home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में अधिक थकावट महसूस होने पर अपनाएं ये टिप्स

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में अधिक थकावट महसूस होने पर अपनाएं ये टिप्स

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही (Second Trimester of Pregnancy) में चक्कर आना एक बड़ी समस्या है। वैसे तो गर्भावस्था का हर चरण गर्भवती महिला के लिए बेहद अहम होता है, लेकिन प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में खास ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। गर्भावस्था पीरियड में छोटी सी गलती, महिलाओं और उनके होने वाले शिशु के लिए जोखिम भरी हो सकती है। गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में महिलाओं को कई समस्याओं से भी जूझना पड़ता है, लेकिन चक्कर आना जैसी समस्या उनके लिए बड़ी परेशानी खड़ी कर सकती है। हेलो हेल्थ के इस लेख में हम प्रेग्नेंसी के दूसरे चरण में चक्कर आने के कारण, बचाव के उपाय और इससे जुड़ी कई जानकारियों को बारे में बताने जा रहे हैं।

और पढ़ें: प्रेगनेंसी के पहले तिमाही में इनसोम्निया की समस्या

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही का मतलब ( The Second Trimester of Pregnancy)

गर्भावस्था को तीन-तीन महीनों के तीन चरणों में बांटा गया है। इसका दूसरा चरण, दूसरी तिमाही (13वें हफ्ते से 27वें हफ्ते तक) कहलाता है। इस चरण को हनीमून पीरियड (Honeymoon Period of Pregnancy) भी कहते हैं। इस चरण में ही कामकाजी महिलाएं अपनी छुट्टी के लिए प्लानिंग करने लग जाती हैं। पहली तिमाही में मॉर्निंग सिकनेस और थकान के लक्षण होते हैं, लेकिन दूसरी तिमाही गर्भवती महिलाओं के लिए एक आरामदायक पीरियड होता है। इस चरण में महिला पहली तिमाही की तुलना में अधिक ऊर्जावान महसूस करने लगती हैं। दूसरी तिमाही में भ्रूण का आकार भी बढ़ने लगता है और यही वो चरण जिसमें महिलाओं का पेट बाहर आने लगता है। बावजूद इसके गर्भावस्था की दूसरे तिमाही में भी महिलाओं को हर तरह से अपना ख्याल रखने जरुरत होती है। साथ ही इस चरण में आने वाली समस्याओं से भी रूबरू होना चाहिए। इस चरण में महिलाओं को शरीर में होने वाले बदलाव, भ्रूण का बढ़ना और डाइट के बारे में भी पता होना चाहिए।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान ऑर्गैज्म से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे इस लेख में

प्रेग्नेंसी के दूसरी तिमाही (The Second Trimester of Pregnancy) में चक्कर आना क्या है?

वैसे तो गर्भावस्था के पूरे काल में महिलाओं को सिर चकराने जैसी समस्या से जूझना पड़ता है, लेकिन दूसरे चरण से इसकी शुरुआत तेजी से होती है। इसमें गर्भवती महिलाओं की आंखों के आगे अंधेरा छाने लगता है। वे समझ नहीं पाती हैं कि उनके साथ क्या हो रहा है। चक्कर आने पर उन्हें कमजोरी भी महसूस होने लगती है। साथ ही उनके आसपास की चीजें घूमती नजर आने लगती हैं। इस अवस्था में गर्भवती महिलाएं चक्कर खाकर गिर भी सकती हैं, जो कोख में मौजूद शिशु के लिए जोखिमपूर्ण हो सकता है। सिर दर्द, उलझन, मतली और उलटी गर्भावस्था में चक्कर आने के आम लक्षण माने जाते हैं।

और पढ़ें: पर्याप्त नींद न लेना हो सकता है स्वास्थ्य के लिए हानिकारक, जानिए कैसे करें इस समस्या को दूर

दूसरे चरण में चक्कर आना (Dizziness in pregnancy) आम समस्या है?

गर्भावस्था में चक्कर आना एक बड़ी और आम समस्या है। इस चरण में महिलाओं को सीढ़ी पर न चढ़ने-उतरने की सलाह दी जाती है। साथ ही उन्हें ड्राइविंग करने के लिए भी मना किया जाता है। कोई बड़ा हादसा न हो इसलिए इन पर रोक लगाने की सलाह दी जा सकती हैं। गर्भवती महिलाओं को इन बातों को ध्यान में रखना चाहिए, नहीं तो वे किसी बड़े हादसे शिकार हो सकती हैं, जो उनके और शिशु दोनों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। गर्भावस्था में चक्कर आने के एक नहीं बल्कि कई कारण हो सकते हैं। जानकर हैरानी होगी कि इस समस्या से भ्रूण के विकास में भी रुकावट हो सकती है। चलिए जानते हैं आखिर क्या है गर्भावस्था के हनीमून पीरियड में चक्कर आने के बड़े कारण।

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में चक्कर आने के कारण

गर्भावस्था महिलाओं के लिए बहुत संवेदनशील पीरियड होता है। जो महिलाएं पहली बार मां बनने का अनुभव ले रही होती हैं, उनके लिए तो यह पीरियड और भी नाजुक और नया होता है। इसलिए चक्कर आना तो स्वभाविक ही है। चलिए जानते हैं आखिर क्या हैं इसके असल कारण..

लो ब्लड प्रेशर (Low Blood Pressure)

प्रेग्नेंसी के दूसरे चरण में शारीरिक बदलाव आने के कारण ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) में बदलाव महसूस होता है। इसमें लो ब्लड प्रेशर की शिकायत आने लगती है और कमजोरी महसूस होती है, जो चक्कर आने का कारण बनते हैं। शरीर में हाॅर्मोन लो ब्लड प्रेशर का कारण बनते हैं, जो रक्त धमनियों को फैला देती हैं और ऐसे में महिलाओं को उठने और बैठने में चक्कर महसूस होने लगते हैं।

और पढ़ें: Quiz: स्तनपान के दौरान कैसा हो महिला का खानपान, जानने के लिए खेलें ये क्विज

शुगर की मात्रा कम होना (Low Sugar)

इस चरण में अगर गर्भवती महिलाओं में शुगर की मात्रा घटती है तो यह भी चक्कर आने का बड़ा कारण बनता है।

आयरन (Iron) की कमी

गर्भवती महिलाओं के शरीर में जब आयरन की कमी होने लगती है तो चक्कर आने लगते हैं, जो एनीमिया का कारण बन सकता है। ऐसे में हेल्दी डायट पर ध्यान देना जरूरी हो जाता है।

पीठ के बल लेटने पर

दूसरी और तिसरी तिमाही में गर्भवती महिलाओं का अधिकतर पीठ के बल लेटना भी चक्कर आने का कारण बनता है। क्योंकि इससे गर्भाशय की रक्त वाहिकाओं पर दवाब पड़ने लगता है।

पानी की कमी ( Dehydration)

गर्भावस्था में शरीर में पानी की कमी यानि डिहायड्रेशन होने से भी चक्कर आने लगते हैं। इसलिए गर्भावस्था काल में थोड़े-थोड़े समय में पानी पीते रहना चाहिए।

और पढ़ें: Episode-6 : प्रेग्नेंसी दौरान होने वाली जेस्टेशनल डायबिटीज के साथ बढ़ जाते हैं कॉम्प्लिकेशन

घुटन महसूस होने पर

गर्भावस्था में कई महिलाओं को घुटन भी होने लगती है और वह खुद को बंधा हुआ सा महसूस करने लगती हैं जो चक्कर आने का कारण बनता है।

अनहेल्दी डायट (Diet)

प्रेग्नेंसी में महिलाओं को हेल्दी डायट लेने की सलाह दी जाती है, जो शिशु के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरूरी है। हेल्दी डाइट न लेने से शरीर में कमजोरी महसूस हो सकती है, जिसके कारण चक्कर आना आम हो जाता है।

नियमित सिर दर्द (Headache)

जिन महिलाओं में नियमित सिर सर्द की शिकायत होती है, उन्हें गर्भावस्था में चक्कर आने का जोखिम ज्यादा होता है। इसलिए सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

चक्कर आने पर करें ये काम

गर्भावस्था में चक्कर आने पर महिलाएं नीचे दी गईं टिप्स पर गौर करें तो कुछ राहत मिल सकती हैं।

  • दूसरी तिमाही में शरीरिक वजन बढ़ने लगता है और इस स्थिति में अचानक चक्कर महसूस होने लगे तो, जहां खडे़ हो वहीं कुछ देर के लिए बैठ जाएं, क्योंकि गिरने पर दोनों को चोट पहुंच सकती है।
  • काम करने के दौरान चक्कर आने लगे तो तुरंत काम छोड़ बैठ जाएं। थोड़ी देर आराम करें और राहत महसूस होने पर ही काम करें।
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें क्योंकि ऐसा वातावरण आपके लिए अनकंफर्टेबल हो सकता है। भीड़ वाली जगह पर जी घबराने से भी चक्कर आ सकते हैं।
  • शरीर में शुगर की मात्रा का संतुलन बनाएं रखें। शुगर युक्त चीजें खाने से शुगर की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है, जिस0से लो ब्लड शुगर के कारण आने वाले चक्कर की समस्या से निजात पाई जा सकती है। ध्यान रहे इस बारे में पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें।
  • कमरे का वातावरण खुला हो, जहां शुद्ध हवा का आना-जाना हो। कुल मिलाकर गर्भवती महिला का कमरा इको फ्रेंडली होना चाहिए।
  • चक्कर आने की समस्या को दूर करने के उपाय
  • शरीर को हाइड्रेट रखें और इसके लिए समय-समय पर पानी पीते रहें
  • इस अवस्था में डॉक्टर से नियमित रूप से चेकअप कराते रहें
  • शरीर में शुगर की मात्रा का संतुलन बनाए रखें
  • खुले वातावरण में रहें और ताजी हवा को महसूस करें
  • फल और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें
  • जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज न करें
  • ज्यादा पीठ के बल लेटने से बचें
  • रोजाना पर्याप्त नींद लें
  • शराब और केफीन न लें
  • धूम्रपान करने से बचें

और पढे़ं: प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में क्या खाएं

हेल्दी डायट किसी के लिए भी जरूरी होती है, लेकिन जब बात गर्भवती महिलाओं की होती है तो थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत होती है। बता दें कि संपूर्ण आहार ही मां और शिशु के पोषण को पूरा करता है। इस अवस्था में महिलाओं को प्रोटीन, मिनरल्स, विटामिन, कार्बोहायड्रेट और वसा उचित मात्रा में लेने चाहिए। आपको यह भी बता दें कि सामान्य दिनों की तुलना में महिलाओं को दूसरी तिमाही में अधिक खुराक और कैलोरी लेने की जरूरत होती हैदूसरी तिमाही में खाएं ये चीजें…

आयरन फूड

आयरन का काम ऑक्सीजन को पूरे शरीर में संचारित करना होता है। वहीं, प्रेग्नेंसी में आयरन युक्त चीजें भ्रूण को ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करती हैं। आयरन की कमी से महिलाओं में एनीमिया और कई समस्याएं खड़ी हो जाती हैं। इससे वह तनावग्रस्त भी हो सकती हैं। आयरन की कमी को पूरा करने के लिए ड्राई फ्रूट्स, हरी पत्तेदार सब्जियां, बिना वसा वाला मीट और बीन्स को डाइट में शामिल करना चाहिए।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के पड़ाव कौन से हैं? जानिए कैसे रहें इस दौरान हेल्दी

प्रोटीन वाला फूड (Protien)

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में प्रोटीन युक्त चीजें भ्रूण के मस्तिष्क और अन्य टिश्यू को बढ़ाने में मददगार होती हैं। प्रोटीन मां के गर्भाशय और स्तनों के विकास के लिए अहम होता है। प्रोटीन की मात्रा को पूरा करने के लिए गर्भवती महिला की खाने की थाली में मटर, नट्स, मछली, अंडे और टोफू शामिल होना चाहिए।

फोलेट (Folate)

जिन लोगों को विटामिन बी 9 के बारे में पता है वो फोलेट के बारे में भी जानते होंगे। क्योंकि, फोलेट का दूसरा नाम विटामिन बी9 ही है। प्रेग्नेंसी में फोलेट अहम भूमिका निभाता है। फोलेट शिशु में जन्मजात होने वाले तंत्रिका नली दोष (Neural Tube Defects) जैसे स्पाइना बिफिडा (Spina Bifida) से बचाव करने में मददगार होता है। फोलेट की कमी को पूरा करने के लिए पत्ता गोभी, हरी पत्तेदार सब्जियां और पालक को डायट में लें। इसके साथ ही साबुत अनाज और संतरे में भी विटामिन बी होता है।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में कैल्शियम की कमी पहुंचा सकती है शरीर को नुकसान

अन्य आवश्यक पोषक तत्व

  • कैल्शियम
  • ओमेगा 3 फैटी एसिड
  • मैंगजीन
  • फैट
  • विटामिन डी
  • कार्बोहाइड्रेट

दूसरी तिमाही में खाई जाने वाली चीजें

  • सूरजमुखी के बीज
  • पनीर
  • गाजर
  • कद्दू के बीज
  • दही
  • एवोकाडो
  • ब्रोकली

प्रेग्नेंसी की दूसरी तिमाही में जिन महिलाओं को अधिक थकावट महसूस होती है, उनके लिए यह टिप्स बहुत प्रभावकारी है। इसके अलावा अधिक समस्या होने पर डॉक्टर से मिलें।

 

 

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 31/05/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x