इंसोम्निया के मिथक पर आप तो नहीं करते भरोसा? जानिए इनके फैक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

नींद नहीं आने की समस्या से कभी न कभी हर कोई जूझता है। नींद न आने की इसी समस्या को इंसोम्निया कहते हैं। एक-दो दिन से ज्यादा नींद परेशानी बने तो, आप किसी न किसी से सलाह लेना भी शुरू कर देते हैं। इन सलाहों को मानने से पहले जान लें कि क्या हैं इंसोम्निया के मिथ और फैक्ट? चूंकि मुफ्त की सलाहों में बहुत सी सलाहें ऐसी होती हैं, जो सही नहीं होती हैं। बहुत लोग इंसोम्निया से जुड़ी कुछ ऐसी बातों पर भरोसा कर लेते हैं, जो सच नहीं होते। ये केवल इंसोम्निया से जुड़े मिथक होते हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको इंसोम्निया से जुड़े मिथक के बारे में बताएंगे और साथ ही इसके फैक्ट्स पर भी नजर डालेंगे।

यह हैं इंसोम्निया के मिथक

1) शराब पीने से नींद आती है

इंसोम्निया के मिथक में ये बात भी आती है कि कुछ लोग सोचते हैं शराब पीने से नींद आती है। उनका मानना होता है कि यदि नींद नहीं आ रही है तो, शराब पीनी चाहिए। यह इंसोम्निया से जुड़ा मिथक है। शराब पीने से नींद आने लगती है लेकिन, शराब की वजह से नींद में बेचैनी या परेशानी भी होती है। कई बार नींद जल्दी टूट जाती है।

2) मानसिक परेशानी की वजह से होता है इंसोम्निया

यह सच है कि मानसिक असंतुलन या परेशानी के कारण इंसोम्निया की समस्या हो सकती है। लेकिन सिर्फ यही कारण नहीं हैं। बीमारी, दवाओं का असर, किसी तरह का दर्द जैसे कारणों की वजह से भी नींद की समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें : डिप्रेशन की वजह से रंगहीन हो गई है जिंदगी? इन 3 तरीकों से अपनी और दूसरों की करें मदद

3) टीवी, लैपटॉप आदि देखने से नींद आती है

यह बहुत बड़ा भ्रम है कि नींद न आ रही हो तो, लैपटॉप पर काम करें या टीवी देखें। दरअसल, ऐसा करने से आप और सक्रिय हो जाते हैं। इससे आपको नींद कम आती है। रोशनी और शोर के कारण मेला​टोनिन का स्तर भी कम हो जाता है। मेलाटोनिन एक तरह का हॉर्मोन है, जो नींद लाने में मदद करता है। माना जाता है कि यह अंधेरे में ज्यादा सक्रिय होता है। यदि आपको म्युजिक सुने बिना नींद नहीं आती है तो, कोशिश करें कि कोई रिलेक्सिंग म्यूजिक सुनें या कोई स्लीप एप डाउंलोड कर लें। इंसोम्निया के मिथक पर आप भरोसा न करें।

यह भी पढ़ें : स्लीपिंग सिकनेस (Sleeping Sickness) क्या है? जानें इसके लक्षण और बचाव उपाय

4) नींद की गोली से कोई नुकसान नहीं पहुंचता

पहले के बजाए आजकल की स्लीपिंग पिल सुरक्षित हैं लेकिन, यह याद रखना चाहिए कि दवाओं का साइड इफेक्ट भी हो सकता है। इसका सबसे बड़ा साइड इफेक्ट यह भी हो सकता है कि आप इन्हीं के भरोसे जीने लगते हैं। नींद की गोलियां अस्थायी तौर पर नींद में मदद कर सकती हैं लेकिन, यह नींद का उपचार नहीं कर सकती हैं। इसलिए नींद की गोलियां लेने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें। इंसोम्निया के मिथक में से एक है।

यह भी पढ़ेंसाउंड थेरिपी (Sound Therapy) क्या है?

5) दोपहर की झपकी नींद में मदद कर सकती है

कहा जाता है कि यदि आप दोपहर में एक नेप यानी झपकी ले लें तो, रातों को नींद अच्छी आती है। यह बात कुछ ही लोगों के लिए सही साबित हो सकती है। चूंकि कुछ लोग झपकी लेने के बाद रिफ्रेश महसूस करते हैं। वहीं जो लोग नींद की समस्या से परेशान हैं उनके लिए दोपहर की झपकी समस्या बन सकती है क्योंकि इसके बाद आपको रात को सोने में दिक्कत होती है। यह भी इंसोम्निया के मिथक में से एक है।

6) कम सोने को बना लें आदत

नींद नहीं आती तो, कई लोग सलाह देते हैं कि कम सोने को ही अपनी आदत बना लिया जाए। यह सरासर आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। आपको कम सोने की आदत हो सकती है, लेकिन आपके शरीर को यह आदत नहीं हजम होती है। कम सोने के कारण चीजों को याद रखने में दिक्कत हो सकती है। भरपूर नींद न सोने के कारण होने वाली थकान से वर्क परफोमेंस, एक्सिडेंट और अन्य बीमारियां की समस्या बढ़ सकती है। यह भी इंसोम्निया के मिथक में से एक है।

7) नींद की समस्या कुछ वक्त बाद खुद ठीक हो जाती है

जब तक आप यह नहीं जान लेते हैं कि आपको नींद क्यों​ नहीं आ रही है तब तक यह समस्या खत्म नहीं हो सकती। यदि आपको नींद नहीं आती, आधी रात यूं ही जागते हुए गुजर जाती है तो, हो सकता है कि आपको ​स्लीप डिसऑर्डर हो। इसलिए डॉक्टर से मिलकर सलाह लें। यह भी इंसोम्निया के मिथक में से एक है।

यह भी पढ़ें : जानें नींद से जुड़े कुछ रोचक तथ्य (Interesting Facts About Sleep)

 यह फैक्ट्स करेंगे मदद

1) नींद न आ रही हो तो, बिस्तर से बाहर निकलें

बार-बार करवट ही बदले जा रहे हों तो, बिस्तर से बाहर आकर कुछ पढ़ लेना या रिलेक्सिंग म्यूजिक सुन लेना फायदेमंद हो सकता है। बिस्तर में रहते हुए बार-बार समय देखने से अच्छा है कि थोड़ा टहल लें। नींद की कमी के कारण मोटापा, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज जैसी समस्याएं हो सकती हैं। यह भी इंसोम्निया के मिथक में से एक है।

2) खुद को सोने के लिए अभ्यस्त करें

सही समय में उठने और सोने के लिए आप अपने शरीर को अभ्यस्त कर सकते हैं। इसकी कुंजी समय पर सोना और उठना ही है। एक समय निर्धारित कर लें। सोने से करीब एक घंटे पहले किताब पढ़ें या गुनगुने पानी से नाहा लें। जो भी चीज आपको नींद दिलाए उसे नियमित रूप से करें।

3) एक्सरसाइज से नींद आती है

यह सच है कि एक्सरसाइज से नींद आती है। यदि आपको नींद न आने की दिक्कत है तो, कोशिश करें कि आप सोने से करीब दो या तीन घंटे पहले एक्सरसाइज करें। चूंकि कई एक्सरसाइज के कारण आपकी बॉडी सक्रिय हो जाती है। इससे आपकी बॉडी का तापमान भी बढ़ जाता है। इस तापमान को पूरी तरह उतरने में करीब छह घंटे लगते हैं। इस कारण सोने और एक्सरसाइज के बीच समय में अंतर रखें।

इंसोम्निया से जुड़ी समस्या किसी को भी हो सकती है। चाहे बच्चे हो या बड़ें। इसोम्निया का इलाज न खुद करें और न ही लोगों से पूछकर। कोशिश करें कि इंसोम्निया के मिथक और फैक्ट को अच्छी तरह टटोल लें और अपने डॉक्टर से जल्द से जल्द मुलाकात करें। तो अगर आप इंसोम्निया के मिथक पर शुरू से भरोसा करते आए हैं, तो इन्हें अपने दिमाग से निकला दें और बेहतर नींद के लिए आप ऊपर बताए गए टिप्स अपना सकते हैं।

और पढ़ें :-

क्या है पॉलिफेसिक स्लीप (Polyphasic Sleep)?

डायरी लिखने से स्ट्रेस कम होने के साथ बढ़ती है क्रिएटिविटी

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

अच्छी नींद के जरूरी है जानना ये बातें, खेलें और जानें

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Insomnia: अनिद्रा क्या है?

जानिए अनिद्रा क्या है in hindi, अनिद्रा के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Insomnia को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

ज्यादा सोने के नुकसान (Oversleeping) क्या हैं, क्या आपको भी है ज्यादा सोने की आदत? ज्यादा सोने से हो सकते हैं ये नुकसान, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। ज्यादा सोने के नुकसान in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्लीप, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

दाढ़ी से जुड़े रोचक तथ्य क्या हैं?

दाढ़ी-मूंछ के बारे में हैरा कर देने वाले फैक्ट्स यहां पढ़ें। आदमी अपने पूरे जीवनकाल में कभी भी शेव (shaving) न करे तो उसकी दाढ़ी बढ़ते-बढ़ते लगभग 27.5 फीट लंबी हो सकती है। दुनिया में सबसे लंबी दाढ़ी पंजाब में रहने वाले शमशेर..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
फन फैक्ट्स, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

नींद की गोलियां (Sleeping Pills): किस हद तक सही और कब खतरनाक?

नींद की गोली का उपयोग, साइड इफेक्ट्स, इस्तेमाल, बचाव आदि की जानकारी पढ़ें इस आर्टिकल में। साथ ही जानें कि बिना स्लीपिंग पिल्स के कैसे अच्छी नींद पाई जा सकती है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
स्लीप, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 10, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेडिक्लोरील

Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों को नींद न आना-bacho-ko-neend-na-aana

बच्चों को नींद न आना नहीं है मामूली, उनकी अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
नींद की गोली

इंसोम्निया में मददगार साबित हो सकती हैं नींद की गोली!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
प्रकाशित हुआ मई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
mood swings-मूड स्विंग्स

Quiz: मूड स्विंग्स से जुड़ी ये जरूरी बातें नहीं जानते होंगे आप, क्विज खेलें और बढ़ाएं अपना ज्ञान

के द्वारा लिखा गया Mona Narang
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 13, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें