सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर है जरूरी, शुष्क मौसम छीन लेता है त्वचा की नमी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सर्दियों का मौसम ज्यादातर सभी लोगों को पसंद होता है। बच्चे भी इस मौसम को काफी पसंद करते हैं। लेकिन, सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर माता-पिता के लिए एक बड़ा चैलेंज बन जाता है। जहां सर्दियां हर किसी का पसंदीदा मौसम होता है वहीं, इस मौसम में बच्चों को त्वचा की अलग-अलग परेशानियां भी होती हैं। इस मौसम का आनंद लेना पूरे परिवार के लिए एक ऐसा समय होता है, जिसका सब इंतजार करते हैं। लेकिन इस मौसम में स्किन का ख्याल रखना एक चैलेंज से कम नहीं होता है। सर्द हवाओं से बड़ों की स्किन को बचाना मुश्किल होता है और बच्चों की स्किन तो बड़ों से भी पांच गुना ज्यादा नाजुक होती है। इस लेख में हम आपको सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर को लेकर आवश्यक सावधानियां बरतने से जुड़ी जानकारी देंगे।

ये भी पढ़ेंः क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर कैसे करें

ठंड के मौसम में बहुत ज्यादा बाहर रहने से त्वचा में जलन की परेशानी हो सकती है। बच्चों में यह खतरा और भी अधिक होता है क्योंकि उनकी त्वचा ज्यादा नाजुक होती है। हालांकि, उन्हें ठंड में बाहर जाने और खेलने की खुशी से परे रखने का कोई कारण नहीं है, जब तक कि तापमान बहुत ज्यादा ना हों। बच्चों की त्वचा की सुरक्षा के लिए ये कुछ उपाय करके आपका बच्चा इस मौसम का आनंद ले सकता है।

बच्चों की त्वचा को ठंड से बचाने के लिए लेयर अप करें

बच्चों को ताजी हवा में सांस लेने और प्राकृतिक रोशनी की जरूरत होती है। लेकिन, उनकी सुरक्षा के लिए पहला टिप यह है कि अच्छे सूती या ऊनी कपड़ों से उनकी लेयरिंग करें।

उन्हें खूब सारे कपड़े पहनाना कम तापमान में उनकी रक्षा करेगा। जब ठंड शुष्क और हवादार होती है, तो यह और भी जरूरी और महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि उन्हें आसानी से डिहाइड्रेशन हो सकता है।

ध्यान रखें कि एक साल की उम्र से बच्चों के पास भी एक अडल्ट की तरह कपड़ों के ऑप्शन होने चाहिए, जिससे उन्हें ठंड से बचाया जा सके। अगर बच्चा छोटा है, तो उसके पास और अधिक लेयरिंग होनी चाहिए। टोपी, मोजे और मोटे दस्ताने तो कभी ना भूलें।

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के मामले में उन्हें लेयर में ड्रेसिंग करने से आप उनके शरीर के तापमान को जल्दी और आराम से चेक कर पाएंगे। अगर आपको उनका डायपर बदलने की जरूरत है, तो वे पूरी तरह से नग्न नहीं होंगे।

ये भी पढ़ेंः इन वजह से बच्चों का वजन होता है कम, ऐसे करें देखभाल

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के लिए हाइड्रेशन को न भूलें

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के लिए बच्चे को हाइड्रेटेड रखना जरूरी है। बच्चे को हाइड्रेट रखकर उनके गाल, होंठ, और हाथों के पीछे, लालिमा और पीलिंग को रोक सकते हैं। बच्चे के होंठों की सुरक्षा के लिए न्यूट्रल वैसलीन बहुत उपयोगी है। घर से बाहर निकलने से पहले आपको हमेशा सनस्क्रीन के साथ मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आप इन बातों का ध्यान नहीं रखते तो बच्चों के लिए परेशानी का कारण बन सकती है।

सर्दी में कई बच्चों के उंगलियों, हाथ, पैर की उंगलियां, पैर, कान, नाक और गाल लाल हो जाते हैं। कई मामलों में अंगुलियों में सूजन नजर आती है। इस स्थिति को शीतदंश कहते हैं। इससे बचने के लिए बच्चे को हाइड्रेटेड रखना बेहद जरूरी है।

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के साथ मस्ती भी

विंटर स्पोर्ट्स बहुत से लोगों को पसंद आता है। लेकिन, ऊंचाई और कम तापमान में जाने से बच्चे के स्किन पर अलग-अलग परेशानी होने की आशंका बनी रहती है। हाइड्रेशन के साथ माश्चराइजर और सन स्क्रीन इसके लिए सही विकल्प है।

बच्चों को हमेशा अपने सिर और कान ढकने के लिए दस्ताने, स्कार्फ, टोपी पहननी चाहिए। आंखों के आसपास जलन को रोकने के लिए चश्मा भी लगाना चाहिए। बहुत ठंडे मौसम में बच्चों के साथ लंबी वॉक ना करें। जैसा कि हमने पहले कहा था बच्चे की त्वचा अधिक नाजुक होती है।

ये भी पढेंः शिशु की मालिश से हो सकते हैं इतने फायदे, जान लें इसका सही तरीका

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के लिए एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन

एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन से भरा आहार बच्चे की त्वचा और सांस की देखभाल में मदद करता है। विटामिन ए और सी  से भरपूर फलों और सब्जियों को डायट में शमिल करें, मछली और दूध को भी न भूलें।

कम तापमान हमारी इम्यूनिटी को कमजोर बनाता है, जिससे सांस लेने में दिक्कत होती है। उचित पोषण शरीर को मजबूत बनाता है और खांसी, संक्रमण, बलगम, अस्थमा, या फ्लू से लड़ने में मदद करता है। यह त्वचा की बीमारियों को रोकने में भी मदद करेगा जैसे कि एटोपिक डर्मेटाइटिस।

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के लिए जरूरी है सफाई

हमें पसीने को साफ करने के लिए सफाई से रहना चाहिए। कपड़ों में लेयरिंग और एक्सरसाइज की वजह से पसीना होता है इसलिए आपको ठंड के मौसम में नहाने का ध्यान रखना चाहिए। बच्चा बाहर खेलता है या साइकलिंग करता है, तो उसे पसीना आता है। साथ ही इसकी सफाई करना जरूरी हो जाता है। ऐसे में गर्म पानी के साथ और पानी के तापमान पर ध्यान देकर बच्चे को शॉर्ट बाथ दें। नहाने के लिए ऐसे साबुन का इस्तेमाल करें जो पीएच बैलेंस से भरपूर हो। इससे बच्चे की स्किन की नमी बरकरार रहेगी। साथ ही रात में बच्चों को गर्म कपड़ों में सुलाना चाहिए, जो उनके पैरों और हाथों को ढंक कर रखें।

ये भी पढ़ेंः बच्चों को सर्दी- जुकाम से बचाने के लिए अपनाएं ये 5 डेली हेल्थ केयर टिप्स

सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर के लिए टीकाकरण

ठंड के मौसम के दौरान हीटिंग जरूरी है। लेकिन, इससे त्वचा में ड्राइनेस होती है। इसके लिए ह्यूमिडिफायर रखना सही विकल्प है। अगर आपके पास इसका विकल्प नहीं है, तो हीटर के ऊपर या उसके पास पानी के कंटेनरों को रखना भी एक अच्छा ऑप्शन है। साथ ही बच्चाों के टीकों या वैक्सीनेशन को भी अप टू डेट रखें। ये संक्रमण और गंभीर बीमारियों के खिलाफ एक सुरक्षा कवच  का काम करते हैं।

अगर आप आवश्यक सावधानी बरतते हैं, तो आपका बच्चा बाहर खेल कर सर्दियों का आंनद सुरक्षित ढ़ंग से ले सकता है। बच्चों की त्वचा को ठंड से बचाने के लिए इन टिप्स को फॉलों करें, ताकि बच्चे पूरी तरह से सर्दियों का आनंद ले सकें। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में सर्दियों में बच्चों की स्किन केयर से जुड़ी जानकारी दी गई है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते हैं।

और पढ़ेंः

बच्चों का पहला दांत निकलने पर कैसे रखना है उनका ख्याल, सोचा है?

बच्चों के इशारे कैसे समझें, होती है उनकी अपनी अलग भाषा

बच्चों का लार गिराना है जरूरी, लेकिन एक उम्र तक ही ठीक

ब्रेन एक्टिविटीज से बच्चों को बनाएं क्रिएटिव, सीखेंगे जरूरी स्किल्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

शिशु को स्तनपान कैसे और कितनी बार कराएं, जान लें ये जरूरी बातें

शिशु को स्तनपान कराना क्यों जरूरी होता है और कितनी बार करवाना सही होता है। इसके अलावा शिशु को स्तनपान करवाते समय किन बातों का भी ध्यान रखना आवश्यक है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mitali
स्तनपान, पेरेंटिंग अप्रैल 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सोनिया गांधी की बिगड़ी तबियत, श्री गंगा राम हॉस्पिटल में हुईं भर्ती

सोनिया गांधी को पेट में दर्द के चलते हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। उनकी बीमारी के बारे में अभी ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। डॉक्टर्स का कहना है कि चेकअप के बाद ही जानकारी दी जाएगी।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें फ़रवरी 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

पिकी ईटर्स के लिए रेसिपी, जो उनको देगीं भरपूर पोषण

पिकी ईटर्स के लिए रेसिपी, पिकी ईटर्स के लिए रेसिपी जो घर पर बनेगी, क्यो खिलाएं पिकी ईटर्स को, Picky Eaters Recipe for food, और जानें

के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

कीड़े-मकौड़ों का डर कहलाता है ‘एंटोमोफोबिया’, कहीं आपके बच्चे को तो नहीं

एंटोमोफोबिया क्या है, बच्चों में एंटोफोबिया के लक्षण, Entophobia in Hindi, एंटोमोफोबिया का इलाज, बच्चों में एंटोफोबिया क्यों होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग दिसम्बर 3, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ओआरएस के लाभ :

क्या बच्चे क्या बूढ़े, सबके लिए जीवनरक्षक है यह, जानें घर पर कैसे बनाएं ओआरएस का घोल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन-bujurgo me dehydration

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने पर करें ये उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shilpa Khopade
प्रकाशित हुआ मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में संतरा- pregnancy-me-santra

प्रेग्नेंसी में संतरा खाना कितना सुरक्षित है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
स्ट्रॉबेरी लेग्स

आपकी खूबसूरती को बिगाड़ सकते हैं स्ट्रॉबेरी लेग्स, जानें इसे दूर करने के घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें