सेक्स को एंजॉय करने के लिए ट्राई करें सेक्स लुब्रिकेंट्स (sex lubricants)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सेक्स के दौरान वजाइना अपने आप से लुब्रिकेट का उत्पादन करती है जिससे सेक्शुअल एक्टिविटी सुविधाजनक होने के साथ-साथ मजेदार भी होती है। वहीं, स्नेहक के बिना सेक्स दर्दनाक हो सकता है और यह वजाइना लाइनिंग को नुकसान भी पहुंचा सकता है। हार्मोनल परिवर्तन, मेनोपॉज, उम्र बढ़ना या कुछ दवा के सेवन से हो सकता है वजाइना से लुब्रिकेशन कम हो। ऐसे में आमतौर पर अर्टिफिशियल सेक्स लुब्रिकेंट का इस्तेमाल किया जाता है। सेक्स के दौरान ये लुब्रिकेंट्स यौन गतिविधियों को अधिक कम्फर्टेबल बनाते हैं। तो आइए जानते हैं “हैलो स्वास्थ्य” के इस लेख में कि सेक्स लुब्रिकेंट क्या हैं, यह कितने प्रकार का होता है। लुब्रिकेंट्स के दौरान किन बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए।

नेचुरल वजाइनल लुब्रिकेशन क्या है?

सर्विक्स फ्लूइड (cervix fluid) और बार्थोलिन ग्रंथियों (Bartholin glands) वजाइना को लुब्रिकेशन देती हैं। कामोत्तेजना के दौरान, बार्थोलिन ग्लैंड्स फ्रिक्शन को कम करने के लिए अतिरिक्त लिक्विड का स्राव करती हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कभी-कभी योनि में सूखापन होना सामान्य है। लेकिन, क्रोनिक वजाइनल ड्राइनेस मेनोपॉज (menopause) या मेडिकल समस्या की ओर इशारा करता है। रजोनिवृत्ति के दौरान और बाद में, शरीर कम एस्ट्रोजन रिलीज करता है, जो कम मॉइस्चराइजिंग सिक्रेशन  के लिए जिम्मेदार होता जिससे वजाइनल ड्राइनेस होती है।

और पढ़ें : पार्टनर को पसंद है आक्रामक सेक्स (Rough Sex), तो काम आएंगी ये टिप्स

सेक्स स्नेहक के प्रकार

सबकी आवश्यकताओं के अनुसार मार्केट में कई तरह के सेक्स लुब्रिकेंट्स मौजूद हैं। जैसे-

वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट्स (Water-based lubricant)

वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट्स सबसे आम हैं। ये भी दो किस्मों में आते हैं: ग्लिसरीन युक्त सेक्स लुब्रिकेंट्स और ग्लिसरीन फ्री सेक्स लुब्रिकेंट्स। फ्लेवर्ड या वार्मिंग लुब्रिकेंट्स में अक्सर ग्लिसरीन मौजूद होती है। हालांकि ये जल्दी सूख जाते हैं। ग्लिसरीन फ्री वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट्स उन लोगों के लिए अधिक उपयुक्त होते हैं जिनको यीस्ट इंफेक्शन (yeast infection) जल्दी-जल्दी होता है।

और पढ़ें : ये 7 आरामदायक सेक्स पोजीशन (पुजिशन) जिसे महिलाएं करती हैं पसंद

सिलिकॉन आधारित सेक्स स्नेहक (Silicone based sex lubricants)

वाटर बेस्ड ल्यूब की तुलना में ये लंबे समय तक टिकते हैं। इसलिए, जिन्हें क्रोनिक वजाइनल ड्राइनेस या सेक्स के दौरान दर्द ज्यादा होता है उनके लिए बेस्ट होते हैं। सिलिकॉन बेस्ड लुब्रिकेंट्स गंधहीन, टेस्टलेस, स्मूद और स्लिपरी होते हैं।

ऑइल बेस्ड सेक्स लुब्रिकेंट्स

ऑइल बेस्ड सेक्स लुब्रिकेंट्स दो प्रकार के होते हैं: नेचुरल और सिंथेटिक (मिनरल ऑइल या वैसलीन)। आमतौर पर, तेल-आधारित सेक्स ल्यूब उपयोग करने के लिए सुरक्षित होते हैं। ये सेक्स लुब्रिकेंट्स सस्ते और आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। नेचुरल बेस्ड सेक्स लुब्रिकेंट्स का उपयोग सिंथेटिक की तुलना में ज्यादा सेफ रहता है क्योंकि सिंथेटिक तेल आधारित स्नेहक काम तो अच्छी तरह से करते हैं, लेकिन ये वल्वा (vulva) को इर्रिटेट कर सकते हैं।

और पढ़ें : वर्जिन सेक्स या वर्जिनिटी खोना क्या है? समझें इससे जुड़ी बातें

वजाइनल मॉइस्चराइजर

वजाइनल मॉइस्चराइजर लंबे समय तक काम करते हैं जो क्रोनिक ड्राइनेस में मददगार होते हैं। ये उत्पाद उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो सेक्स के बिना भी योनि में सूखापन का अनुभव करते हैं। ये मॉइस्चराइजर वजाइनल लुब्रिकेंट्स के साथ भी उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं।

कुछ लोग योनि के सूखेपन को दूर करने के लिए नारियल के तेल का उपयोग भी करते हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि नारियल का तेल शरीर के अन्य भागों पर प्रभावी मॉइस्चराइजर की तरह काम है, लेकिन वजाइनल मॉइस्चराइजर के तौर पर इसके लाभों पर अभी रिसर्च की कमी है। लोगों को लेटेक्स कॉन्डम के साथ कोकोनट ऑइल का उपयोग करने से बचना चाहिए, क्योंकि यह लेटेक्स को कमजोर कर सकता है जिससे कॉन्डम अप्रभावी हो सकता है।

और पढ़ें : अब वो कॉन्डम के लिए खुद कहेंगे हां, जरा उन्हें भी ये आर्टिकल पढ़ाइए

एस्ट्रोजन क्रीम

एस्ट्रोजन आधारित क्रीम वजाइनल ड्राइनेस के इलाज में उपयोगी साबित हो सकती है। एस्ट्रोजन की कमी की वजह से होने वाली ड्राइनेस को कम करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, यह उन लोगों के लिए नहीं है, जो लोग एस्ट्रोजन को बियर नहीं कर पाते हैं। एस्ट्रोजन क्रीम का उपयोग करने के जोखिम और लाभों के बारे में डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

और पढ़ें : तरह-तरह के कॉन्डम फ्लेवर से लगेगा सेक्स लाइफ में तड़का

सेक्स लुब्रिकेंट्स चुनते समय ध्यान दें इन बातों पर

बेशक, सभी सेक्स स्नेहक एक जैसे नहीं बनाए जाते हैं। इसलिए, अपनी जरुरत के हिसाब से सेक्स लुब्रिकेंट्स चुनते समय ये याद रखें-

  • यदि आप सेक्स के दौरान वजाइना में सूखेपन से निपटने के लिए लुब्रिकेंट्स खरीद रहे हैं तो ग्लिसरीन फ्री लुब्रिकेंट्स चुनें। ऐसे में लंबे समय तक चलने वाले सिलिकॉन स्नेहक आपके लिए बेस्ट रहेंगे।
  • यदि आप यीस्ट इंफेक्शन से ग्रस्त हैं। तो आप ग्लिसरीन युक्त स्नेहक से दूर रहें। इसमें मौजूद कंपाउंड आपकी योनि को इर्रिटेट कर सकते है। ये गुड बैक्टीरिया को भी मार सकते हैं जिससे संक्रमण की संभावना हो सकती है।
  • यदि आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं तो ‘स्पर्म फ्रेंडली’ या ‘फर्टिलिटी फ्रेंडली’ सेक्स लुब्रिकेंट्स चुनें। कुछ रिसर्च से पता चलता है कि कुछ स्नेहक स्पर्म की गतिशीलता पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।
  • यदि आप कॉन्डम का उपयोग कर रहे हैं तो ऑइल बेस्ड सेक्स लुब्रिकेंट्स चुनने से बचें।
  • यदि आप सेक्स टॉय का उपयोग कर रहे हैं एक वाटर बेस्ड सेक्स लुब्रिकेंट्स का इस्तेमाल करें।
  • यदि आप शावर सेक्स का प्लान बना रहे हैं तो सिलिकॉन-आधारित स्नेहक (silicone-based lubricant) का उपयोग करें। क्योंकि शॉवरहेड के नीचे आते ही वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट्स काम करना बंद कर देते हैं।

और पढ़ें : A-Z सेक्स टर्मिनोलॉजी: सेक्स टर्म करते हैं परेशान तो ये डिक्शनरी आ सकती है काम

सेक्स लुब्रिकेंट्स (sex lubricants) का उपयोग कैसे करें?

सेक्स स्नेहक का प्रभावी ढंग से उपयोग करने का कोई “सही” या “गलत” तरीका नहीं है। लेकिन कुछ चीजें हैं जो आप इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कर सकते हैं:

  • स्टेनिंग न हो इसके लिए तौलिया बिछाकर ही सेक्स स्नेहक का इस्तेमाल करें।
  • उत्तेजना बढ़ाने के लिए फोरप्ले के एक हिस्से के रूप में सेक्स स्नेहक को शामिल करें।
  • पार्टनर या सोलो प्ले के दौरान पेनेट्रेशन से ठीक पहले सेक्स लुब्रिकेंट्स अप्लाई करें।
  • सेक्स लुब्रिकेंट्स अप्लाई करते समय जेंटल रहें।
  • पेनिस या सेक्स टॉय पर लुब्रिकेंट लगाएं।
    आवश्यकता के अनुसार आप इसे फिर से लगाएं।

और पढ़ें : बोल्ड अंदाज में हों पार्टनर के सामने न्यूड, तो सेक्स लाइफ में आएगा रोमांच

वजाइनल लुब्रिकेंट्स के नुकसान क्या हैं?

अधिकांश लोगों के लिए कमर्शियल लुब्रिकेंट्स सुरक्षित होते हैं। हालांकि, किसी किसी को कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं जिनमें शामिल हैं:

  • एलर्जी
  • त्वचा की जलन
  • यीस्ट इंफेक्शन
  • प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

वहीं, क्लीनिकल वजाइनल ड्राइनेस है तो कमर्शियल वजाइनल लुब्रिकेंट्स इस समस्या का इलाज नहीं कर सकते हैं। इसके लिए डॉक्टर से संपर्क करना ही बेहतर रहेगा।

और पढ़ें : सेक्स के बाद रोमांस पार्टनर्स को लाता है और करीब, अपनाएं ये टिप्स

योनि में सूखपेन की समस्या से राहत पाने के लिए

स्नेहन को बेहतर बनाने के लिए आप इन कुछ बातों पर ध्यान दें-

  • हाइड्रेट रहें,
  • सेक्स केवल तभी करें जब आप पूर्ण रूप से उत्तेजित हो,
  • फोरप्ले पर ज्यादा ध्यान दें,
  • सेक्स से पहले हस्तमैथुन करना,
  • हस्तमैथुन या सेक्स की आवृत्ति बढ़ाएं आदि।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

Recommended for you

लॉकडाउन में बढ़ी सेक्स टॉय की बिक्री

लॉकडाउन में बढ़ी सेक्स टॉय की बिक्री, एक सर्वे में सामने आई कई चौंकाने वाली बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जुलाई 23, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
ऑयल्ड सेक्स

सेक्स लुब्रिकेंट के रूप में ऑलिव ऑइल का इस्तेमाल करना होता है कितना सही?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
फिंगरिंग के बाद खून बहना

फिंगरिंग के बाद ब्लीडिंग के क्या कारण हो सकते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोकोनट ऑयल सेक्स ऑयल

क्या नारियल का तेल बेहतर सेक्स ऑयल है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें