प्रेग्नेंसी में मक्का खाने के फायदे और नुकसान

Medically reviewed by | By

Update Date अप्रैल 20, 2020 . 4 mins read
Share now

गर्भावस्था के दौरान एक महिला को क्या खाना चाहिए, क्या नहीं खाना चाहिए इसे लेकर उसे काफी सतर्क रहना पड़ता है। गर्भावस्था में मां के द्वारा खाए गए सभी तरह के आहार सीधे तौर पर गर्भ में पल रहे भ्रूण को भी प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए कुछ भी खाने के लिए एक गर्भवती महिला को उस आहार में पाए जाने वाले सभी तरह के तत्वों, उसके फायदे और साइड इफेक्ट के बारे में भी पूरी जानकारी रखनी चाहिए। इसी तरह प्रेग्नेंसी में मक्का खाने की सलाह दी जाती है। हालांकि, क्या वाकई में प्रेग्नेंसी में मक्का सुरक्षित हो सकता है, या इसके किसी तरह के साइड इफेक्ट मां या बच्चे पर देखे जा सकते हैं, इसके बारे में जरूर जानना चाहिए। कई एक्सपर्ट्स गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी में मक्का खाने की सलाह देते हैं, तो कुछ गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान अगर कोई समस्या होती है, तो उन्हें प्रेग्नेंसी में मक्का खाने से परहेज करने की भी सलाह दी जाती है।

चलिए जाते हैं, प्रेग्नेंसी में मक्का खाना कब और कितना सुरक्षित होता हो सकता है एक गर्भवती महिला और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए।

यह भी पढ़ेंः क्या प्रेग्नेंसी में रोना गर्भ में पल रहे शिशु के लिए हो सकता है खतरनाक?

प्रेग्नेंसी में मक्का खाना क्या सुरक्षित है?

मक्का को अंग्रेजी में कॉर्न (Corn) कहते हैं। इसे मकई, भुट्टा, बाल जैसे नामों से भी कई क्षेत्रीय स्थानों में जाना जाता है। ग्रामीण इलाकों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में भी यह एक बेहद लोकप्रिय अनाज है, इसमें खनिज और विटामिन की भरपूर मात्रा होती है। मक्का में विटामिन सी, विटामिन बी1, विटामिन बी5, डायट्री फाइबर और मैग्नीशियम की उच्च मात्रा पाई जाती है। यह पौष्टिक होने के साथ-साथ स्वाद में भी बहुत स्वादिष्ट होता है। जिस वजह से यह बच्चों का भी फेवरेट होता है। मक्के के तौर पर लोग बेबी कॉर्न भी खाना काफी पसंद करते हैं। ऐसे में एक गर्भवती महिला को प्रेग्नेंसी के दौरान कई तरह की चीजें खाने की क्रेविंग होती है। जिसमें मक्का भी शामिल हो सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान कई महिलाओं को मीठा और खट्टा खाने के अलावा प्रेग्नेंसी में मक्का खाने की भी काफी अधिक क्रेविंग होती है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, प्रेग्नेंसी में मक्का खाना सुरक्षित है, लेकिन इसके सेवन से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना बेदह जरूरी हो सकता है।

प्रेग्नेंसी में मक्का कब खाना चाहिए?

प्रेग्नेंसी में मक्का के किसी भी हफ्ते या तिमाही के दौरान मक्के का सेवन करना पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, अगर आप किसी तरह की दवाओं का विटामिन्स का सेवन करती है, तो प्रेग्नेंसी में मक्का आपको कब खाना चाहिए, इसके बारे में आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। क्योंकि, मक्के में पाए जाने वाले तत्व में कुछ तरह से विटामिन्य या दवाओं के साथ इंट्ररैक्शन कर सकते हैं। इसलिए, हम यही सलाह देंगे कि इसके बारे में अपने डॉक्टर की मदद जरूर लें।

यह भी पढ़ेंः क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी क्या है? जाने आपके जीवन पर इसके प्रभाव

प्रति 100 ग्राम मक्का में पाए जाने वाले पोषक तत्व, जिनमें शामिल हैंः

  • जल – 10.37 ग्राम
  • ऊर्जा – 365 kcal
  • प्रोटीन – 9.42 ग्राम
  • टोटल फैट – 4.74 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट – 74.26 ग्राम
  • फाइबर – 7.3 ग्राम
  • शुगर – 0.64 ग्राम

प्रति 100 ग्राम मक्का में मिनरल की मात्रा

  • कैल्शियम – 7 मिग्रा
  • आयरन – 2.71 मिग्रा
  • मैग्नीशियम – 127 मिग्रा
  • फास्फोरस – 210 मिग्रा
  • पोटैशियम – 287 मिग्रा
  • सोडियम – 35 मिग्रा
  • जिंक – 2.21 मिग्रा
  • कॉपर – 0.314 मिग्रा
  • सिलेनियम – 15.5 मिग्रा
  • मैंगनीज – 0.485 मिग्रा

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में फ्लोराइड कम होने से शिशु का आईक्यू होता है कम

प्रति 100 ग्राम मक्का में विटामिन्स की मात्रा

  • थियामिन – 0.385 मिग्रा
  • राइबोफ्लेविन – 0.201 मिग्रा
  • नियासिन – 3.627 मिग्रा
  • पैंटोथैनिक एसिड – 0.424 मिग्रा
  • विटामिन-बी – 6 0.622 मिग्रा
  • फोलेट, टोटल – 19 माइक्रोग्राम
  • विटामिन-ए, आरएई – 11 माइक्रोग्राम
  • विटामिन-ए, आईयू – 214 आईयू
  • विटामिन-ई (अल्फा टोकोफेरॉल) – 0.49 मिग्रा
  • विटामिन-के (फाइलोक्विनोन) – 0.3 माइक्रोग्राम

प्रति 100 ग्राम मक्का में लिपिड की मात्रा

  • फैटी एसिड (टोटल सैचुरेटेड) – 0.667 ग्राम
  • फैटी एसिड (टोटल मोनोअनसैचुरेटेड) – 1.251 ग्राम
  • फैटी एसिड (टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड) – 2.163 ग्राम

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी के दौरान खांसी की समस्या से राहत पाने के घरेलू उपाय

प्रेग्नेंसी में मक्का खाने के फायदे क्या हैं?

प्रेग्नेंसी में मक्का खाने के कई फायदे हैं, जिनमें शामिल हैंः

कब्ज से राहत दिलाए

मक्का में फोलिक एसिड, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की काफी अच्छा मात्रा पाई जाती है। मक्के के दानों में बहुत सारा मैग्नीशियम, आयरन, कॉपर और फॉस्‍फोरस भी पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मददगार होते हैं। इसके साथ ही, मक्का प्रचूर मात्रा में रेशे से भरा हुआ होता है। इसके फाइबर के गुण प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली कब्जी की समस्या से राहत दिला सकते हैं। साथ ही, महिला को शरीर को पाचन समस्याओं को कम करने में मदद प्रदान करता है।

बच्चे के जन्मदोष को कम करे

गर्भावस्था में अगर प्रेग्नेंट महिला के शरीर में किसी भी तरह के तत्व की कमी होती है, तो इसका सीधा प्रभाव बच्चे की सेहत पर पड़ सकता है। कुछ मामलों में यह जन्म दोष का कारण भी बन सकता है। प्रेग्नेंसी में एनीमिया यानी खून की कमी की समस्या सबसे अधिक देखी जाती है। इस समस्या के कारण बच्चे का वजन बहुत कम हो सकता है और वह कई अन्य बीमारियों से भी पीड़ित हो सकता है। इस समस्या से बचे रहने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी में मक्का खाना चाहिए। मक्का में फोलिक एसिड पाया जाता है जो बच्चे के वजन को बढ़ाने में मदद करता है। मक्के के विटामिन बी और फोलिक एसिड महिला के शरीर में एनीमिया की समस्या को दूर करने में काफी मददगार हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में दाद की समस्या के कारण और बचाव के तरीके

गर्भ में पल रहे शिशु की आंखों को स्वस्थ बनाए

मक्का में ल्यूटिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट की उच्च मात्रा होती है, जो गर्भ में पल रहे बच्चे की आंखों की रोशनी को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इसके अलावा मक्का में पाया जाने वाला विटामिन ए भी बच्चे की आंखों की रोशनी के लिए फायदेमंद होता है।

याददाश्त बढ़ाए

प्रेग्नेंसी में मक्का खाने से गर्भवती महिला की याददाश्त अच्छी होती है। साथ ही, यह गर्भ में पल रहे भ्रूण के मस्तिष्क के विकास में भी मदद करता है।

मांसपेशियों में विकृति की समस्या को कम करें

गर्भावस्था के दौरान मक्का का सेवन करने से गर्भ में पल रहे बच्चे के जन्म के बाद होने वाली मांसपेशियों के विकृति की समस्या से बचावा जा सकता है।

स्किन बने अच्छी

मक्का में एंटीऑक्‍सीडेंट गुण होता है, जो स्किन के ल‍िए एंटीएजिंग का काम करता है। प्रेग्नेंसी में मक्का खाने से महिला को ड्राई स्किन की समस्या से राहत मिल सकती है। इसमें लिनोलिक एसिड पाया जाता है। जो ड्राई स्किन के साथ, त्वचा में खुजली की समस्या से भी राहत दिला सकता है।

गर्भावस्था में मक्का खाने के नुकसान क्या हो सकते है?

प्रेग्नेंसी में मक्का का सेवन एक सीमित मात्रा में ही करना चाहिए। मक्का में फैटी एसिड की काफी अधिक मात्रा होती है, जिसके अधिक सेवन से गर्भवती महिलाओं को दिल की बीमारियों का जोखिम हो सकता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपका इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः-

प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराना कितना सुरक्षित?

प्रेग्नेंसी में चाय या कॉफी का सेवन हो सकता है नुकसानदायक

प्रेग्नेंसी में मलेरिया: मां और शिशु दोनों के लिए हो सकता है खतरनाक?

प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल खाने के फायदे

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    National Iced Tea Day: आइस टी बनाने का आसान तरीके जानते हैं आप, जानें इसके फायदे

    आइस टी के फायदे in hindi. आइस टी के बहुत से फायदे होते हैं। गर्मियों में आइस टी पीने से जहां एक ओर शरीर को ठंडक मिलती हैं, वहीं आइस टी में नींबू और एंटीऑक्सीडेंट शरीर को फायदा पहुंचाते हैं। iced tea

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi

    प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

    प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं, जाने कॉफी की सही मात्रा कितनी होती है। Intake of coffee during pregnancy in Hindi.

    Written by Shivam Rohatgi

    लड़का या लड़की : क्या हार्टबीट से बच्चे के सेक्स का पता लगाया जा सकता है?

    हार्टबीट से सेक्स का पता लगाया जा सकता है, ऐसी कोई भी स्टडी हुई ही नहीं है। अल्ट्रासाउंड, सेल फ्री डीएनए ( Cell Free DNA), आनुवंशिक परीक्षण से गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की। इसका पता चल सकता है..

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है? क्या गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए हो सकता है हानिकारक

    इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है, इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन के लक्षण और कॉरियोएम्नियॉनिटिस का इलाज क्या है, intrauterine infection chorioamnionitis in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha