आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Vagus Nerve: क्या हो सकती हैं वेगस नर्व से जुड़ी परेशानियां?

    Vagus Nerve: क्या हो सकती हैं वेगस नर्व से जुड़ी परेशानियां?

    वेगस नर्व (Vagus Nerve) को एक्स क्रेनियल नर्व (X cranial nerve) या 10th क्रेनियल नर्व (10th cranial nerve) भी कहा जाता है। यह क्रेनियल नर्व्स की सबसे लंबी और काॅम्प्लेक्स नस है। यह नर्व ब्रेन से पेट तक मुंह व गर्दन के माध्यम से जाती है। इस नर्व के बारे में यह भी माना जाता है कि यह एक मिक्स्ड नर्व है, जिसमें पैरासिम्पेथेटिक फाइबर्स (Parasympathetic fibres) होते हैं। आज हम इसी नर्व के बारे में आपको जानकारी देने वाले हैं। आइए जानते हैं वेगस नर्व (Vagus Nerve) के बारे में विस्तार से।

    वेगस नर्व (Vagus Nerve) किसे कहा जाता है?

    जैसा कि पहले ही बताया गया है कि यह नस ब्रेन से निकलने वाली क्रेनियल नर्व्स के 12 पेयर्स में से सबसे लंबी और सबसे कॉम्प्लेक्स है। यह ब्रेन के सरफेस से या शरीर में टिश्यूज और ऑर्गन्स तक इंफॉर्मेशन ट्रांसमिट करती है। वेगस शब्द लेटिन का है और इसका अर्थ होता है वांडरिंग यानी भटकने वाला। ऐसा इसलिए है क्योंकि वेगस नर्व (Vagus Nerve) ब्रेन से अन्य अंगों जैसे गर्दन, चेस्ट और एब्डोमेन आदि तक जाती है। वेगस नर्व (Vagus Nerve) और इसके रिलेटेड पार्ट्स द्वारा कई नर्वस सिस्टम फंक्शन्स प्रोवाइड किये जाते हैं। वेगस नर्व फंक्शन्स, ऑटोनोमिक नर्वस सिस्टम को कंट्रीब्यूट करते हैं जिसमें पैरासिम्पेथेटिक (parasympathetic) और सिम्पैथेटिक (sympathetic) पार्ट्स शामिल हैं।

    यह नर्व कुछ खास सेंसरी एक्टिविटीज और शरीर में मूवमेंट के लिए मोटर इंफॉर्मेशन के लिए जिम्मेदार है। यह एक सर्किट का हिस्सा है जो गर्दन, हार्ट, लंग्स और पेट को ब्रेन से जोड़ता है। अब जानते हैं कि यह नर्व किसे प्रभावित करती हैं?

    और पढ़ें: ये हैं ब्रेन और नर्वस सिस्टम की तकलीफें और कुछ ऐसे होता है इनका उपचार!i

    वेगस नर्व (Vagus Nerve) क्या प्रभावित करती है?

    वेगस नर्व के कई डिफरेंट फंक्शन्स हैं। इस नर्व के चार के फंक्शन्स इस प्रकार हैं:

    • सेंसरी (Sensory): यह गर्दन, हार्ट, लंग और एब्डोमेन तक फिजिकल सेंसेस प्रदान करती है।
    • स्पेशल सेंसरी (Special sensory): यह जीभ के पीछे टेस्ट सेंसेशन प्रदान करती है।
    • मोटर (Motor): निगलने और बोलने के लिए रिस्पॉन्सिबल गर्दन में मांसपेशियों के लिए मूवमेंट फंक्शन्स प्रदान करती है।
    • पैरासिम्पैथेटिक (Parasympathetic): यह डायजेस्टिव ट्रैक्ट, रेस्पिरेशन और हार्ट रेट फंक्शनिंग के लिए जिम्मेदार है।

    और पढ़ें: पेरिफेरल नर्वस सिस्टम के डैमेज होने के कारण होती है स्मॉल फाइबर न्यूरोपैथी की समस्या!

    इसके फंक्शन्स को आगे सात कैटेगरीज में बांटा गया है। इनमे से एक नर्वस सिस्टम को बैलेंस करना शामिल है। नर्वस सिस्टम को दो एरियाज में बांटा गया है: सिम्पैथेटिक (Sympathetic) और पैरासिम्पैथेटिक (Parasympathetic)। सिम्पैथेटिक (Sympathetic) साइड से अलर्टनेस, एनर्जी ब्लड प्रेशर, हार्ट रेट और ब्रीदिंग रेट बढ़ती है। पैरासिम्पैथेटिक (Parasympathetic) जिसमें वेगस नर्व (Vagus Nerve) अधिक शामिल होती है, अलर्टनेस, ब्लड प्रेशर और हार्ट रेट को कम करती है और कॉमनेस, रिलेक्सेशन और पाचन में मदद करती है। परिणामस्वरूप वेगस नर्व, यूरिनेशन और सेक्शुअल एरोसॉल (sexual arousal) में भी मदद करती है। वेगस नर्व (Vagus Nerve) के अन्य प्रभावों में यह सब भी शामिल है:

    • ब्रेन और गट के बीच में कम्युनिकेशन
    • डीप ब्रीदिंग के साथ रिलेक्सेशन
    • इंफ्लेमेशन में कमी
    • हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर में कमी
    • फियर मैनेजमेंट

    अब जानिए वेगस नर्व प्रॉब्लम्स के बारे में।

    और पढ़ें: Renerve Plus: रिनर्व प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    वेगस नर्व प्रॉब्लम्स (Vagus Nerve Problems)

    वेगस नर्व (Vagus Nerve) कई समस्याओं का कारण बन सकती हैं। आइए जानें इन समस्याओं के बारे में:

    नर्व डैमेज (Nerve damage)

    वेगस नर्व (Vagus Nerve) में डैमेज से कई लक्षण नजर आ सकते हैं क्योंकि यह नर्व बहुत लंबी होती है और कई भागों को प्रभावित करती है। इस नस के डैमेज होने पर रोगी को निम्नलिखित लक्षण नजर आ सकते हैं:

    • बोलने में समस्या
    • आवाज में बदलाव
    • निगलने में परेशानी
    • लो ब्लड प्रेशर
    • स्लो हार्ट रेट
    • डायजेस्टिव प्रोसेस में बदलाव
    • जी मिचलाना या वोमिटिंग
    • एब्डोमिनल ब्लोटिंग या दर्द
    • ब्रीदिंग प्रॉब्लम और हार्ट डिजीज से पीड़ित लोगों में डिप्रेशन पर एंग्जायटी

    यह लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि नर्व का कौन सा हिस्सा प्रभावित है।

    वेगस नर्व, Vagus Nerve.

    और पढ़ें: Pinched nerve : नस दबना (पिंच्ड नर्व) क्या है?

    गैस्ट्रोपैरीसिस (Gastroparesis)

    एक्सपर्ट ऐसा मानते हैं कि वेगस का डैमेज होना एक अन्य स्थिति का कारण बन सकता है जिसे गैस्ट्रोपैरीसिस (Gastroparesis) कहा जाता है। यह कंडिशन डायजेस्टिव सिस्टम की इन्वॉलन्टरी कॉन्ट्रैक्शंस को प्रभावित करती है, जो पेट को ठीक से खाली होने से रोकती है। गैस्ट्रोपैरीसिस के लक्षण इस प्रकार हैं:

    • जी मिचलाना या उल्टी आना
    • भूख में कमी
    • एसिड रिफ्लक्स
    • पेट में दर्द या ब्लोटिंग
    • अचानक वजन कम होना
    • ब्लड शुगर में बदलाव

    वैसोवेगल सिंकोप (Vasovagal syncope)

    वेगस नर्व (Vagus Nerve) हार्ट में कुछ खास मसल्स को स्टिमुलेट करती हैं, जो हार्ट रेट को स्लो करने में मदद कर सकती हैं। जब यह ओवररियेक्ट करती हैं, तो इससे हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर में अचानक ड्राप आ सकता है। इसके कारण व्यक्ति बेहोश हो सकता है। इसे वैसोवेगल सिंकपी कहा जाता है। इसे जो फैक्टर्स ट्रिगर करते हैं उनमें प्रेग्नेंसी, इमोशनल स्ट्रेस, दर्द आदि शामिल हैं। लेकिन, इसका कोई क्लियर कारण नहीं है। इसमें बेहोशी के साथ ही आप इन समस्याओं का अनुभव भी कर सकते हैं:

    • जी मिचलाना
    • टनल विजन
    • अधिक पसीना आना
    • लो ब्लड प्रेशर
    • धीमी या असामान्य हार्टबीट

    अगर आप बेहोशी का अनुभव कर रहे हैं, तो इसके कारणों के बारे में जानने के लिए डॉक्टर से बात करें। इससे बचने के लिए डॉक्टर आपको अधिक लिक्विड का सेवन करने और जल्दी खड़े होने से बचने की सलाह देंगे। अब जानते हैं वेगस नर्व स्टिमुलेशन (Vagus Nerve Stimulation) के बारे में।

    और पढ़ें: ब्रेन स्ट्रोक के कारण कितने फीसदी तक डैमेज होता है नर्वस सिस्टम?

    वेगस नर्व स्टिमुलेशन (Vagus nerve stimulation)

    वेगस नर्व स्टिमुलेशन एक मेडिकल प्रोसीजर है, जिसका इस्तेमाल कई कंडिशंस के उपचार में किया जाता है। इसे मैन्युअली या इलेक्ट्रिकल पल्सेस के माध्यम से किया जा सकता है। ऐसा माना गया है कि इसका इस्तेमाल इन दो कंडिशंस के उपचार में किया जाता है, जो इस प्रकार हैं:

    मिर्गी (Epilepsy)

    1997 में यूनाइटेड स्टेट्स फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (United States Food and Drug Administration) ने मिर्गी की स्थिति में वेगस नर्व (Vagus Nerve) स्टिमुलेशन के इस्तेमाल की सलाह दी थी। इसमें एक छोटे इलेक्ट्रिकल डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है, जो पेसमेकर के जैसा होता है। इसे रोगी की चेस्ट में लगाया जाता है। लेड के रूप में जाना जाने वाला एक पतला तार डिवाइस से वेगस नर्व (Vagus Nerve) तक जाता है। डिवाइस को सर्जरी के माध्यम से शरीर में प्लेस किया जाता है। इसके बाद रेगुलर इंटरवेल्स में इलेक्ट्रिकल पल्स को सेंड किया जाता है, ताकि इसकी गम्भीरता को कम किया जा सके और सीजर्स को रोका जा सके। लेकिन मिर्गी में इसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

    • आवाज में बदलाव
    • गले में खराश
    • सांस लेने में समस्या
    • खांसी
    • हार्ट रेट का स्लो होना
    • निगलने में समस्या
    • पेट में समस्या या जी मिचलाना

    और पढ़ें: डायबिटीज नर्व पेन के लिए एक्सरसाइज : समस्या में आराम पाने का है अच्छा उपाय!

    मेंटल इलनेस (Mental Illness)

    डिप्रेशन के इलाज के लिए 2005 में इस उपचार की सलाह दी गई थी। इसकी सलाह इन कंडिशंस में दी जाती है:

    • रैपिड साइकलिंग बायपोलर डिसऑर्डर
    • एंग्जायटी डिसऑर्डर्स
    • अल्जाइमर’स डिजीज

    यह तो थी वेगस नर्व स्टिमुलेशन (Vagus Nerve Stimulation) के बारे में जानकारी रिसर्चर अभी इस बारे में भी शोध कर रहे हैं कि इस स्टिमुलेशन से अन्य कंडिशन में भी लाभ हो रहा है या नहीं, जैसे:

    • रयूमेटाइड आर्थराइटिस इंफ्लेमेशन
    • हार्ट फेलियर
    • डायबिटीज से इंफ्लेमेशन
    • एब्नार्मल हार्ट रिदम
    • क्रोहन’स डिजीज से इंफ्लेमेशन

    और पढ़ें: Anorexia Nervosa: एनोरेक्सिया नर्वोसा क्या है? जानें कारण, लक्षण और इलाज

    ऐसा माना गया है कि वेगस नर्व (Vagus Nerve) स्टिमुलेशन रयूमेटाइड आर्थराइटिस के लक्षणों को कम करने में मददगार साबित हो सकती है। यह तो थी वेगस नर्व (Vagus Nerve) के बारे में जानकारी। यह नर्व शरीर के कई फंक्शन्स में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और इसका ब्रेन और गट जैसे कई एरियाज के साथ लिंक है। वेगस नर्व (Vagus Nerve) पर फोकस करके जो ट्रीटमेंट किया जाता है, उसे मिर्गी और डिप्रेशन से पीड़ित लोगों में फायदेमंद पाया गया है। अब इस के बारे में और अधिक स्टडी की जा रही है। अगर आपके मन में इस बारे में कोई भी सवाल है तो अपने डॉक्टर से अवश्य जानें।

    health-tool-icon

    टार्गेट हार्ट रेट कैल्क्यूलेटर

    जानें अपना साधारण और अधिकतम रेस्टिंग हार्ट रेट,आपकी उम्र और रोजाना एक्टिविटीज और अन्य एक्टिविटीज के दौरान प्राभावित होने वाली हार्ट रेट के बारे में।

    पुरुष

    महिला

    क्या आप खोज रहे हैं?

    आपकी रेस्टिंग हार्ट रेट क्या है? (बीपीएम)

    60

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र
    लेखक की तस्वीर badge
    AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: