आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ITP Diet: प्लान में कौन सा फूड है 'इन' और कौन है 'आउट'? जानिए यहां

ITP Diet: प्लान में कौन सा फूड है 'इन' और कौन है 'आउट'? जानिए यहां

ब्लड, प्लेटलेट्स या फिर प्लाज्मा जैसे शब्द नय नहीं हैं, लेकिन अगर इनसे जुड़ी कोई समस्या हो तो इसका इलाज करवाना भी आवश्यक होता है। शरीर में ब्लड लॉस हो, तो एनीमिया खतरा, प्लाज्मा कम होने पर इंफेक्शन का खतरा और नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन में पब्लिश्ड (NCBI) रिपोर्ट के अनुसार प्लेटलेट्स कम हो जाए, तो अत्यधिक ब्लीडिंग का खतरा हो सकता है। इसलिए आज इन्हीं ब्लड डिसऑर्डर (Blood Disorders) में से एक इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (Immune Thrombocytopenic Purpura) और इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के लिए डायट (ITP डायट) से जुड़ी पूरी जानकारी आपसे शेयर करेंगे।

  • क्या है इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (ITP)?
  • ITP डायट में क्या शामिल करना चाहिए?
  • ITP डायट में शामिल नहीं करना चाहिए?

और पढ़ें : प्लेटलेट डिसऑर्डर के लिए सप्लीमेंट : है बड़े काम की चीज!

इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा एवं ITP डायट से जुड़े इन सवालों जवाब जानते हैं।

इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (Immune Thrombocytopenic Purpura) क्या है?

ITP डायट (ITP Diet)

इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (ITP) को एक मेडिकल टर्म आईडियोपैथिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के नाम से भी जाना जाता है। यह एक तरह का डिसऑर्डर है, जो बच्चों या बड़ों किसी को भी हो सकता है। अगर शरीर में किसी तरह से चोट या खरोंच लग जाए और उससे जरूरत से ज्यादा ब्लीडिंग होने की स्थिति इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (ITP) कहलाती है। ऐसा लो प्लेटलेट्स की वजह से होता है। यू.एस नैशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन (U.S. National Library of Medicine) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार बच्चों में प्रायः इंफेक्शन की वजह से इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा की समस्या देखी जाती है। वैसे ज्यादातर ITP की समस्या खुद ठीक भी हो जाती है, लेकिन कभी-कभी इलाज की भी आवश्यकता पड़ सकती है। हार्वर्ड हेल्थ Harvard Health में पब्लिश्ड रिपोर्ट में इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (Immune Thrombocytopenic Purpura) कुछ इस तरह से समझाया गया है-

इम्यून (Immune)- अगर शरीर में ब्लड क्लॉटिंग से जुड़ी तकलीफ शुरू होने लगे, तो इसका अर्थ है इम्यून से जुड़ी परेशानी। कमजोर इम्यून सिस्टम की वजह से प्लेटलेट्स कम होने लगती है और ब्लड क्लॉटिंग में परेशानी शुरू हो सकती है।

थ्रोम्बोसाइटोपेनिक (Thrombocytopenic)- बॉडी में मौजूद बोन मैरो में प्लेटलेट्स का निर्माण होता है और जब इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ने लगता है, तो प्लेटलेट्स कम होने लगता है, जिसे लो थ्रोम्बोसाइटोपेनिक का कारण माना जाता है। ऐसी स्थिति में ब्लीडिंग अत्यधिक होती है, जो एक तरह का ट्रॉमा हो सकता है।

पुरपुरा (Purpura)- ब्लीडिंग की वजह से रेड या पर्पल रैश को पुरपुरा कहा जाता है, जिससे इस डिसऑर्डर को समझने में आसानी होती है या इसे एक लक्षण की तरह भी जाना जा सकता है।

अगर आप गौर करें इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (Immune Thrombocytopenic Purpura) की शुरुआत कमजोर इम्यून सिस्टम से शुरू होती है और हमसभी जानते हैं कि कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की परेशानियों को दावत देने के लिए काफी है। इसलिए ITP डायट (ITP Diet) यानी इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के लिए डायट में क्या शामिल करना चाहिए यह समझेंगे और इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने की कोशिश करेंगे।

और पढ़ें : क्यों नवजात शिशुओं को ज्यादा परेशान करती है हायपरविस्कोसिटी सिंड्रोम की समस्या?

ITP डायट में क्या शामिल करना चाहिए? (Diet for ITP)

ब्लड प्लेटलेट्स को बढ़ाने के लिए खाने-पीने की चीजों की अहम भूमिका होती है। जिन लोगों इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा की समस्या होती है, वे ITP डायट (ITP Diet) फॉलो कर ब्लड प्लेटलेट्स लेवल को बैलेंस कर सकते हैं। इसलिए ITP डायट में निम्नलिखित खाने-पीने की चीजों को शामिल करें। जैसे:

फल (Whole fruits)

ITP डायट (ITP Diet)

ITP डायट की शुरुआत फलों से करते हैं। इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा की समस्या झेल रहे लोगों फलों का सेवन करना चाहिए, लेकिन एक बात का ध्यान जरूर रखें कि जिन फलों का आप सेवन करते हैं, तो फल (Whole fruits) के छिलके का भी सेवन करें। जैसे सेब (Apple), नाशपाती (Pear) या चीकू (Chiku) जैसे अन्य फलों को अच्छी तरह से धोकर और बिना छिलका उतारे खाएं। ऐसा करने से शरीर में आवश्यक न्यूट्रिशन के साथ-साथ फाइबर की भी पूर्ति होगी। इसलिए इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के लिए डायट में ऐसे फलों को जरूर खाएं और कोशिश करें कि फलों के जूस के बजाये खाने की आदत डालें।

और पढ़ें : इन 7 फलों को करें फ्रूट डायट में शामिल और घटाएं वजन

सब्जियां (Vegetables)

ITP डायट (ITP Diet)

ITP डायट (ITP Diet) को रिच और न्यूट्रिशन से भरपूर बनाने के लिए रोजाना सब्जियों का सेवन करें। वैसे तो हरी सब्जियों का सेवन रोजाना सभी करते हैं, लेकिन ITP डायट में हरी-पत्तेदार सब्जियों को जरूर शामिल करें। इसलिए आप पालक (Spinach), पत्ता गोभी (Cabbage), केल(Kale) या फिर स्विस चार्ड (Swiss Chard) जैसे अन्य सागों (Leafy greens) का सेवन कर सकते हैं।

और पढ़ें : पालक से शिमला मिर्च तक 8 हरी सब्जियों के फायदों के साथ जानें किन-किन बीमारियों से बचाती हैं ये

नॉनवेज फूड (Non Vegetarian)

ITP डायट (ITP Diet)

अगर आपको नॉनवेज फूड खाना पसंद है, तो आप ITP डायट (ITP Diet) में चिकन ब्रेस्ट, ग्राउंड टर्की या फिर फैटी फिश (Salmon fish) का सेवन कर सकते हैं। इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के लिए डायट प्लान में ऐसे ही स्किनलेस पोल्ट्री (Skinless poultry) के साथ-साथ अंडे (Egg) का भी सेवन किया जा सकता है।

और पढ़ें : नॉनवेजिटेरियन और वेजिटेरियन दोनों के लिए परफेक्ट है ये डायट, दोनों जान लें इसके बारे में

हेल्दी फैट्स (Healthy fat)

ITP डायट (ITP Diet)

ITP डायट (ITP Diet) प्लान में हेल्दी फैटी फूड को भी शामिल किया जा सकता है। इसलिए इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के लिए डायट (Diet for Immune Thrombocytopenic Purpura) में एवोकैडो (Avocado), ऑलिव ऑयल (Olive oil), अलसी (Flaxseed), नट्स (Nuts), नट बटर (Nut butter), साबुत अनाज (Whole grains), गेंहू के ब्रेड एवं पास्ते का सेवन करना लाभकारी माना जाता है।

नोट: यहां बताई गई नट बटर का सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए।

एनवायरमेंट वर्किंग ग्रुप (Environmental Working Group) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार ITP डायट प्लान हो या नॉर्मल डायट प्लान हेल्दी रहने के लिए ऑर्गेनिक फूड का सेवन करना लाभकारी माना जाता है। रिपोर्ट में यह भी सलाह दी गई है कि अगर आप ऑर्गेनिक फूड (Organic food) आपके लिए पॉकेट फ्रेंडली नहीं है, तो ध्यान रखें कि कम से कम पेस्टिसाइड्स वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के लिए डायट प्लान (Diet for Immune Thrombocytopenic Purpura) में ऊपर बताये खाद्य पदार्थों का संतुलित मात्रा में सेवन करें, जो आपके ब्लड डिसऑर्डर (Blood disorder) से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में सहायक माना जाता है। हालांकि कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी होते हैं, जो शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं और बीमारियों (Disease) को दावत दे सकते हैं। इसलिए आर्टिकल में आगे जानेंगे इम्यून थ्रंबोसीप्टेनिक पुरपुरा के डायट प्लान (ITP Diet plan) में क्या शामिल नहीं करना चाहिए।

और पढ़ें : क्या आप जानते है कि एनीमिया और ब्लड कैंसर हैं ब्लड डिसऑर्डर्स के प्रकार!

ITP डायट में शामिल नहीं करना चाहिए? (Foods to avoid for ITP Diet)

इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा डायट (Immune Thrombocytopenic Purpura diet) में निम्नलिखित खाद्य पदार्थों या पेय पदार्थों को शामिल नहीं करना चाहिए। जैसे:

  • रेडमीट (Red meat) का सेवन ना करें।
  • व्होले डेयरी प्रॉडक्ट्स में सैचुरेटेड फैट की मात्रा ज्यादा होती है। इसलिए ऐसे डेयरी प्रॉडक्ट्स का सेवन ना करें।
  • टमाटर (Tomatoes) एवं बेरीज (Berries) का सेवन कम से कम करें, क्योंकि ब्लड को पतला (Blood thinner) करने में सहायक माने जाते हैं।
  • फास्ट फूड (Fast food) को अपने डायट प्लान में शामिल ना करें।
  • पैक्ड फूड या जूस (Packed food & juice) का सेवन ना करें।
  • लहसुन (Garlic) और प्याज (Onion) का सेवन भी कम करें, क्योंकि ये भी खून को पतला करते हैं।

इन खाद्य पदार्थों को ITP डायट में शामिल ना करें। वैसे इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा का मुख्य कारण पेशेंट में क्या है इसकी जानकारी के अनुसार भी डॉक्टर आपको ITP डायट प्लान सजेस्ट कर सकते हैं।

ब्लड डोनेशन! कहते हैं रक्त दान जीवन दान, लेकिन ब्लड डोनेशन (Blood donation) से जुड़े ऐसे कई मिथ हैं और इस मिथ की वजह से ब्लड डोनेट करने से कई लोग पीछे रह जाते हैं। नीचे दिए इस क्विज में ऐसे ही कई ब्लड डोनेशन मिथ और उनके फैक्ट्स शेयर की जा रही है। नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और जानें फैक्ट्स।

और पढ़ें : खून के विकार साबित हो सकते हैं जानलेवा, इग्नोर करने की न करें भूल

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार कॉफी (Coffee) और एल्कोहॉल (Alcohol) से जुड़ी कुछ खास जानकारी शेयर की गई है। रिसर्च रिपोर्ट में बताया गया है कि पानी का सेवन से बॉडी को हाइड्रेट (Hydrate) रखने में मदद मिलती है, लेकिन अगर आप कॉफी या एल्कोहॉल को सेवन करते हैं, तो यह इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा के मरीजों के लिए नुकसानदायक है। दरअसल कैफीन में मौजूद फेनोलिक एसिड्स (Phenolic acids) प्लेटलेट्स पर नेगेटिव प्रभाव डालता है, जिससे प्लेटलेट्स की कार्य क्षमता धीरे हो सकती है और पेशेंट की परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि ITP डायट (ITP Diet) फॉलो करने के दौरान कैफीन और एल्कोहॉल पेशेंट को परेशानी का कारण बन सकती है।

अगर आप इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (Immune Thrombocytopenic Purpura) या ITP डायट (ITP Diet) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर आप इम्यून थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (ITP) की समस्या से पीड़ित हैं, विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हेल्थ एक्सपर्ट आपके हेल्थ को ध्यान में रखकर आपको आवश्यक दवा प्रिस्क्राइब कर सकते हैं और ITP डायट प्लान (ITP Diet plan) भी जानकारी आपसे शेयर करेंगे।

बॉडी को फिट रखने के लिए हमसभी हेल्दी डायट (Healthy diet) फॉलो करते हैं, लेकिन स्वस्थ रहने के लिए सिर्फ हेल्दी डायट फॉलो करना ही काफी नहीं है! फिट रहने के लिए समय पर खाना भी है जरूरी। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक करें और जानें एक्सपर्ट से कब और क्या खाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Idiopathic thrombocytopenic purpura (ITP)/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/ConditionsAndTreatments/idiopathic-thrombocytopenic-purpura-itp/Accessed on 27/05/2021

Immune Thrombocytopenic Purpura (ITP)/https://www.health.harvard.edu/a_to_z/immune-thrombocytopenic-purpura-itp-a-to-z/Accessed on 27/05/2021

Immune Thrombocytopenia/https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/immune-thrombocytopenia/Accessed on 27/05/2021

Diet & Lifestyle/https://www.pdsa.org/treatments/complementary/food-as-a-cure.html/Accessed on 27/05/2021

Immune Thrombocytopenic Purpura (ITP)/https://medlineplus.gov/ency/article/000535.htm/Accessed on 27/05/2021

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/05/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड