बद्ध पद्मासन: जानिए इस योगासन को करने का सही तरीका, फायदा और सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

योग, व्यायाम और ध्यान का एक पुराना तरीका है, जिसमें कई आसन हैं। इन सभी आसनों को करने से ढेरों स्वास्थ्य, भावनात्मक और मानसिक लाभ होते हैं। अन्य आसनों की तरह बैठ कर करने वाले आसान भी हमारे लिए फायदेमंद हैं। इन्हीं में से एक है बद्ध पद्मासन। बद्ध पद्मासन में बद्ध का अर्थ है “बंधा हुआ” और पद्मा का अर्थ है “कमल का फूल” और आसन का अर्थ है “पुजिशन”। इस आसन को करते हुए मनुष्य का आकार एक बंधे हुए कमल के फूल के समान लगता है। इसीलिए, इसका नाम यह पड़ा। यह एक क्रॉस-लेग्ड योगासन है, जो मन को शांत करता है। यह आसन विभिन्न शारीरिक बीमारियों में राहत पहुंचाता है और साथ ही ध्यान लगाने में भी यह मददगार है। जानिए बद्ध पद्मासन को कैसे किया जाता है। इसके साथ ही इसके फायदों और किन स्थितियों में इसे नहीं करना चाहिए यह जानना न भूलें।

बद्ध पद्मासन करने का तरीका

  • बद्ध पद्मासन को करने के लिए सबसे पहले किसी शांत स्थान पर दरी या मैट बिछा लें।
  • अब इस दरी पर पद्मासना यानी लोटस पोज में बैठ जाए।
  • पद्मासना में बैठने के लिए आप अपने दायें पैर को बायीं टांग पर रखे और बाएं पैर को दायीं टांग पर रखें।

और पढ़ें:  मशहूर योगा एक्सपर्ट्स से जाने कैसे होगा योग से स्ट्रेस रिलीफ और पायेंगे खुशी का रास्ता

  • अब अपने दोनों हाथों को पीठ के पीछे की तरफ ले कर जाएं और अपने दाएं हाथ से बाएं पैर के अंगूठे व बाएं हाथ से दाएं पैर के अंगूठे को पकड़ें।
  • जब आप ऐसा कर रहे हों तो उस समय आपकी रीढ़ की हड्डी बिलकुल सीधी होनी चाहिए।
  • इसके साथ ही आप अपनी आंखों को बंद या खुला भी रख सकते है। किंतु बंद आंखों से आपको ध्यान लगाने में आसानी होगी।
  • इस योगासन को करने के लिए आपको बहुत अधिक अभ्यास की आवश्यकता हो सकती है। क्योंकि, दोनों पैरों के अंगूठे पकड़ने में समस्या होती है।
  • अब इस मुद्रा में आप जितनी देर रह सकते हैं, उतनी देर रहने की कोशिश करें।
  • इस दौरान आपकी सांस सामान्य होनी चाहिए।
  • अब धीरे धीरे अपने पैरों की उंगलियों को छोड़ कर अपनी शुरुआती स्थिति में आ जाएं।
  • फिर से दोहरा सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

बद्ध पद्मासन के फायदे

बद्ध पद्मासन के फायदे इस प्रकार हैं:

रीढ़ की हड्डी के लिए फायदेमंद

बद्ध पद्मासन रीढ़ की हड्डी के लिए लाभदायक है। इससे रीढ़ की हड्डी की लचीलता बढ़ती है। पीठ के दर्द से राहत मिलती है। इसके साथ ही इस आसन को करने से रीढ़ की हड्डी मजबूत भी होती है।

और पढ़ें: साइनस (Sinus) को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

दिमाग के लिए लाभदायक

इस आसन को करने से शारीरिक और मानसिक स्थिरता बढ़ती है। जिससे दिमाग भी स्थिर रहता है। जब हम इस पोज को लगातार करते हैं तो इससे दिमाग की तरफ खून का प्रवाह सही से होता है। जिससे दिमाग शांत रहता है। ध्यान लगाने में भी इससे मदद मिलती है। यह आसन जीवन में सकारात्मकता लाता है।

टांगों को मजबूत बनाए

बद्ध पद्मासन में पैरों और हाथों को मोड़ना पड़ता है। जिससे यह मजबूत होते हैं और जब आप इन्हे लॉक करते हैं तो उससे टांगे भी मजबूत और लचीली बनती है। कूल्हों और पीठ के लिए भी यह योगासन लाभदायक है

जोड़ों के लिए फायदेमंद

इस पोज को करने के लिए कंधे, कोहनी, पीठ, कूल्हे, घुटने आदि के जोड़ों को फैलाना पड़ता है। जिससे इन अंगों में होने वाले दर्द या अन्य समस्याओं को दूर करने में यह योगासन प्रभावी है।

गठिया में लाभदायक

अगर किसी को गठिया की समस्या है तो बद्ध पद्मासन करने से उन्हें गठिया में होने वाली समस्याओं को दूर करने में मदद मिल सकती है। इससे जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है। लेकिन, अगर आपको गठिया है तो पहले डॉक्टर या किसी विशेषज्ञ की राय अवश्य लें। उसके बाद ही इस आसन का अभ्यास करें।

और पढ़ें: रोज करेंगे योग तो दूर होंगे ये रोग, जानिए किस बीमारी के लिए कौन-सा योगासन है बेस्ट

पेट के लिए फायदेमंद

यह पोज पेट के अंगों के लिए फायदेमंद है। इससे पाचन तंत्र सही रहता है मेटाबोलिज्म बढ़ता है और पेट के अंगों की अच्छे से मालिश होती है। इससे कब्ज, अपच या पेट की अन्य समस्याएं भी दूर होती हैं।

सिरदर्द से राहत

इस आसन से सिरदर्द और माइग्रेन से छुटकारा मिलता है। अगर आपको यह समस्याएं हैं तो बद्ध पद्मासन के नियमित अभ्यास से राहत मिलेगी।

और पढ़ें: योग सेक्स: योगासन जो आपकी सेक्स लाइफ को बनायेंगे मजबूत

इन बातों का रखें ध्यान

  • जब भी आप इस बद्ध पद्मासन को कर रहे हों। तब आपका पेट साफ होना चाहिए।
  • भोजन से पहले या तुरंत बाद इसे न करें।
  • सुबह के समय इसे करना सबसे सर्वोत्तम है
  • अगर आपकी योग करने की अभी शुरुआत है तो पहली ही बार में इसे कर पाना मुश्किल है। ऐसे में नियमित रूप से इसका अभ्यास करें। अपनी शारीरिक क्षमता से ज्यादा इस योगासन को न करे।

जानिए योग के महत्व के बारे में इस वीडियो के माध्यम से

किन स्थितियों में इसे न करें

  • बद्ध पद्मासन आसान को करने के लिए बहुत धैर्य और अभ्यास की जरूरत है। इसलिए, इस आसन को पहले अच्छे से सीख कर इसका अभ्यास कर लें। किसी योग एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकते हैं
  • गर्भवती महिलाओं या मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को इस आसन को करने की सलाह नहीं दी जाती। गर्भवती महिलाओं को अगर यह आसान करना है। तो पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • अगर आपके घुटने में दर्द है या सर्जरी हुई है तो भी आप बद्ध पद्मासन को न करें।
  • जिन लोगों को पीठ या कंधों में दर्द रहता है, उन्हें भी इस आसन को नहीं करना चाहिए। किसी एक्सपर्ट के मार्गदर्शन में इसे करें।
  • कंधे में दर्द या सर्जरी, पैर में समस्या आदि की स्थिति में भी इसे न करें।

योग के किसी भी आसन या मुद्रा को बिना अभ्यास या अपनी मर्जी से नहीं करना चाहिए। सबसे पहली इसे अच्छे से सीखें और अभ्यास करें। डॉक्टर या किसी विशेषज्ञ की सलाह और मार्गदर्शन के बाद ही योगासन करें। अन्यथा, यह आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक भी हो सकता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र