home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

क्या आपकी स्लीपिंग पुजिशन सही है? जानें सेहत पर क्या होता है असर

क्या आपकी स्लीपिंग पुजिशन सही है? जानें सेहत पर क्या होता है असर

बेहतर सेहत के लिए नींद का पूरा होना बेहद जरूरी है। लेकिन क्या सिर्फ सोने से ही सेहत दुरुस्त रहती है? नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) के रिसर्च के अनुसार, स्लीपिंग पुजिशन गर्दन और कंधे के लिए जरूरी है और यह मस्कुलोस्केलेटल (Musculoskeletal) दर्द नहीं होने में मदद करती है।

स्लीपिंग पुजिशन (Sleeping position) सीधे तौर से शरीर और चेहरे को प्रभावित करता है। ऐसा भी हो सकता है कि जो स्लीपिंग पुजिशन सबसे आरामदायक लगे, वह सेहत के लिए ठीक न हो। ऐसी स्थिति में शरीर, गर्दन या कंधे में दर्द की परेशानी शुरू कर सकता है। ठीक से नहीं सोने की वजह से स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) होने का खतरा भी बढ़ जाती है।

और पढ़ें : जानें क्या है गहरी नींद की परिभाषा, इस तरह से पाएं गहरी नींद और रहें हेल्दी

बेस्ट स्लीपिंग पुजिशन क्या है? (What is best Sleeping position?)

स्लीपिंग पुजिशन-Sleeping position

पीठ के बल सोना है फायदेमंद

पीठ के बल सोना एक आदर्श स्लीपिंग पुजिशन है। सबसे पहले, तो यह स्किन (त्वचा) पर प्रेशर नहीं डालता, जिससे फाइन लाइंस, स्किन फ्लैटनिंग जैसी त्वचा संबंधी (Skin problem) समस्याएं कम होती हैं और त्वचा सॉफ्ट बनी रहती है। इसके अलावा, इस स्लीपिंग पुजिशन (Sleeping position) में तकिए के कवर से फेस टच नहीं होता, जिससे ऑयल और गंदगी चेहरे तक नहीं पहुंचती। ऐसे में, स्किन और फेस के लिए पीठ के बल सोना फायदेमंद हो सकता है।

और पढ़ें : नींद न आने की समस्या से हैं परेशान तो आजमाएं ये 6 नेचुरल तरीके

बाईं ओर करवट ले कर सोने के फायदे

बाईं ओर करवट सोने से ब्लड सर्क्युलेशन ठीक से होता है और यह पुजिशन दिल के लिए अच्छी होता है। प्रेग्नेंट महिलाओं (Pregnant women) को भी बाईं करवट सोने की सलाह दी जाती है। इस स्लीपिंग पुजिशन (Sleeping position) में ब्लड सर्कुलेशन (Blood Circulation) ठीक होने की वजह से गर्भ में पल रहे बच्चे को सही और पूरा पोषण मिलने में आसानी होती है।

गर्भस्थ शिशु की तरह सोना

स्लीपिंग पुजिशन-sleeping position

फीटल यानी कि गर्भस्थ शिशु की तरह सोने में 41 फिसदी लोग माहिर हैं। नेशनल स्लीप फाउंडेशन के अनुसार इस स्लीपिंग पुजिशन में सोने के बहुत सारे फायदे हैं। फीटल स्लीपिंग पुजिशन (Sleeping position) में सोने से न सिर्फ लोवर बैक पेन से राहत मिलती है, बल्कि प्रेगनेंट महिलाओं को भी लाभ मिलता है। लेकिन फीटल स्लीपिंग पुजिशन में सोने के कुछ नुकसान भी हैं। अगर आपको जोड़ों का दर्द है तो आप इस स्लीपिंग पुजिशन में कतई न सोएं। वरना सुबह उठने के बाद आपके जोड़ों में जकड़न हो जाएगी।

फीटल स्लीपिंग पुजिशन में सोने के लिए आपको अपने आपको ढीला और रिलैक्स मुद्रा में रखना होगा। अपने पैरों को फैला कर सोएं और हो सके तो घुटनों के बीच में तकिया रखें।

और पढ़ें : रातों की नींद और दिन का चैन उड़ाने में माहिर है रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम(Restless Leg Syndrome)!

पेट के बल सोना है नुकसानदायक

स्लीपिंग पुजिशन-sleeping position

पेट के बल सोने का सबसे बुरा प्रभाव पड़ता है गर्दन पर। इससे गर्दन की मांसपेशियों में खिंचाव आ जाता है। पेट के बल सोने से डायजेशन (Digestion) की समस्या भी शुरू हो सकती है। ज्यादा देर तक पेट के बल लेटने से बॉडी के ऊपरी हिस्से पर ज्यादा जोड़ पड़ने लगता है, जो सेहत के लिए ठीक नहीं माना जाता है। पेट के बल सोने से फेस का पूरा दबाव तकिए पर होता है, जिससे त्वचा के रोम छिद्र बंद हो सकते हैं। बंद रोम छिद्र के कारण पिंपल और स्किन संबंधी कई समस्याएं हो शुरू हो सकती हैं। आपका चेहरा हर रात करीब सात से आठ घंटे दबा रहने के कारण त्वचा पर भी दबाव पड़ता है। यह आपके फेस को फ्लैट बनाता है। इससे त्वचा पर झुर्रियां (Wrinkles) भी पड़ सकती हैं। इन सबसे बचने के लिए इस पुजिशन में सोने से परहेज करना चाहिए।

डॉक्टर्स के अनुसार, हर दिन सात से नौ घंटे सोना हमारे शरीर की थकावट दूर करने और मस्तिष्क के सही तरीके से काम करने के लिए जरूरी है। इसलिए, अच्छी नींद के साथ-साथ सोने की स्थिति में सुधार कर शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है।

और पढ़ें : रातों की अच्छी नींद के लिए भी जरूरी है हाइड्रेशन

बेली स्लीपिंग पुजिशन : फ्रीफाल

लगभग 7% लोग फ्रीफाल स्लीपिंग पुजिशन में सोते हैं। जिसमें आप पेट के बल सोने के साथ ही अपने हाथ को तकिए के आसपास फैला कर रखते हैं। इससे आपके चेहरे पर सिर का पूरा भार पड़ता है, जिससे आपके चेहरे की त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। लेकिन कुछ रिसर्च का मानना है कि फ्रीफाल स्लीपिंग पुजिशन में सोने वाले लोग बहुत बेबाक किस्म के होते हैं। इसके अलावा वह काफी सामाजिक व्यक्तित्व के होते हैं।

स्पूनिंग स्लीपिंग पुजिशन

स्लीपिंग पुजिशन-sleeping position

स्पून स्लीपिंग पुजिशन एक लव पुजिशन है। इसमें आप अपने पार्टनर को पकड़ कर सोते हैं। हालांकि इस स्लीपिंग पुजिशन में सोने से आपकी नींद कई बार खुल सकती है। लेकिन आपके सेहत के लिए ये एक अच्छी पुजिशन है। इस पुजिशन में सोने से आपके शरीर में ऑक्सीटोसीन हॉर्मोन स्रावित होता है। जो आपके स्ट्रेस को कम करता है और पार्टनर के साथ प्यार को बढ़ाता है। साथ ही आपको जल्दी नींद आने में भी मदद करता है

और पढ़ें : सिर्फ प्यार में नींद और चैन नहीं खोता, हर उम्र में हो सकती है ये बीमारी

अच्छी नींद के लिए टिप्स (Tips for sound sleep)

  • सुबह-सुबह वर्कआउट करने से आपको एनर्जेटिक महसूस होगा और दिन भर खुद को तरोताजा रखने में मदद मिलेगी
  • अपने सोने के समय को तय कर लें। कम से कम आठ से नौ घंटे की नींद लें। आप कोशिश करें कि रात में लगभग 10 बजे तक बिस्तर पर सोने चले जाएं। वहीं, सुबह 6 बजे उठने की कोशिश करें। इससे आपकी स्लीपिंग साइकिल नियंत्रित रहेगी।
  • आप अपने रात के भोजन और सोने में लगभग डेढ़ से दो घंटे का अंतर रखें। साथ ही रात में हैवी डिनर करने से बचें। हो सके तो कुछ हल्का खाएं, जैसे- सलाद, स्प्राउट आदि।
  • बिस्तर पर जाने के बाद टीवी या मोबाइल का इस्तेमाल न करें।
  • बड़ों को लगभग सात से आठ घंटे सोना चाहिए।
  • दोपहर में दो घंटे से ज्यादा की नींद नहीं लेनी चाहिए।
  • रात में अगर आप देर से भी सो रहे हैं तो भी 12 बजे तक सोने की पूरी कोशिश करें। क्योंकि ये आगे चल कर डिप्रेशन का कारण बनता है।
  • शाम को पांच बजे के बाद चाय या कॉफी न पिएं करें।चाय या कॉफी में मौजूद कैफीन शरीर को नींद लेने नहीं देता है। जिसके कारण आपको नींद में कमी की शिकायत हो सकती है।
  • यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास के रिसर्च में पाया गया है कि सोने से लगभग एक या दो घंटे पहले गरम पानी से नहाने के कारण आपके शरीर का तापमान (Body temperature) नियंत्रित रहता है, जिससे आपको हेल्दी स्लीप आती है। वहीं, नेशनल स्लीप फाउंडेशन की रिपोर्ट के मुताबिक सोने से पहले नहाने से आपकी त्वचा हेल्दी रहती है। अगर सोने से पहले आप अपनी त्वचा को साफ नहीं करते हैं तो वो लंबे समय तक बैक्टीरिया से संक्रमित रहती है। जिसके कारण इंफेक्शन, जलन और खुजली हो सकती है।

और पढ़ें : ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

सही स्लीपिंग पुजिशन और पूरी नींद न लेने से जिंदगी पर इसका सीधा असर पड़ता है। इसलिए हेल्दी लाइफ के लिए सही समय पर बेड पर जाएं और सुबह पूरी ताजगी के साथ उठें। क्योंकि आपको अभी बहुत कुछ करना है और पूरा दिन सिर्फ आपका है।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What’s The Best Position To Sleep In? [Infographic]/https://www.sleepadvisor.org/best-sleeping-positions/#:~:text=Generally%20speaking%2C%20the%20recommended%20position,to%20reduce%20strain%20and%20pressure./Accessed on 15/03/2021

What Is the Best Sleeping Position for Restful Sleep?/https://www.sleep.org/best-sleep-position/Accessed on 15/03/2021

Choosing the Best Sleep Position/https://www.hopkinsmedicine.org/health/wellness-and-prevention/choosing-the-best-sleep-position/Accessed on 15/03/2021

Assessment of Infant Sleeping Position — Selected States, 1996/https://www.cdc.gov/mmwr/preview/mmwrhtml/00055312.htm/Accessed on 15/03/2021

The Best Sleep Position for Your Body https://www.sleep.org/articles/best-sleep-position/ Accessed on 05/12/2019

 

 

 

 

 

लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/04/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड