World Toilet Day: टॉयलेट हाइजीन के लिए अपनाएं ये टिप्स

हर साल 19 नवंबर को वर्ल्ड टॉयलेट डे (World Toilet Day) मनाया जाता है। दुनिया भर में सेनिटेशन की दिक्कत को दूर किया जा सके और सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल (SDG) 6 के लक्ष्य को पाया जा सके वर्ल्ड टॉयलेट डे को इस उद्देश से मनाया जाता है। इस साल वर्ल्ड टॉयलेट डे की थीम भी लीवींग नो वन बिहाइंड (Leaving no one behind) है। एक अनुमान के मुताबिक, दुनिया भर में 4.2 बिलियन लोगों के पास अब भी शौचालय की सुविधा नहीं है। वहीं सेनिटेशन की सही व्यवस्था न होने पर कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं खड़ी होती हैं।

हानिकारक सूक्ष्म जीवों के लिए टॉयलेट एक हॉटस्पॉट है। वे फर्श, नल, टॉयलेट सीट, दरवाजों, हेण्डल्स, वॉश बेसिन्स आदि जगहों पर हो सकते हैं। गंदा और अस्वच्छ टॉयलेट विभिन्न संक्रमणों जैसे टायफाइड, कॉलेरा, हेपेटाईटिस एवं पेरासाईट इन्फेक्शन सहित अन्य नुकसानदेह बीमारियों का स्त्रोत बनता है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए टॉयलेट की स्वच्छता आवश्यक है।

यह भी पढ़ें:World Toilet Day: वर्ल्ड टॉयलेट डे की इस साल थीम है ‘लीवींग नो वन बिहाइंड’, भारत में क्या कहते हैं आंकड़ें

टॉयलेट हाइजीन में टॉयलेट एरिया को साफ रखने के साथ ही अन्य स्वास्थ्यकर आदतें भी शामिल होती हैं, जैसे की हाथ धोना। यहां टॉयलेट हाइजीन के लिए उपयोगी कुछ सुझाव दिए जा रहे हैं, जिनसे इन्फेक्शन ट्रांसमिशन का खतरा कम होता है।

– टॉयलेट के उपयोग के बाद अपने हाथों को साबुन और पानी की सहायता से अच्छे से साफ करें।

– नल, दरवाजों, हेण्डल्स, टॉयलेट सीट्स आदि को सीधे हाथ लगाने से बचें, इसके लिए आप टिशु या टॉयलेट पेपर का उपयोग कर सकते हैं।

टॉयलेट फ्लश हेण्डल, डॉर हेण्डल, नल, लाईट स्विच, टॉयलेट सीट्स आदि को कीटाणुनाशक का उपयोग कर साफ करें।

– किसी भी प्रकार के कूड़े को डस्टबिन में ही डालें।

– सुनिश्चित करें कि शौचालय में हवा आती रहे।

– मजबूत कीटाणुरोधी क्षमता वाले अच्छी क्वालिटी के क्लिनिंग प्रोडक्ट्स से नियमित रूप से टॉयलेट की सफाई करें, ताकि सूक्ष्म जीवाणु और दाग साफ हो जाएं।

– टॉयलेट फ्लोर पर अपने बेग या फोन न रखें, खासकर सार्वजनिक शौचालयों में।

यह भी पढ़ें: टॉयलेट से ही होती है स्वच्छता की शुरुआत, जानें एक्सपर्ट की नजर में स्वच्छता कैसे स्वतंत्रता से भी ज्यादा जरूरी?

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख नवम्बर 19, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया नवम्बर 19, 2019

डॉ. के.के अग्रवाल सीनियर फिजिशियन, कार्डियोलोजिस्ट

पद्म श्री सम्मानित डॉ. के के अग्रवाल सीनियर फिजिशियन, स्पिरिचुअल राइटर और मोटिवेशनल स्पीकर भी हैं। डॉ. के के अग्रवाल इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के नेशनल प्रेसिडेंट भी रह चुके हैं। साथ ही वे हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के फाउंडिंग ट्रस्टी और प्रेसिडेंट हैं। वर्तमान में डॉ. के के अग्रवाल मूलचंद मेडसिटी में सीनियर फिजिशियन, कार्डियोलोजिस्ट और डीन बोर्ड ऑफ मेडिकल एजुकेशन के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

और देखें
नए लेख