home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Lead Poisoning: सीसा विषाक्तता क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|जोखिम|उपचार|घरेलू उपचार|रोकथाम
Lead Poisoning: सीसा विषाक्तता क्या है?

परिचय

सीसा विषाक्तता (lead Poisoning) क्या है?

सीसा विषाक्तता तब होती है जब बॉडी में सीसा (Lead) की मात्रा बढ़ने लगती है। अक्सर इसके सामने आने में महीनों या कई वर्ष लग जाते हैं। शरीर में सीसा की छोटी सी मात्रा भी स्वास्थ्य समस्याएं खड़ी कर सकती है। छह वर्ष से कम आयु के बच्चों में सीसा विषाक्तता का खतरा सबसे ज्यादा होता है।

इस आयु वर्ग के बच्चों पर सीसा विषाक्तता के मनोवैज्ञानिक और शारीरिक प्रभाव गंभीर होते हैं। उच्च स्तर पर सीसा विषाक्तता होने पर यह जानलेवा हो सकती है।

लीड मुख्य रूप से लीड युक्त पेण्ट में पाया जाता है जैसे की दीवारों पर हुआ पुराना रंग या बच्चों के खिलौनों पर हुआ रंग। इसके अलावा यह निम्न में भी पाया जाता है –

  • कलाकृति की तस्वीरें और सामान
  • दूषित धूल-मिट्टी
  • गैसोलीन युक्त पदार्थ

लीड पोइजनिंग कई महीनो या साल की समय सीमा में होते हैं। इनके कारण गंभीर रूप से मानसिक और शारीरिक समस्याएं विकसित हो सकती है। बच्चों में इसकी सबसे अधिक आशंका होती है।

बच्चों में लीड पोइजनिंग लीड युक्त खिलौनों को मुहं में दबाने या उन्हें चूसने से होती है। इसके अलावा लीड या इससे बनी सतह को छूने के बाद बच्चे का मुंह में उंगली डालना भी उसे लीड पोइजनिंग के जोखिम में डाल सकता है।

लीड बच्चों के लिए अधिक खतरनाक इसलिए होता है क्योंकि उनका मस्तिष्क पूरी तरह से विकसित नहीं हुआ होता है। लीड पोइजनिंग का इलाज किया जा सकता है लेकिन किसी भी प्रकार के डैमेज को ठीक नहीं किया जा सकता है।

और पढ़ें – Diarrhea: डायरिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

सीसा विषाक्तता (lead Poisoning) होना कितना सामान्य है?

सीसा विषाक्तता एक सामान्य समस्या है। एक वर्ष से पांच वर्ष की आयु के 40 बच्चों में से एक बच्चे को सीसा विषाक्तता की समस्या होती है। हालांकि, 5 µg/dL से ऊपर सीसा विषाक्तता को असुरक्षित माना जाता है। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

लक्षण

सीसा विषाक्तता के क्या लक्षण हैं? (lead Poisoning symptoms)

शुरुआती चरण में सीसा विषाक्तता का पता लगाना जटिल होता है। यहां तक कि जिन लोगों के ब्लड में सीसा विषाक्तता होने के बावजूद भी वह स्वस्थ नजर आते हैं। जब तक बॉडी में सीसा विषाक्तता का स्तर खतरनाक लेवल पर नहीं पहुंचता तब तक इसके लक्षण नजर नहीं आते हैं।

बच्चों में सीसा विषाक्तता के लक्षण

  • विकास में देरी
  • सीखने में समस्या आना
  • चिड़चिड़ापन
  • भूख न लगना
  • वजन गिरना
  • थकावट और कमजोरी
  • पेट दर्द
  • उल्टी
  • कब्ज
  • बहरापन
  • दौरे पड़ना
  • पेंट चिप्स जो भोजन नहीं हैं, उन्हें खाना

और पढ़ें – डायबिटिक फूड लिस्ट के तहत डायबिटीज से ग्रसित मरीज कौन सी डाइट करें फॉलो तो किसे कहे ना, जानें

नवजात शिशुओं में सीसा विषाक्तता के लक्षण

जन्म से पहले सीसा के संपर्क में आने वाले बच्चों में सीसा विषाक्तता के लक्षण:

व्यस्कों में सीसा विषाक्तता के लक्षण

सीसा विषाक्तता का खतरा सबसे ज्यादा बच्चों को रहता है। साथ ही व्यस्कों के लिए सीसा विषाक्तता खतरनाक हो सकता है।

इसके संकेत और लक्षण निम्नलिखित हैं:

उपरोक्त लक्षणों के अलावा भी सीसा विषाक्तता के कुछ अन्य लक्षण हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके लक्षणों को लेकर चिंतित हैं तो डॉक्टर से परामर्श लें।

और पढ़ें – Food Poisoning : फूड पॉइजनिंग क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

उपरोक्त लक्षण और संकेतों में से यदि आपको किसी का अहसास होता है तो डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि, सीसा विषाक्तता में हर व्यक्ति की बॉडी अलग प्रतिक्रिया देती है। इस संबंध में बेहतर जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लेना उचित होगा।

कारण

सीसा विषाक्तता के क्या कारण हैं? (lead Poisoning Causes)

इसमें धूल मिट्टी में सांस लेने पर भी सीसा विषाक्तता की समस्या होती है। आप सीसा को सूंख या स्वाद से पहचान नहीं सकते हैं। नंगी आंखों से देखने पर यह दिखता भी नहीं है।

अमेरिका में घरेलू पेंट और गैसोलाइन (Gasoline) सीसा विषाक्तता का एक सामान्य कारण है। हालांकि, यह प्रोडक्ट सीसा को प्रोड्यूस नहीं करते हैं। इसके बावजूद भी सीसा आपके चारो तरफ मौजूद होता है। विशेषकर पुराने घरों में सीसा पाया जाता है।

सीसा विषाक्तता के सामान्य कारण और स्रोत निम्नलिखित हैं:

  • 1978 से पहले बनाया गया घरेलू पेंट
  • 1976 से पहले पेंट किए गए घरेलू सामान और खिलौने
  • बुलेट्स, कुछ प्रकार के वेट्स और सीसा से बने मछली पकड़ने वाले सिंक
  • पाइप और सिंक फाउसेट्स (sink faucets), जो पीने वाले पानी को दूषित कर सकते हैं
  • कार के एक्सहॉस्ट द्वारा प्रदूषित की गई मिट्टी या चिपिंग हाउस पेंट
  • पेंट सेट्स और आर्ट सप्लाइस
  • ज्वैलरी, पॉट्री और सीसा की चीजें
  • स्टोरेज बैटरी
  • कोहल या काजल आइलाइनर्स
  • कुछ पारंपरिक दवाइयां

और पढ़ें – Diabetes insipidus: डायबिटीज इंसिपिडस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

जोखिम

किन कारकों से सीसा विषाक्तता का खतरा बढ़ता है? (lead Poisoning Risk factors)

ऐसे कई कारक हैं, जो सीसा विषाक्तता का खतरा बढ़ा देते हैं, जैसे- नवजात शिशु और बच्चों को अधिक आयु के लोगों के मुकाबले सीसा विषाक्तता का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इस आयु वर्ग के बच्चे पेंट या लकड़ियों और वूडवर्क की परत को चबा सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, उनके हाथ में सीसा की धूल संपर्क में आ सकती है। साथ ही कम आयु बच्चे भी आसानी से सीसा को अपनी बॉडी में सोख सकते हैं। इस आयु वर्ग के बच्चों को अधिक उम्र के बच्चों के मुकाबले ज्यादा खतरा रहता है।

  • पुराने घर: 1970 से सीसा वाला पेंट प्रतिबंधित किया जा चुका है। यदि आप इससे पुराने घर में रहते हैं तो इसमें सीसा वाला पेंट हो सकता है। इस प्रकार के घरों में रेनोवेशन कराने से सीसा विषाक्तता का खतरा सबसे ज्यादा रहता है।
  • कुछ शौक: स्टील ग्लास और कुछ प्रकार की ज्वैलरी बनाने में सीसा सोल्डर का इस्तेमाल होता है। इसके अतिरिक्त, पुराने फर्नीचर की रिफिनिशिंग में आप सीसा की परत के संपर्क में आ सकते हैं।
  • विकासशील देशों में रहना: विकासशील देशों में सीसा उत्सर्जन के संदर्भ में नियम अधिक सख्त नही हैं। वहीं, विकसित देशों में इसको लेकर काफी सख्त नियम बनाए गए हैं। विकासशील देशों से आए इमिग्रेंट और शरणार्थियों में सीसा विषाक्तता का खतरा रहता है।
  • सीसा अजन्मे बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे में प्रेग्नेंट या गर्भधारण की योजना बना रही महिलाओं को सीसा के संपर्क में आने से बचना चाहिए।

और पढ़ें – Joint Pain (Arthralgia) : जोड़ों का दर्द (आर्थ्राल्जिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

सीसा विषाक्तता का निदान कैसे किया जाता है? (lead Poisoning Diagnosis)

सीसा विषाक्तता का निदान ब्लड टेस्ट के जरिए किया जाता है। यह ब्लड टेस्ट एक स्टेंडर्ड ब्लड सैंपल पर किया जाता है। पर्यावरण में सीसा एक सामान्य पदार्थ है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इनवोर्मेंटल हेल्थ साइंस का कहना है कि ब्लड में सीसा की कोई भी मात्रा सुरक्षित नहीं है। यह भी स्पष्ट है कि बच्चों में 5 माइक्रोग्राम्स प्रति डेसिलीटर से कम सीसा भी स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है।

सीसा विषाक्तता की अतिरिक्त जांच में ब्लड टेस्ट के जरिए खून में आयरन स्टोरेज की मात्रा को बताते हैं। साथ ही एक्स-रे और संभावित बोन मैरो बायोप्सी भी की जाती है।

और पढ़ें – Myelodysplastic syndrome: मायेलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

सीसा विषाक्तता का इलाज कैसे किया जाता है? (lead Poisoning Treatment)

पहले चरण में सीसा के स्रोत का पता लगाकर उसे निकाला जाता है। इसके बाद बच्चों को सीसा विषाक्तता के स्रोतों से दूर रखा जाता है। यदि इसके स्रोत को निकाला नहीं जाता है तो इसे सील करना चाहिए। सीसा कैसे निकालें, इसके लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें। डॉक्टर सीसा के संपर्क में आने की संभावना को कम करने में आपकी मदद कर सकता है।

ज्यादा गंभीर मामलों केलाटेशन थेरिपी (chelation therapy) का इस्तेमाल किया जाता है। इस थेरेपी में बॉडी में इक्कट्ठा हुए सीसा को बाइंड कर दिया जाता है। इसके बाद बांधे गए सीसा को यूरिन के जरिए बॉडी से बाहर निकाल दिया जाता है।

जठरांत्र ट्रेक में सीसा को बांधने के लिए एक्टिवेटेड चारकोल का इस्तेमाल किया जाता है। इसके बाद इसे स्टूल के जरिए बॉडी से बाहर निकाल दिया जाता है। ईडीटीए (EDTA) नामक कैमिकल का इस्तेमाल भी इलाज में किया जाता है। हालांकि, क्रॉनिक एक्सपोजर के प्रभावों को कम करना काफी मुश्किल होता है।

और पढ़ें – क्या है डायबिटिक मैकुलर एडिमा, क्यों होती है यह बीमारी, इसके लक्षण, बचाव और ट्रीटमेंट जानने के लिए पढ़ें

घरेलू उपचार

जीवन शैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे सीसा विषाक्तता (lead Poisoning) को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

निम्नलिखित घरेलू उपायों से सीसा विषाक्तता को कम किया जा सकता है:

  • हाथों और खिलौनों को धो लें। हांथ से धूल या मिट्टी को मुंह के संपर्क में आने को रोकने के लिए बाहर खेलने के बाद हाथों को साफ करें। खाने से पहले और बेडटाइम पर बच्चों के हाथ धो दें। नियमित रूप से खिलौनों को साफ करें।
  • धूल-मिट्टी वाली जगह साफ रखें: घर के फर्श और विंडोसिल्स को गीले पोछे से साफ करें। यदि घर के किसी हिस्से में धूल जमी हुई है तो उसे गीले कपड़े से साफ करें।
  • घर में प्रवेश करने से पहले जूते उतार दें। इससे सीसा वाली मिट्टी घर के बाहर ही रहेगी।
  • यदि आपके पास लीड (Lead) पाइप्स हैं तो उनका इस्तेमाल करने से पहले एक मिनट के लिए उनमें ठंडा पानी चला दें। खाना बनाने या बेबी फॉर्मूला के लिए नल के गर्म पानी का इस्तेमाल न करें।
  • बच्चों को मिट्टी में खेलने से रोकें। बच्चों को एक सैंडबॉक्स (Sandbox) दें और इस्तेमाल न होने की स्थिति में उसे ढक कर रखें। खुली मिट्टी को घास से ढक दें।
  • हेल्दी डायट लें। नियमित भोजन और पौष्टिक आहार शरीर में सीसा के अवशोषण को कम कर देता है। बच्चों को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम, विटामिन सी और आयरन की जरूरत होती है। यह पोषक तत्व उनकी बॉडी में सीसा को सोखने से रोकते हैं।
  • घर की अच्छी तरह देखभाल करें। यदि आपके घर में सीसा वाला पेंट है तो नियमित रूप से पीलिंग पेंट (रंग छिलना) पर नजर रखें। स्थिति सामने आने पर तुरंत उपाय करें। रेत को घर के संपर्क से दूर रखें। रेत धूल के कण पैदा करती है, जिसमें सीसा होता है।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

और पढ़ें – Cervical Dystonia : सर्वाइकल डिस्टोनिया (स्पासमोडिक टोरटिकोलिस) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

रोकथाम

कुछ आसान से तरीकों की मदद से सीसा विषाक्त को रोका जा सकता है। इसमें शामिल हैं –

  • बच्चों के खिलौनों को रोजाना अच्छे से धोएं।
  • अपने बच्चे को खेलने के बाद हाथ धोना सिखाएं।
  • पेंट हुए खिलौनों और कैन के सामान को फेंक दें।
  • घर में धूल-मिट्टी न आने दें।
  • यह सुनिश्चित करें की हर कोई खाना खाने से पहले हाथ जरूर धोएं।
  • घर में किसी भी प्रकार के कार्य होने पर लीड कंट्रोल सर्टिफिकेशन का खास ध्यान रखें।
  • घर की दीवारों के लिए सीशा मुक्त पेंट का इस्तेमाल करें।
  • अगर आपका बच्चा 1 या 2 वर्ष का है तो उसे डॉक्टर के पास लीड लेवल स्क्रीनिंग के लिए लेकर जाएं।
  • पानी में लीड के होने की जांच करें। अगर आपके इलाके में अधिक लीड वाला पानी आता है तो किसी फिल्टरिंग डिवाइस या बोतल वाले पानी का सेवन करें।
हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में सीशा विषाक्त से जुड़ी जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी समस्या है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Lead Poisoning/https://medlineplus.gov/leadpoisoning.html/Accessed on 07/10/2020

Lead Poisoning Prevention/https://www.cdc.gov/nceh/lead/prevention/default.htm/Accessed on 07/10/2020

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x