इन 15 लक्षणों से जानें क्या आपको आयरन की कमी है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 28, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
Share now

आपके शरीर के प्रत्येक अंग और ऊतक को काम करने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। लाल रक्त कोशिकाएं परिवहन प्रणाली(Red blood cells transport system) है जो आपके फेफड़ों से ऑक्सीजन को आपके शरीर के बाकी हिस्सों तक ले जाती है। जब आपको एनीमिया होता है, तो आपके शरीर में इन रक्त कोशिकाओं की पर्याप्त मात्रा नहीं होती है। आपके शरीर में आयरन की कमी होने पर आपको आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया हो जाता है। हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आपको आयरन की आवश्यकता होती है। प्रोटीन आपके शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं तक ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है। जब आपके रक्त में पर्याप्त ऑक्सीजन कि मात्रा नहीं होती है। तो आप थका हुआ, कमजोर और सांस में कमी महसूस कर सकते हैं। आप चाहे तो अपनी दिनचर्या में लिए गए आहार से ही आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का इलाज कर सकते हैं।आपके शरीर में आयरन का स्तर बढ़ने से आप बेहतर महसूस करने लगते हैं। 

ये भी पढ़े एनीमिया और महिलाओं के बीच क्या संबंध है?

आयरन के कमी के लक्षण

थकान होना (Unusual Tiredness)

हमारे शरीर में अधिक मात्रा में थकान होना भी आयरन कि कमी का ही एक सबसे बड़ा लक्षण है। ये लक्षण आयरन कि कमी वाले लोगों में अधिक पाया जाता है। यह होने का कारण ये है कि  आपके शरीर को हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है, जो लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है। हीमोग्लोबिन शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है।  जब आपके शरीर में पर्याप्त हीमोग्लोबिन नहीं होता है, तो कम ऑक्सीजन आपके ऊतकों और मांसपेशियों तक पहुंचती है, जो उन्हें ऊर्जा से दूर रखती है। इसके अलावा, आपके शरीर के चारों ओर अधिक ऑक्सीजन युक्त ब्लड को ट्रांसफर करने के लिए आपके दिल को अधिक मेहनत करनी पड़ती है, जो आपको थका सकती है। थकान को अक्सर व्यस्त, आधुनिक जीवन का सामान्य हिस्सा माना जाता है, इसलिए इस लक्षण के साथ आय़रन की कमी का निदान करना मुश्किल है। 

यह भी पढ़ें: Parathyroidectomy : पैराथाइरॉइडेक्टमी क्या है?

सिरदर्द और चक्कर आना(Headaches and Dizziness)

आयरन की कमी से सिरदर्द हो सकता है  यह लक्षण दूसरों की तुलना में कम सामान्य प्रतीत होता है और अक्सर इसमें सिरदर्द यह चक्कर आना संभव हो सकता है। आयरन की कमी में, रेड ब्लड सेल्स में हीमोग्लोबिन के लो लेबल का मतलब है कि मस्तिष्क तक पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंच सकती है। नहीं तो, मस्तिष्क में रक्त वाहिकाएं सूज सकती हैं, जिससे दबाव और सिरदर्द हो सकता है। वैसे तो सिरदर्द के कई कारण हैं, बार-बार होने वाला सिरदर्द और चक्कर आना आयरन की कमी का संकेत हो सकता है।

मासिक धर्म में अधिक रत्क्तस्त्राव होना(Increased menstrual bleeding)

न्यूयॉर्क शहर में माउंट सिनाई सेंट ल्यूक के रूजवेल्ट में स्त्री रोग के निदेशक जैक्स मोरिट्ज का कहना हैं, महिलाओं में, आय़रन की कमी का नंबर एक कारण बहुत भारी मात्रा में या कई दिनों रक्तस्त्राव होना है। इस दौरान महिलाएं” बहुत अधिक रक्त खो देती हैं, वे कहते हैं। “यह टैंक में एक छोटी पकड़ के साथ एक कार को भरने जैसा है।” यदि महिलाओं को हर महीने मासिक धर्म के दौरान अधिक रक्तस्त्राव होता है तो उनमें बल्ड अधिक मात्रा में कमी हो सकती है क्योंकि हर महीने ब्लड की इतनी कमी होने पर शरीर में इतनी जल्दी बल्ड बन नहीं पाता है। ऐसे लक्षण यदि आपको दिखाई देते हैं तो उसको नजरअंदाज न करें।

सांसों की कमी(Short of breath)

हीमोग्लोबिन आपके लाल रक्त कोशिकाओं को शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन ले जाने में सक्षम बनाता है। जब आयरन की कमी के दौरान आपके शरीर में हीमोग्लोबिन कम होता है, तो ऑक्सीजन का स्तर भी कम होगा। इसका मतलब है कि आपकी मांसपेशियों को सामान्य गतिविधियां करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है, जैसे चलना नतीजतन, आपकी सांस लेने की दर बढ़ जाएगी क्योंकि आपका शरीर अधिक ऑक्सीजन प्राप्त करने की कोशिश करता है। यही कारण है कि सांस की तकलीफ एक सामान्य लक्षण है यदि आप अपने आप को सांस से बाहर करते हुए पाते हैं, तो दैनिक कार्य जिन्हें आप आसानी से करते थे, जैसे कि चलना, सीढ़ियां चढ़ना या बाहर काम करना,आयरन की कमी को दोष दे सकते हैं।

ये भी पढ़े क्या आप एनीमिया के प्रकार के बारे में जानते हैं

दिल की घबराहट(Heart Palpitations)

दिल में घबराहट होना,बेचैनी होना आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का एक और लक्षण हो सकता है। हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटीन है जो शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन को परिवहन में मदद करता है। आय़रन की कमी में, हीमोग्लोबिन के निम्न स्तर का मतलब है कि दिल को ऑक्सीजन ले जाने के लिए अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है। इससे अनियमित धड़कन हो सकती है, या यह महसूस हो सकता है कि आपका दिल असामान्य रूप से तेज़ धड़क रहा है  यह हार्ट फेल के कारण को जन्म दे सकता है। हालांकि, ये लक्षण बहुत कम आम हैं। उन्हें अनुभव करने के लिए आपको लंबे समय तक आय़रन की कमी का सामना करना पड़ेगा।

पीलापन(Paleness)

निचली पलकों के अंदर की त्वचा का पीला होना और पीला होना आय़रन की कमी के अन्य सामान्य लक्षण हैं। लाल रक्त कोशिकाओं में हीमोग्लोबिन रक्त को अपना लाल रंग देता है, इसलिए आयरन की कमी के दौरान निम्न स्तर रक्त को कम लाल बनाता है। यही कारण है कि त्वचा आयरन की कमी वाले लोगों में अपनी स्वस्थ, गुलाबी रंगत खो सकती है।आयरन की कमी वाले लोगों में यह  पूरे शरीर में दिखाई दे सकता है, या यह एक क्षेत्र तक सीमित हो सकता है, जैसे चेहरा, मसूड़े, होंठ के अंदर या निचली पलकें और यहां तक ​​कि नाखून यह अक्सर पहली चीजों में से एक है जिसे डॉक्टर आयरन की कमी के संकेत के रूप में देखेंगे। हालांकि, इसकी पुष्टि रक्त परीक्षण से की जानी चाहिए। आम तौर पर एनीमिया के मध्यम या गंभीर मामलों में पैलिसिस अधिक देखा जाता है। यदि आप अपनी निचली पलक को नीचे खींचते हैं, तो यदि यह बहुत हल्का गुलाबी या पीला रंग है, तो यह संकेत दे सकता है कि आपके पास आयरन की कमी है।

रुखे और क्षतिग्रस्त बाल और त्वचा(Dry and damaged hair and skin)

रुखी और क्षतिग्रस्त त्वचा और बाल आय़रन की कमी (4Trusted Source) के संकेत हो सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आपके शरीर में आय़रन की कमी होती है। तो आपके शरीर में बचा हुआ ऑक्सीजन अपने बचे बाकी कार्यों को करता है। जो आपके लिए ज्यादा जरुरी होते हैं।  जैसे अंगों और अन्य शारीरिक ऊतकों को निर्देशित करता है यह बहुत मुख्य कार्य होता। जब त्वचा और बाल ऑक्सीजन से वंचित होते हैं, तो यह शुष्क और कमजोर हो सकता है।आय़रन की कमी के अधिक गंभीर मामलों को बालों के झड़ने  से जोड़ा गया है। कुछ बाल हर रोज़ धोने और ब्रश करने के दौरान बाहर निकलना पूरी तरह से सामान्य है, लेकिन अगर आप बालों के गुच्छे खो रहे हैं या सामान्य से बहुत अधिक हैं, तो यह आय़रन की कमी के कारण हो सकता है।

क्या आप शाकाहारी है(Are you vegetarian)

पोषण विशेषज्ञ रनिया बटायनेह जो द वन वन डाइट (The One One One Diet)के लेखक है वो कहते हैं,सभी आयरन को समान नहीं बनाया गया है। आपका शरीर हीम आयरन को अवशोषित करता है – जो मांस, पोल्ट्री और मछली से आता है – पौधों से गैर-हीम आय़रन की तुलना में दो से तीन गुना अधिक कुशलता होती है। आप अभी भी सावधान भोजन योजना के साथ पर्याप्त आयरन प्राप्त कर सकते हैं। हरे पत्तेदार साग, साबुत अनाज और फलियां इन सभी में आयरन हैं अपने अवशोषण को बढ़ावा देने के लिए बेल-मिर्च, जामुन और ब्रोकोली जैसे विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थों का भी सेवन कर सकते हैं।

रेस्टलेस लेग सिंड्रोम(Restless leg syndrome)

आयरन की कमी को रेस्टलेस लेग सिंड्रोम से जोड़ा गया है।रेस्टलेस लेग सिंड्रोम आपके पैरों को आराम करने के लिए एक मजबूत आग्रह है। यह पैरों और पैरों में अप्रिय और अजीब रेंगने या खुजली की सनसनी पैदा कर सकता है। यह आमतौर पर रात में बदतर होता है, जिसका अर्थ है कि पीड़ित ज्यादा नींद लेने के लिए संघर्ष कर सकते हैं। रेस्टलेस लेग सिंड्रोम के कारणों को पूरी तरह से समझा नहीं गया है। हालांकि, रेस्टलेस लेग सिंड्रोम वाले 25% तक लोगों में आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया, और आयरन के स्तर को कम करने वाले लक्षण अधिक बुरे होते हैं।

ये भी पढ़े अपनी दिल की धड़कन जानने के लिए ट्राई करें हार्ट रेट कैलक्युलेटर

क्या आपको थायरॉयड है(have an under-active thyroid.)

नेशनल एकेडमी ऑफ हाइपोथायरायडिज्म के अनुसार आयरन की कमी आपके शरीर के थायरॉयड फंक्शन को धीमा कर देती है और इसके क्रिया को बढ़ाने वाले प्रभावों को रोक देती है। वैसे थायरॉयड रोग वाले 10 लोगों में से छह को ये पता नहीं है कि उनको ये है, अमेरिकी थायराइड एसोसिएशन के अनुसार – इसलिए यदि आप कम ऊर्जा का स्तर, वजन बढ़ाने या यहां तक कि कम शरीर के तापमान को देखते हैं, तो डॉक्टर से जरुर संपर्क करें।

अजीबोगरीब (cravings)

अजीब खाद्य पदार्थों या गैर-खाद्य पदार्थों के लिए एक हांकिंग को “पिका” कहा जाता है। इसमें आमतौर पर बर्फ, मिट्टी, गंदगी, चाक या कागज खाने के लिए क्रेविंग शामिल होती है और यह आयरन की कमी का संकेत हो सकता है। यह गर्भावस्था के दौरान सबसे अधिर हो सकता है।

अन्य संभावित संकेत

कई और भी संकेत हैं जिससे ये पता चलता है कि आपके शरीर में आयरन कमी  है। ये कम सामान्य होते हैं और इन्हें आयरन की कमी के अलावा कई स्थितियों से जोड़ा जा सकता है।

चिंतित महसूस करना- आयरन की कमी में शरीर के ऊतकों को उपलब्ध ऑक्सीजन की कमी से चिंता की भावनाएं हो सकती हैं। हालांकि, यह सुधर जाता है या हल हो जाता है क्योंकि आयरन का स्तर सही हो जाता है।

हाथ, पैर ठंडे होना- आयरन की कमी के कारण हमारे हाथों और पैर में ऑक्सीजन कम पहुंच पाती है। इस कारण से कुछ लोगों के हाथ पैर गर्मी में और बाकी मौसम में भी अधिक ठंडे रहते हैं।इस कारण से कुछ लोेगों को बहुत ठंड भी लगती है।

अधिक बार संक्रमण- क्योंकि स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए आयरन की आवश्यकता होती है, इसलिए इसकी कमी से आपको सामान्य से अधिक बीमारियों को झेलना पड़ सकता है 

यह भी पढ़े: Abuta: अबूटा क्या है?

दर्द, जीभ और मुंह की सूजन(Swelling and Soreness of the Tongue and Mouth)

कभी-कभी आपके मुंह के अंदर या आस-पास देखना आपको संकेत दे सकता है कि आप आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया से पीड़ित हैं या नहीं।बता दें की इसके संकेत इस प्रकार होते हैं जब आपकी जीभ में सूजन हो और वह पीला,चिकना दिखाई देने लगे। आयरन की कमी में कम हीमोग्लोबिन जीभ के पीला होने का कारण बन सकता है, जबकि मायोग्लोबिन का निम्न स्तर इसके कारण गले में खराश, चिकनी और सूजन पैदा कर सकता है। मायोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में एक प्रोटीन है जो आपकी मांसपेशियों का समर्थन करता है, जैसे कि मांसपेशी जो जीभ बनाती है। आय़रन की कमी से मुंह सूख सकता है, मुंह या मुंह के छाले के कोनों पर लाल दरारें पड़ सकती हैं।

भंगुर हुए नाखून (Brittle Fingernails)

आयरन की कमी का एक बहुत कम सामान्य लक्षण भंगुर नाखून है, एक ऐसी स्थिति जिसे कोइलोनेशिया कहा जाता है। यह अक्सर टुटे नाखूनों से शुरू होता है जिसमे आसानी से दरार पड़ जाती है।आय़रन की कमी से भंगूर नाखून हो सकते हैं, जहां नाखून के बीच में दरार होती है और किनारों को चम्मच की तरह गोल रूप देने के लिए उठाया जाता है। हालांकि, यह एक दुर्लभ दुष्प्रभाव है और आमतौर पर केवल आयरन की कमी वाले एनीमिया के गंभीर मामलों में देखा जाता है।

यदि आप गर्भवती हैं।(If you are pregnant)

प्रसव के दौरान बहुत सी महिलाओं को रक्त की पर्याप्त मात्रा में हानि होती है, जो आयरन की गिनती को कम कर सकती है। यदि आप पहले भी गर्भवती हुई  हैं, और सुबह आपको बीमार-बीमार-सा महसूस होता है इसके साथ ही रोज उल्टी हो रही है तो आपको आयरन की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए।

ये भी पढ़े सोने से पहले ब्लड प्रेशर की दवा लेने से कम होगा हार्ट अटैक का खतरा

इलाज(Treatment)

पुरानी बीमारी का एनीमिया(Anemia of chronic disease)- इस प्रकार के एनीमिया के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। डॉक्टर अंतर्निहित बीमारी के इलाज पर ध्यान केंद्रित करते हैं। यदि लक्षण गंभीर हो जाते हैं, तो आपके गुर्दे (एरिथ्रोपोइटिन) द्वारा सामान्य रूप से निर्मित एक सिंथेटिक हार्मोन का रक्त आधान या इंजेक्शन लाल रक्त कोशिका उत्पादन को प्रोत्साहित करने और थकान को कम करने में मदद कर सकता है।

आयरन की कमी से एनीमिया(Iron deficiency anemia)-एनीमिया के इस रूप के उपचार में आमतौर पर आयरन की खुराक लेना और अपना आहार बदलना शामिल है। यदि आयरन की कमी का कारण रक्त की हानि है – मासिक धर्म के अलावा – रक्तस्राव का स्रोत स्थित होना चाहिए और रक्तस्राव बंद होना चाहिए। इसमें सर्जरी शामिल हो सकती है।

अस्थि मज्जा रोग से जुड़े एनीमिया(Anemia associated with bone marrow disease)- इन विभिन्न रोगों के उपचार में दवा, कीमोथेरेपी या अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण शामिल हो सकते हैं।

विटामिन की कमी से एनीमिया(Vitamin deficiency anemia)– फोलिक एसिड और विटामिन सी की कमी के लिए उपचार में आहार की खुराक और आपके आहार में इन पोषक तत्वों को बढ़ाना शामिल है। यदि आपके पाचन तंत्र को आपके द्वारा खाए गए भोजन से विटामिन बी -12 को अवशोषित करने में परेशानी होती है, तो आपको विटामिन बी -12 शॉट्स की आवश्यकता हो सकती है। सबसे पहले, आपके पास हर दूसरे दिन शॉट्स हो सकते हैं। आखिरकार, आपको महीने में एक बार शॉट्स की आवश्यकता होगी, यह आपकी स्थिति पर भी निर्भर करता है।

थैलेसीमिया(Thalassemia)- थैलेसीमिया के अधिकांश रूप हल्के होते हैं और उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। थैलेसीमिया के अधिक गंभीर रूपों में आमतौर पर रक्त आधान, फोलिक एसिड की खुराक, दवा, रक्त और अस्थि मज्जा स्टेम सेल प्रत्यारोपण(Blood bone marrow stem cell transplant) की आवश्यकता होती है।

अप्लास्टिक एनीमिया(Aplastic anemia)- इस एनीमिया के लिए उपचार में लाल रक्त कोशिकाओं के स्तर को बढ़ावा देने के लिए रक्त आधान शामिल हो सकते हैं। यदि आपकी अस्थि मज्जा स्वस्थ रक्त कोशिकाओं को नहीं बना सकती है तो आपको अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण (Bone marrow transplant)की आवश्यकता हो सकती है।

हेमोलिटिक एनीमिया(Hemolytic anemia)- हेमोलिटिक एनीमिया के प्रबंधन में संदिग्ध दवाओं से बचना, संक्रमण का इलाज करना और अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने वाली दवाएं लेना शामिल है, जो आपके लाल रक्त कोशिकाओं पर हमला कर सकता है। इसका कारण यह है की आपके हेमोलिटिक एनीमिया के आधार पर, आपको हृदय या संवहनी विशेषज्ञ को भेजा जा सकता है।

दरांती कोशिका अरक्तता(Sickle cell anemia)- उपचार में दर्द को कम करने और जटिलताओं को रोकने के लिए ऑक्सीजन, दर्द निवारक और मौखिक और अंतःशिरा तरल पदार्थ(Intravenous fluids) शामिल हो सकते हैं। डॉक्टर भी रक्त आधान, फोलिक एसिड की खुराक और एंटीबायोटिक दवाओं की सिफारिश कर सकते हैं। सिकल सेल एनीमिया का इलाज करने के लिए हाइड्रॉक्स्यूरिया (ड्रोक्सिया, हाइड्रा, सिकलो) नामक कैंसर की दवा का उपयोग किया जाता है।

आयरन की कमी के लक्षणों के बारे में सही जानकारी होने पर ही उसके कमी को समझ सकते हैं। इससे समय रहते आप बीमारी का इलाज करके सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़े-

क्या आप एनीमिया के प्रकार के बारे में जानते हैं?

नाक से खून किन वजहों से निकलता है, कैसे करें बचाव?

Tennis elbow : टेनिस एल्बो की समस्या क्या है? जानें कैसे करें इससे बचाव

जानिए जुकाम और फ्लू को लेकर फैले ये 10 मिथक

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Anemia: रक्ताल्पता (एनीमिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

रक्ताल्पता (एनीमिया) की जानकारी, निदान और उपचार, रक्ताल्पता (एनीमिया) के क्या कारण हैं, क्या कोई घरेलू उपचार है? Anemia का खतरा। Anemia in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mona Narang
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Nurokind: न्यूरोकाइंड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

न्यूरोकाइंड दवा की जानकारी in hindi, इसके डोज, साइड इफेक्ट्स, सावधानी और चेतावनी को जानने के साइड दवा के रिएक्शन व स्टोेरेज को जानने के लिए पढ़ें आर्टिकल।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Nurokind LC: न्यूरोकाइंड एलसी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

न्यूरोकाइंड एलसी (Nurokind LC) की जानकारी in Hindi. डोज, फंक्शन, सावधानी और चेतावनी के साथ रिएक्शन, कैसे स्टोर करें तमाम जानकारी के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Cold Agglutinin Test : कोल्ड एग्लूटिनिन टेस्ट

जानिए कोल्ड एग्लूटिनिन टेस्ट की जानकारी की मूल बातें और टेस्ट कराने से पहले क्या करना चाहिए, रिजल्ट और परिणामों को समझें, Cold agglutinin Test क्या होता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shivam Rohatgi
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

लिवोजेन एक्सटी टैबलेट

Livogen XT tablet : लिवोजेन एक्सटी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ऑट्रिन

Autrin: ऑट्रिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
टेट्राफोल प्लस

Tetrafol Plus: टेट्राफोल प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

सिकल सेल डिजीज से ग्रस्त बच्चों की पेरेंट्स ऐसे करें मदद

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Shikha Patel
Published on जून 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें