बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies) फायदेमंद है, लेकिन कब से शुरू करें देना?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट February 12, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

खीरे को सलाद या एक साइड डिश की तरह हर घर या रेस्टोरेंट में जरूर सर्व किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं खीरा बड़ों और बुजुर्गों के साथ-साथ बच्चों को भी सर्व किया जा सकता है! मुझे तो लगता है, आज जब आप हैलो स्वास्थ्य के इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ लेंगे और जान जायेंगे कि बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies) क्यों है न्यूट्रिशनल फूड (Nutritional food) में शामिल। तो बेबी का बर्थडे हो या बच्चों का गेट टुगेदर, खीरा सर्व करना आप नहीं भूलेंगी। चलिए बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies) कैसे हेल्दी है, इससे स्टेप बाय स्टेप सस्पेंस हटाते हैं, जिससे आप अपने बच्चों को इस हेल्दी फ्रूट (Healthy fruit) से दूर ना रखें। लेकिन सबसे पहले जान लेते हैं खीरे की न्यूट्रिशनल वैल्यू (Nutritional value) क्या है, जिस वजह से बच्चों के लिए खीरा उनके डायट चार्ट में शामिल जरूर किया जा सके।

बच्चों के लिए खीरा (cucumber for babies)

खीरे में मौजद विटामिन सी, विटामिन के, विटामिन बी 6, विटामिन बी 5, फाइबर, शुगर, कार्बोहाइड्रेट, कॉपर, मैग्नीशियम, पोटैशियम एवं मैंगनीज जैसे पोषक तत्व सेहत के लिए अत्यधिक लाभकारी होते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं खीरे में 95 प्रतिशत पानी होता है और यही काऱण है कि बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies) बेहद लाभकारी माना जाता है। अब ऐसे में कई सवाल मन आ जाते हैं कि-

  • क्या बच्चा खीरा खा सकता है?
  • बच्चों के लिए खीरा लाभकारी है, लेकिन कब से उन्हें देना चाहिए?
  • बच्चों के डायट में खीरा शामिल करने से क्या-क्या लाभ मिल सकता है?
  • बच्चों को खीरा कैसे दिया जाना चाहिए?

इस आर्टिक में एक-एक कर ऊपर दिए गए सवालों का जवाब क्या है, यह समझना शुरू करते हैं।

और पढ़ें : बच्चों का झूठ बोलना बन जाता है पेरेंट्स का सिरदर्द, डांटें नहीं समझाएं

क्या बच्चा खीरा खा सकता है?

बच्चों को जब सॉलिड फूड (Solid food) देना शुरू किया जाता है, तो उनमें फल और सब्जियां भी शामिल होती हैं। इसलिए खीरे का पेस्ट बना लें या जिस तरह से अन्य फलों को आप बच्चे को खिलाते हैं, ठीक वैसे ही खीरे को भी खिलाएं।

बच्चों के लिए खीरा लाभकारी है, लेकिन कब से उन्हें देना चाहिए?

अगर अब आपकी चिंता ये है, तो चलिए इसे भी सुलझा देते हैं। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन में पब्लिश्ड एक रिपोर्ट के अनुसार बच्चों को सॉलिड फूड 6 से 8 महीने के होने पर शुरू कर दिया जाता है, तो ठीक वैसे ही खीरे को दिया जा सकता है। लेकिन ध्यान रखें अगर आपको डॉक्टर से बच्चे को 11 माह के होने तक सिर्फ स्तनपान की सलाह दी है, तो आप अपने शिशु को 11 माह (11 months of baby) के होने के बाद ही सॉलिड फूड दें। आप चाहें, तो सॉल्डिड फूड देने से पहले अपने डॉक्टर से कंसल्ट कर लें।

और पढ़ें : बेबी फूड प्रोडक्ट खरीदने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

बच्चों के डायट में खीरा शामिल करने से क्या-क्या लाभ मिल सकता है? (Health benefits of Cucumber)

बच्चों के लिए खीरा न्यूट्रिशन को पूरा करने का काम करता है और यही कारण है कि इसके कई लाभ हैं, जो निम्नलिखित हैं-

1. बेबी स्किन के लिए फायदेमंद है खीरा (Solve baby skin problem) 

<script>(function() { window.mc4wp = window.mc4wp || { listeners: [], forms: { on: function(evt, cb) { window.mc4wp.listeners.push( { event : evt, callback: cb } ); } } } })(); </script><!-- Mailchimp for WordPress v4.8.1 - https://wordpress.org/plugins/mailchimp-for-wp/ --><form id="mc4wp-form-1" class="mc4wp-form mc4wp-form-183492" method="post" data-id="183492" data-name="Coronavirus Updates" ><div class="mc4wp-form-fields"><style type="text/css"> #mc_embed_signup > div { max-width: 350px; /*background: #c9e5ff;*/ background-image:url('https://helloswasthya.com/wp-content/uploads/2020/09/NL-Box-Background-Image-Updated.png') !important; border-radius: 6px; padding: 13px; } #mc_embed_signup > div > p { line-height: 1.17; font-size: 24px; color: #284a75; font-weight: bold; margin: 0 0 10px 0; letter-spacing: -1.3px; } #mc_embed_signup > div > div:nth-of-type(1n) { /*max-width: 280px;*/ color: #284a75; font-size: 12px; line-height: 1.67; } #mc_embed_signup > div > div:nth-of-type(2n) { margin: 10px 0px; display: flex; margin-bottom: 5px } #mc_embed_signup > div > div:nth-of-type(3n) { font-size: 8px; line-height: 1.65; margin-top: 10px; } #mc_embed_signup > div input[type="email"] { font-size: 13px; max-width: 240px; flex: 1; padding: 0 12px; min-height: 36px; border: none; box-shadow: none; border: none; outline: none; border-radius: 0; min-height: 36px; border: 1px solid #fff; border-right: none; border-top-right-radius: 0; border-bottom-right-radius: 0; border-top-left-radius: 8px; border-bottom-left-radius: 8px; } #mc_embed_signup > div input[type="submit"] { font-size: 11px; letter-spacing: normal; padding: 12px 20px; font-weight: 600; appearance: none; outline: none; background-color: #284a75; color: white; box-shadow: none; border: none; outline: none; border-radius: 0; min-height: 36px; border-top-right-radius: 8px; border-bottom-right-radius: 8px; } .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup .mc_signup_title, .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup .mc_signup_description, .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup .mc_signup_tnc { display: none; } .category-template-category--covid-19-php .mc4wp-response { font-size: 15px; line-height: 26px; letter-spacing: -.07px; color: #284a75; } .category-template-category--covid-19-php .myth-busted .mc4wp-response, .category-template-category--covid-19-php .myth-busted #mc_embed_signup > div { margin: 0 30px; } .category-template-category--covid-19-php .mc4wp-form { margin-bottom: 20px; } .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup > div > .field-submit, .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup > div { max-width: unset; padding: 0px; } .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup > div input[type="email"] { -ms-flex-positive: 1; flex-grow: 1; border-top-left-radius: 8px; border-bottom-left-radius: 8px; border-top-right-radius: 0; border-bottom-right-radius: 0; padding: 6px 23px 8px; border: none; max-width: 500px; } .category-template-category--covid-19-php #mc_embed_signup > div input[type="submit"] { border: none; border-radius: 0; border-top-right-radius: 0px; border-bottom-right-radius: 0px; background: #284a75; box-shadow: none; color: #fff; border-top-right-radius: 8px; border-bottom-right-radius: 8px; font-size: 15px; font-weight: 700; text-shadow: none; padding: 5px 30px; } form.mc4wp-form label { display: none; } </style> <div id="mc_embed_signup"> <div style="max-width:350px;background-image:url('https://helloswasthya.com/wp-content/uploads/2020/09/NL-Box-Background-Image-Updated.png'); background-size: cover; background-position: center center; border-radius: 6px; padding: 13px;"> <p style="line-height: 1.17;font-size:26px;color:#284a75;font-weight:bold; margin: 0 0 10px 0;letter-spacing: -1.3px; "> हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें </p> <div style="max-width: 100%; color:#284a75; font-size: 14px; line-height: 1.67;"> मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ... </div> <div style="margin: 10px 0px;display:flex; margin-bottom: 5px"> <input style="font-size: 13px; max-width:340px; flex:1; padding: 0 12px; min-height:36px; box-shadow: none; outline: none; border: 1px solid #fff; border-radius: 8px; display: none; " type="text" name="NAME" required="" placeholder="Nhập tên của bạn"> </div> <div style="margin: 10px 0px;display:flex; margin-bottom: 5px"> <input style="font-size: 13px; max-width:250px; flex:1; padding: 0 12px; min-height:36px; box-shadow: none; outline: none; border: 1px solid #fff; border-radius: 8px;" type="email" name="EMAIL" required="" placeholder="ईमेल आईडी दर्ज करें"> </div> <div style="margin: 10px 0px;display:flex; margin-bottom: 5px"> <input style="font-size: 13px; max-width:340px; flex:1; padding: 0 12px; min-height:36px; box-shadow: none; outline: none; border: 1px solid #fff; border-radius: 8px; display: none; " type="text" name="PHONE" required="" placeholder="Nhập số điện thoại của bạn"> </div> <div style="margin: 10px 0px; margin-bottom: 5px; text-align: left;"> <input type="submit" value="साइन अप" style="font-size:11px; letter-spacing: normal; padding: 12px 20px; font-weight: 600; appearance: none; outline: none; background-color: #284a75; color: white; box-shadow: none; border: none; border-radius: 8px; min-height: 36px; "> </div> <div style="font-size:10px;line-height: 1.65;margin-top: 10px;"> सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं। </div> </div> </div> </div><label style="display: none !important;">Leave this field empty if you're human: <input type="text" name="_mc4wp_honeypot" value="" tabindex="-1" autocomplete="off" /></label><input type="hidden" name="_mc4wp_timestamp" value="1614408646" /><input type="hidden" name="_mc4wp_form_id" value="183492" /><input type="hidden" name="_mc4wp_form_element_id" value="mc4wp-form-1" /><div class="mc4wp-response"></div></form><!-- / Mailchimp for WordPress Plugin -->

अभीतक तो शायद हमसभी खीरे का सेवन या स्किन की प्रॉब्लम दूर करने के लिए करते आ रहें हैं। ठीक वैसे ही बच्चों के लिए खीरा स्किन से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के लिए किया जाता है। अगर आपके बेबी की स्किन सेंसेटिव (Baby’s sensitive skin) और अगर इंसेक्ट बाइट (Insect bite) हुआ है, तो खीरे के स्लाइस को लगाया जा सकता है। अगर बच्चे को फुंसियां (Boils), खुजली (Itching) या सूजन जैसी तकलीफों को दूर करने के लिए खीरे का इस्तेमाल किया जा सकता है।

और पढ़ें : 32 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

2. नहीं होती है डिहायड्रेशन की परेशानी (Protect from dehydration) 

बच्चों के लिए खीरा (cucumber for babies)

कई बार बच्चे पानी पीना नहीं चाहते हैं, जो सेहत के लिए नुकसानदायक होता है। ऐसे में बच्चे को खीरा जरूर खिलाएं। इससे शरीर में पानी की कमी को दूर किया जा सकता है और बच्चा हाइड्रेट भी रहेगा। खीरे में मौजूद 95 प्रतिशत पानी की मात्रा बच्चों के लिए फायदेमंद होती है।

और पढ़ें : 24 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

3. विटामिन से भरपूर है खीरा (Rich in Vitamins) 

बच्चों के लिए खीरा (cucumber for babies)

खीरे में विटामिन सी, विटामिन के, विटामिन बी 6, विटामिन बी 5 जैसे कई अन्य महत्वपूर्ण विटामिन्स की मौजूदगी बच्चों के लिए लाभकारी होता है। ये सभी विटामिन बच्चे के शारीरिक विकास , ब्लड सर्क्युलेशन एवं हड्डियों को स्ट्रॉन्ग बनाने में अहम योगदान निभाते हैं।

और पढ़ें : बच्चों के लिए विटामिन्स की जरूरत और सप्लीमेंटस के बारे में जानिए जरूरी बातें

4. इम्यूनिटी को करें खीरे से स्ट्रॉन्ग (Boost Immune power) 

बच्चों के लिए खीरा (cucumber for babies)

खीरे में मौजूद फ्लेवेनोएड्स और टैनिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) की मौजूदगी बच्चों को इम्यूनिटी बढ़ाने में मददगार होते हैं। इसलिए बच्चों के लिए खीरा बीमारियों से लड़ने या बचाने में सहायक होता है।

और पढ़ें : बच्चों में आयरन की कमी को पूरा करने के लिए 10 बेस्ट फूड

5. डायजेशन को रखे हेल्दी (Healthy for Digestion) 

बच्चों के लिए खीरा (cucumber for babies)

खीरे के सेवन से पेट की तकलीफों से भी बचा जा सकता है। अगर आपके शिशु को एसिडिटी (Acidity), अल्सर (Ulcer) या गैस्ट्रिक (Gastric) जैसी परेशानी रहती है, तो उन्हें खीरा जरूर खिलाएं। आप चाहें, तो खीरे का जूस भी बच्चों को दे सकती हैं और पेट की परेशानियों को दूर कर सकती हैं। अगर शिशु को कब्ज (Constipation in kids) की परेशानी रहती है, तो खीरे के सेवन से उसे भी दूर किया जा सकता है।

और पढ़ें : बेबी स्माइल ना करे, तो पेरेंट्स क्या करें?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

बच्चों के लिए खीरा लाभकारी है, लेकिन खीरा देने से पहले क्या बरतें सावधानी? (Tips to follow before serving cucumber to baby)

  • बच्चों को हमेशा ताजा खीरा दें और बच्चे को कड़वा खीरा ना खिलाएं।
  • बच्चे को खीरा हमेशा छिलका उतार कर ही खिलाएं, क्योंकि हो सकता कि ये बच्चे को डायजेस्ट ना हो।
  • बच्चे को कच्चा खीरा ना दें, क्योंकि इनमें बैक्टीरिया होता है। इसलिए खीरे को अच्छी तरह से धोकर और स्टीम करने के बाद ही दें।
  • बच्चे को खीरा पहले कम मात्रा में खिलाएं और ध्यान रखें कि इससे उन्हें कोई एलर्जी तो नहीं हो रही है।

इन बातों को ध्यान में रखकर अगर बच्चों को खीरा खिलाया जाए, तो किसी भी साइड इफेक्ट्स से बचा जा सकता है और यह बच्चों की सेहत के लिए लाभकारी हो सकता है।

और पढ़ें : बच्चों को निमोनिया की वैक्सीन लगाना है जरूरी

बच्चों के लिए खीरा: कैसे बनायें इसे और भी हेल्दी एंड टेस्टी? (Cucumber healthy recipe for baby)

बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies)

ज्यादातर बच्चे खाने-पीने के मामलों में नखरेबाज ही होते हैं। लेकिन अगर आपका बेबी भी है खाने-पीने में नखरेबाज या ड्रामेबाज तो निम्नलिखित रेसिपी के सामने नहीं चलेगी बच्चों की ड्रामेबाजी या नखरेबाजी।

और पढ़ें : बढ़ते बच्चों को दें पूरा पोषण, दलिया से बनी इन स्वादिष्ट रेसिपीज के साथ

बच्चों के लिए खीरे की प्यूरी रेसिपी (Cucumber Puree recipe)

बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies)

खीरे की प्यूरी रेसिपी के लिए खीरा (Cucumber), तुलसी (Basil leaf), मलाई और बच्चों की पसंदीदा चीज सॉल्ट ले लें। अब इनसभी को अच्छी तरह से ब्लैंड करें और बच्चों के सामने परोस दें। खीरे के साथ इसमें मौजूद तुलसी और मलाई बच्चों की सेहत के लिए लाभकारी होते हैं और इसका स्वाद चीज सॉल्ट से इतना टेस्टी हो जाता है कि बच्चे बिना कुछ बोले ही बॉटम्सअप कर लेंगे।

और पढ़ें : सवालों से हैं परेशान तो कुछ इस अंदाज में दे सकते हैं बच्चों को कोरोना वायरस की जानकारी

दही मिंट कुकुंबर रेसिपी (Curd Mint Cucumber recipe)

बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies)

जैसा की नाम से ही समझ आ रहा है कि इस रेसिपी के लिए दही (Curd), पुदीने की पत्तियां (Mint leaf) और खीरा लेना है। अब सबसे पहले पुदीने और खीरे को जितना बारीक काट सकते हैं काट लें और फिर इसमें ताजी दही मिलाएं। आप चाहें, तो इसमें बच्चों के स्वाद अनुसार नमक या चीनी मिला सकते हैं और फिर इसे सर्व करें। अगर आपका शिशु एक साल का नहीं हुआ है, तो आप इस रेसिपी का पेस्ट भी बनाकर खिला सकते हैं।

और पढ़ें : पेरेंट्स का बच्चों के साथ सोना बढाता है उनकी इम्यूनिटी

कहते हैं बच्चों को हेल्दी चीज पसंद नहीं आती है और अगर आपभी यही सोच रहीं हैं कि मेरा बेबी खीरा खाएगा, तो इसका ना भी मिल सकता है। लेकिन ये भी सच है कि अगर बच्चों के सामने खाने को थोड़ा सजाकर और थोड़ा स्वादिष्ट बनाकर पेश किया जाए, तो बच्चे ना नहीं कहते हैं। इसलिए खीरे की अलग-अलग रेसिपी बच्चों के सामने परोसें और उन्हें हेल्दी रखें। अगर आप बच्चों के लिए खीरा फायदेमंद (Benefits of cucumber for babies) क्यों है, यह मान चुकी हैं, लेकिन इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं या आपके बच्चे को खीरे से एलर्जी की समस्या (Elergy problem) है, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

बढ़ते बच्चों का डायट प्लान जानने के लिए खेलें नीचे दिए गए क्विज और बनायें अपने Sweetie pie-Cutie pie को स्ट्रॉन्ग

powered by Typeform

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

सरोगेसी प्लानिंग से पहले इससे जुड़े मिथकों को भी जान लें

क्या है सरोगेसी (Surrogacy)? क्या हैं इसके फायदे? क्या आप जानते हैं कितना खर्च आ सकता है सरोगेसी से बेबी प्लान करना? क्या हैं सरोगेसी के मिथ और फैक्ट्स? इस लेख में मिल जाएंगे सारे जवाब।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

बच्चों के काटने की आदत से हैं परेशान, ऐसे में डांटें या समझाएं?

बच्चों के दांत काटने की आदत को छुड़वाना चाहते हैं? जानिए बच्चों के काटने की आदत को छुड़ाने के टिप्स in hindi, शिशु का दांत काटना कैसे दूर करें, अपनाएं ये टिप्स।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh

Pyloromyotomy : पाइलोरोमायोटमी क्या है?

पाइलोरोमायोटमी सर्जरी की जानकारी in Hindi पाइलोरोमायोटमी सर्जरी क्या है , कैसे और कब की जाती है, पाइलोरोमायोटमी सर्जरी की प्रक्रिया, क्या है जोखिम, जानें इसके खतरे, कैसे करें रिकवरी, कैसे करें बचाव।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

सरोगेट मदर का चुनाव कैसे करें?

सरोगेट मदर का चुनाव कैसे करें in hindi. सरोगेट मदर का चुनाव करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ये जानना जरूरी है। इसमें कपल की उम्र से लेकर सरोगेट मां की उम्र कितनी होनी चाहिए शामिल है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

Recommended for you

बेबी

बेबी की देखभाल करना है आसान, अगर आपको इस बारे में हो पूरी जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 18, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
बेबी बर्थ अनाउंसमेंट - baby birth announcement

बेबी बर्थ अनाउंसमेंट : कुछ इस तरह दें अपने बच्चे के आने की खुशखबरी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
प्रकाशित हुआ December 23, 2019 . 6 मिनट में पढ़ें
New mom budget - न्यू मॉम का बजट

न्यू मॉम का बजट अब नहीं बिगड़ेगा, कुछ इस तरह से करें प्लानिंग

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ December 20, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें
Baby birth position -बेबी बर्थ बेस्ट पुजिशन

बेबी बर्थ पुजिशन, जानिए गर्भ में कौन-सी होती है बच्चे की बेस्ट पुजिशन

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ December 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें