Inflammatory Bowel Disease (IBD): इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट August 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

अगर किसी कारण पाचन तंत्र में सूजन की समस्या शुरू हो जाए और सूजन की वजह से डायजेशन की समस्या शुरू हो जाती है। ऐसी स्थिति को इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज (Inflammatory bowel disease) कहते हैं। इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज के अंतर्गत दो अलग-अलग तरह की शारीरिक परेशानी होती है। इन परेशानियों में शामिल है-

  1. अल्सरेटिव कोलाइटिस (Ulcerative colitis)
  2. क्रोहन रोग (Crohn’s disease)

1. अल्सरेटिव कोलाइटिस- अल्सरेटिव कोलाइटिस (UC) एक ऐसी शारीरिक परेशानी है जो डाइजेस्टिव सिस्टम की लार्ज इंटेस्टाइन पर बुरा प्रभाव डालता है। UC आतों में इर्रिटेशन (जलन) होता है जो कि डायजेस्टिव सिस्टम के ऊपरी सतह में अल्सर का रूप ले लेता है। कभी-कभी अल्सर में पस जैसी परेशानी भी शुरू हो जाती है और इससे खून आने लगता है। अल्सरेटिव कोलाइटिस पुरुषों और महिलाओं दोनों में होने और 15 से 35 वर्ष की उम्र के लोगों में ज्यादा होने वाली परेशानी है। वैसे यह जेनिटिकल कारणों से भी हो सकता है।

2. क्रोहन रोग- क्रोहन डिजीज आंत से संबंधित एक बीमारी है। क्रोहन डिजीज की वजह से आंतों में जलन और दर्द की समस्या शुरू हो जाती है। दरअसल क्रोहन डिजीज में आंत की दीवारें या सतह मोटी हो जाती है, जो खाने को ब्लॉक कर देता है और उसे आगे बढ़ने नहीं देता है। इसके अलावा छोटी आंत प्रभावित हिस्सा भोजन के पोषक तत्वों को अवशोषित नही करता है। ऐसा होने पर पेट दर्द, डायरिया, वजन घटना, आंत में छेद आदि समस्या हो जाती है। जब ये समस्या ज्यादा बढ़ जाती है और दवाओं से ठीक नहीं होती सर्जरी का विकल्प अपनाया जाता है।

और पढ़ें: जानिए गट से जुड़े मिथ और उसके तथ्य

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज के कारण क्या हैं?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज के कारण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे-

इन  कारणों के अलावा अन्य कारण भी हो सकते हैं।

और पढ़ेंः Swelling (Edema) : सूजन (एडिमा) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज के लक्षण क्या हैं?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं। जैसे-

इन परेशानियों के साथ-साथ इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज होने पर निम्नलिखित लक्षण महसूस किये जा सकते हैं। जैसे-

ये सभी लक्षण बड़ों या वयस्कों में होते हैं और अगर बच्चे इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज से पीड़ित हैं, तो उनमें भी ऊपर बताये गए लक्षण देखे जा सकते हैं।

और पढ़ें: Oral Cancer: ओरल कैंसर या माउथ कैंसर क्या है?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज होने पर कौन-कौन सी शारीरिक परेशानी हो सकती है?

IBD होने पर पेशेंट में निम्नलिखित परेशानी हो सकती है। जैसे-

  • बाउल ऑब्स्ट्रक्शन- बाउल ऑब्स्ट्रक्शन (Bowel obstruction) को इंटेस्टाइनल ऑब्स्ट्रक्शन भी कहा जाता है। बाउल ऑब्स्ट्रक्शन होने पर शरीर के अंदर मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर निकलने में बाधा पहुंचती है। ऐसी स्थिति में आंतों पर दवाब बढ़ जाता है। हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार ऐसी स्थिति में आंतों को नुकसान पहुंचता है।
  • कोलोन कैंसर- बाउल ऑब्स्ट्रक्शन की स्थिति जब गंभीर हो जाती है, तो ऐसे में कोलन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
  • गट से संबंधित परेशानी होना।
  • कुपोषण की समस्या

इन परेशानियों के साथ-साथ अन्य शारीरिक परेशानी हो सकती हैं। इसलिए लक्षण समझ आने पर इसे नजरअंदाज न करें।

IBD का निदान कैसे किया जाता है?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज के निदान के लिए डॉक्टर पेशेंट के शारीरिक स्वास्थ्य की जानकारी लेने के साथ-साथ निम्नलिखित चेकअप की सलाह देते हैं। जैसे-

इन ऊपर दिए गए टेस्ट के साथ-साथ निम्नलिखित चेकअप भी की जा सकती हैं। जैसे-

  • क्लोनोस्कोपी- इससे आंत की जांच की जाती है।
  • अपर इंडोस्कोपी- अगर क्लोनोस्कोपी के बावजूद डॉक्टर को बीमारी और अन्य जुड़ी परेशानी समझ आने पर अपर इंडोस्कोपी की मदद से छोटी आंत की जांच की जाती है। इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज की गंभीरता की जानकारी मिल सकती है।

चेकअप मरीज के शारीरिक स्थिति और बीमारी की गंभीरता को देखते हुए की जा सकती है। इसलिए ऊपर बताये गए टेस्ट के अलावा डॉक्टर अन्य टेस्ट की भी सलाह दे सकते हैं।

और पढ़ें: MRI Test : एमआरआई टेस्ट क्या है?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज का इलाज कैसे किया जाता है?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज का इलाज निम्नलिखित तरह से की जा सकती है। जैसे-

  • एंटी-इंफ्लेमटरी ड्रग्स- एंटी-इंफ्लेमटरी ड्रग्स के सेवन से गट में हुए सूजन की समस्या से राहत मिलती है।
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड- IBD की समस्या गंभीर होने पर डॉक्टर इसे प्रिस्क्राइब करते हैं लेकिन, इसके ज्यादा लंबे वक्त तक सेवन की मनाही भी होती है। अगर आपको डॉक्टर कॉर्टिकोस्टेरॉइड जैसी दवा प्रिस्क्राइब करते हैं, तो उनका सेवन तभी तक करें जबतक उसे लेने की सलाह दी गई हो।
  • इम्यून सुप्रेसर- इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग रखने में यह मददगार होता है।

इन सभी के साथ-साथ IBD के इलाज के लिए निम्नलिखित दवाओं का उपयोग भी किया जा सकता है। इन दवाओं में शामिल हैं-

  • एंटीबायोटिक्स
  • एंटीडायरियल ड्रग्स
  • लैक्सेटिव
  • विटामिन और मिनिरल सप्लीमेंट्स जैसी दवाओं से भी इलाज किया जा सकता है।

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज की स्थिति अगर गंभीर हो, तो सर्जरी भी की जा सकती है।

और पढ़ें: ब्रांड और जेनेरिक दवाओं में क्या अंतर है, पढ़ें

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज होने पर इससे बचने के लिए क्या करें?

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज से बचने के लिए आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। जैसे-

  • डेयरी प्रोडक्ट का सेवन संतुलित करें
  • अत्यधित फैट वाले आहार का सेवन न करें
  • मसालेदार भोजन से बचें
  • एल्कोहॉल और कैफीन का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आहार में अत्यधिक फायबर युक्त भोजन का भी सेवन न करें
  • एकबार खाने के बजाये थोड़ा-थोड़ा और थोड़ी-थोड़ी देर में खाना चाहिए
  • एक दिन में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी का सेवन करना चाहिए और रोजाना ऐसा ही करें
  • विटामिन और मिनिरल युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें
  • इनके साथ-साथ तनाव और स्मोकिंग से भी बचें
  • स्मोकिंग जोन में न जाएं और स्मोकिंग कर रहे व्यक्ति के सामने भी खड़े न रहें

अगर आप इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Pinched nerve : नस दबना (पिंच्ड नर्व) क्या है?

नस दबना (पिंच्ड नर्व) क्या है? नस दबने (पिंच्ड नर्व) के कारण, जोखिम व उपचार क्या है? Pinched Nerves: Causes, Symptoms & Treatment in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh

Pompe Disease: जानें पोम्पे रोग क्या है?

जानें पोम्पे रोग क्या हैं in hindi, पोम्पे रोग के लक्षण क्या हैं और किन कारणों से होता है, pompe-disease ke lakshno के दिखने पर क्या करें उपचार?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu

कोरोना वायरस का डर खुद पर हावी न होने दें, ऐसे दूर करें तनाव

कोरोना वायरस का डर आपको भी तो परेशान नहीं कर रहा है जानिए in hindi. कोरोना वायरस का डर क्यों बढ़ता जा रहा है? coronavirus panic

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोरोना वायरस, इंफेक्शस डिजीज March 20, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Mahacef Plus: महासेफ प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

महासेफ प्लस की जानकारी in hindi. mahacef plus का उपयोग,Mahacef Plus साइड-इफेक्ट्स, महासेफ प्लस की खुराक लें, इसको कब लेना चाहिए। महासेफ प्लस का डोज और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang

Recommended for you

दही के लाभ

उम्र की लंबी पारी खेलने के लिए, करें योगर्ट का सेवन जरूर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ June 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बिफिलेक

Bifilac: बिफिलेक क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ June 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Self Defence for Women - महिलाओं के लिए सेल्फ डिफेंस

अब कोई छेड़े तो भागकर नहीं, मुंह तोड़ कर आना, जानें सेल्फ डिफेंस के टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ May 25, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कब्ज-Constipation

Constipation: कब्ज (कॉन्स्टिपेशन) क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
प्रकाशित हुआ April 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें