Blood Type Diet: ब्लड टाइप डायट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

फिट रहने के लिए लोग अलग-अलग डायट को फॉलो करते हैं। कोई कीटो डायट कर रहा है तो कोई क्रैश डायट का सहारा लेता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारे शरीर को कौन सी खाने की चीजें सूट करेंगी यह हमारे बल्ड ग्रुप पर भी निर्भर करता है। जी हां, ब्लड ग्रुप और डायट का गहरा नाता है। ब्लड ग्रुप के अनुसार शरीर की जरूरतें भी अलग-अलग होती हैं।

ब्लड ग्रुप के मुताबिक खाना खाने के कॉन्सेप्ट को डायट गुरू डॉक्टर पीटर डी अडामो ने डेवलप किया था। यदि आप अपने ब्लड टाइप के अनुसार अपनी डायट फॉलो करते हैं तो आपका शरीर ज्यादा अच्छे से खाने को डायजेस्ट कर पाता है। ऐसे में यदि अपने ब्लड ग्रुप को ध्यान में रखते हुए कोई डायट प्लान फॉलो करते हैं, तो आप न सिर्फ फिट एंड हेल्दी रह सकते हैं, बल्कि कई बीमारियों से खुद को दूर रख सकते हैं। इसे ब्लड टाइप डायट कहते हैं। आइए जानते हैं ब्लड टाइप डायट के बारे में…

यह भी पढ़ें: वेट गेन डायट प्लान से जानें क्या है खाना और क्या है अवॉयड करना?

ब्लड टाइप डायट (Blood Type Diet) कैसे मददगार साबित होती है? 

हमारे डायजेशन और इम्यूनिटी पावर ब्लड ग्रुप पर निर्भर करता है। ब्लड ग्रुप के हिसाब से खाना खाने पर हमारा शरीर अच्छे से खाने को डायजेस्ट कर पाता है। साथ ही इससे ज्यादा एनर्जी मिलती है और इम्यूनिटी पावर भी बढ़ती है। ब्लड ग्रुप के अनुसार डायट अपनाने से शरीर में एक्सट्रा फैट जमा नहीं होता। एक रिसर्च के अनुसाक ‘O’ ब्लड ग्रुप के लोगों को बुखार, एलर्जी, एक्जिमा जैसी परेशानियों के होने की संभावना अधिक होती है। वहीं ‘AB’ ब्लड ग्रुप वाले लोगों को हृदय रोग, कैंसर, एनीमिया होने की आशंका ज्यादा होती है। ब्लड टाइप डायट को फॉलो कर इन बीमारियों के खतरे को टाला जा सकता है।

कैसे काम करती है ब्लड टाइप डायट (Blood Type Diet)?

जब हम खाना खाते हैं तो हमारे ब्लड में एक तरह का मेटाबॉलिक प्रॉसेस होता है। हमारे खाने में मौजूद लेक्टिंस नामक और ब्लड में मौजूद एंटीजन के आपस में प्रतिक्रिया के कारण ऐसा होता है। हर ब्लड ग्रुप का अलग एंटीजन बनता है। जो हमारे स्वास्थ्य पर सीधा असर डाल सकता है। हम सभी की पाचन और रोग प्रतिरोधक क्षमता हमारे ब्लड ग्रुप पर निर्भर करती है। अगर ब्लड टाइप डायट चार्ट तैयार करें तो यह सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।

यह भी पढ़ें: तीसरी तिमाही की डायट में महिलाएं इन चीजों को करें शामिल

ब्लड ग्रुप के हिसाब से कौन सी है बेस्ट ब्लड टाइप डायट?

‘A’ ब्लड ग्रुप के लिए डायट (A Positive / Negative Blood Group Diet)

‘A’ ब्लड ग्रुप वालों को डायट पर खास ध्यान देने की जरूरत होती है। इन लोगों का शाकाहारी होना ज्यादा अच्छा रहता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इनकी पाचन शक्ति दूसरे ब्लड ग्रुप वालों की अपेक्षा कमजोर होती है। यही कारण है कि ये लोग नॉन वेज या कोई हैवी फूड को आसानी से डायजेस्ट नहीं कर पाते हैं। इन लोगों को अक्सर एसिडिटी का सामना करना पड़ता है। इन लोगों के लिए बेहतर होगा कि ये सब्जियां और फलों का सेवन करें। प्रोटीन के लिए ये लोग बीन्स, सोया ब्रेड या सोया रोटी का सेवन कर सकते हैं। इन लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है जिस वजह से इन्हें मीट की जगह मछली का सेवन करना चाहिए। इन्हें पपीता, संतरा और आम को कम से कम खाना चाहिए। ये लोग मीट, डेयरी प्रोडक्ट्स और राजमा का सेवन नहीं करना चाहिए। इस तरह वे ब्लड टाइप डायट को अपना सकते हैं।

‘B’ ब्लड ग्रुप के लिए डाइट (B Positive / Negative Blood Group Diet)

खाने पीने के मामले में इस ब्लड ग्रुप के लोग सबसे भाग्यशाली होते हैं। इन लोगों को खाने पीने की चीजों में कोई खास परहेज करने की जरूरत नहीं होती है। इन्हें स्वस्थ रहने के लिए संतुलित आहार लेने की जरूरत है। इनके लिए फल लाभदायक हैं। यदि आप वेज है तो डायट में हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें। नॉन वेज हो ते मटन और मछली खा सकते हैं। इन लोगों को चिकन का सेवन कम करना चाहिए। इसके अलावा ये लोग गेहूं, मक्का, दाल, टमाटर और कुछ अन्य खाद्य पदार्थों से परहेज करें। इनके लिए यही ब्लड टाइप डायट होगी।

यह भी पढ़ें: उम्र के हिसाब से जरूरी है महिलाओं के लिए हेल्दी डायट

‘O’ ब्लड ग्रुप के लिए डायट (O Positive / Negative Blood Group Diet)

इन लोगों का मेटाबॉलिज्म काफी मजबूत होता है। इन लोगों को मौसमी बीमारियों और वायरस का खतरा बहुत कम होता है, लेकिन इनको ब्लड शुगर और एलर्जी की परेशानी हो सकती है। इन्हें प्रोटीन से भरपूर चीजों का सेवन करना चाहिए। जैसे मीट, मछली, चिकन, अंडे इनके लिए फायदेमंद हो सकते हैं। ये लोग अपने खाने में पत्तेदार सब्जियों को भी शामिल कर सकते हैं। इन लोगों को दाल और राजमा का सेवन करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि यह इंसुलिन प्रोडक्शन को प्रभावित करता है। इनके लिए स्विमिंग, वॉकिंग और रनिंग करना भी बेहद फायदेमंद होता है। ओ ब्लड ग्रुप वाले डेयरी प्रोडक्ट्स से भी परहेज करें। ड्रायफ्रूट का अधिक सेवन इनके लिए अच्छा नहीं है। इस तरह ये लोग ब्लड टाइप डायट फॉलो कर सकते हैं।

‘AB’ ब्लड ग्रुप के लिए डायट (AB Positive / Negative Blood Group Diet)

इस ब्लड ग्रुप वाले लोगों के लिए ‘A’ और ‘B’ दोनों ब्लड ग्रुप वाले लोगों की डायट फायदेमंद होती है। इनका डायजेस्टिव सिस्टम स्लो और इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है। इस ब्लड ग्रुप के लोग अपनी डायट में सी फूड, डेयरी प्रोडक्ट्स, फल, साग सब्जी, टोफू और मांस शामिल कर सकते हैं। इस ब्लड ग्रुप वाले लोगों को राजमा, कॉर्न, चिकन, रेड मीट और बीन्स बहुत ही कम खाना चाहिए या हो सके तो न ही खाएं। इस तरह ही ब्लड टाइप डायट से इन्हें फायदा होगा।

यह भी पढ़ें: दूसरी तिमाही की डायट में इतनी होनी चाहिए पोषक तत्वों की मात्रा

क्या ब्लड टाइप डायट (Blood Type Diet) प्लान सुरक्षित है? 

यदि आपको कोई मेडिकल कंडिशन नहीं है तो आप अपने चिकित्सक से बात करने के बाद इसे फॉलो कर सकते हैं। जैसे यदि आपको मधुमेह की परेशानी है और आपको आपके ब्लड टाइप डायट के  मुताबिक उच्च प्रोटीन लेने की सलाह दी जा सकती है, लेकिन मधुमेह वाले लोगों को डेयरी या चिकन से परहेज करना होता है। तो ऐसे में यह डायट आपके ट्रीटमेंट में परेशानी खड़ी कर सकती है।

यह लेख सामान्य जानकारी के लिए है। आप किसी भी डायट को फॉलो करने से पहले इसकी अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइसइलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

Subungual Hematoma: सबंगुअल हेमाटोमा क्या है?

कमल ककड़ी के इन फायदों के बारे में जानकर चौंक जाएंगे आप, जल्दी से डायट में करें शामिल

ऐल्कलाइन डायट (Alkaline diet) क्या है? फॉलो करने से पहले जान लें इसके फायदे और नुकसान

इंटरनेशनल एपिलेस्पी डे: मिर्गी के इलाज में कीटो डायट कर सकती है मदद, ऐसा होना चाहिए मरीज का खान-पान

कीटो डायट से जुड़े अहम सवाल के जवाब जानने के लिए खेलें क्विज

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चों के लिए घी : कब और कैसे दें, जानें बच्चों को घी खिलाने के फायदे

बच्चे के लिए घी आहार में शामिल करने से उसे कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। शिशु के आहार में घी का कैसे उपयोग करें। Desi ghee for children in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग मई 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

30 प्लस वीमेन डायट प्लान में होने चाहिए ये फूड्स, एनर्जी रहेगी हमेशा फुल

30 के बाद की महिलाओं में कदम दर कदम लाईफस्टाईल और हेल्थ सिचुएशन में भारी बदलाव होता रहता है। 30 प्लस वीमेन डायट प्लान कैसा हो? 30 प्लस वुमन का हेल्दी डाइट चार्ट,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
महिलाओं का स्वास्थ्य, स्वस्थ जीवन अप्रैल 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वॉल्यूमेट्रिक डायट प्लान अपनाएं, खूब खाकर वजन घटाएं

वॉल्यूमेट्रिक डायट प्लान क्या है, वॉल्यूमेट्रिक डायट चार्ट इन हिंदी, वॉल्यूमेट्रिक डायट प्लान के फायदे और नुकसान क्या हैं, volumetric diet plan in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

नहीं सुनपाने वाले लोगों के जीने की उम्मीद है साइन लैंग्वेज, जानें कब सिर्फ इशारे ही आते हैं काम

साइन लैंग्वेज क्या होती है, Sign Language in hindi, साइन लैंग्वेज कैसे समझें,World Hearing Day 2020 ishaaron mein kaise baat karein, इशारों में कैसे बात करें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मार्च 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पितृ पक्ष डायट तामसिक भोजन सात्विक भोजन

तामसिक छोड़ अपनाएं सात्विक आहार, जानें पितृ पक्ष डायट में क्या खाएं और क्या नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 31, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
स्वस्थ रहने के नियम

विशेष स्थिति के लिए आहार भी हो विशेष, ऐसा कहना हैं एक्सपर्ट का

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
क्रेविंग्स

क्रेविंग्स और भूख लगने में होता है अंतर, ऐसे कम करें अपनी क्रेविंग्स को

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
स्वस्थ आहार का महत्व

जानें हेल्दी लाइफ के लिए आपका क्या खाना जरूरी है और क्या नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें