home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

आपके बच्चे का दिल दाईं ओर तो नहीं, हर 12,000 बच्चों में से किसी एक को होती है यह कंडीशन

आपके बच्चे का दिल दाईं ओर तो नहीं, हर 12,000 बच्चों में से किसी एक को होती है यह कंडीशन

आपने आज तक यही सुना होगा कि दिल बाईं ओर होता है। लेकिन, हम आपसे कहें कि कुछ लोगों में हृदय दायीं ओर भी हो सकता है। मेडिकल भाषा में इस स्थिति को दक्षिण-हृदयता या डेक्स्ट्रोकार्डिया के नाम से जाना जाता है। यह एक जन्मजात स्थिति होती है जिसका मतलब है कि बच्चा इसी असमानता के साथ पैदा हुए है। हालांकि, यह स्थिति आमतौर पर लाइफ थ्रेटनिंग नहीं होती है, लेकिन यह अक्सर अधिक गंभीर जटिलताओं के साथ होती है, जैसे हृदय दोष या अंग विकार। जानते हैं पीडियाट्रिक डेक्स्ट्रोकार्डिया (pediatric dextrocardia) क्या है, इसके कारण क्या हैं?

डेक्स्ट्रोकार्डिया (Dextrocardia) क्या है?

दक्षिण-हृदयता एक दुर्लभ हृदय स्थिति है जिसमें दिल बाईं ओर के बजाय दाईं ओर स्थित होता है। एक प्रतिशत से भी कम लोग डेक्स्ट्रोकार्डिया के साथ जन्म लेते हैं। अगर बच्चे को आइसोलेटेड डेक्स्ट्रोकार्डिया (isolated dextrocardia) है, तो इसका मतलब है कि दिल सीने के दाईं ओर स्थित है और उसमें कोई अन्य दोष नहीं है। डेक्स्ट्रोकार्डिया की एक स्थिति को साइटस इनवर्सस कहा जाता है। इसमें आपके कई या सभी विसेरल ऑर्गन्स (visceral organs) आपके शरीर के उल्टी साइड में होते हैं। जैसे आपके हार्ट के अलावा लिवर, स्प्लीन (spleen) या अन्य ऑर्गन्स भी शरीर के विपरीत ओर पर मौजूद हो सकते हैं।

यदि आपको डेक्स्ट्रोकार्डिया है, तो आपके शरीर रचना से संबंधित अन्य हृदय, अंग या पाचन दोष हो सकते हैं। कभी-कभी सर्जरी के द्वारा इन समस्याओं को ठीक किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : क्या बच्चों को हर बार चोट लगने पर टिटेनस इंजेक्शन लगवाना है जरूरी?

डेक्स्ट्रोकार्डिया के कारण क्या हैं?

  • डेक्स्ट्रोकार्डिया का कारण अभी पता नहीं है। शोधकर्ताओं का मानना है कि यह भ्रूण के विकास के दौरान होता है। दिल की शारीरिक रचना में कई बदलाव हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, आइसोलेटेड दक्षिण-हृदयता में, आपका दिल सही तरीके से काम करता है लेकिन यह बाईं ओर के बजाय दाईं ओर होता है। डेक्स्ट्रोकार्डिया के अन्य रूपों में, आपके हार्ट के चैम्बर्स या वाल्व में कुछ डिफेक्ट्स हो सकते हैं।
  • कभी-कभी, अन्य शारीरिक समस्याएं मौजूद होने की वजह से बच्चे का दिल गलत तरीके से विकसित हो सकता है। आपके फेफड़े, पेट, या चेस्ट में डिफेक्ट्स की वजह से भी हृदय को गलत जगह विकसित करने का कारण बन सकते हैं। इस स्थिति में, बच्चे को दूसरे भी हार्ट डिफेक्ट्स (heart defects) के साथ अन्य महत्वपूर्ण अंगों में समस्याएं होने की अधिक संभावना रहती है। बहु-अंग दोषों को हेटरोटेक्सी सिंड्रोम के नाम से जाना जाता है।
  • नॉन-डोमिनेंट जीन (जिसे ऑटोसोमल रिसेसिव भी कहा जाता है) डेक्स्ट्रोकार्डिया का कारण बनता है। ये असामान्य जीन गर्भ में भ्रूण के विकास के दौरान हार्ट को उल्टी दिशा में ले जाते हैं। अनुमान है कि डेक्स्ट्रोकार्डिया प्रत्येक 12,000 लोगों में से एक को प्रभावित करता है। डेक्स्ट्रोकार्डिया साइटस इनवर्सस प्रत्येक 10,000 बच्चों में से लगभग एक को प्रभावित करता है।

यह भी पढ़ें : बच्चों में डायबिटीज के लक्षण से प्रभावित होती है उसकी सोशल लाइफ

डेक्स्ट्रोकार्डिया के लक्षण

जन्मजात डेक्स्ट्रोकार्डिया वाले कई लोगों में इसके कोई भी लक्षण नहीं दिखते हैं। किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या के लिए किया जाने वाले इमेजिंग स्कैन से ही इस स्थिति का पता चल सकता है। यदि डेक्स्ट्रोकार्डिया को अन्य स्थितियों या जटिलताओं के साथ जोड़कर देखा जाए तो ये लक्षण शामिल हो सकते हैं:

  • ऑक्सीजन की कमी से त्वचा या होंठ नीला पड़ना
  • सांस लेने में तकलीफ
  • वजन बढ़ने में समस्या
  • फटीग (अत्यधिक थकान)
  • सेप्टम में छेद
  • पीलिया (त्वचा का पीला पड़ना)
  • फेफड़ों में संक्रमण (lungs infection)
  • साइनस इंफेक्शन (sinus infection)

डेक्स्ट्रोकार्डिया वाले शिशुओं का जन्म स्प्लीन के बिना हो सकता है। स्प्लीन इम्यून सिस्टम का एक प्रमुख हिस्सा है। स्प्लीन के बिना, आपके बच्चे के पूरे शरीर में संक्रमण विकसित होने का खतरा अधिक होता है।

यह भी पढ़ें : नन्हे-मुन्ने के आधे-अधूरे शब्दों को ऐसे समझें और डेवलप करें उसकी लैंग्वेज स्किल्स

जटिलताएं

हालांकि, उलटे अंग सामान्य रूप से काम कर सकते हैं। लेकिन, उनकी अनियमित स्थिति अक्सर अन्य स्थितियों के निदान को मुश्किल बना देती है। जैसे कि डेक्सट्रोकार्डिया साइटस इनवर्सस है तो, एपेंडिसाइटिस पेट के निचले दाएं के बजाय बाएं हिस्से में तेज दर्द का कारण बन सकता है। जब ये अंग उलटी जगह मौजूद होते हैं, तो वे सर्जरी को भी मुश्किल बना सकते हैं। डेक्सट्रोकार्डिया से जुड़ी अन्य जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं:

  • आंत संबंधी विकार,
  • क्रोनिक निमोनिया,
  • ग्रासनली के विकार,
  • हृदय संबंधी विकार,
  • हार्ट फेलियर,
  • संक्रमण (बिना स्प्लीन के हेटरोटेक्सी)
  • पुरुषों में इनफर्टिलिटी (Kartagener syndrome)
  • बार-बार होने वाला साइनस संक्रमण (कार्टाजेनर सिंड्रोम)

यह भी पढ़ें : बच्चों में कान के इंफेक्शन के लिए घरेलू उपचार

डेक्स्ट्रोकार्डिया का निदान कैसे करते हैं?

दक्षिण-हृदयता के ज्यादातर मामलों का डायग्नोस इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईकेजी) और चेस्ट के एक्स-रे से किया जाता है। ईकेजी जो रिवर्सड इलेक्ट्रिकल वेव्स को दिखाता है, आमतौर पर डेक्स्ट्रोकार्डिया की ओर इशारा करता है।

डेक्स्ट्रोकार्डिया की पुष्टि के लिए डॉक्टर टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन या एक मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन का उपयोग भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : बच्चों में ब्रोंकाइटिस की परेशानी क्यों होती है? जानें इसका इलाज

डेक्स्ट्रोकार्डिया का इलाज

डेक्स्ट्रोकार्डिया का इलाज तब ही किया जाना चाहिए अगर वह महत्वपूर्ण अंगों को ठीक से काम करने से रोकता है। पेसमेकर और सेप्टल डिफेक्ट्स को ठीक करने के लिए सर्जरी से हार्ट को सामान्य रूप से काम करने में मदद मिल सकती है।

यदि बच्चे में डेक्स्ट्रोकार्डिया है तो उसे औसत बच्चे की तुलना में अधिक संक्रमण हो सकता है। दवाएं आपके इंफेक्शन के जोखिम को कम कर सकती हैं। यदि बच्चे में स्प्लीन नहीं है या यह ठीक से काम नहीं करता है, तो इंफेक्शन को रोकने के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक दवाओं को लेने की सलाह दे सकते हैं। सांस की बीमारी से लड़ने के लिए आपको लम्बे समय तक एंटीबायोटिक लेने की आवश्यकता हो सकती है।

हार्ट दाईं ओर होने से पाचन तंत्र में रुकावट की अधिक संभावना होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि डेक्सट्रोकार्डिया कभी-कभी इंटेस्टिनल मेलरोटेशन (intestinal malrotation) की स्थिति को जन्म दे सकती है जिसमें आंत सही ढंग से विकसित नहीं होती है। उस कारण से, डॉक्टर बाउल या इंटेस्टिनल ऑब्स्ट्रक्शन के लिए भी बच्चे की जांच कर सकता है। इंटेस्टिनल ऑब्स्ट्रक्शन खतरनाक स्थिति है और अगर इसका इलाज सही से न किया जाए तो यह जानलेवा साबित हो सकती है इसके डॉक्टर आपको सर्जरी कराने के लिए भी कह सकते हैं।

यह भी पढ़ें : बच्चों में हिप डिस्प्लेसिया बना सकता है उन्हें विकलांग, जाने इससे बचने के उपाय

बचाव

  • यदि आपके परिवार में किसी को हेटरोटेक्सी (heterotaxy) है, तो गर्भवती होने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में बताएं।
  • डेक्सट्रोकार्डिया को रोकने के लिए कोई तरीका नहीं हैं। हालांकि, गर्भावस्था से पहले और दौरान अवैध ड्रग्स (विशेष रूप से कोकीन) के उपयोग से बचना इस समस्या के जोखिम को कम कर सकता है।
  • यदि आपको डायबिटीज है तो अपने डॉक्टर से बात करें। यह स्थिति बच्चों में जन्म के दौरान डेक्स्ट्रोकार्डिया के कुछ रूपों को विकसित कर सकती है।

आइसोलेटेड डेक्स्ट्रोकार्डिया वाले लोग अक्सर एक सामान्य जीवन जीते हैं। यदि बच्चे को इंफेक्शन का खतरा बहुत अधिक है तो डॉक्टर संक्रमण को रोकने में आपकी मदद करेंगे। लेकिन, अगर बच्चे में डेक्स्ट्रोकार्डिया का अधिक जटिल मामला है, तो वह जीवन भर स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करने के लिए मजबूर हो सकता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

क्या बच्चों के जन्म से दांत हो सकते हैं? जानें इस दुर्लभ स्थिति के बारे में

शिशु की जीभ की सफाई कैसे करें

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

बच्चों में पिनवॉर्म की समस्या और इसके घरेलू उपाय

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

A population-based study of cardiac malformations and outcomes associated with dextrocardia. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/17631088. Accessed On 11 May 2020

Dextrocardia with Situs Inversus. https://rarediseases.org/rare-diseases/dextrocardia-with-situs-inversus/. Accessed On 11 May 2020

Dextrocardia with situs inversus. https://rarediseases.info.nih.gov/diseases/6268/dextrocardia-with-situs-inversus#ref_8925. Accessed On 11 May 2020

Dextrocardia. https://radiopaedia.org/articles/dextrocardia. Accessed On 11 May 2020

Dextrocardia. https://medlineplus.gov/ency/article/007326.htm. Accessed On 11 May 2020

Atrioventricular canal defect. https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/atrioventricular-canal-defect/symptoms-causes/syc-20361492. Accessed On 11 May 2020

 

 

लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/05/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x