home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Tinea Versicolor: टिनिया वेर्सिकोलोर क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और इलाज

टिनिया वेर्सिकोलोर क्या है?|टिनिया वेर्सिकोलोर के लक्षण क्या हैं?|किन कारणों से होता है टिनिया वेर्सिकोलोर?|किन कारणों से बढ़ सकती है टिनिया वेर्सिकोलोर की समस्या?|निदान और उपचार|टिनिया वेर्सिकोलोर होने पर जीवनशैली में क्या बदलाव करें और घरेलू नुस्खे क्या हैं जिससे इस परेशानी से बचा जा सकता है?
Tinea Versicolor: टिनिया वेर्सिकोलोर क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और इलाज

टिनिया वेर्सिकोलोर क्या है?

टिनिया वर्सिकोलर फंगस मलेसेजिया की वजह से होता है, इसकी वजह से त्वचा पर यीस्ट इंफेक्शन होता है। सामान्य भाषा में अगर इसे समझा जाए तो यह एक तरह का स्किन पर होने वाला फंगस है। वास्तव में मलेसेजिया जैसे यीस्ट और कई माइक्रोबायोटा (या सूक्ष्म जीव) आपको संक्रमण और अन्य बीमारियों से बचाने में भूमिका निभाते हैं।

कभी-कभी यीस्ट के जरूरत से ज्यादा बढ़ जाने की वजह से त्वचा की प्राकृतिक रंगों पर असर करती है। अगर ऐसा होता है तो त्वचा पर अंतर साफ समझा जा सकता है। इस बदलाव को टिरिआसिस वर्सिकोलर भी कहा जाता है।

ऐसी स्थिति तब होती है जब मलेसेजिया फैमली से किसी एक प्रकार का यीस्ट इंफेक्शन का कारण बनता है, ऐसे में व्यक्ति का इम्यून सिस्टम पर सबसे पहले असर पड़ता है।

कितना सामान्य है टिनिया वेर्सिकोलोर की समस्या?

टीनिया वेर्सिकोलोर किसी को भी हो सकता है। यह सबसे ज्यादा किशोरों और वयस्कों में होता है। वयस्कों में यह तब होने की संभावना ज्यादा होती है जब वह सबट्रॉपिकल क्लाइमेट जैसे एरिया के संपर्क में ज्यादा होता है। वैसे कारण जो भी हो डॉक्टर से सलाह लेकर इससे निजात पाया जा सकता है।

और पढ़ें : चारकोल फेस मास्क के फायदे : ब्लैकहेड्स की होगी छुट्टी तो निखरेगी त्वचा चुटकियों में

टिनिया वेर्सिकोलोर के लक्षण क्या हैं?

टिनिया वेर्सिकोलोर की समस्या होने पर इसे आसानी देखा जा सकता है और समझा जा सकता है। टिनिया वेर्सिकोलोर की वजह से स्किन पर खासकर सीने पर, गर्दन पर, पीठ और हाथों पर पैच नजर आते हैं। यह पैच ज्यादातर-

टिनिया वेर्सिकोलोर की समस्या अगर सावले रंग की त्वचा पर हो तो त्वचा का रंग हल्का पड़ने लगता है, जिसे हायपोपिगमेंटेशन कहा जाता है। लेकिन, कुछ लोगों में स्किन का कलर हल्का पड़ने की बजाए गहरे भी हो जाते हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हो सकते हैं, जिनके त्वचा पर कोई बदलाव न आए।

और पढ़ें: डायबिटीज के कारण इन अंगों में हो सकता है त्वचा संक्रमण

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

अगर आपको निम्नलिखित परेशानियों में से कोई भी है, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:

और पढ़ें : कालापन, दाग-धब्बों ने कर दिया चेहरे का बुरा हाल? परेशान न हों इस तरह के ट्रीटमेंट अपनाएं

किन कारणों से होता है टिनिया वेर्सिकोलोर?

टिनिया वर्सीकोलर का कारण तब होता है जब मलसेजिया त्वचा की सतह पर तेजी से और तेजी से बढ़ने लगता है। हालांकि ऐसा क्यों होता है, इसे डॉक्टर्स भी समझ नहीं पाते हैं। कुछ कारण हो सकते हैं, जिनकी वजह से टिनिया वेर्सिकोलोर की समस्या हो सकती है, उनमें शामिल है:

और पढ़ें: त्वचा संबंधी परेशानियों के लिए उपयोगी है नीम तेल

किन कारणों से बढ़ सकती है टिनिया वेर्सिकोलोर की समस्या?

कई कारण हो सकते हैं, जैसे:

और पढ़ें : त्वचा को चमकाने के लिए अब महंगे फेसपैक की जरूरत नहीं, अपनाएं ये नुस्खे

निदान और उपचार

दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

टिनिया वेर्सिकोलोर का निदान कैसे किया जाता है?

अगर डॉक्टर को संदेह है कि आप इस स्थिति का अनुभव कर रहें हैं, तो एक बॉडी चेकप की जाएगीन और कुछ प्रक्रिया अपना कर टिनिया वेर्सिकोलोर का पता लगा सकते हैं। माइक्रोस्कोप की मदद से सेल्स की जांच की जाती है और यीस्ट का पता लगाया जा सकता है। बीओप्सी या टिसू की जांच की जा सकती है। इससे स्थिति को समझना आसान हो जाता है। वुड्स लैंप की मदद से भी स्किन की जांच की जा सकती है। इसमें अल्ट्रावायोलेट किरणे होती हैं, जो यीस्ट होने पर स्किन का कलर पीला या हरा दिखाता है।

और पढ़ें : सुंदर त्वचा और गोरेपन के लिए अपना सकते हैं ये स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट्स

टिनिया वेर्सिकोलोर का इलाज कैसे किया जाता है?

आपकी स्थिति की गंभीरता को देखते हुए डॉक्टर इलाज शुरू करेंगे।

वैसे समस्या कम होने पर डॉक्टर आपको घर पर ही इसे कैसे ठीक किया जाए यह बता सकते हैं। इंफेक्शन से बचने के लिए ओटीसी एंटीफंगल क्रीम, शैम्पू या इंफेक्शन से बचने के लिए कोई और सुझाव आपको दी जा सकती है।

अगर परेशानी ज्यादा है तो डॉक्टर आपको क्रीम लगाने की सलाह दे सकते हैं, जिसका इस्तेमाल स्किन पर किया जाता है। डॉक्टर आपको दवा भी दे सकते हैं।

और पढ़ें : स्किन पॉलिशिंग के बारे में क्या नहीं जानते आप? इससे ऐसे त्वचा निखारें

टिनिया वेर्सिकोलोर होने पर जीवनशैली में क्या बदलाव करें और घरेलू नुस्खे क्या हैं जिससे इस परेशानी से बचा जा सकता है?

निम्नलिखित जीवनशैली और घरेलू उपचार आपको टिनिया वेर्सिकोलोर से निपटने में मदद कर सकते हैं:

इस आर्टिकल में हमने आपको टिनिया वेर्सिकोलोर से संबंधित जरूरी बातों को बताने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस बीमारी से जुड़े किसी अन्य सवाल का जवाब जानना है, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे। अपना ध्यान रखिए और स्वस्थ रहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

TINEA VERSICOLOR: DIAGNOSIS AND TREATMENT https://www.aad.org/diseases/a-z/tinea-versicolor-treatment#tips Accessed on 18/03/2017

Tinea (Pityriasis) Versicolor https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK482500/ Accessed on 18/03/2017

Pityriasis versicolor https://www.nhs.uk/conditions/pityriasis-versicolor/ Accessed on 06/12/2019

Tinea versicolor. https://medlineplus.gov/ency/article/001465.htm. Accessed on 1 September, 2020.

Pityriasis versicolor. https://www.nidirect.gov.uk/conditions/pityriasis-versicolor. Accessed on 1 September, 2020.

लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 01/09/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x