ज्वार के फायदे: कब्ज और ह्रदय रोग वालों के लिए वरदान है ज्वार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आप ​कब्ज की समस्या से परेशान हैं? इससे राहत पाना चाहते हैं। अगर हां, तो आप ज्वार का सेवन शुरू कर दें। ज्वार का सेवन आज भी कई भारतीय रसोई में किया जा सकता है। ​अधिकतर लोग ज्वार का सेवन रोटी के रूप में करते हैं। इसमें प्रोटीन की उच्च मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा, इसमें फाइबर जैसे और भी कई पोषक तत्व उपलब्ध हैं। यह दिल और मधुमेह के रोगियों के लिए रामबाण है। इसका उपयोग कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से भी बचने के लिए किया जा सकता है। ऐसे ही कई और भी ज्वार के फायदे हैं जो “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में बताए जा रहे हैं-

और पढ़ें: विटामिन-सी कितना फायदेमंद, जानिए पूरा ज्ञान

आइए जानते हैं ज्वार के फायदे (Health Benefits of Jowar)

ज्वार में मौजूद पोषक तत्व से शरीर को कई फायदे पहुंचाते हैंज्वार के फायदे इस प्रकार हैं-

1. ज्वार के फायदे : पाचन क्रिया के लि​ए लाभदायक है (Beneficial for digestion)

ज्वार (Sorghum) में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो पाचन तंत्र की कार्यक्षमता में सुधार करता है। इसके एक बार सेवन से हमें पूरे दिन का करीब 48% फाइबर मिल जाता है जो 12 ग्राम से अधिक होता है। डाइट्री फाइबर एक एजेंट है, जो शरीर में पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में अपना योगदान देता है। ज्वार के फायदे के तौर पर इसमें डाइट्री फाइबर में उच्च होने के कारण पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। इसके अलावा गैस, दस्त, सूजन, कब्ज और पेट दर्द जैसी स्थितियों के उपचार के तौर पर भी फायदेमंद है। 

2. स्वस्थ हृदय के लिए ज्वार के फायदे (Beneficial for Healthy heart)

जैसा कि हम ये जान चुके हैं कि ज्वार (Sorghum) उच्च मात्रा में फाइबर (fiber) से भरपूर होता है। ये फाइबर शरीर से एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल को निंत्रित करने के साथ हार्ट अटैक, स्ट्रोक और ह्रदय रोग जैसी स्थितियों के जोखिम के खतरे को कम करता है। 

3.  ग्लूटेन फ्री ज्वार के फायदे अनमोल (Benefits of gluten free sorghum)

हेल्दी डाइट के लिए आजकल लोग ग्लूटेन फ्री डाइट (gluten free diet) फॉलो कर रहे हैं। इस डाइट के अंतर्गत आप ज्वार का भी सेवन कर सकते हैं। ग्लूटेन एक तरह का प्रोटीन है, जोकि कई बार बीमारियों के बढ़ने का कारण बन सकता है। सीलिएक रोग (Celiac disease) एक ऐसी ही बीमारी है, जिसमें ग्लूटेन (gluten) का सेवन करने वाले रोगी का जीवन और भी कठिन हो जाता है। ज्वार में ग्लूटेन की मात्रा लगभग न के बराबर होती है। तो यदि आप सीलिएक रोग (Celiac disease) से पीड़ित हैं तो ज्वार का सेवन आप बिना चिंता के  कर सकते हैं। 

और पढ़ें: रेड वाइन पीना क्या बना सकता है हेल्दी, जानिए इसके हेल्थ बेनीफिट्स

4. ज्वार के फायदे : हड्डियों को मजबूत बनाता है ज्वार (Make bones stronger)

मैग्नीशियम ज्वार में पाए जाने वाले मुख्य पोषक तत्वों में से एक है, जो कि शरीर में कैल्शियम एब्जॉर्व करने का काम करता है। इससे हड्डियां मजबूत और सेहतमंद बनी रहती है। कैल्शियम और मैग्नीशियम (magnesium) हड्डियों के विकास में मुख्य भूमिका निभाते हैं। इसी के साथ बढ़ती उम्र के साथ कमोर हो रही ​हड्डियों की मजबूती बनाए रखने में मदद करते हैं। 

5. ज्वार के फायदे : भरपूर ऊर्जा का स्रोत है ज्वार (Source of energy)

ज्वार में नियासिन होता है, जिसे विटामिन बी3 के नाम से भी जाना जाता है। जो कि शरीर में भोजन और पोषक तत्वों को पचाकर ऊर्जा में बदलने का कार्य करता है। ये पूरे दिन शरीर में ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने में मददगार है।

और पढ़ें : क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk Intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

6. ज्वार के फायदे : कैंसर से बचाव में लाभदायक (Cancer Prevention)

2018 में हुई एक रिसर्च से पता चलता है कि पॉलीफेनोल से भरपूर ज्वार (Sorghum) के चोकर में एंटी-कैंसर गुण होते हैं। ये प्रॉपर्टीज स्तन कैंसर (breast cancer) को रोकने में मददगार होते हैं। इसमें मौजूद तत्व शरीर में स्वस्थ कोशिकाओं को कैंसर कोशिकाओं में उत्परिवर्तित करते हैं।

7. ज्वार के फायदे : मूड को बेहतर बनाने में मदद करता है (Improv mood)

ज्वार में विटामिन बी6 होता है। यह बॉडी में न्यूरोट्रांसमीटर को रिलीज करने के लिए जरूरी होता है, जिसे गाबा (गामा-अमीनोब्यूट्रिक एसिड) कहा जाता है। जीएबीए के बढ़ने से मूड में सुधार, एकाग्रता, तनाव में कमी और डिप्रेशन का खतरा कम हो सकता है।

और पढ़ें: पढ़ें मखाना खाने के फायदे, शायद नहीं होगा पता

ज्वार के नुकसान (Side effects of Jowar)

ज्वार के फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं। वैसे तो ज्वार का सेवन करने के किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होती है। लेकिन, इसमें कुछ खनिजों और विटामिन की उच्च मात्रा होती है इसलिए, इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। कुछ लोगों को एलर्जी के लक्षण जैसे खुजली, त्वचा का लाल होना या शरीर के कुछ हिस्सों में सूजन का अनुभव हो सकता है। यदि आप इन संकेतों को नोटिस करते हैं, तो ज्वार का सेवन बिल्कुल न करें। जो लोग डायबिटीज से ग्रस्त हैं उन्हें इसका इस्तेमाल मॉडरेशन में करना चाहिए क्योंकि ब्लड शुगर लेवल (blood sugar level) बहुत कम हो सकता है। ज्वार का प्रयोग कम ही करें। इसके कम उपयोग से आप सुरक्षित रहेंगे। ज्वार के फायदे पाने के लिए आप इसे दलिया के रूप में भी खा सकते हैं। इसका बना हुआ शर्बत सिरप का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यदि आपको ज्वार का सेवन करने के बाद किसी भी तरह के साइड इफेक्ट्स नजर आते हैं तो इसका सेवन रोक दें और बिना देरी करें डॉक्टर से कंसल्ट करें।

और पढ़ेंः क्या ब्राउन शुगर से ज्यादा हेल्दी है स्टीविया? जानें स्टीविया के फायदे और नुकसान

ज्वार के मुख्य उपयोग

ज्वार के फायदे आपको मिल सके इसके लिए ज्वार को निम्न तरीके से उपयोग किया जा सकता है-

ज्वार का आटा

सर्दियों में ज्वार के आटा का उपयोग करना सही रहता है। इसकी रोटी बनाकर खाई जा सकती हैं।

ज्वार का अनाज

ज्वार का इस्तेमाल साबुत अनाज के रूप में भी किया जा सकता है। इसे ब्रेकफास्ट में पूरे उबले हुए और चावल की तरह खाए जा सकते हैं। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के पारंपरिक खाद्य पदार्थों में किया जाता है, जिसमें पेय पदार्थ, ब्रेड (bread), उबले हुए उत्पाद और स्नैक फूड (पॉप्ड सोर्गम) शामिल हैं।

और पढ़ें: शिमला मिर्ची के खाने से हो सकते हैं 9 फायदे

ज्वार के फायदे अनगिनत हैं, जिनमें से कुछ मुख्य को हमने यहां बताने का प्रयास किया है। इसके अलावा ज्वार का ग्लूटेन फ्री होना, ग्लूटेन फ्री डाइट ) gluten free diet) वालों के लिए फायदेमंद है। आशा करते हैं कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। इस आर्टिकल में ज्वार के स्वास्थ्य लाभ बताए गए हैं, जो आपके लिए लाभकारी हो सकते हैं। इस से जुड़ी यदि आप अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Calcimax Forte: कैल्सिमैक्स फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

कैल्सिमैक्स फोर्ट दवा की जानकारी in hindi इसके उपयोग, डोज, साइड इफेक्ट, सावधानी और चेतावनी के साथ रिएक्शन और स्टोरेज जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Shelcal Hd: शेलकॉल एचडी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

शेलकॉल एचडी की जानकारी in hindi दवा का डोज, साइड इफेक्ट्स, उपयोग, सावधानी और चेतावनी को जानने के साथ ही जानें किन बीमारी व दवाओं से होता है shelcal hd का रिएक्शन।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Cardivas : कार्डिवैस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए कार्डिवैस की जानकारी, कार्डिवैस इस्तेमाल कैसे लें , कब लें, कितना लें, खुराक, cardivas tablets डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 15, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Vertigo : वर्टिगो क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

वर्टिगो में आपको चक्कर आने लगते हैं, जो कि किसी अन्य बीमारी का लक्षण होता है। जानते हैं वर्टिगो का कैसे पता लगायें और कैसे मिलेगी राहत। Vertigo in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Lactihep Syrup लैक्टिहेप सिरप

Lactihep Syrup : लैक्टिहेप सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on जुलाई 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
क्रीमैलेक्स टैबलेट

Cremalax Tablet: क्रीमैलेक्स टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Calcimax P, कैल्सिमैक्स पी

Calcimax P: कैल्सिमैक्स पी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Bio D3 Plu, बायो डी3 प्लस

Bio D3 Plus: बायो डी3 प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें