शिशु को ग्राइप वॉटर देते वक्त रहें सतर्क,जितने फायदे उतने नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 31, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

जिन लोगों के घर में शिशु होंगे उन्हें इस बात का अंदाजा जरूर होगा कि शिशुओं को रोते हुए चुप कराना कितना मुश्किल कार्य है। कभी-कभी हम लाख कोशिश करने के बाद भी यह समझ नहीं पाते हैं, कि उन्हें क्या समस्या है। जिस कारण से वो इतना रो रहे हैं। दरअसल शिशु हमारी और आपकी तरह अपने समस्या को बोलकर बता नहीं सकते हैं। इस कारण घर के बड़े बुजुर्ग अपने अनुभव के अनुसार या अनुमान लगा लेते हैं, कि उन्हें क्या चाहिए और वो क्यों रो रहे हैं। इसलिए कई बार बच्चों को घर की दादी और नानी एक बार में ही चुप करा देती है। जो महिलाएं पहली बार बच्चे को जन्म देती है उनके लिए शिशु के रोने का मतलब समझना थोड़ा मुश्किल कार्य होता है। उन्हें बच्चों के रोने का कारण समझने में थोड़ा वक्त लगता है। वैसे यदि आपने ध्यान दिया होगा तो अक्सर रोते हुए बच्चे को मां या दादी-नानी चम्मच से एक घूटी पिलाती हैं, जिसके बाद कई बार बच्चे ऐसे चुप हो जाते हैं। जैसे वो घूटी किसी प्रकार का कोई जादू रहा हो। दरअसल सदियों पूराना एक नुस्खा है जिसमें दर्द से रोते हुए शिशु को मिश्री पानी या ग्राइप वॉटर पिलाते हैं। जो वास्तव में शिशु के दर्द पर बहुत तेजी से कर्य करता है। 

  • मिश्री पानी या ग्राइप वॉटर का सबसे अधिक उपयोग तब किया जाता है,जब शिशु को गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल से जुड़ा किसी प्रकार का दर्द होता है। शिशु के रोने से परेशान मां उन्हें चुप कराने के लिए, दांत निकलते वक्त होने वाले दर्द से आराम दिलाने के लिए, हिचकी और पेट में मरोड़ से राहत दिलाने के लिए आमतौर पर माएं बच्चों को ग्राइप वॉटर देती हैं। ग्राइप वॉटर शिशुओं के लिए एक उत्पाद है जो उन्हें जठरांत्र यानि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संबंधी बीमारियों से राहत देता है। 
  • यह एक गैर-पर्चे उत्पाद है, जिसे बहुत लंबे समय से उपयोग किया जा रहा है। छोटे बच्चों में अपरिपक्व पाचन तंत्र होते हैं, और इस प्रकार उनके पेट में बहुत दर्द होता है। ग्राइप वॉटर  एक उपाय के रूप में कार्य कर सकता है और बच्चे और माता-पिता दोनों को बहुत आवश्यक राहत प्रदान कर सकता है। यह ज्यादातर सौंफ, अदरक, कैमोमाइल और अन्य जड़ी बूटियों के साथ तरल सोडियम बाइकार्बोनेट से बना है। तो आज हम इस आर्टिकल में मिश्री पानी या ग्राइप वॉटर के बारे में सभी बाते जानगें।

और पढ़ें: इन वजह से बच्चों का वजन होता है कम, ऐसे करें देखभाल

मिश्री पानी या ग्राइप वॉटर क्या है?

ग्राइप वॉटर सोडियम बाइकार्बोनेट और जड़ी बूटियों (जैसे सौंफ, अदरक, कैमोमाइल, इलायची, लीकोरिस, दालचीनी, लौंग, डिल, नींबू का रस या पेपरमिंट जैसे फॉर्मूला पर निर्भर करता है) का ओवर-द-काउंटर तरल पूरक है। यह गैस से होने वाले दर्द और पेट की अन्य समस्याओं के लिए, अन्य बीमारियों के अलावा तेज दर्द, हिचकी और कभी-कभी पेट का दर्द का इलाज करने में भी सक्षम है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

मिश्री पानी या ग्राइप वॉटर कैसे काम करता है?

1850 के दशक में इंग्लैंड में पहली बार नानी और माताओं द्वारा यह उपयोग किया गया था। जिसमें उपयोग किया जाने वाला मूल ग्राइप वॉटर और एल्कोहल था। जिससे लोग आराम से बच्चे संभालते थे। लेकिन अब (अब हम जानते हैं कि किसी भी बच्चे को शराब देना विषाक्त हो सकता है और बच्चे उसके लत के आदि हो सकते हैं)। इन दिनों, विश्वासियों का कहना है कि कुछ विशेष जल स्रोतों में कुछ तत्व जैसे डिल, लिकोरिस, सौंफ और अदरक गैस और पेट की परेशानी को दूर करने में मदद कर सकते हैं (और बदले में कोलिक वाले शिशुओं के लिए फायदेमंद हो सकते हैं, जो कम से कम के कारण माना जाता है)।कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह मिश्रण उधम मचाते शिशुओं में भी प्रभावी हो सकता है, क्योंकि यह मीठा होता है।

और पढ़ें:  स्वस्थ बच्चे के लिए हेल्दी फैटी फूड्स

क्या बच्चों के लिए ग्राइप वॉटर सुरक्षित है?

आमतौर पर ग्राइप वॉटर के विभिन्न प्रकार हैं। यह विशिष्ट ब्रांड और अवयवों पर भी निर्भर करता है। आपको हमेशा अपने डॉक्टर से ग्राइप वॉटर की सिफारिश और आपके बच्चे को देने के बारे में कोई अन्य उपाय पूछना चाहिए। शराब से बना हुआ मिश्री पानी (ग्राइव वाटर) निश्चित रूप से सुरक्षित नहीं है, जिनमें शराब और चीनी शामिल हैं, तो आप अपने बच्चे को एल्कोहॉल निर्मित यह पूरक देने से बचें। वैसे देखा जाए तो ऐसा कोई ठोस सबूत नहीं है जो यह साबित कर सके कि बच्चों के लिए ग्राइप वाटर असुरक्षित है।बल्कि राय इस बात पर अलग है कि क्या ग्राइव वाटर प्रभावी है क्योंकि कुछ ने इसे अपने बच्चों के लिए उपयोगी पाया है जबकि बहुत ले लोगों ने उपयोगी नहीं पाया है। जहां तक सुरक्षा जाती है, शिशुओं के लिए अंगूर के पानी के ब्रांडों में एल्कोहल, कृत्रिम मिठास या सोडियम बाइकार्बोनेट की सिफारिश नहीं की जाती है। एल्कोहॉल के अलावा बहुत अधिक चीनी शिशु के दांत में समस्या होने के जोखिम को बढ़ा सकती है, और यह आपके बेबी फिडिंग हैबिट को प्रभावित कर सकता है।

और पढ़ें:क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

  • सोडियम बाइकार्बोनेट, या बेकिंग सोडा, जब तक डॉक्टर द्वारा निर्धारित नहीं किया जाता है, तब तक शिशुओं को नहीं दिया जाना चाहिए। सोडियम बाइकार्बोनेट आपके बच्चे के पेट में प्राकृतिक पीएच स्तर के साथ हस्तक्षेप कर सकता है। यह बहुत अधिक क्षारीयता पैदा कर सकता है और पेट के लक्षणों को खराब कर सकता है।
  • डिल सीड ऑयल इसमें मौजूद होता है। यह एक आवश्यक तेल है, जो अपच से राहत देने के लिए जाना जाता है। हालांकि, कुछ शिशुओं को इससे एलर्जी हो सकती है। इसलिए, इस घटक का उपयोग करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।
  • ग्राइप वॉटर आम तौर पर सुरक्षित होता है, यह 1 महीने से छोटे बच्चों के लिए अनुशंसित नहीं है। पाचन तंत्र संवेदनशील होता है और अभी भी इस उम्र में विकसित हो रहा है। इसलिए यह एक महीने के बाद की लेने की सलाह दी जा सकती है।
  • पेपरमिंट युक्त ग्राइप वाटर में संभावित रूप से एक बच्चे के लक्षणों को खराब कर सकता है। आपको ग्लूटेन, डेयरी, पैराबेन और वनस्पति कार्बन युक्त ग्राइप वाटर से भी बचना चाहिए।
  • यह सुनिश्चित करें कि उपयोग करने पहले आपने पैकेज पर सूचीबद्ध सामग्री को पढ़ा है। ग्राइप वॉटर के कुछ रूपों में सोडियम बाइकार्बोनेट और पेपरमिंट भी होते हैं।
  • याद रखें, यहां तक कि अगर आप अपने बाल रोग विशेषज्ञ की मंजूरी के साथ पाचन समस्याओं के उपाय के रूप में अंगूर के पानी की कोशिश करते हैं, तो इसे कभी भी बच्चे को बड़ी मात्रा में नहीं दिया जाना चाहिए या आहार विकल्प के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। 

और पढ़ें:  बच्चे की उम्र के अनुसार क्या आप उसे आवश्यक पोषण दे रहे हैं ?

ग्राइप वॉटर के फायदे

  • यदि इसका उपयोग सही ढंग से किया जाए तो यह आपके बच्चे की गैस की समस्या को दूर कर सकता है।
  • नवजात शिशुओं में इसके बेहतर उपयोग से उनमें डीहाइड्रेशन की समस्या को दूर रखने में मदद करता है।
  • जब शिशु के दांत निकलते हैं, तो उन्हें उस समय बहुत असहनीय दर्द होता है।ऐसे में ग्राइप वॉटर शिशुओं में होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करता है।
  • जब धीरे-धीरे आपके शिशु के पेट का साइज बड़ा होता है, तो अक्सर उनमें हिचकी की समस्या होती है। ऐसी स्थिति में ग्राइप वॉटर देने से यह समस्या कम हो सकती है।

आप ग्राइप वाटर का डोज कैसे तय करते हैं?

ग्राइप वाटर तरल रूप में आता हैं जिसे सीधे आपके बच्चे को पिलाया जा सकता है। घोल को पतला करने से बचने के लिए, अपने बच्चे के मुंह में  ड्रॉपर या चम्मच से  ग्राइप वाटर का सेवन कराना चाहिए। साधारण रूप से निम्नलिखित खुराक के साथ दिन में छह बार तक ग्राइप वाटर का उपयोग करने की सलाह देते हैं:

  •      एक महीने की उम्र में नवजात शिशु को: आधा चम्मच (2.5 एमएल)
  •      शिशुओं को एक महीने से छह महीने की उम्र में: 1 चम्मच (5.0 एमएल)
  •      शिशुओं को छह महीने और पुराने होने पर: 2 चम्मच (10.0 एमएल)
  •      वयस्क: दो बड़े चम्मच (30 एमएल)

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

शिशुओं में ग्राइप वॉटर का उपयोग करने के लिए टिप्स

यदि आपका डॉक्टर आपको एक तरह के ग्राइप वॉटर को लेने की सलाह देता है, जो बच्चे के लिए सुरक्षित है, तो इन सुझावों का पालन करें।

सामग्री को ध्यान से पढ़ें

 केवल वे ब्रांड खरीदें जो शराब और सूक्रोज मुक्त हो।

और पढ़ें: Quiz : 5 साल के बच्चे के लिए परफेक्ट आहार क्या है?

निर्देश पढ़ें

ग्राइप वॉटर ब्रांडों की सामग्री अलग-अलग होती है, और अधिकांश में उपयोग के लिए अलग-अलग निर्देश होते हैं। इसलिए बॉक्स को खोलने से पहले, लेबल को ध्यान से पढ़ना सुनिश्चित करें (और फिर से, अपने बाल रोग विशेषज्ञ से ब्रांडों के बारे में पूछें, की क्या आप अपने शिशु के लिए इस उपयोग कर सकते हैं)। कुछ ब्रांड का उपयोग करने के लिए तब तक इंतजार करने की सलाह देते हैं जब तक कि आपका बच्चा कम से कम 1 महीने का न हो जाए। यह भी देखें की आपको कितने समय तक उत्पाद का उपयोग करना चाहिए, तो इससे पहले कि आप डोज लेना बंद करें एक बार चिकित्सा सलाह लेना सुनिश्चित करें।

एलर्जी के लिए देखें

वैसे तो ग्राइप वॉटर से एलर्जी की संभावना नहीं होती है, जैसा कि किसी भी नए भोजन या पेय से आप अपने आपको तुरंत मेल नहीं करा पाते हैं, वैसे ही कुछ रेयर मामलों में एलर्जी के लक्षणों जैसे पित्ती, खुजली,आंखों से पानी आना, होंठ या जीभ की सूजन, निगलने या सांस लेने में परेशानी, उल्टी या दस्त हो सकते हैं। ऐसे में अपने बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें।

और पढ़ें: शैतान बच्चा है तो करें कुछ इस तरह से डील, नहीं होगी परेशानी

शिशु को कब दे ग्राइप वॉटर

यदि आपका बच्चा कोलिक से पीड़ित है, तो बहुत अधिक दर्द  का कारण बन सकता है और प्रत्येक भोजन के बाद बिगड़ सकता है। आप अपने बच्चे को गैस के दर्द से बचने में मदद करने के लिए दूध पिलाने के तुरंत बाद ग्राइप वॉटर दे सकती हैं।  ग्राइप वॉटर आम तौर पर स्वाद में मीठा होता है, इसलिए कुछ बच्चे खुराक लेने के लिए मना नहीं करते हैं। आपको अपने बच्चे के फार्मूले या स्तन के दूध के साथ ग्राइप वॉटर मिलाने का सलाह दिया जा सकता है। इसको केवल डॉक्टर की सलाह पर बच्चे को देना चाहिए।

ग्राइप वॉटर के साइड इफेक्ट

ग्राइप वॉटर आम तौर पर सुरक्षित होता है, लेकिन एलर्जी की प्रतिक्रिया के संकेत के लिए शिशु का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। एलर्जी के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं।ग्राइप वॉटर के साइड इफेक्ट्स इस प्रकार से हो सकते हैं।

नोट: यदि आपको एलर्जी की प्रतिक्रिया पर संदेह है, तो अपने चिकित्सक से उपयोग के बारे में संपर्क करें।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र