अल्सरेटिव कोलाइटिस रोगी के डाइट प्लान में क्या बदलाव करने चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अल्सरेटिव कोलाइटिस एक इंफ्लामेटरी बाउल डिजीज है। इस अवस्था में बड़ी आंत और मलाशय में सूजन आ जाती है। यह रोग क्रोहन’स डिजीज के समान है। अल्सरेटिव कोलाइटिस का उपचार ऑटोइम्यून बीमारी के रूप में किया जाता है। अल्सरेटिव कोलाइटिस के 60% रोगी भोजन ग्रहण करना बंद कर देते हैं ताकि इसके लक्षणों को कम किया जा सके। लेकिन, इस समस्या को पूरी तरह से सर्जरी से ही दूर किया जा सकता है। हालांकि, अल्सरेटिव कोलाइटिस के लक्षणों और इसके प्रभाव को दूर करने के लिए आहार भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हमारे खाने -पीने का इस रोग पर बहुत प्रभाव पड़ता है। अगर किसी को अल्सरेटिव कोलाइटिस रोग है, तो उसके डाइट प्लान में कुछ बदलाव आवश्यक है। जानिए अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान कैसा होना चाहिए। 

अल्सरेटिव कोलाइटिस के लक्षण

अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान के बारे में जानने से पहले जानिए क्या हैं इसके लक्षण। अल्सरेटिव कोलाइटिस के लक्षण हर रोगी में अलग हो सकते हैं। कुछ में यह अधिक गंभीर तो किसी में कम गंभीर होते हैं। अधिकतर लोगों में इसके हल्के लक्षण ही दिखने को मिलते हैं। इसके लक्षण कुछ इस प्रकार हैं-

  • पेट में दर्द और ऐंठन
  • आंत के ऊपर तेज आवाज आना।
  • मल में रक्त और  मवाद।
  • डायरिया
  • बुखार
  • आपका पेट पहले से ही खाली है, फिर भी आपको ऐसा लगे जैसे आपको मल त्याग करना है। इसके साथ ही पेट में दर्द, ऐंठन और दबाव होना।
  • वजन का कम होना 
  • बच्चों का विकास धीमे हो जाना

और पढ़ें : Ulcerative Colitis: अल्सरेटिव कोलाइटिस क्या है?

अन्य लक्षण 

  • जोड़ों में दर्द और सूजन 
  • मुंह के छाले (अल्सर)
  • मतली और उल्टी
  • त्वचा में गांठे या अल्सर

अल्सरेटिव कोलाइटिस के कारण 

अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान से पहले आपके लिए इसके कारण जानना भी आवश्यक है। शोधकर्ताओं के अनुसार अल्सरेटिव कोलाइटिस होने के कई कारण हो सकते हैं। ओवरएक्टिव इम्यून सिस्टम के कारण यह समस्या हो सकती है। इम्यून सिस्टम का काम है शरीर को कीटाणुओं और अन्य हानिकारक चीज़ों से बचाना। लेकिन कई बार यही इम्मून सिस्टम हमारे शरीर में गड़बड़ करता है, जिससे सूजन और टिश्यू को नुकसान हो सकता है।

निम्नलिखित लोगों में अल्सरेटिव कोलाइटिस होने की संभावना अधिक होती है

  • 15 से 30 साल या 60 साल से अधिक की उम्र के लोगों में ।
  • जो लोग उच्च वसा युक्त आहार खाते हैं।
  • जो लोग नोस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाईयां जैसे इबूप्रोफेन का सेवन करते हैं।
  • जो बर्थ कंट्रोल पिल्स का प्रयोग करते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

अल्सरेटिव कोलाइटिस में क्या खाएं 

अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान में आपके लिए यह जानना आवश्यक है, कि इस स्थिति में आपको क्या खाना चाहिए। जानिए आप इस रोग में क्या-क्या खा सकते हैं।

और पढ़ें : ब्लड प्रेशर की समस्या है तो अपनाएं डैश डायट (DASH Diet), जानें इसके चमत्कारी फायदे

कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ

अल्सरेटिव कोलाइटिस में कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इन्हें वो मरीज भी खा सकते हैं जिनकी हाल ही में सर्जरी हुई हो। कम फाइबर डाइट में रोजाना केवल 10 से 15 ग्राम फाइबर का ही सेवन करने की सलाह दी जाती है।

कम फाइबर वाले फल :  कम फायबर वाले फल जैसे  केले, खरबूजा, मीठा तरबूज, सेब ,  चेरी, खुबानी,आम, आड़ू, बेर, अनानास, स्ट्रॉबेरी, कीनू, चकोतरा आदि हैं।

कम फाइबर अनाज: जैसे दलिया, कॉर्नफ्लैक्स, चावल, चोकर सहित आटा, मल्टीग्रेन आटा आदि।

कम फाइबर वाली सब्जियां: जैसे बीन स्प्राउट्स,  गोभी, फूलगोभी, ककड़ी,मशरूम, प्याज, आलू, हरी मिर्च, मूली, टमाटर। इन्हें तब खाएं जब बीज और छिलके निकले हों।

प्रोटीन युक्त आहार

मछली, सोया, अंडे और टोफू आदि को अल्सरेटिव कोलाइटिस रोगी खा सकते हैं।

घर के बने शेक

आप घर पर बने शेक भी पी सकते हैं। अपने डॉक्टर या डाइटिशन से पूछें कि कौन से शेक आपके नुट्रिशन की जरूरतों को पूरा करते हैं।

स्वस्थ जीवन के लिए आहार में सात्विक भोजन क्यों करें शामिल, जानिए इस वीडियो से:

क्या न खाएं 

  • ऐसे अघुलनशील फाइबर युक्त आहार: जिन्हें पचाना मुश्किल है, जैसे कच्ची सब्जियां  ब्रोकली गोभी, साबुत मेवे और साबुत अनाज।
  • दूध और दूध से बनी चीजें: जिनमें शुगर की मात्रा होती है। दूध से बने पदार्थों को खाने से बचे कुछ चीजें खाने से आपकी इस रोग की समस्या बढ़ सकती है। इसलिए दूध , दही , पनीर, आइस क्रीम खाने से बचे। इससे आपको डायरिया ,पेट दर्द और गैस से छुटकारा मिलेगा।
  • नॉन अब्सॉर्बड शुगर:  जिन चीज़ों में अधिक मात्रा में चीनी होती है जैसे कैंडी ,आइस क्रीम या कुछ फल या जूस जैसे  नाशपाती, आड़ू । पेस्ट्रीज , कैंडी, और जूस जिसमें बहुत अधिक चीनी होती है।
  • अधिक वसा और चिकनाई वाले खाद्य पदार्थ: जैसे मक्खन नारियल क्रीम आदि। 
  • अल्कोहल और कैफीन युक्त पेय पदार्थ: जैसी बियर, वाइन ,सोडा या कॉफी। 
  •  मिर्च मसाले वाला आहार या जंक फ़ूड।

और पढ़ें :Keto Diet: क्या है कीटो डायट प्लान और इसे कैसे करें फॉलो?

अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान

सबसे पहले सुबह उठ कर एक या दो गिलास पानी अवश्य पीएं

नाश्ता (8 :30 AM) : नाश्ते में आप दलिया / पोहा/ 2 रोटी + उबली सब्जी/ स्प्राउट्स आदि ले सकते हैं

ध्यान रहे, रोटी या तो चोकर सहित आटे से या मल्टीग्रेन आटे से बनी हों

 दिन का भोजन (12:30-01:30 PM) :  2 रोटियां + हरी सब्जी + दाल+ सलाद + लस्सी +चावल या खिचड़ी  

सांयकालीन भोजन  (03:30 pm) : जूस / सूप/ छाछ/ कटे हुए फल/ नारियल पानी 

रात्रि का भोजन(7: 00 – 8:00 Pm):  2 रोटियां + सब्जी + दाल

इन चीज़ों का रखें ध्यान

अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान में ऐसा आवश्यक नहीं है कि आपको दिन में तीन बार ही खाना खाना है। आप 6 बार भी खा सकते हैं। बस ध्यान रखें कि आपका आहार संतुलित, सेहतमंद और कम मात्रा में हो। 

अधिक पानी पीएं

दिन में जितना अधिक हो सके उतना पानी पीएं। अन्य सेहतमंद पेय पदार्थों का भी सेवन करें जैसे ताजा जूस, सूप, नारियल पानी, छाछ आदि।  लेकिन, अल्कोहलिक पेय पीने से आपके डायरिया की समस्या बढ़ सकती है। इसके साथ ही कार्बोनेटेड पेय पदार्थ से लगातार गैस बनती है। ऐसे में इन चीज़ों से भी दूर रहें। सुबह के समय में 1 गिलास नारियल पानी पीने से भी  अच्छे परिणाम मिलते हैं।

तनाव से बचे 

हालांकि तनाव अल्सरेटिव कोलाइटिस का कारण नहीं है। लेकिन अगर रोगी को तनाव है तो इस रोग के लक्षण बदतर हो सकते हैं। इसलिए अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट प्लान का पालन करें और तनाव से दूर रहने की कोशिश करें। 

और पढ़ें: लो कैलोरी डाइट प्लान (Low Calorie Diet Plan) क्या होता है? 

व्यायाम

तनाव से बचने और इस रोग के लक्षणों को कम करने में व्यायाम आवश्यक है। इसके साथ ही इससे आपका पेट भी सही रहेगा। बाइकिंग, योग, स्विमिंग आदि से भी आपको लाभ होगा। जितनी हो सके उतनी शारीरिक गतिविधियां करें।  इससे पसीना आएगा और आपकी पाचन क्रिया में सुधार होगा। 

अन्य उपाय

  • खाना बनाने के लिए उबलने, भाप से पकने और ग्रिल करने के तरीके का प्रयोग करें। तला-भुना भोजन न खाएं।
  • बिना लापरवाही किये उचित दवाईयां लें।
  • जो भी आप खाते हैं या आपको क्या लक्षण दिखाई देते हैं, इसका रिकॉर्ड रखें। अधिक समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

सोरायसिस के मरीजों के लिए डाइट प्लान कैसा होना चाहिए, जानिए

सोरायसिस डाइट प्लान, सोरायसिस डाइट प्लान में क्या खाएं, क्या न खाएं, सोरायसिस डाइट कैसी होनी चाहिए,psoriasis diet chart in hindi, psoriasis diet in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
त्वचा की बीमारियां, हेल्थ सेंटर्स जुलाई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

रूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए डाइट प्लान: इसमें क्या खाएं और क्या न खाएं?

रूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए डाइट प्लान, रूमेटाइड अर्थराइटिस में क्या खाएं, क्या न खाएं, इस की डाइट की जानकारी, arthritis diet plan, arthritis

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन जुलाई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

अस्थमा के मरीजों के लिए डाइट प्लान- क्या खाएं और क्या न खाएं

अस्थमा डाइट प्लान की जानकारी, अस्थमा डाइट प्लान, अस्थमा रोगी क्या खाएं, अस्थमा रोगी क्या न खाएं, Asthma diet plan in hindi, Asthma

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
अस्थमा, हेल्थ सेंटर्स जुलाई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

वात: इस दोष को संतुलित करने के लिए बदलें अपना डायट प्लान

वात डायट प्लान क्या है, वात डायट प्लान की पूरी जानकारी, वात में क्या खाएं क्या न खाएं, वात क्या है, vaat diet plan, diet plan in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पाचन तंत्र सुधारने के प्राकृतिक तरीके

पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए जरूरी हैं ये टिप्स फॉलो करना

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट

अल्सरेटिव कोलाइटिस के पेशेंट्स हैं, तो जानें आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
वानी कपूर डाइट

अभिनेत्री वाणी कपूर कैसे रहती हैं इतनी फिट, जानिए उनका फिटनेस सिक्रेट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
3 साल के बच्चे का डाइट प्लान/3 year kid diet paln

3 साल के बच्चे का डायट प्लान फॉलो करते समय किन बातों का रखना चाहिए ध्यान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें