home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कुर्मासन करने का सही तरीका और फायदे

कुर्मासन करने का सही तरीका और फायदे

कुर्मासन एक योग मुद्रा है। कुर्मासन दो शब्दों से मिलकर बना है,जिसमें “कुर्मा” का अर्थ “कछुआ” है और “आसन” का अर्थ “मुद्रा यानि स्थिति” होती है। जैसा कि इसके नाम से ही जाहिर होता है कि यह मुद्रा कछुए की स्थिति के समान दिखाई देती है। जब कछुए को किसी प्रकार के खतरे के संकेत मिलते हैं, तो वह डरकर अपनी खोल में अंदर चला जाता है। इस स्थिति में कछुआ जिस प्रकार दिखाई देता है। यह उसी प्रकार दिखाई देने वाली स्थिति है। इस आसन को करने पर आपके हाथ पैर कछुए के समान बाहर निकले दिखाई देते हैं। कुर्मासन योग आसन को करने से हमारे शरीर का एक अच्छा व्यायाम हो जाता है। शरीर को चुस्त और तंदुरुस्त रखने के लिए कुर्मासन एक अच्छा आसन है। यह मुद्रा हमारे शरीर के लिए अनेक प्रकार से लाभदायक है। यह आसन पीठ और कमर पर अच्छा खिंचाव बनाता है, साथ में यह रीढ़ की हड्डी में भी रक्त-संचार को बढ़ाता है। कुर्मासन पेट में बनने वाली गैस और कब्ज से राहत देने में मदद करता है। यह मुद्रा आंतरिक जागरुकता और मानसिक शांति पाने के लिए भी बहुत बेहतर मानी गई है। आइए जानते हैं कुर्मासन कैसे किया जा सकता है।

कुर्मासन मुद्रा के प्रकार

साधारण रूप से यह दो तरह के होते हैं। आइए जानते हैं इनमें क्या अंतर हैं।

  • अर्ध कुर्मासन (आधा कछुआ मुद्रा)
  • सुप्टा कुर्मासन (स्लीपिंग कछुआ मुद्रा)

अर्ध कुर्मासन

यदि कुर्मासन करना आपके लिए जटिल हो जाता है, तो आप अर्ध कुर्मासन (हाफ टोर्टोइस पोज) आजमा सकते हैं, जिसमें वज्रासन में बैठना और अपने धड़ को आगे की ओर झुकाते हुए सिर को फर्श से छूना शामिल है। आपकी बाहों को आगे की ओर खींचना चाहिए, और छाती को आपकी जांघों को छूना चाहिए।

सुप्टा कुर्मासन

यदि आपके लिये कुर्मासन कर पाना बेहद सरल है और आप बहुत गहराई में जाना चाहते हैं। तो आप सुप्टा कुर्मासन (स्लीपिंग कछुआ पोज़) आजमा सकते हैं। आपको बस अपनी बाहों को अपनी पीठ के पीछे ले जाना है और अपनी हथेलियों को एक साथ पकड़ना है। अपने पैरों को अपनी बाहों और सिर के ऊपर ले जाएं और उन्हें एक के ऊपर एक के पार रखें।ध्यान रखें यह तभी करें जब आपके लिए यह सरल महसूस हो।

और पढ़ें :Quiz : योग (yoga) के बारे में जानने के लिए खेलें योगा क्विज

कुर्मासन का अभ्यास करने से पहले आपको क्या जानना चाहिए

कुर्मासन करने से पहले आपको कई बातों का ध्यान रखना आवश्यक होता है। जो इस प्रकार से हैं।

  • सुनिश्चित करें कि आप सुबह खाली पेट कुर्मासन का अभ्यास करें।
  • ब्रह्म मुहूर्त, जो सूर्योदय से लगभग डेढ़ घंटे पहले है, कुर्मासन का अभ्यास करने का सबसे अच्छा समय है क्योंकि मन स्वाभाविक रूप से शांत होता है, जिससे आपके लिए अपने मन और शरीर को अंदर की ओर स्ट्रेच करना आसान हो जाता है।
  • चूंकि कुछ लोगों के लिए रोजाना सुबह 5 बजे उठना संभव नहीं है, आप शाम को भी कुर्मासन का अभ्यास कर सकते हैं।
  • लेकिन सुनिश्चित करें कि आपके अंतिम भोजन से 4-6 घंटे का कम से कम अंतर होना जरूरी है।
  • शाम को, मुद्रा करने से पहले आपको अपने दिमाग को शांत करना पड़ सकता है। अन्यथा, ध्यान केंद्रित रखना मुश्किल हो जाता है।

और पढ़ें: ये योगासन आपको रखेंगे हेल्दी और फिट

कुर्मासन की पहली बार शुरुआत करने वाले लोगों के लिए टिप्स

कुर्मासन एक प्रकार की उन्नत मुद्रा है, और इसे सही रूप से प्राप्त करने में एक निश्चित समय लगता है। इसे आसान बनाने के लिए किसी योग प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में ही इसे करें। यदि इस मुद्रा में आपके पैरों की एड़ी को जमीन पर रखना मुश्किल हो जाता है, तो अपने पैरों के नीचे तकिए या मुड़े हुए कंबल रखें, इससे आपको आसानी महसूस हो सकती है। कुर्मासन करने से पहले आपको कुछ और आसन कर लेने से यह करने में मदद मिल सकती है।

कुर्मासन करने से पहले ये आसन जरूर करें

कुर्मासन करने से पहले यह दिए गए मुद्रा को करना न भूले। यह खासकर उन लोगों के लिए है जो अभी कुर्मासन करने की शुरूआत करने वाले हैं।

  • गरुड़ासन
  • उत्तानासन
  • बद्ध कोणासन
  • परिवृत्त पार्श्वकोणासन

और पढ़ें :साइनस (Sinus) को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

कुर्मासन करने का सही तरीका क्या है?जानें..

  • कुर्मासन करने के लिए सबसे पहले दंडासन करके शुरू करें।
  • अब अपने हाथों को कूल्हों के पास जमीन पर रखें।
  • अब फर्श पर जांघों को धीरे-धीरे दबाएं, पैर की उंगलियों को फ्लेक्स करें और छाती को उठाएं।
  • अब घुटनों को अपने कंधों जितना चौड़ा रखें।
  • पैर की उंगलियों को फ्लेक्स रखते हुए, घुटनों को मोड़ें।
  • पैरों के बीच में भुजाओं और छाती को जमीन की ओर आगे बढ़ाएं।
  • पैरों को थोड़ा और मोड़ें ताकि आप घुटनों के नीचे कंधों को छोड़ सकें।

और पढ़े : वजन कम करने में फायदेमंद हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

  • एक बार जब कंधों को घुटनों के नीचे जगह होती है, तो बाहों को बगल तक फैला लें।
  • जांघों को अंदर की ओर घुमाएं और पैरों को सीधा करें।
  • भुजाओं और छाती को पक्षों तक खींचने के लिए श्वास लें
  • रीढ़ को आगे बढ़ाने के लिए श्वास छोड़ें।
  • मुद्रा में कुछ सांस लें और छोड़ें।
  • जितने समय तक आप यह मुद्रा कर सकते हैं। उतनी देर के लिए इस मुद्र में बने रहें।
  • इसको कम से कम तीन बार दोहराएं।

और पढ़ें : जानें मार्जरी आसन करने का सही तरीका और इसके फायदे

कुर्मासन मुद्रा के लाभ क्या है?

  • अस्थमा की स्थिति में कुर्मासन योग के लाभ पाए जा सकते हैं। यह बीमारी श्वसन प्रक्रिया से जुड़ी होती है। कुर्मासन करने से सांस संबंधी समस्याएं दूर होती है। यह फेकड़े के कार्य करने की क्षमता को बेहतर बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह कूल्हों और श्रोणि के लचीलेपन को बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह आसन आपको फिर से जीवंत करने और आपको तरोताजा रखने में मदद करता है।
  • कुर्मासन तनाव कम करने के लिए एक बहुत अच्छा आसन है। यह मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर आपकी याददाश्त में सुधार करता है।
  • यह आपके दिमाग को भी शांत रखता है और इसे ध्यान के लिए तैयार करता है।
  • यह आपके तंत्रिका तंत्र को बेहतर कार्य करने में मदद कर सकता है।

और पढ़ें : अस्थमा रोग से हमेशा के लिए पाएं छुटकारा, रोजाना करें ये आसन

  • कुर्मासन भी शरीर के सामने के हिस्सों को जोड़ता है और एक और ग्रीवा संबंधी विकारों से पीड़ित लोगों के लिए अच्छा है।
  • जिन लोगों के गर्दन, कंधे या सिर में किसी प्रकार का दर्द है। यह आपकी गर्दन, सिर और कंधों को आराम देता है।
  • नियमित रूप से इस आसन का अभ्यास करने से कंधे, हाथ, पैर, कलाई, पेट, कूल्हे, रीढ़ जैसे शारीरिक अंग मजबूत होते हैं।
  • जैसा आप जानते हैं, कछुआ कितने लंबे समय तक जीने वाला जीव माना जाता है। उसी प्रकार लोगों की ऐसी धारणा है कि इसे करने वाले लोगों की आयु बहुत लंबी होती है। कहने का अर्थ है कि वो लोग दीर्घ आयु होते हैं।
  • आजकल सभी तरह की बीमारीयों में नींद न आने की बीमारी का बहुत चलन है। कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कई घंटो तक आंख बंद किए लेटे रहते हैं। लेकिन उन्हें नींद नहीं आती है। तो उन लोगों के लिए भी यह फायदेमंद है। अनिद्रा की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए कुर्मासन के फायदे फायदेमंद हो सकते हैं।
  • स्ट्रेचेज चेस्ट, शोल्डर, अपर बैक क्वाड्रिसेप्स और पेट की समस्या वाले लोगों के लिए भी इसके बहुत फायदे हैं ।
  • यह योग हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करता है और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है।

और पढ़ें : ये 5 आसन दिलाएंगे तनाव से छुटकारा, जरूर करें ट्राई

  • कुछ आमतौर पर गैस की समस्या से दुखी होते हैं। तो ऐसे लोगों के लिए यह योग बहुत काम की चीज हो सकती है। इस आसन के नियमित अभ्यास से पेट में बनने वाली गैस से छुटकारा मिलता है।
  • आजकल लोग अपने हिप्स के शेप को लेकर बहुत परेशान रहते हैं। जिसके लिए वह तरह-तरह की एक्सरसाइज करते हैं। तो आपको बता दें एक बेहतर हिप के शेप के लिए यह आसन बहुत अधिक मददगार हो सकता है। जी हां न केवल आपके हिप्स को बड़ा करने के लिए बल्कि उसे शेप में लाने के लिए भी कुर्मासन एक अच्छा आसन है। इसके अलावा, यह आसन नियमित अभ्यास के माध्यम से आपकी जांघों को फैलाने में भी मदद करता है।
  • कुर्मासन डायबिटीज के लोगों के लिए बहुत अच्छा योग माना जाता है। यह हमारे शरीर में पैंक्रियास को उत्तेजित करने का कार्य करता है और सही मात्रा में इंसुलिन के स्राव में मदद करता है। इस प्रकार यह डायबिटीज के कंट्रोल में यह लाभकारी है।

योग के बारे में जानने के लिए खेलें क्विज : Quiz : योग (yoga) के बारे में जानने के लिए खेलें योगा क्विज

  • कुछ लोगों का जीवन अत्यधिक तनाव से घिरा होता है। ऐसे लोगों के लिए यह योग बहुत मददगार हो सकता है। दरअसल यह योग स्ट्रेस को कम करने में मददगार होता है। जी हां यह एक स्ट्रेस बस्टर है और आपकी इंद्रियों को वापस ले लेता है।जिससे आप तनावमुक्त हो जाते हैं।
  • सर्वाइकल की समस्या से जूझ रहे लोगों को यह योग जरूर करना चाहिए। क्योंकि कुर्मासन आपके आसन को बेहतर बनाता है और सर्वाइकल विकारों से पीड़ित लोगों के लिए अच्छा है।

कुर्मासन के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां

  • जब कुर्मासन करते समय यदि आपको घुटनों में दर्द महसूस होता है, तो दर्द को कम करने के लिए अपनी भुजाओं को दोनों तरफ से थोड़ा सा आगे की ओर ले जाएं।
  • आपको अपने शरीर को कुर्मासन कराने के लिए तैयार करना होगा।
  • इस मुद्रा में आने से पहले आवश्यक प्रारंभिक पोज करें।

और पढ़ें:कमर दर्द के लिए योग, जानें प्रकार और करने का तरीका

  • इसके अलावा, आपको अपने शरीर की सीमाओं को जानना चाहिए और कब आपको खुद को रोकना है।
  • यदि आप गर्भवती हैं या मासिक धर्म हैं तो मुद्रा से बचें।
  • यदि आप हर्नियेटेड डिस्क और तंग पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों की समस्या से परेशान हैं, तो मुद्रा को छोड़ना बेहतर है।
  • यदि आपके कंधे, कूल्हे या हाथ में चोट है, तो कुर्मासन का अभ्यास न करें।
  • इस मुद्रा में रहते हुए अपनी मांसपेशियों को ओवरस्ट्रेन न करें।
  • यदि आप कटिस्नायुशूल या पुराने गठिया से पीड़ित हैं, तो मुद्रा से बचें।

कुर्मासन के दौरान की जाने वाली साधारण गलती

  • किसी भी प्रकार के योगों में सही रूप से करना ही अत्यधिक महत्व रखता है।
  • कछुआ मुद्रा में अपने घुटनों के पीछे तनाव से बचने के लिए अतिरिक्त सावधानी की आवश्यकता होती है।
  • आपकी पीठ और रीढ़ भी इस योग मुद्रा में कमजोर स्थिति में होती हैं, इसलिए कुर्मासन के बाद अतिरिक्त स्ट्रेचिंग की आवश्यकता हो सकती है।
  • योग में, कभी-कभी शरीर के कुछ हिस्सों, जैसे कि आपके कोर, को योग की चटाई में खींचना आवश्यक होता है। इस मुद्रा में अपने घुटनों के साथ ऐसा करने से बचें।

और पढ़ें:दांतों की समस्या को दूर करने के लिए करें ये योग

  • कई लोगों को इस मुद्रा में घुटने के क्षेत्र में दर्द होता है और उनके घुटनों को जगह-जगह से लॉक करके नीचे खींचा जाता है। आपके पैरों को फ्लेक्स किया जाना चाहिए, जो पैरों में खिंचाव को प्रोत्साहित करता है, हालांकि आपको दर्द महसूस नहीं करना चाहिए। इसे रोकने के लिए, जैसे ही आप मुद्रा शरू करते हैं, अपने पैरों को धीरे-धीरे सीधा करें।
  • कुर्मासन मुद्रा के मामले में, मुद्रा को बिना सोचे-विचारे जारी करने से पीठ और कूल्हों को खतरा होता है।

नोट: यह मुद्रा कई लोगों के लिए करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है,यदि यह आपके लिए किसी प्रकार की समस्या पैदा कर रहा है। तो इसे करने से बचे रहें। इसके स्थान पर आप अर्ध कुर्मासन मुद्रा कर सकते हैं। ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
shalu द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x