home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Primary lateral sclerosis : प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस क्या है?

Primary lateral sclerosis : प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस क्या है?
परिभाषा|लक्षण|कारण|रिस्क फैक्टर|निदान और उपचार|जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

परिभाषा

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस (Primary lateral sclerosis) क्या है?

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस मोटर न्यूरॉन बीमारी का एक प्रकार है जो मांसपेशियों की तंत्रिका कोशिकाओं (nerve cells) के धीरे-धीरे टूटने का कारण बनता है, जिससे कमजोरी होती है। प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस (PLS) आपकी वॉलेन्ट्री मसल्स में कमजोरी का कारण बनता है, जिससे आप अपने पैरों, हाथ और जीभ को नियंत्रित करने के लिए उपयोग करते हैं।

Endometriosis : एंडोमेट्रियोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस (Primary lateral sclerosis) कितना आम है?

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस रेयर है। यह किसी भी उम्र में हो सकता है। यह आमतौर पर 40 से 60 वर्ष की उम्र के बीच होता है। प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस का एक सबटाइप है, जिसे जुवेनाइल (juvenile) प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस के रूप में जाना जाता है। इसकी शुरुआत बचपन से होती है। ये माता-पिता से बच्चों में एबनॉर्मल जीन के कारण होता है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

लक्षण

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस (Primary lateral sclerosis) के लक्षण क्या हैं?

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस के सामान्य लक्षण-

  • पैरों में कठोरता और कमजोरी
  • ट्रिपिंग, पैर की मांसपेशियों के कमजोर होने के साथ अकड़न और बैलेंस में कमी।
  • चेहरे की मांसपेशियां तक पहुंचती है। कमजोर होने के कारण आवाज का बैठ जाना, बोलने में समस्या होना, बोलने की गति कम होना आदि समस्याएं दिखती है।
  • खाना निगलने में समस्या, सांस लेने में कठिनाई,रीढ़ की हड्डी में दर्द की समस्या आदि।

हो सकता है कि आपको उपरोक्त लक्षण न दिखाई पड़े, यदि आपको किसी लक्षण के बारे जानकारी चाहिए, तो कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए ?

यदि आपको निम्न में से कोई भी समस्या है तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए,

  • पैरों में अकड़न या कमजोरी के साथ या निगलने या बोलने में लगातार समस्या आना।
  • यदि आपका बच्चा अधिक बार संतुलन खो रहा है, तो जांच के लिए बाल रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए।

यह भी पढ़ें – Colon cancer: कोलन कैंसर क्या है?

कारण

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस (Primary lateral sclerosis) का क्या कारण है?

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस का सही कारण अभी तक पता नहीं चल सका है। अधिकांश मामलों में कारण का पता नहीं चलता है। प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस मोटर न्यूरॉन डिसीज ग्रुप डिसऑर्ड के रूप में जाना जाता है। मोटर न्यूरॉन डिसीज से मतलब नर्व(ब्रेन एंड स्पाइनल कॉर्ड) सेल्स की खराबी से है।ये ब्रेन से मसल्स तक निर्देश ले जाती हैं।

रिस्क फैक्टर

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस के लिए मेरा जोखिम कब बढ़ जाता है?

अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

निदान और उपचार

प्रदान की गई जानकारी किसी भी चिकित्सकीय सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस का निदान कैसे किया जाता है?

इस बीमारी के लिए कोई एक टेस्ट नहीं है जिससे पता लगाया जा सके कि आपको PLS की समस्या है। ये बीमारी अन्य न्यूरोलॉजिकल डिसीज जैसे मल्टिपल स्क्लेरॉसिस और ALS के लक्षणों से मेल खाती है। डॉक्टर सही जानकारी का पता लगाने के लिए अलग-अलग टेस्ट कर सकता है।

  • आपकी मेडिकल हिस्ट्री, फैमिली हिस्ट्री,न्यूरोलॉजिकल परफॉर्मेंस एक्जामिनेशन के बाद डॉक्टर कुछ टेस्ट के लिए कह सकता है।
  • ब्लड टेस्ट के माध्यम से इंफेक्शन के बारे में जानकारी के साथ ही मसल्स वीकनेक का कारण पता चलता है।

मेग्नेटिक रीसोनेंस इमेजिंग (MRI)

ब्रेन और स्पाइन की MRI नर्व सेल डिजेनेरेशन के बारे में जानकारी देती है। डॉक्टर अन्य लक्षणों को देखने के लिए भी MRI करा सकता है, जैसे स्ट्रक्चरल एबनॉर्मलिटी, मल्टिपल स्क्लेरॉसिस या स्पाइनल कॉर्ड ट्यूमर

इलेक्ट्रोमायोग्राम (Electromyogram)

डॉक्टर निडिल इलेक्ट्रोड को स्किन की सहायता में मसल्स में डालता है। इससे मसल्स की इलेक्ट्रिकल एक्टीविटी और रेस्ट के बारे में पता चलता है। इससे लोअर मोटार न्यूरॉन्स के बारे में जानकारी मिलती है। ये PLS और ALS के बीच अंतर को भी बताता है।

नर्व कंडक्शन स्टडीज – नर्व एबिलिटी को चेक करने के लिए ये टेस्ट किया जाता है। शरीर में हल्का सा करंट दिया जाता है। बॉडी के डिफरेंट पार्ट के मसल्स में इम्पल्सेस भेजी जाती है। ये नर्व डैमेज का पता लगाता है।

स्पाइनल टैप -डॉक्टर मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के आसपास के नमूनों को लेने के लिए निडिल डालते हैं।स्पाइनल टैप स्क्लेरॉसिस, इंफेक्शन और अन्य स्थितियों से निपटने में मदद कर सकता है।

अन्य बीमारियों जांचने के बाद डॉक्टर पीएलएस का प्रारंभिक निदान कर सकता है। कभी-कभी डॉक्टर निदान देने से पहले तीन से चार साल तक इंतजार करते हैं, क्योंकि ALS कुछ वर्षों बाद PLS के लक्षण दिखा सकता है। पीएलएस निदान के लिए पहले आपको तीन से चार साल में इलेक्ट्रोमायोग्राफी दोहराने के लिए कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : Chronic Obstructive Pulmonary Disease (COPD): क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसऑर्डर

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस का इलाज कैसे किया जाता है?

प्राइमरी लेटरल स्क्लेरॉसिस (पीएलएस) के उपचार में लक्षणों से राहत मिलती है। PLS को रोकने का कोई उपचार नहीं है।

  • आपका डॉक्टर मांसपेशियों में ऐंठन को दूर करने के लिए दवा लिख ​​सकता है, जैसे कि बैक्लोफेन, या क्लोनाजेपम आदि। ये दवाएं मौखिक रूप से ली जाती हैं।
  • यदि ऐंठन को मौखिक दवा खाने से नियंत्रित नहीं होती है तो डॉक्टर शल्य चिकित्सा के माध्यम से बैक्लोफेन को सीधे आपके स्पाइनल फ्लुइड में पहुंचाने के लिए पंप का यूज कर सकता है।
  • अगर आप अवसाद अनुभव करते हैं, तो आपका डॉक्टर एंटीडिप्रेसेंट्स लिख सकता है।
  • फिजिकल थेरेपी – मसल्स स्ट्रेंथ के लिए स्ट्रेचिंग और स्ट्रेथनिंग एक्सरसाइज। इसकी हेल्प से आपकी मसल्स को स्ट्रेंथ, फ्लेक्सिबिलिटी और मोशन मिलेगा। मसल्स पेन के लिए हीटिंग पेड का यूज कर सकते है।
  • स्पीच थेरेपी – अगर PLS की वजह से फेशियल मसल्स इफेक्ट हुई हैं तो स्पीच थेरेपी का सहारा लिया जा सकता है।
  • एसिस्टिव डिवाइसेस – लक्षणों के आधार पर केन, वॉकर या वीलचेयर की हेल्प ली जा सकती है।

यह भी पढ़ें : Diabetes: डायबिटीज क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव या घरेलू उपचार से क्या बीमारी में राहत मिल सकती है ?

आप इन जीवनशैली और घरेलू उपचार को अपना सकते हैं,

एक्टिव रहें – अगर आपको ठीक महसूस हो रहा है तो चलने की कोशिश करें। एक्टिव रहने से मांसपेशियों की कमजोरी में राहत मिलेगी।

स्वस्थ आहार खाएं– PLS आपकी गतिविधि के स्तर को धीमा कर सकता है। अत्यधिक वजन बढ़ने और जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव से बचने के लिए पौष्टिक आहार खाएं।

यदि आपके पास कोई प्रश्न है, तो बेहतर समाधान के लिए चिकित्सक से परामर्श करें।

हेलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें: Diarrohea : डायरिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Primary lateral sclerosis (PLS). https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/primary-lateral-sclerosis/symptoms-causes/syc-20353968. Accessed November 28, 2017.

Primary Lateral Sclerosis. https://rarediseases.org/rare-diseases/primary-lateral-sclerosis/. Accessed November 28, 2017.

Primary Lateral Sclerosis. https://www.webmd.com/brain/primary-lateral-sclerosis-10673. Accessed November 28, 2017.

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
edapi द्वारा लिखित
अपडेटेड 08/10/2019
x