पूरी जिंदगी में आप इतना समय ब्रश करने में गुजारते हैं, जानिए दांतों से जुड़े ऐसे ही रोचक तथ्य

By Medically reviewed by Dr. Hemakshi J

दांतों के बिना स्माइल कैसी और दांतों के बिना भोजन भी बेस्‍वादा। खाने को तोड़ने, चबाने और पीसने के लिए हमारे पास 32 दांत होते हैं 16 ऊपर और 16 नीचे के जबड़े में। इतना ही नहीं आप अपने जीवन के 924 घंटे ब्रश करने में निकाल देते हैं। दांतों से जुड़े कई तथ्य हैं जिनसे लोग अंजान हैं। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में दांतों से जुड़े ऐसे ही इंटरेस्टिंग तथ्यों के बारे में जानकारी दी गई हैं-

हर एक दांत यूनिक होता है 

जानकर हैरानी होगी लेकिन, आपके दांत आपके फिंगरप्रिंटस की तरह होते हैं। कोई भी दो दांत आकार और आकृति में एक जैसे नहीं होते हैं। मुंह में मौजूद हर एक दांत, दूसरे से अलग होता है। यहां तक ​​कि एक जुड़वां बच्चों के भी दांत एक जैसे नहीं होते हैं। यही कारण है कि कभी-कभी मानव अवशेषों की पहचान करने के लिए डेंटल रिकॉर्ड का उपयोग किया जाता है। 

दांत आपके बारे में बहुत कुछ बता सकते हैं 

वैज्ञानिक सिर्फ दांतों की जांच करके हमारे बारे में बहुत कुछ बता सकते हैं। दरअसल, हमारे दांत बताते हैं कि हम कितने साल के हैं, क्या खाते-पीते हैं? यहां तक कि दांत देखकर हमारी पूरी हेल्थ के बारे में भी पता लगाया जा सकता है। इसका मतलब हुआ कि दांत किसी इंसान के व्यक्तिगत इतिहास का एक स्थायी रिकॉर्ड है। 

यह भी पढ़ें – जब शिशु का दांत निकले तो उसे क्या खिलाएं?

केवल एक तिहाई दांत होते हैं विजिबल 

दातों से जुड़े मजेदार फैक्ट्स में से एक यह है कि आपके दांतों का एक तिहाई हिस्सा ही दिखाई देता है। बाकी हिस्सा मसूड़ों (gum) के अंदर होता है। इसलिए, ओरल हेल्थ को सही रखने के लिहाज से मसूड़ों की देखभाल के लिए भी कहा जाता है। दांतों पर जमे प्लाक (plaque) से दांत सड़ जाते हैं। डॉक्टर दिन में दो बार ब्रश करने की सलाह देते हैं।

जन्म से पहले ही शिशु में निकलने लगते हैं दांत  

शिशु के जन्म से पहले ही दांतों का बनना शुरू हो जाता है। गर्भ से ही शिशु में दांतों का विकास भी शुरू हो जाता है। हालांकि, दांतों का बनना जन्म से पहले शुरू हो जाता है लेकिन, दांत दिखने तभी शुरू होते हैं जब बच्चा लगभग तीन से छह महीने का होता है।

यह भी पढ़ें- दांत दर्द की दवा खाने के बाद महिला का खून हुआ नीला, जानिए क्या है कारण

दांतों के दो सेट 

व्यक्ति के पूरे जीवनकाल में दांतों के केवल दो तरह के ही सेट होते है। पहला-बच्‍चों के दांत जिसे हम दूध के दांत भी कहते हैं और स्‍थायी दांत। स्‍थायी दांत निकलने के बाद उनकी देखभाल पर बहुत ध्यान दें क्‍योंकि परमानेंट दांत टूटने के बाद दांत नहीं निकलते हैं।

यह भी पढ़ें- बच्चों के दांत निकलने पर होने वाले दर्द को ऐसे कर सकते हैं कम, आसान उपाय

शरीर का सबसे मजबूत भाग है 

दांतों का ऊपरी हिस्सा हमारे शरीर का सबसे मजबूत भाग होता है। दांतों की सबसे ऊपरी परत को इनेमल (enamel) कहते हैं। इसका मुख्य उद्देश्य बाकी दांतों की रक्षा करना है। यह परत कैल्शियम (calcium) और फॉस्फेट (phosphate) से बनी होती है।

तीन सौ तरीके के बैक्टीरिया 

दांतों में पाया जाने वाला प्लाक (Plaque) एक तरह का अवशेष (Residue) है, जो मुंह में अधिक बैक्टीरिया की वजह से बनता है। जानकर हैरानी होगी कि दांतों पर जमी इस गंदगी में करीब 300 प्रकार के बैक्टीरिया होते हैं।

यह भी पढ़ें- दांतों की कैविटी से बचना है तो ध्यान रखें ये बातें

सलाइवा की जानकारी 

आपका शरीर हर दिन लगभग एक लीटर सलाइवा बनाता है, जो पूरे जीवन भर में लगभग 10,000 गैलन यानी लगभग 37 हजार लीटर हो जाता है। सलाइवाहमारी पाचन प्रक्रिया में मदद करता है और मुंह में बैक्‍टीरिया से दांतों की सुरक्षा करता है। 

बच्चों के दांत की सफाई है जरूरी 

बच्चों का पहला दांत दिखते ही दांतों को ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए। पेरेंट्स मुलायम ब्रश से दांत साफ कर सकते हैं या मलमल के कपड़े को उंगली में लपेटकर उससे भी साफ किया जा सकता है।

दांतों से जुड़े 6 अजीबोगरीब तथ्य 

  • अगर आप राइट हैंडेड हैं, तो अधिकतर खाना आप अपने मुहं के दायीं ओर से चबाते होंगे और यदि आप लेफ्ट हैंडेड हैं तो खाना बायीं तरफ से चबाते होंगे।
  • जब भी कोई महिला और पुरुष एक दूसरे को किस करते हैं तो 80 मिलियन बैक्टीरिया का ट्रांसफर होता है।
  • एक व्यक्ति अपने अपनी पूरे जीवनकाल के दौरान औसतन 38.5 दिन ही दांतों को ब्रश करता है। इसे ऐसे देखें- अगर एक व्यक्ति हर दिन औसतन 1 मिनट ब्रश करता है, तो साल में वो 360 मिनट या 15 घंटे ब्रश करता है, इस लिहाज से अगर औसत उम्र 61.6 वर्ष है तो यह 924 घंटे या 38.5 दिन होता है।
  • कई रोग आपके ओरल हेल्थ से जुड़े होते हैं, जिनमें हृदय रोग, ऑस्टियोपोरोसिस और डायबिटीज शामिल हैं।
  • जो लोग रोजाना तीन गिलास से ज्यादा कोल्ड ड्रिंक पीते हैं उनमें दांत सड़ने की संभावना 62% बढ़ जाती है।
  •  टूथपेस्ट की एक ट्यूब में इतना फ्लोराइड होता है कि उससे एक छोटे बच्चे की मृत्यु भी हो सकती हो। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आपका छोटा बच्चा हमेशा ब्रश करने के बाद पेस्ट को थूकता हो।

ये थे दांतों से जुड़े तथ्य, जिन्हें आप आज तक नहीं जानते रहे होंगे। इस तरह से दांतों के बारे में बेहतर जानकारी से उनकी साफ-सफाई और देखभाल आसान हो जाती है। अच्छी ओरल हेल्थ के लिए नियमित रूप से अपने डेंटिस्ट के पास जाना न भूलें। 

ये भी पढ़ें-

बच्चे के दूध के दांत टूटने पर ऐसे करें देखभाल

समझें दांतों के प्रकार और जानिए इनके कार्य क्या हैं

तेजी से ब्रश करना दांतों को कर सकता है कमजोर

Share now :

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 15, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जनवरी 30, 2020