पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट करने के दौरान रखें इन बातों का ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रेग्नेंसी के नौ महीने के दौरान आपने शरीर में विभिन्न प्रकार के बदलाव देखे होंगे। शरीर के आकार में बदलाव, वजन में वृद्दि, थकावट, कमजोरी महसूस होना आदि। डिलिवरी के बाद शरीर को पहले जैसे शेप में लाने के लिए कुछ समय की आवश्यकता होती है। जब आप एक्सट्रा एफर्ट करती हैं तो ये काम आसान हो जाता है। नॉर्मल या फिर सिजेरियन डिलिवरी के कुछ समय बाद तक महिलाओं को कमजोरी महसूस होती है। कुछ समय शरीर को आराम देने के बाद पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट को अपनाया जा सकता है।

हैलो स्वास्थ्य ने कोलकाता के फोर्टिस हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्‍ट डॉ. अर्चना सिन्हा से इस बारे में बात की। उन्होंने कहा कि, ”महिलाएं डिलिवरी के एक से दो हफ्ते बाद पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट शुरू कर सकती हैं। अगर सी-सेक्शन हुआ है तो आप थोड़ा ज्यादा समय ले सकती हैं। ब्रीदिंग, वॉकिंग, कीगल्स और रनिंग के माध्यम से वेट कम होने के साथ ही जो मसल्स ढीली पड़ चुकी हैं, उनमें कसावट आएगी। अपनी सुविधा के अनुसार एक्सरसाइज अपना सकती हैं।

और पढे़ें : डिलिवरी के बाद बॉडी को शेप में लाने के लिए महिलाएं करती हैं ये गलतियां

ऐसे शुरू करें पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट

डिलिवरी के बाद व्यायाम शुरू करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें। उसके बाद ये कुछ एक्सरसाइज की जा सकती हैं।

ब्रीदिंग एक्सरसाइज

स्लोली ब्रीद इन और ब्रीद आउट करें। इस एक्सरसाइज के माध्यम से आपको रिलेक्स फील होगा। एक तरफ से नाक बंद करके दूसरी तरफ से सांस लें और फिर छोड़ें। कुछ समय बाद आप महसूस करेंगी कि डिलिवरी के बाद जो कमजोरी महसूस हो रही थी, वो कुछ कम हो गई है।

नॉर्मल वॉक के साथ करें दिन की शुरुआत

डिलिवरी के बाद महिलाओं को स्ट्रेंथ में कमी महसूस होती है। इसे धीरे-धीरे डेवलप करना पड़ता है। आप पहले तो धीमे गति से वॉक करें और फिर तेज गति भी अपना सकती हैं। अपने शरीर की क्षमता के अनुसार ही गति पकड़े।

और पढे़ें : जानिए क्या है प्रीटर्म डिलिवरी? क्या हैं इसके कारण?

हो सके तो रनिंग को भी अपनाएं

प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं को अपने बढ़े हुए वजन को भी कम करना होता है। अगर आप भी ऐसा चाहती हैं तो रनिंग शुरू कर सकती है। पहले कुछ दूरी तक भागे, फिर धीरे-धीरे दूरी को बढ़ा सकती है। पोस्ट डिलिवरी एक्सरसाइज रनिंग से स्टार्ट न करें। ब्रीदिंग और वॉक के बाद ही रनिंग अपनाएं। अचानक से रनिंग आपको ज्यादा थका सकती है।

और पढे़ें : डिलिवरी के वक्त दिया जाता एपिड्यूरल एनेस्थिसिया, जानें क्या हो सकते हैं इसके साइड इफेक्ट्स?

वजायना को टाइट करने के लिए अपनाएं ये एक्सरसाइज

नॉर्मल डिलिवरी के बाद वजायना की मसल्स ढीली पड़ जाती है। इसे दोबारा पहले जैसे आकार में लाने के लिए पेल्विक एक्सरसाइज (pelvic exercise) की मदद ली जा सकती है। आप जमीन पर सीधे लेट जाएं। फिर अपने पैरों को मोड़ लें। अब वजायना के आसपास की मसल्स को टाइट करके सांस अंदर की ओर लें। फिर 10 सेकंड बाद सांस छोड़ें। आप दिन में दो से तीन सेट कर सकती हैं।

हेड एंड शोल्डर पर करें फोकस

डिलिवरी नॉर्मल हुई हो या फिर सी-सेक्शन, कोशिश करें कि एक्सरसाइज के दौरान पेट पर जोर न दें। आप सीधे लेट कर अपने दोनों हाथों को सिर के पीछे लेकर शोल्डर और हेड को ऊपर उठाएं। इसे पांच बार करें। एक्सरसाइज के दौरान ज्यादा स्ट्रेस न लें।

और पढे़ें : डिलिवरी के वक्त होती हैं ऐसी 10 चीजें, जान लें इनके बारे में

पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट में मेडिटेशन का भी लें सहारा

पोस्ट डिलिवरी एक्सरसाइज के दौरान मेडिटेशन भी बहुत जरूरी है। अगर आप डिलिवरी के बाद बहुत स्ट्रेस फील कर रही हैं या फिर कमजोरी की वजह से किसी भी एक्सरसाइज का मन नहीं कर रहा है तो मेडिटेशन करना आपके लिए अच्छा रहेगा।

हेल्दी डायट को करें शामिल

डिलिवरी के बाद एक्सरसाइज के साथ ही हेल्दी खाने पर भी ध्यान दें। ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान 300 कैलोरी तक लॉस होती है। समय बढ़ने के साथ कैलोरी ज्यादा लॉस होगी। सही खानपान आपको स्वस्थ्य रखेगा और ब्रेस्ट फीडिंग के माध्यम से आप वजन कम कर सकती हैं।

और पढे़ें : प्रेग्नेंसी के बाद बॉडी में आते हैं ये 7 बदलाव

पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट के फायदे

यदि महिला का प्रसव नार्मल तरीके हुआ है तो सामान्यतः शिशु को जन्म देने के कुछ ही दिनों (लगभग छह सप्ताह) के बाद आप पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट करना शुरू कर सकती हैं। लेकिन, अगर आपका सी-सेक्शन हुआ है तो डॉक्टर की सलाह के बाद ही व्यायाम शुरू करना चाहिए। प्रसव के बाद व्यायाम करने से शरीर को निम्न फायदे हो सकते हैं-

  • पेट की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और शरीर टोन होता है।
  • शरीर की ऊर्जा (energy) बढ़ाता है।
  • स्ट्रेस (stress) से निजात पाने के लिए भी पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट जरूरी है।
  • नींद न आने की समस्या भी दूर होती है।

पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

  • केगल्स के साथ ही रनिंग या फिर कोई भी एक्सरसाइज धीमी गति से करें क्योंकि शरीर अभी कमजोर है और उसे वापस अपने आकार में आने में थोड़ा समय लग सकता है।
  • अगर आपको प्रेग्नेंसी के समय बैक पेन और पेल्विक पेन की समस्या थी तो एक बार अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।
  • सी- सेक्शन के बाद एक्सरसाइज कब शुरू करनी है? इस बारे में एक बार अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। कोशिश करें कि पहले छह सप्ताह तक शरीर को आराम दें फिर एक्सरसाइज के बारे में सोंचे।
  • अगर आपकी नॉर्मल डिलिवरी हुई है तो आपको एक से दो हफ्ते तक शरीर को आराम देने के बाद ही एक्सरसाइज के बारे में सोचना चाहिए। कंडिशन कोई भी हो, डॉक्टर की सलाह के बाद ही एक्सरसाइज करें।
  • पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट के दौरान स्वीमिंग को अवाॅयड करें। आप एक बार अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें। डिलिवरी के बाद आपका यूट्रस अभी पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ है इसलिए स्वीमिंग के दौरान इंफेक्शन का खतरा भी हो सकता है।

पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट में इन सभी एक्सरसाइज के बाद लो इम्पेक्ट एरोबिक्स, लाइट वेट ट्रेनिंग, साइकलिंग और ब्लीडिंग बंद होने के बाद स्वीमिंग अपना सकती हैं। डिलिवरी के बाद आपको कौन सी एक्सरसाइज करनी चाहिए या नहीं करनी चाहिए? इसके बारे में एक बार डॉक्टर से जरूर सलाह लें। डॉक्टर की बताई गई बातों का पालन करना जरूरी है। उमीद करते हैं कि आपको हमारा यह “पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट” आर्टिकल पसंद आया होगा। इससे जुड़ी सभी तरह की जानकरी देने की हमने पूरी कोशिश की है फिर भी आपका कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में आप हमसे पूछ सकते हैं

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

अब कोई छेड़े तो भागकर नहीं, मुंह तोड़ कर आना, जानें सेल्फ डिफेंस के टिप्स

महिलाओं के लिए सेल्फ डिफेंस टिप्स काफी जरूरी है, ताकि वह दिन ब दिन अपने खिलाफ बढ़ते अपराधों का करारा जवाब दे पाएं। जानें महिलाएं व लड़कियां कैसे दे सकती हैं मुंहतोड़ जवाब।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

लंग्स को हेल्दी रखने में मदद कर सकती हैं ये आसान ब्रीदिंग एक्सरसाइज

हेल्दी लंग्स के लिए क्या करें? लंग्स को हेल्दी रखने के आसान तरीका है ब्रीदिंग एक्सरसाइज। आप दिन भर में कुछ सेकेंड देकर इन एक्सरसाइजेस की प्रेक्टिस कर सकते हैं। इससे भविष्य में होने वाली सांस संबंधी परेशानियों से आप बच सकेंगे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 21, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

एक साधारण-सी साइकिल से मिल सकते हैं कई फायदे, जानें

साधारण-सी साइकिल चलाने से आपको कई असाधारण साइकलिंग बेनिफिट्स प्राप्त हो सकते हैं। यह कई सारे भारी-भरकम वर्कआउट से बेहतरीन है और आपके शरीर को फिट बनाने में फायदेमंद है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

टीवी देखते हुए भी कर सकते हैं बेस्ट एक्सरसाइज, जानिए कौन-कौन सी वर्कआउट है बेस्ट

बेस्ट एक्सरसाइज करने के लिए जिम जाने की जरूरी नहीं, टीवी देखते हुए समय निकाल करें कुछ एक्सरसाइज, जानें एक्सरसाइज टिप्स और उससे जुड़ी खास बातें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 20, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

एंग्जायटी से बाहर आने के उपाय, anxiety

एंग्जायटी से बाहर आने के लिए क्या करना चाहिए ? जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों में एकाग्रता/concentration

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के लिए क्या करना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
परिणीति चोपड़ा डायट प्लान

परिणीति चोपड़ा के डायट प्लान से होगा वेट लॉस आसान, जानिए वर्कआउट सीक्रेट भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
इम्यूनिटी बूस्टर क्विज immunity booster quiz

Quiz: इम्यूनिटी बूस्टिंग के लिए क्या करना चाहिए क्या नहीं , जानने के लिए यह क्विज खेलें

के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ जून 17, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें