home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मिसजेंडर होना क्या है?

मिसजेंडर होना क्या है?

सोनम ने राहुल से कहा कि,“मैं तुम्हारे साथ कॉलेज जाना पसंद करूंगा।” राहुल ने सोनम से कहा,“जरूर मैं तुम्हें अपने साथ कॉलेज ले चलूंगी।” ये लाइन पढ़ने के बाद आपने दो काम किए होंगे। पहला तो ये कि आपने सोनम और राहुल की बात को दोबारा पढ़ा होगा। दूसरा काम ये कि आपने सोचा होगा आर्टिकल के लेखक ने गलत लिखा है, लेखक को स्त्रीलिंग और पुलिंग का ज्ञान नहीं है। जी नहीं, सोनम और राहुल की नजर से देखा जाए तो दो बातें हो सकती हैं। पहला कि दोनों की जुबान फिसल गई है, दूसरा ये कि दोनों ने मिसजेंडर संबोधन या मिसजेंडरिंग की हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि ये मिसजेंडर या मिसजेंडरिंग क्या है? आइए जानते हैं मिसजेंडर और ट्रांसजेडर लोगों के साथ मिसजेंडरिंग से जुड़े सभी पहलुओं के बारे में।

यह भी पढ़ेंः बढ़ती उम्र के साथ ही महिलाओं में सेक्स की इच्छा क्यों घट जाती है?

मिसजेंडर होना क्या है?

ट्रांसजेंडर, नॉनबाइनरी या जेंडर नॉनकंफर्मिंग लोगों का अपना अलग जेंडर होता है। जेंडर मुख्यतः दो तरह के होते हैं- महिला और पुरुष, लेकिन जेंडर की कई सीमा नहीं है, यह विस्तृत है। कुछ लोग नॉनबाइनरी के रूप में पहचाने जाते हैं। नॉनबाइनरी को सात रंगों के अम्ब्रेला से प्रदर्शित किया जाता है। जिसका मतलब होता है कि एक ऐसी पहचान जो महिला और पुरुष दोनों से परे हो, लेकिन हम कई बार उनके साथ मिसजेंडरिंग करते हैं। मिसजेंडर अक्सर ट्रांसजेंडर लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। उन्हें हम वैसे नहीं बुलाते हैं, वो जिस जेंडर से संबंधित होते हैं। इसी को मिसजेंडरिंग कहते हैं।

उदाहरण के तौर पर समझा जा सकता है कि अगर कोई ट्रांसफेमिनाइन (जो जन्म से मेल होते हैं और उनकी पहचान फीमेल के रूप में होती है, ऐसे लोग ट्रांस वूमेन या फीमेल होते हैं) है और उसे हम ‘He’, ‘him’ या ‘Guy’ कह कर संबोधित करते हैं तो ये उनके साथ मिसजेंडरिंग करते हैं। इसी तरह से अगर कोई ट्रांसमैस्कुलीन है (जो पैदा तो फीमेल सेक्स के साथ होते हैं लेकिन उनकी पहचान मेल के रूप में की जाती है, ऐसे लोगों को ट्रांस मैन या मेल कहा जाता है), तो उन्हें ‘She’, ‘Her’ या ‘Ladies’ कह कर बुलाना गलता है। इस तरह से समाज ट्रांसजेंडर लोगों के साथ मिसजेंडर करता है।

यह भी पढ़ें : सेक्स और जेंडर में अंतर क्या है जानते हैं आप?

मिसजेंडर कितने प्रकार के होते हैं?

मिसजेंडर सामान्यतः दो प्रकार के होते हैं :

इंटेनशनल मिसजेंडरिंग (Intentional Misgendering)

इंटेनशनल मिसजेंडरिंग का मतलब होता है कि किसी व्यक्ति के साथ जानबूझ कर पूरी नियत के साथ उसे उसके जेंडर से इतर संबोधित करना। जिससे व्यक्ति को दुख पहुंचे और वह मानसिक रूप से आहत हो।

अनइंटेनशनल मिसजेंडरिंग (Unintentional Misgendering)

अनइंटेनशनल मिसजेंडरिंग का मतलब ये है कि किसी ट्रांसजेंडर व्यक्ति को उसके वर्तमान जेंडर से अलग संबोधन करना। वो भी तब जब आपको ऐसा कुछ पता ही ना हो कि वो एक ट्रांसजेंडर है। ऐसा आप जानबूझकर नहीं करते हैं। इससे व्यक्ति अनजाने में हर्ट होता है।

यह भी पढ़ें : क्या आप हर वक्त सेक्स के बारे में सोचते हैं? ये हाई सेक्स ड्राइव का हो सकता है लक्षण

मिसजेंडरिंग होने का कारण क्या है?

किसी भी ट्रांसजेंडर के साथ मिसजेंडरिंग होने के कई कारण हैं। जिसमें सबसे पहला और मुख्य कारण होता है कि व्यक्ति के अंदर प्राइमरी या सेकेंड्री सेक्स के लक्षण ही ना दिखाई दें। इसके आधार पर हम उसके जेंडर को जज कर लें। जैसे –

ट्रांसजेंडर को लेकर भारत सरकार द्वारा बनाए गए कानून को 2014 में संसद में पास किया गया था। जिसमें ये कहा गया है कि ट्रांसजेंडर लोगों के लिए एक महिला और पुरुष के अलावा अदर जेंडर भी शामिल किया गया। अदर जेंडर ट्रांसजेंडर लोगों के लिए इंगित किया गया। इसके बावजूद लोगों में जागरुकता ना होने के कारण वे ट्रांसजेंडर होने के बाद अपने पहचान प्रमाण पत्र में अपना जेंडर नहीं बदलवा पाते हैं। जिससे उनके साथ मिसजेंडरिंग होती है।

दूसरी तरफ 2019 में लोकसभा में ट्रांसजेंडर अधिकार संरक्षण बिला पास हुआ। जिसमें मिसजेंडरिंग करने से अगर किसी ट्रांसजेंडर को मानसिक या शारीरिक रूप से हानि होती है तो ऐसा करने वाले व्यक्ति (अपराधी) को 6 महीने से 2 साल तक की जेल और जुर्माना हो सकता है।

ये भी पढ़ें: क्या वाकई में घर से ज्यादा होटल में सेक्स एंजॉय करते हैं कपल?

मिसजेंडरिंग ट्रांसजेंडर लोगों को कैसे प्रभावित करता है?

मिसजेंडर संबोधन या मिसजेंडरिंग ट्रांसजेंडर लोगों को न सिर्फ दुखी करता है, बल्कि उनके मानसिक स्थिति को भी आहत कर देता है। 2014 में जॉर्नल सेल्फ एंड आइडेंटिटी में प्रकाशित एक अध्ययन में ट्रांसजेंडर लोगों के साथ मिसजेंडरिंग लेकर निम्न बाते सामने आई :

  • 32.8 फीसदी ट्रांसजेंडर लोग खुद को मिसजेंडर होने से लांछित या एब्यूजिव महसूस करते हैं।
  • ट्रांसजिसन प्रॉसेस के बारे में समाज को पता चलने के बाद भी वे समाज द्वारा स्वीकारे नहीं जाते हैं, जिस कारण उनके साथ मिसजेंडरिंगो होती है।
  • मिसजेंडरिंग के कारण वे अपना आत्मविश्वास खो बैठते हैं।
  • कई सारी जगहों पर उन्हें मिसजेंडरिंग के कारण शर्मिंदा होना पड़ता है।

समाज में उन्हें वो रिस्पेक्ट नहीं मिल पाती है, जिसके वे हकदार होते हैं। ऐसे में ट्रांसजेंडर लोगों को वो मेडिकल सुविधाएं नहीं मिल पाती हैं, जिसके लिए सरकार ने उन्हें हकदार बनाया है। वहीं, कारोबार और ऑफिस में भी उनके साथ दोयम दर्जे का व्यवहार होता है। जिसके कारण वे मिसजेंडरिंग का शिकार होते हैं।

ये भी पढ़ें:जानिए क्या करें अगर पार्टनर न कर पाए सेक्शुअली सैटिसफाई

ट्रांसजेंडर के लिए सर्वनाम (Pronoun) क्यों जरूरी है?

आजकल ज्यादातर लोग अंग्रेजी में बात करते हैं। ऐसे में अंग्रेजी में ट्रांसजेंडर के लिए सर्वनाम को लेकर लोग कंफ्यूज रहते हैं। इसलिए आप जब भी किसी ट्रांसजेंडर मेल को बुलाइए तो He, His, Him का प्रयोग करें। वहीं, अगर ट्रांसजेंडर फीमेल को संबोधित करिए तो She, Her, Hers कहिए। ट्रांसजेंडर मेल व फीमेल दोनों को साथ में बुलाने के लिए They, their, them का ही इस्तेमाल करें। वहीं, यूएस ने जेंडर नॉनकंफर्मिंग लोगों के साथ मिसजेंडरिंग ना हो इसलिए Pronoun के लिए Ze, hir, hirs का प्रयोग करने का निर्देश दिया था।

मिसजेंडरिंग को कैसे रोकें?

हमें हमेशा से यही सिखाया जाता है कि कोई भी ऐसा काम ना करें, जिससे किसी को भी दुख पहुंचे। ऐसे में मिसजेंडरिंग को रोकने की शुरुआत हमें खुद से ही शुरू करनी होगी :

किसी के लिए पूर्वानुमान ना लगाएं

हम किसी भी व्यक्ति को देखकर एक पूर्वानुमान लगा लेते हैं, जिससे हम जाने अनजाने किसी को भी हर्ट कर सकते हैं। इसलिए मिसजेंडरिंग से बचने के लिए आप तब तक कुछ ना कहें, जब तक आपको सामने वाले व्यक्ति के जेंडर के बारे में पता ना हो।

संबोधित करने से पहले पूछ लें

जब आपको पता चल जाए कि आप जिसे संबोधित करने जा रहे हैं, वो एक ट्रांसजेंडर है। ऐसे में खुलकर उनसे पूछिए कि आप उन्हें कैसे संबोधित कर सकते हैं। इस दौरान संबोधित करते हुए सही नाम के साथ सही सर्वनाम का भी इस्तेमाल करें।

कुछ शब्दों को अवॉयड करें

जब हम किसी सभा या एक साथ किसी समूह को संबोधित करें को निम्न में से ये शब्द संबोधन के लिए ना इस्तेमाल करें :

  • सर या मैम ना कहें, बल्कि इसके स्थान पर माई फ्रेंड्स का इस्तेमाल करें।
  • लेडीज, गाइज और जेंटलमेन के जगह पर फोक्स या गेस्ट्स कहें।

आपकी थोड़ी सी सावधानी बरतने से किसी के मेंटल हेल्थ को ठेस पहुंचने से बच सकता है। ऐसे में आप ट्रांसजेंडर लोगों को भी समाज में बराबरी का हक दिला सकते हैं।हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें :

पानी में सेक्स करने का बना रहे हैं प्लान, तो पहले पढ़ें यह वॉटर सेक्स गाइड

क्या आप जानते हैं कि फीमेल कॉन्डम इन मामलों में है फेल

सेक्स के दौरान महिलाएं आखिर क्यों निकालती हैं आवाजें?

Night Fall: क्या स्वप्नदोष को रोका जा सकता है? जानें इसका ट्रीटमेंट

REVIEWED

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

(Accessed on 23/4/2020)

What Does It Mean to Misgender Someone? https://www.healthline.com/health/transgender/misgendering#why-pronouns-matter

Gender: Some Painstaking Differences https://www.webmd.com/sex-relationships/features/gender-some-painstaking-differences#1

What does it mean to be asexual?/https://www.medicalnewstoday.com/articles/327272/

Bisexuality and health: The cost of invisibility https://www.health.harvard.edu/blog/bisexuality-and-health-the-cost-of-invisibility-2019102918059

Transgender Persons (Protection of Rights) Bill 2019 Passed by Parliament https://pib.gov.in/newsite/PrintRelease.aspx?relid=195089

What if I make a mistake? https://uwm.edu/lgbtrc/qa_faqs/what-if-i-make-a-mistake/

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shayali Rekha द्वारा लिखित
अपडेटेड 23/04/2020
x