home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

छाछ पीने से बच्चों को मिलते हैं यह बेमिसाल लाभ, कैसे बनाएं मजेदार छाछ

छाछ पीने से बच्चों को मिलते हैं यह बेमिसाल लाभ, कैसे बनाएं मजेदार छाछ

हमारे शरीर का हमेशा हाइड्रेट रहना बहुत आवश्यक है, ये हम सभी को पता है। डिहाइड्रेशन के कारण शरीर में कई तरह की समस्याएं हो सकती है। खासतौर पर गर्मियों में, उस दौरान अधिक पसीना आने के कारण डिहाइड्रेशन की समस्या होने की संभावना बढ़ जाती है।केवल बड़ों में ही नहीं बल्कि बच्चों में भी। ऐसे में, पानी के साथ-साथ अन्य तरल पदार्थों का सेवन करना आवश्यक है। इन्हीं तरल पदार्थों में एक है छाछ जिसे पीना सेहत के लिए बहुत लाभदायक माना जाता है। यह केवल बड़ों ही नहीं बल्कि बच्चों के लिए भी फायदेमंद है। छाछ के गुणों के कारण आयुर्वेद में भी इसका वर्णन मिलता है। छाछ को दही और पानी मिला कर बनाया जाता है। बच्चों के लिए छाछ के लाभ जान कर आप इसे उनके आहार में अवश्य शामिल करेंगे। जानिए, बच्चों के लिए छाछ के लाभ क्या हैं और कैसे बनाएं मजेदार छाछ।

जानें एक्सपर्ट की राय

बच्चों के शरीर में डिहाइड्रेशन की समस्या के बारे में डफरिन हॉस्पिटल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर सलमान का कहना है कि बच्चों के शरीर में पानी की कमी उन्हें कई शरीरिक समस्याओं का शिकार बना देती है। बच्चों में डिहाइड्रेशन होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि बुखार, दस्त, उल्टी, वायरल इन्फेक्शन, अधिक पेशाब होना और डायबिटीज आदि। इसलिए बच्चों को दिन भर में पानी की सही मात्रा दें। उसकी कमी न होने दें। डिहाइड्रेशन की समस्या को दूर करने के लिए छाछ का सेवन भी एक अच्छा विकल्प है। छाछ में और भी कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो कि बच्चों की शरीर में अन्य जरूरतों को भी पूरा करती है। बच्चों को छाछ की मात्रा उनकी उम्र के अनुसार ही देना चाहिए। कई बच्चों को इसका स्वाद पसंद नहीं होता है, तो उसमें उसके स्वादानुसार चीनी या नमक मिलाकर दे सकते हैं। वैसे तो डिहाइड्रेशन की समस्या को दूर करने के लिए नमक और चीनी दोनों फायदेमंद है। जानें बच्चों के लिए क्याें हैं फायदेमंद छाछ और इससे उन्हें कौन-कौन से पोषक तत्व मिलते हैं-

बच्चों के लिए छाछ इस तरह से लाभदायक है:

शरीर में पानी की कमी नहीं होती

बड़ों और बच्चों के लिए छाछ के लाभ में सबसे पहला तो यही है कि इसे पीने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती। यह अपने आप में संपूर्ण पेय है। जिसमें सभी न्यूट्रिएन्ट्स होते हैं। इसमें प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट आदि भी होते हैं। इस पेय में 90 प्रतिशत पानी ही है। रोजाना इसे पीने से शरीर में कभी पानी की कमी नहीं हो सकती। इसलिए अपने बच्चों को अन्य पेय पदार्थ देने की बजाएं लस्सी पीने को दें। उनके स्वास्थ्य के लिए यह फायदेमंद है। इसकी के साथ ही उन्हें कई पोषक तत्व भी मिलेंगे। लेकिन हां, ठंड के मौसम में इसे शाम के वक्त लेने से बचना चाहिए। नहीं तो सर्दी-खासी की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें: क्या बच्चों को ब्राउन राइस खिलाना चाहिए?

हड्डियां हों मजबूत

छाछ को दही से बनाया जाता है, जिसमें पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम होता है। छोटे बच्चों की हड्डियां कमजोर होती हैं। ऐसे में छाछ पीने से उन्हें सही कैल्शियम मिलेगा। जिससे उनकी हड्डियां मजबूत होंगी। इसके साथ ही हड्डियों के विकास में भी मदद मिलेगी। कैल्शियम बच्चों के नाखून और दांतों के लिए भी लाभदायक है।

पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मददगार

बच्चों के लिए छाछ के लाभ अनगिनत हैं। उनमें से एक यह भी है कि यह पेट के लिए लाभदायक है। इसे पीने से पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है। जिससे पेट की कई समस्याओं से मुक्ति मिलती है जैसे गैस, कब्ज, पेट दर्द आदि। पानी, दही, नमक और मसालों का मेल हमारे शरीर में तरल और इलेक्ट्रोलाइट स्तरों की भरपाई कर देता है। अगर आप इसमें अदरक, जीरा,अजवाइन आदि डाल कर पीते हैं, तो यह आपके बच्चों के पेट के लिए और भी लाभदायक हो सकता है। छाछ में मौजूद तत्वों से पेट में एसिडिटी से होने वाली जलन भी दूर होती है। जिससे पेट शांत रहता है। यानी, छाछ पीने से बच्चों का पेट साफ रहेगा और उन्हें पेट संबंधी कोई समस्या नहीं होगी

वसा न हो जमा

आजकल के बच्चे इंडोर गेम्स और टीवी आदि के आगे अपना अधिकतर समय बिताते हैं। इससे और जंक फूड जैसी बुरी आदतों के कारण आजकल बच्चे मोटापा का अधिक शिकार हो रहे हैं। फैट के जमा होने से मोटापा की समस्या हो सकती है। मोटापा सबके लिए बहुत हानिकारक है और छोटी उम्र में ही अपने बच्चे को मोटा होने से रोकना आपकी जिम्मेदारी है। इसके लिए आप उन्हें छाछ पीने को दें। छाछ बच्चों के शरीर से हानिकारक तत्वों को बाहर निकाल देती है। ऐसे ही यह फालतू बसा को बाहर निकालने में भी सहायक है। खाना खाने के बाद बच्चों को एक गिलास छाछ पीने से लाभ होगा। इससे न केवल उनकी न केवल खाना अच्छे से पचेगा। बल्कि अधिक तेल और बसा भी शरीर से बाहर निकल जाएंगे।

और पढ़ें:क्या आप जानते हैं बच्चों को खुश रखने के टिप्स?

बच्चे को रखें चुस्त-दुरुस्त

बच्चों की एनर्जी हमेशा हाई होती है। लेकिन डिहाइड्रेशन की वजह से कई बार बच्चे सुस्त और थका हुआ महसूस करते हैं। ऐसे में रोजाना छाछ पीने से उनकी ऊर्जा कम नहीं होगी और वो पूरा दिन चुस्त महसूस करेंगे। इसके साथ इस मेजिकल ड्रिंक से बच्चों का शरीर भी हमेशा ठंडा रहेगा।

इम्युनिटी बढ़ाए

छाछ में ऐसे बैक्टीरिया होते हैं, जिनसे इम्युनिटी बढ़ती है। बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने से वो जल्दी बीमार पड़ जाती हैं। लेकिन छाछ उनकी इम्युनिटी बढ़ाने में सहायक हो सकती है। छाछ में विटामिन B,C ,A ,K और अन्य पोषक तत्व पाएं जाते हैं। इसके साथ ही आयरन, फास्फोरस, कैल्शियम और पोटाशियम आदि भी पाए जाते हैं जो बच्चों के लिए लाभदायक हैं।

न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर, बॉडी इमेज और पेरेंटिंग हैक्स के बारे में जानें इस वीडियो के माध्यम से:

सनबर्न से बचाएं

गर्मियों में सनबर्न की समस्या किसी को भी हो सकती है। जब बच्चे घर से बाहर खेलते हैं तो वो इसका शिकार हो सकते हैं। अगर सनबर्न वाले स्थान पर रूई की मदद से छाछ लगाई जाए तो त्वचा को लाभ होता है। गर्मी में लू से बचने के लिए भी छाछ पीने से फायदा होता है। इसलिए गर्मियों में अपने बच्चे को कम से कम दो गिलास छाछ रोजाना पिलाएं।

छोटे बच्चों के लिए लाभदायक

ऐसा भी माना जाता है छोटे बच्चों को अगर छाछ पिलाई जाए, तो उनके दांत आसानी से निकलते हैं। छाछ पीने का एक लाभ यह भी है कि इसके एंटीवायरल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। जिनसे रक्तचाप नियंत्रित रहता है और हार्ट संबंधी समस्याएं नहीं होती

डायरिया में प्रभावी आहार

छोटे बच्चे अक्सर डायरिया का शिकार हो जाते हैं। इसका मुख्य कारण है बैक्टीरियल इन्फेक्शन। लेकिन, लस्सी डायरिया में राहत दिलाने वाला पेय है। छाछ में मौजूद बैक्टीरिया और लैक्टिक एसिड, एसिडिक स्थितियों में बैक्टीरिया के विकास को कम करने में मददगार हैं। जिससे डायरिया नियंत्रण में रहता है।

और पढ़ें: गर्भावस्था का बालों पर असर को कैसे रोकें? जाने घरेलू उपाय

कैसे बनाएं बच्चों के लिए मजेदार छाछ

छाछ बनाना बेहद आसान है आप इसमें कुछ अन्य स्वादिष्ट सामग्री को ड़ाल कर इसे और भी मजेदार और चटपटा बना सकते हैं ताकि बच्चे इसे मना न करें

बच्चे के लिए छाछ बनाने के लिए आपको निम्नलिखित सामग्री चाहिए:

  • सादा दही – 1 कप
  • पानी – 2 कप
  • काला नमक – ½ छोटा चम्मच

विधि

  • एक कटोरी में दही लें और उसमें पानी और काला नमक मिला कर अच्छे से मिक्स कर लें
  • अगर आप चाहें तो उसमें थोड़ा सा अदरक, काली मिर्च या जीरा भी डाल सकते हैं
  • पुदीना ड़ाल कर बच्चे को सर्व करें

लस्सी से अलग है छाछ

हम अक्सर लस्सी और छाछ को एक समझ लेते हैं। लेकिन, यह दोनों अलग-अलग हैं। इनमें सबसे बड़ा अंतर यह है कि लस्सी मीठी होती है और इसमें अधिक क्रीम या मलाई डाली जाती है। जबकि छाछ में बिल्कुल भी क्रीम नहीं होती। यह सादी या अक्सर नमकीन होती है। छाछ से फैट को पूरी तरह से निकाल दिया जाता है।

और पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान बच्चे के वजन को बढ़ाने में कौन-से खाद्य पदार्थ हैं फायदेमंद?

क्या छाछ बच्चों के लिए सुरक्षित है?

  • बच्चों के लिए छाछ के लाभ के साथ-साथ यह बच्चों के लिए बिलकुल सुरक्षित है। यह उन पेय पदार्थों से ज्यादा अच्छा विकल्प है जिनमें हानिकारक केमिकल या कृत्रिम रंग होते हैं। छाछ से किसी को एलर्जी होने कि संभावना की कम होती है। हालांकि जिन बच्चों या शिशुओं को गाय के दूध से एलर्जी होती है। ऐसे बच्चों को इससे बनी छाछ पीने के लिए देते हुए सावधान रहना चाहिए या न पीने को दें।
  • छाछ मक्खन से क्रीम के एक्सट्रैक्शन से बना उत्पाद है तो यह गले में संक्रमण और सामान्य सर्दी पैदा कर सकता है। कई बार छाछ को बनाने के लिए मक्खन को कई दिनों के लिए रखा जाता है। जिससे इसमें हानिकारक बैक्टीरिया पैदा हो सकते हैं। यह बैक्टीरिया गले में संक्रमण और सर्दी-जुकाम का कारण बन सकते हैं डाइल्यूटेड दही से बनी छाछ सुरक्षित होती है क्योंकि इसमें केवल अच्छे बैक्टीरिया होते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Five benefits of buttermilk.https://imalayalee.org/five-benefits-buttermilk.Accessed on 11.08.20

Investigations of the health benefits of buttermilk fat globule membrane lipid components.https://www.semanticscholar.org/paper/Investigations-of-the-health-benefits-of-buttermilk-Kuchta/8d58645f7f667735cf65cfea94407cce3f118661.Accessed on 11.08.20

Buttermilk.http://yogadoctor.org/275/Accessed on 11.08.20

Buttermilk: Much more than a source of milk phospholipids.https://www.asas.org/taking-stock/blog-post/taking-stock/2014/04/10/buttermilk-much-more-than-a-source-of-milk-phospholipids.Accessed on 11.08.20

In vivo anti-hypercholesterolemic effect of buttermilk, milk fat globule membrane and Enterococcus faecium FFNL-12.https://www.foodandnutritionjournal.org/volume7number2/in-vivo-anti-hypercholesterolemic-effect-of-buttermilk-milk-fat-globule-membrane-and-enterococcus-faecium-ffnl-12/.Accessed on 11.08.20

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Anu sharma द्वारा लिखित
अपडेटेड 11/08/2020
x