स्मोकिंग ही नहीं बल्कि प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स भी है खतरनाक

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रेग्नेंसी के दौरान एल्कोहॉल, धूम्रपान, कैफीन और कुछ विशेष तरह के फूड प्रोडक्ट्स का सेवन करना मना होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स भी बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। शायद आप नहीं जानते होंगे कि प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स से मेकअप करना भी नुकसानदायक साबित हो सकता है। इस बारे में दिल्ली के सर गंगा राम हॉस्पिटल के डर्मेटोलॉजिस्ट रोहित बत्रा ने हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए बताया कि, “स्किन पर लगाए जाने वाले कॉस्मेटिक्स में मौजूद इंग्रीडेंट्स ब्लड में अवशोषित हो सकते हैं। ये प्लेसेंटा (भ्रूण के लिए रक्षा कवच की तरह कार्य करता है) में पहुंचकर गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए प्रेग्नेंसी के समय मेकअप करते समय कुछ सावधानी बरतनी चाहिए।”

दरअसल प्रेग्नेंसी का समय बच्चे और मां के लिए बेहद संवेदनशील होता है। किसी भी चीज का असर गर्भ में पल रहे शिशु पर तुरंत होता है। इसी वजह से डॉक्टर्स, फूड हैबिट से लेकर काम करने के तरीकों तक में बदलाव की सलाह देते हैं। उसी तरह प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल में ऐतिहात बरतने को कहा जाता है। इनमें मौजूद केमिकल्स शिशु के विकास के लिए बाधक हो सकते हैं। जानते हैं प्रेग्नेंसी में कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स के उपयोग में सावधानी बरतनी चाहिए।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान वाॅटर ब्रेक होने पर क्या करें?

लिपस्टिक को कहें टाटा-बाय-बाय 

प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स जिनमें लिपस्टिक सबसे ऊपर है उसको भूल ही जाएं। लिपस्टिक, कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में सबसे टॉप पर आती है लेकिन, प्रेग्नेंट महिलाओं को इसके उपयोग से बचना चाहिए। दरअसल, लिप कलर को लंबे समय तक टिकाने के लिए लेड का उपयोग किया जाता है। लेड की कुछ मात्रा खाने-पीने के दौरान शरीर के अंदर जा सकती है और भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए, कोशिश करें कि लिपस्टिक लगाने से बचें या लिपस्टिक लगाना भी चाहती हैं तो लेड-फ्री लिपस्टिक लगाएं। प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में आप चाहें कितनी भी महंगी लिपस्टिक लगा ले इसमें लेड की मिलावट होती है जो बच्चे के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स करना सही या गलत?

एंटी-रिंकल क्रीम भी हो सकती है हानिकारक 

प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में महलाएं एंटी-रिंकल क्रीम का इस्तेमाल भी करती है। कुछ महिलाओं के दिमाग में एक बात होती है कि मां बनने का मतलब बढ़ती उम्र से है। इस सोच के साथ वह प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स का इस्तेाल करने लगती हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाएं एंटी-रिंकल क्रीम को भी ब्यूटी प्रोडक्ट्स में तवज्जो देती हैं। लेकिन, इन ब्यूटी क्रीमों को मार्केट से खरीदने से पहले इनमें मौजूद इंग्रीडेंट्स को जरूर देखें। कई रिंकल क्रीम में रेटिनॉल पाया जाता है, जिससे शिशु में जन्मदोष हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान किसी तरह की एंटी-रिंकल क्रीम का उपयोग करना चाहती हैं तो उसे क्रीम में शामिल इंग्रीडेंट्स की चर्चा डॉक्टर से जरूर करें। प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स को इस्तेमाल करने को लेकर अगर आप किसी सवाल से परेशान हैं तो अपने डॉक्टर से बाते करें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें :  35 की उम्र में कर रहीं हैं प्रेग्नेंसी प्लानिंग तो हो सकते हैं ये रिस्क

प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स जैसे कि सनस्क्रीन से बचें 

त्वचा को धूप से बचाने के लिए अमूमन महिलाएं सनस्क्रीन का इस्तेमाल करती हैं। मगर, कुछ सनस्क्रीन लोशन में रेटिनल पाल्मिटेट और विटामिन ए पाल्मिटेट जैसे तत्व होते हैं, जिनसे भ्रूण के विकास में समस्या आ सकती है। हालांकि, प्रेग्नेंसी के समय में हार्मोनल चेंजेस के चलते स्किन धूप के प्रति काफी सेंसिटिव हो सकती है इसलिए, धूप में बाहर निकलें तो फेस को ढंक कर रखें। इसके अलावा, नॉन-केमिकल सनस्क्रीन का उपयोग करें। हो सके तो सुबह 10 बजे से दोपहर दो बजे के बीच घर से बाहर निकलना इग्नोर करें। ऐसे सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें, जिनमें जिंक ऑक्साइड और टाइटेनियम डाइऑक्साइड मौजूद हों। ये तत्व त्वचा में अवशोषित नहीं होते हैं। प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में सनस्क्रीन का इस्तेमाल कम करें और हो सके तो प्रेग्नेंसी के दौरान इसका इस्तेमाल बिल्कुल न करें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी टेस्ट किट से मिले नतीजे कितने सही या गलत?

नो हेयर कलर 

गर्भवती महिलाओं पर हेयर डाई के प्रभावों पर अभी पर्याप्त रिसर्च नहीं हैं, इसलिए कुछ डॉक्टर इनसे बचने की सलाह देते हैं। कुछ डॉक्टर्स मानते हैं कि हेयर कलर की छोटी मात्रा ही स्किन में अवशोषित होती है, जिससे शिशु को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। वहीं, अगर हेयर हाइलाइट्स का उपयोग स्कैल्प पर न किया जाए, तो इसका प्रभाव शिशु पर नहीं पड़ता है। सामान्यतौर पर, अमोनियायुक्त हेयर डाई और अन्य उपचारों से बचना चाहिए क्योंकि उसकी गंध से मतली हो सकती है। प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स की कड़ी में हेयर कलर भी है, कई महिलाओं को इस दौरान खुद में कई बदलाव देखने का मन होता है। कुछ महिलाएं इसके लिए हेयर कलर का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स से बचना चाहिए खासकर हेयर कलर से।

और पढ़ें : तो इस वजह से पैदा होते हैं, जुड़वां बच्चे

ऐसे नेल पेंट्स का न करें उपयोग 

प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में आप नेल पेंट का उपयोग करती होंगी। लेकिन शायद आप नहीं जानती हैं कि प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल आपके साथ आपके होने वाले बच्चे को भी नुकसान पहुंचा सकता है। गर्भावस्था के दौरान थैलेट के संपर्क में आने से बचना चाहिए। दरअसल, हेयर स्प्रे और नेल पेंट्स में थैलेट नाम का केमिकल होता है जिससे शिशु में जन्मदोष की संभावना बढ़ सकती है। किसी भी तरह के बुरे प्रभाव से बचने के लिए थैलेट-फ्री पॉलिश का इस्तेमाल करें और हेयरस्प्रे के बजाय हेयर जेल या हेयर मूज का उपयोग करें।

प्रेग्नेंसी के दौरान बहुत ज्यादा खुशबू वाले परफ्यूम और डिओ जैसे प्रोडक्ट्स से बचना चाहिए। इनका इस्तेमाल कम से कम करें तो बेहतर होगा। ज्यादातर डिओ और परफ्यूम्स में नुकसानदेह केमिकल्स होते हैं। इनके इस्तेमाल से ये हानिकारक केमिकल्स त्वचा में प्रवेश करके होने वाले शिशु को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि गर्भावस्था के दौरान आपको खूबसूरत दिखने का हक नहीं है। बस गर्भवती महिलाएं किसी भी तरह के कॉस्मेटिक्स को इस्तेमाल में लाने से पहले, डॉक्टर से जरूर सलाह लें और ब्यूटी प्रोडक्ट्स खरीदते समय उसके इंग्रीडेंट्स को जरूर चेक करें। प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स को ज्यादा से ज्यादा अवॉयड करें और किसी भी तरह की कंफ्यूजन के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और प्रेग्नेंसी में कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग (Implantation Bleeding) क्या होती है?

इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग कैसा होता है? रेगुलर पीरियड और इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग के बीच अंतर.. इम्प्लांटेशन के बाद होने वाला रक्तस्राव को ऐसे समझें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जनवरी 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

बर्थ प्लान करते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान

बर्थ प्लान in hindi. डिलिवरी के पहले शिशु और डिलिवरी से जुड़ी तैयारियों को करना बर्थ प्लान कहा जाता है। कोई भी काम एडवांस प्लानिंग से किया जाए तो उसके अच्छी तरह से पूरे होने की संभावना ज्यादा रहती है। जानिए birth plan में किन-किन चीजों को शामिल करना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड गर्भावस्था को प्रभावित करता है?

कई महिलाएं बहुत कोशिश के बाद भी गर्भधारण नहीं कर पाती हैं जिसकी वजह इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड हो सकता है। हालांकि समय पर इलाज करवाने पर प्रेग्नेंसी संभव है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh

बार-बार मिसकैरिज होने का कारण जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल

बार-बार मिसकैरिज होने का कारण एक नहीं बल्कि कई हो सकते हैं। जानिए कौन से हैं वे कारण? reason of recurrent miscarriage जानने के लिए ये आर्टिकल पढ़ें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

माइक्रोब्लेडिंग

क्या है पतली आईब्रो को माइक्रोब्लेडिंग कर मोटा करने की प्रक्रिया, जाने पूरी जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ मई 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
बोटोक्स गाइड

बोटोक्स गाइड: जानिए चेहरे को जवां बनाने वाली इस तकनीक के बारे में सबकुछ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था के दौरान डेंगू: ऐसे में क्या बरतें सावधानी? 

गर्भावस्था के दौरान डेंगू: ऐसे में क्या बरतें सावधानी? 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
हानिकारक-बेबी-प्रोडक्ट्स-क्या-हैं?

हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स से बच्चों को हो सकता है नुकसान, जाने कैसे?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ अप्रैल 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें