आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

सेक्स थेरिपी सेशन पर जाने से पहले पता होनी चाहिए आपको ये बातें

सेक्स थेरिपी सेशन पर जाने से पहले पता होनी चाहिए आपको ये बातें

सेक्शुअल हेल्थ भावनात्मक और फिजिकल वेल-बीइंग का एक अनिवार्य हिस्सा है। वहीं, आंकड़ों की माने तो 43% महिलाएं और 31% पुरुष अपने जीवन में किसी न किसी प्रकार के यौन रोग की रिपोर्ट करते हैं। लेकिन, यदि आप एक यौन समस्या का सामना कर रहे हैं, तो सेक्स थेरिपी आपके लिए कारगर साबित हो सकती है। इससे आपकी सेक्स समस्या खत्म होने के साथ ही कपल्स के रिलेशनशिप में भी सुधार आता है। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में जानते हैं कि सेक्स थेरिपी क्या है, थेरिपी सेशन लेने जाने से पहले आपको किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सेक्स थेरिपी क्या है? (what is sex therapy)

सेक्स थेरिपी (sex therapy) एक विशेष प्रकार की मनोचिकित्सा (psychotherapy) या टॉक थेरिपी (talk therapy) है। इससे यौन संतुष्टि को प्रभावित करने वाले कारकों जैसे-मेडिकल, साइकोलॉजिकल, पर्सनल या पारस्परिक कारकों के बारे में जानने की कोशिश की जाती है। सेक्स थेरिपी का मुख्य लक्ष्य लोगों को शारीरिक और इमोशनल चैलेंजेज (emotional challenges) को पूरा करके आनंददायक सेक्स लाइफ (sex life) प्रदान करना है।

सेक्स थेरिपी आमतौर पर लाइसेंस प्राप्त मनोवैज्ञानिकों, सोशल वर्कर्स, फिजिशियन या लाइसेंस्ड थेरेपिस्ट द्वारा दी जाती है, जिनके पास यौन और रिलेशनशिप हेल्थ (relationship health) से संबंधित एडवांस्ड ट्रेनिंग होती है। वैसे तो सेक्स थेरेपी आम तौर पर सीमित अवधि के लिए होती है। हालांकि, ट्रीटमेंट प्लान स्थिति के अनुसार अलग हो सकता है।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

और पढ़ें : सेक्स मिस्टेक्स (sex mistakes) : यौन संबंध के समय जाने-अनजाने महिलाएं करती हैं ये 9 गलतियां

सेक्स थेरिपी क्यों ली जाती है?

चाहे आप मनोचिकित्सक, मनोवैज्ञानिक, मैरिज या सेक्स काउंसलर से मदद ले रहे हों, सेक्स थेरेपी कई तरह के शारीरिक और भावनात्मक मुद्दों पर काम कर सकती है। यह थेरिपी सेक्शुअल सैटिस्फैक्शन में समस्या पैदा करने वाली तमाम समस्याओं जैसे-स्तंभन दोष, कम कामेच्छा (low libido) आदि का उपचार कर सकती है। इस थेरिपी से, आप इस तरह के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं:

  • यौन इच्छा या उत्तेजना के बारे में चिंता
  • इम्पल्सिव या कंपल्सिव सेक्शुअल बेहेवियर
  • इरेक्टाइल फंक्शन (erectile function) से संबंधित समस्या
  • शीघ्र स्खलन या शीघ्रपतन (premature ejaculation)
  • कामोत्तेजना में कठिनाई आना
  • ऑर्गेज्म तक पहुंचने में दिक्क्त (एनोर्गेसिमिया)
  • सेक्स के दौरान दर्द (dyspareunia)
  • डिसेबिलिटी या क्रोनिक हेल्थ कंडीशन की वजह से इंटिमेसी में समस्या
  • बीते हुए समय में अवांछित यौन अनुभवों के बारे में चिंता

और पढ़ें : लेस्बियन सेक्स कैसे होता है? जानें शुरू से लेकर अंत तक

सेक्स थेरिपी के लिए जाने से पहले आपको क्या पता होना चाहिए?

जब आप सेक्स थेरिपी शुरू करने के लिए तैयार हों, तो इन पांच बातों को ध्यान में रखें।

कम्पेटिबिलिटी

सभी थेरेपिस्ट्स यूनिक होते हैं। सफल थेरेपी काफी हद तक इस बात पर निर्भर करती है कि आप अपने थेरेपिस्ट से कितनी अच्छी कम्युनिकेशन करते हैं। साथ ही आप उनके द्वारा दिए गए गाइडेंस पर कितना भरोसा करते हैं। इसलिए, अगर आप ट्रीटमेंट के दौरान किसी भी पॉइंट सेक्स थेरेपिस्ट के साथ कम्फर्टेबल महसूस नहीं करते हैं, तो आपको किसी दूसरे थेरेपिस्ट को ढूंढ़ना चाहिए।

नोट : याद रखें, प्रभावी सेक्स थेरिपी के लिए आपके चिकित्सक के साथ विश्वास और अच्छे संचार की आवश्यकता होती है। यदि आप अपने सेक्स थेरेपिस्ट के बारे में कम्फर्टेबल या भरोसेमंद नहीं हैं, तो थेरिपी सेशन में इन चिंताओं पर चर्चा करें।

और पढ़ें : युगल सेक्स के बारे में जानिये कुछ दिलचस्प और रोमांचक बातें

सोलो वर्सस कपल

आपको अपने पार्टनर को सेक्स थेरेपी सेशन में लाने की जरूरत नहीं है। कुछ व्यक्तियों के लिए, सोलो सेक्स थेरिपी ही यौन संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए पर्याप्त होती है। वहीं, कुछ कपल्स में थेरेपी सेशन के दौरान उनके पार्टनर की मौजूदगी से एक मजबूत रिलेशनशिप बनाने में मदद मिल सकती है। यदि आप साथी को शामिल करना चाहते हैं, तो उनसे पहले से ही पूछें।

और पढ़ें : ओरल सेक्स क्या है? युवाओं को क्यों है पसंद?

लॉजिस्टिक्स

सेक्स थेरेपिस्ट का चुनाव करते समय यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि थेरेपिस्ट का ऑफिस कहां लोकेट है और वहां पहुंचना आपके लिए कितना आसान है। क्योंकि आप लंच के समय, काम के बाद, या किसी भी दिन जब आप फ्री हों तो वहां आसनी से जा सकें। कुछ सेक्स थेरेपिस्ट टेलीहेल्थ सेशन भी देते हैं, इसलिए आप अपने घर में आराम से उनसे ऑनलाइन मदद ले सकते हैं। यह सुनिश्चित करें कि थेरेपिस्ट तक पहुंचना सुविधाजनक हो।

और पढ़ें : ये 7 बातें बताती हैं सेक्स की लत के शिकार हैं आप

ट्रीटमेंट प्लान

आपकी पहली अपॉइंटमेंट के दौरान, थेरेपिस्ट संभवतः आपको प्रारंभिक उपचार योजना के बारे में बताएं। अधिकांश लोगों और कपल्स के लिए, शुरुआत में कई सेशंस की आवश्यकता होती है। हालांकि, एक बार जब ट्रीटमेंट से स्थिति में अंतर आ जाता है और थेरेपिस्ट को लगता है कि आप भविष्य की चुनौतियों से निपट सकते हैं, तो वे सेशन को आगे ले जाते हैं।

और पढ़ें : जिंदगी भर बना रहेगा रोमांस, कपल्स अपनाएं बस ये 7 रोमांटिक बेडरूम टिप्स

इंसोरेंस और फीस

हर प्रकार का हेल्थ इंसोरेंस मनोचिकित्सा को कवर नहीं करता है। इसलिए, अपने अपॉइंटमेंट से पहले अपनी बीमा कंपनी के साथ इंसोरेंस डिटेल्स के बारे में पूछें। साथ ही आप थेरेपिस्ट से पूछें कि वे हर सेशन के लिए कितना चार्ज लेते हैं? आपको फीस पूरी एक साथ जमा करनी होगी या इंस्टॉलमेंट में। इस बारे में भी जानकारी लें।

अपॉइंटमेंट के दौरान बताएं ये बातें

थेरेपिस्ट से सेशन के दौरान ये सभी बातें अपने डॉक्टर से जरूर शेयर करें जैसे-

  • आपको यौन संबंधी समस्या कब शुरू हुई या हमेशा से ही मौजूद थी या कभी सेक्शुअल प्रॉबल्म महसूस होती है या कभी खुद ही समस्या दूर हो जाती है। इस बारे में पूरी डिटेल्स शेयर करें।
  • आपने पहले किसी डॉक्टर से इस बारे में मदद या उपचार लिया है, तो वह भी बताइए।
  • प्रमुख व्यक्तिगत जानकारी, जिसमें आपकी मेडिकल कंडीशन या हाल ही में हुआ कोई ट्रॉमा भी शामिल है।
  • सभी दवाएं जो आप ले रहे हैं, जिनमें ओवर-द-काउंटर ड्रग्स, विटामिन, अन्य सप्लीमेंट्स या हर्बल प्रोडक्ट्स के बारे में बताइए।
  • यौन चिंताओं के बारे में थेरेपिस्ट से प्रश्न पूछें।

एक फुलफिलिंग सेक्स लाइफ आपके स्वास्थ्य के लिए कई कारणों से महत्वपूर्ण है। हेल्दी सेक्स लाइफ के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं, जिनमें ब्लड प्रेशर कंट्रोल, बेहतर हार्ट हेल्थ और तनाव में कमी शामिल है। सेक्स जीवन का एक स्वाभाविक हिस्सा है। हालांकि, कुछ लोगों के लिए, सेक्स चिंता का एक सोर्स है। यौन रोग संबंधी जटिलताएं, आत्मविश्वास में कमी और कई अन्य नकारात्मक प्रभावों को जन्म दे सकती हैं। सेक्स थेरिपी एक इंटरगेटिव एप्रोच है जो अंतर्निहित समस्याओं का इलाज करने में मददगार साबित हो सकती है। ये समस्याएं शारीरिक और मानसिक दोनों ही हो सकती हैं। चिंता, तनाव और आत्मविश्वास की कमी जैसी मनोवैज्ञानिक चिंताएं भी इस थेरिपी से दूर हो सकती हैं।

उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। इससे जुड़ा यदि कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स के जरिए आप हमसे पूछ सकते हैं

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Treatment of Sexual Dysfunctions by Sex Therapy and Other Approaches. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/7496638/. Accessed On 01 July 2020

Mindfulness-Based Sex Therapy Improves Genital-Subjective Arousal Concordance in Women With Sexual Desire/Arousal Difficulties. https://link.springer.com/article/10.1007/s10508-015-0689-8. Accessed On 01 July 2020

The Future of Sex Therapy: Specialization or Marginalization?. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19495953/. Accessed On 01 July 2020

The Relative Health Benefits of Different Sexual Activities. https://www.jsm.jsexmed.org/article/S1743-6095(15)32977-5/fulltext. Accessed On 01 July 2020

Female Sexual Dysfunction: Therapeutic Options and Experimental Challenges. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3008577/. Accessed On 01 July 2020

लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड