home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

27 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

27 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

27 सप्ताह के शिशु का विकास और व्यवहार कैसा होना चाहिए?

27 सप्ताह के शिशु में निम्नलिखित विकास और स्वभाव में हो बदलाव को समझ सकते हैं। जैसे-

  • 27 सप्ताह के शिशु में शारीरिक गतिविधि देखी जा सकती है और वह किसी भी चीज को पकड़ के खड़े होने की कोशिश करता रहेगा
  • 27 सप्ताह के शिशु से अगर आप उनके खिलौने ले लेंगे तो वे आपसे उल्टा छीनेंगे या अपनी भावना व्यक्त कर सकते हैं की उन्हें उनका सामान वापस चाहिए
  • 27 सप्ताह के शिशु किसी भी गिरी हुई चीजों को ढूंढ़ने लगेंगे और पेरेंट्स उसकी इस गतिविधि को समझ सकते हैं
  • शिशु चीजों को उठाने के लिए उंगलियों का इस्तेमाल करेगा और फिर हाथों से उसे पकड़ने की कोशिश करेगा
  • 27 सप्ताह के शिशु शब्दों को मिलाना शुरू करेंगे जैसे की गा-गा-गा,मा-मा-मा,दा-दा-दा
  • 27 सप्ताह के शिशु उंगलियों पर लगा खाना खाने के ज्यादा इच्छुक होंगें
  • आवाज आने वाली चीजे खुद खाएंगे या खुद से खाने की कोशिश करेगा

ऐसी ही कई अन्य गतिविधि शिशु में देखने को मिल सकती है। इस दौरान पेरेंट्स को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ें: शिशुओं की सुरक्षा के लिए फॉलो करें ये टिप्स, इन जगहों पर रखें विशेष ध्यान

27 सप्ताह के शिशु के विकास के लिए मुझे क्या करना चाहिए?

आपका बच्चा आपको यह बताने लगेगा की वह खाना खुद खा सकता है और आपके हाथ से चम्मच छीनने लगेगा या खाने की प्लेट खीचेगा। आपको उसके प्लेट की चीज को चार से पांच टुकड़ो में तोड़कर रखना चाहिए। गले में खाना न अटके इसके लिए आपको अपने बचे को किसी चेयर या ऊंची जगह पर बैठाकर खिलाना चाहिए। 27 सप्ताह के शिशु के खाने के दौरान मां, पिता या कोई अन्य सदस्य पास होना चाहिए।

उनके खाने की मात्रा ज्यादा होनी चाहिए लेकिन, क्योंकि उनके दांत नहीं है तो आपको ऐसे खाद्य पदार्थो से शुरुआत करनी चाहिए जिनसे उन्हें ज्यादा चबाना न पड़े या फिर आप शिशु के खाने को छोटे-छोटे टुकड़ों में कर फिर उसे खिला सकती हैं।

अपने बचे के पढ़ने के लिए बच्चो के भाषा वाली किताबे लाएं और उन्हें पढ़ने में मदद कीजिए। बहुत बार ऐसा होगा की आप जब उनके लिए कोई कहानी पढ़ेंगे तो वे बैठना पसंद नहीं करेंगे लेकिन, आपको उनपर जोर न डालते हुए उन्हें किताब पढ़ने के लिए तरीका अपनाना चाहिए ताकि वो बहार की दुनिया और समाज की जानकारी आराम से ले सके। इस दौरान 27 सप्ताह के शिशु के पेरेंट्स खुद भी बच्चे के सामने पढ़ने की आदत डाल सकते हैं। बच्चे भी आपकी इस एक्टिविटी को फॉलो कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: बच्चों के नाखून काटना नहीं है आसान, डिस्ट्रैक्ट करने से बनेगा काम

27 सप्ताह के शिशु के स्वास्थ्य और सुरक्षा को कैसे ध्यान रखें?

मुझे डॉक्टर से क्या बात करनी चाहिए?

27 सप्ताह के शिशु के स्वस्थ्य अवस्था के हिसाब से डॉक्टर उनका पूरी बॉडी का चेकअप करेंगे, आवश्यकता अनुसार अलग निदान तकनीक का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। डॉक्टर या नर्स इन सभी बातो पर ध्यान देंगे:

अगर आपका बच्चा बिलकुल हेलथि है तो वे उसे वेक्सिनेशन भी दे सकते है। अगर आपके बचे को किसी तरह की एलर्जी या रिएक्शन हो तो डॉक्टर से बताना न भूले।

डॉक्टर से पूछे की: इस तीसरे वेक्सिनेशन से आपको बच्चे को क्या होगा?अगर रिएक्शन हो जाये तोह?आपके शिशु को कैसा खाना खिलाना चाहिए?

यह भी पढ़ें: बच्चा करता है बेडवेटिंग इस तरह निपटें इस परेशानी से

मुझे किन बातों की जानकारी होनी चाहिए?

एमर्जेन्सी में हॉस्पिटल ले जाना:

एमर्जेन्सी में ले जाना यह सुनते ही हम घबरा जाते है। ज्यादातर एमर्जेन्सी में बच्चे को तब ले जाया जाता है अगर उन्हें कोई एलेर्जी हो जाये,अस्थमा अटैक आ जाये या फिर गलती से कोई ऐसी चीज़ खा ले जिससे उसे बहुत ज्यादा हानि हो सकती है। इन सब के आलावा अगर वह गिर्र जाये जाये और बहुत खून बहने लगे तो।

गाय का दूध पिलाना:

एक साल का होने से पहले आपके बच्चे को गाय का दूध न पिलाए। जितना हो सके,एक साल होने तक आप उसे स्तनपान ही करवाएं। इसी के साथ जब आप स्तनपान करना बंद करदे अपने डॉक्टर से पूछकर कोई बच्चो के लिए आहार से भरपूर खाना खिलाना शुरू करे।

जब आपका बच्चा गाय का दूध पीने लगे,और पीते हुए एक साल हो जाए तो ध्यान रखें की आप उसे सुध दूध ही पिलाए। ज्यादातर होल मिल्क बच्चो को दो साल के बाद ही पिलाने का रेकमेंड किया जाता है। कभी कबार डॉक्टर्स 18 महीने के ऊपर के बच्चो को 2% दूध पिलाने की इजाजत दते है।

महत्वपूर्ण बातें

मुझे किन बातों का ख्याल रखना चाहिए?

बच्चे को ब्रश करवाना:

बहुत से ऐसे काऱण है जिसके लिए आपको बच्चो के दांतों का ख्याल अच्छे से रखना चाहिए: सबसे पहले बच्चो को दूध के दांत आते है जो की दांतों की परमानेंट जगह फिक्स कर लेते है। अगर पहले ही दांत सड़ गए तो दांतों का आकर बिगड़ सकता है। और इतना ही नहीं,परमानेंट दांत आने से पहले उन्हें वो दांत कही सालों तक खाना चबाने के लिए चाहिए होते है। ख़राब दांत आपके बचे के खाना खाने की मात्रा पे असर कर सकते है। इसीलिए हेल्थी दांत होना बहुत ज्यादा जरूरी है। आपको अपने बच्चे को ब्रश करने की आदत लगवा देनी चाहिए। अच्छी तरह से दांतो की देखभाल करने से बच्चे के दांत हेअल्थी रहेंगे।

आप एकदम कोमल दांतो के टूथब्रश का इस्तेमाल कर सकते है। बचो को सुबह उठते ही और रात में सोने से पहले ब्रश करने की आदत होनी चाहिए। आपको बहुत ही आराम से उनको ब्रश करवाना सीखाना चाहिए। ध्यान रहे,की आप उनकी जीभ भी साफ़ करे क्योंकि जीब फोस्टर जर्म्स का घर होती है। ज्यादा टूथपेस्ट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए लेकिन, फिर भी अगर आपको अपने बच्चे को थोड़ा मज़ा देना है तो एक काम मात्रा में टूथपेस्ट का इस्तेमाल कर सकते है।

डेंटल केयर के आलावा, न्यूट्रिशन भी एक बहुत बड़ा हिस्सा होता है बच्चो के ओरल हेल्थ के लिए। अभी आपको उन्हें खाना खिलाना चालू कर देना चाहिए। ध्यान रखे की आपका बच्चा साही मात्रा में कैल्शियम, फोस्फरस, फ्लोरीन, मिनरल्स हुए विटामिन्स का सेवन कर रहा है। साथ ही ध्यान रखे की शक्कर वाली चीज़े नियंत्रण में खाए। आपको अपने बच्चे की मिठाई खाना भी काम करवाना होगा अगर वो बहुत खता है तो। ज्यादा मीठा खाने से दांतो में कीड़े लग जाते है। आपने बच्चे को खाना कहते वक़्त मिठाई खिलाए क्योंकि तब वो दांतो को कम नुकसान पहुंचती है और याद रखे की जबहुई वो मिठाई खाये उसके बाद उससे ब्रश करवाए।

अगर आप 27 सप्ताह के शिशु के सेहत से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

प्रेग्नेंसी में पति की जिम्मेदारी है पत्नी को खुश रखना, ये टिप्स आ सकती हैं काम

नवजात शिशु के लिए 6 जरूरी हेल्थ चेकअप

नवजात की कार्डिएक सर्जरी कर बचाई गई जान, जन्म के 24 घंटे के अंदर करनी पड़ी सर्जरी

नवजात शिशु की नींद के पैटर्न को अपने शेड्यूल के हिसाब से बदलें

बहुत ही गुणकारी होती है बेल, जानें क्या-क्या हैं इसके फायदे?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

2-3 years: toddler development/https://raisingchildren.net.au/toddlers/development/development-tracker-1-3-years/2-3-years/Accessed on 19/02/2020

Toddlers (2-3 years of age)/https://www.cdc.gov/ncbddd/childdevelopment/positiveparenting/toddlers2.html/Accessed on 19/02/2020

Communication and Your 2- to 3-Year-Old/https://kidshealth.org/en/parents/comm-2-to-3.html/Accessed on 19/02/2020

Fitness and Your 2- to 3-Year-Old/https://kidshealth.org/en/parents/fitness-2-3.html/Accessed on 19/02/2020

Child development 2–3 years/https://www.healthywa.wa.gov.au/Articles/A_E/Child-development-2-3-years/Accessed on 19/02/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Sushmita Rajpurohit द्वारा लिखित
अपडेटेड 08/07/2019
x