1 डायबिटीज से रिश्ता

टाइप-1 डायबिटीज क्या होता है? जानें टाइप-1 डायबिटीज के कारण, लक्षण और टाइप- 1 डायबिटीज के उपचार। इसका आनुवांशिकता से क्या है संबंध?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स सितम्बर 17, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें

क्या वजन घटने से डायबिटीज का इलाज संभव है?

वजन और डायबिटीज का क्या रिश्ता है? वजन घटने से डायबिटीज का इलाज कैसे किया जाता है? कौन-से व्यायाम करने चाहिए? Diabetes and weight loss in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स सितम्बर 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करें इस्तेमाल?

क्या आपको पता है कि ब्लड शुगर टेस्ट करने के लिए डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करेंगे इस्तेमाल? Diabetes Test Strips in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स सितम्बर 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Zoryl M1 Tablet : जोरल एम1 टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जोरल एम1 टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, जोरल एम1 टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Zoryl M1 Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डायबिटिक पेशेंट की देखभाल करने वाली की मेंटल हेल्थ

डायबिटिक पेशेंट की देखभाल करने वाले लोग इन बातों का रखें ध्यान, बच सकेंगे स्ट्रेस से     

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ नवम्बर 6, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोविड- 19 और बच्चों में डायबिटीज

कोविड-19 और बच्चों में डायबिटीज के लक्षण, जानिए इस बारे में क्या कहती हैं ये रिसर्च

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
टाइप 2 मधुमेह का उपचार/type 2 diabetes treatment

क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज को रिवर्स कैसे कर सकते हैं? तो खेलिए यह क्विज!

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
डायबिटीज सर्वे - diabetes survey

कुछ ऐसे मिलेगा डायबिटीज से छुटकारा! दीजिए जवाब और पाइए निदान

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 30, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें