अस्पताल से इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ आ जाते हैं कीटाणु भी, ऐसे करें साफ

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 6, 2019
Share now

टैबलेट और स्मार्टफोन से लेकर लैपटॉप तक हर तरह के इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस आज हॉस्पिटल के भी महत्वपूर्ण हिस्से बन गए हैं। लेकिन, इनका अस्पताल में प्रयोग  स्वच्छता संबंधी चुनौती भी बनता जा रहा है। ये सारे डिवाइस एक रोगी के कमरे से दूसरे कमरों में ले जाते हैं। इसके अलावा अस्पतालों में मौजूद रोगाणु अलग-अलग हाथों से छुए जाते  हैं और अलग-अलग जगह पहुंच जाते हैं। शोध से पता चलता है कि ऐसे उपकरण अक्सर पैथोजन बैक्टीरिया और दूसरे माइक्रोऑर्गेज्म से संक्रमित होते हैं, जिनसे आप इंफेक्शन का आसानी से शिकार हो सकते हैं।

ये भी पढ़ें- सिगरेट की जगह इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पीने वाले हो जाएं सावधान

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक्स की अस्पतालों में ऐसी चीजों में गिनती की जाती है, जो त्वचा के संपर्क में तो आते हैं, लेकिन म्यूकस मेंम्बरेन के संपर्क में नहीं आते। दूसरी जरुरी उपकरणों के मुकाबले इनको साफ करने के लिए सेंट्रल प्रोसेसिंग एरिया में भेजने की जरुरत नहीं होती। आज हम आपको बताएंगे कि क्यों इन्हें भी साफ करने के लिए डिसइंफेक्टेंट का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

अस्पताल में हर तरह के मरीज होते हैं और घर में या अपने दोस्त या परिजनों से मिलने के लिए हमें भी कभी ना कभी अस्पतालों के चक्कर लगाने पड़ते हैं। लेकिन हम छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान नहीं देते जो हमें बीमार कर सकती है।

ये भी पढ़ें- ई-सिगरेट की बिक्री, उत्पादन, विज्ञापन पर लगा पूर्ण प्रतिबंध

कैसे करें इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को साफ 

कीटाणुनाशक वाइप्स का उपयोग करें। वाइप्स किसी डिवाइस को बिना नुकसान पहुंचाए उसे ठीक से कीटाणुरहित कर सकते हैं। आमतौर पर डिवाइस के यूजर गाइड में इसके बारे में जानकारी उपलब्ध होगी। आप कुछ ब्रांडों के बारे में अपनी सुविधा के लिए संक्रमण और रोकथाम नियंत्रण के एक्सपर्ट से भी संपर्क कर सकते हैं। प्री-सेचुरेटेड वाइप्स को कपड़े या रेशेदार मैटेरियल के साथ स्प्रे करने से यह बेहतर ढ़ंग से काम करता है।

एक अच्छे कीटाणुनाशक में ये सारी खूबियां होनी चाहिए: 

  • अधिक से अधिक रोगाणुओं को मारने में सक्षम
  • जल्द असर करने वाला
  • ऑर्गेनिक मैटेरियल (जैसे, खून, थूक, मल) के लिए सक्रिय 
  • कम जहरीला
  • कपड़े, रबर, प्लास्टिक, और मैटल पर जंग-रोधक
  • जिस सतह पर इससे सफाई हो वहां पर लंबे समय तक सुरक्षा की लेयर रहनी चाहिए
  • स्पष्ट निर्देशों के साथ उपयोग करने में आसान
  • गंधहीन, किफायती और पर्यावरण के अनुकूल

ये भी पढ़ें- घर पर आसानी से करें फ्रिज की सफाई, अपनाएं ये घरेलू उपाय

कैसे इस्तेमाल करेंः 

हाथ की सफाई करेंः किसी भी डिवाइस को कीटाणुरहित करने से पहले आपको अपने हाथों को धोना चाहिए और साफ दस्ताने पहनने चाहिए। डिवाइस पर किसी भी तरह की डस्ट को साफ करने से पहले भी आपको हाथ की सफाई करनी चाहिए, जो आपको डिसइंफेक्टेंट इस्तेमाल करने से पहले करना चाहिए।

ऊपर से शुरू करेंः कंप्यूटर के लिए डिस्प्ले मॉनिटर से शुरू करें और कीबोर्ड और माउस के बाद केबल को साफ करें। ध्यान रखें कि आपके द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे वाइप्स गीले रहें और याद रखें कि कीबोर्ड प्रोटेक्टर भी डिसइंफेंक्टेंट करें। फोन और टैब के चार्जर को भी अनदेखा न करें उसे भी साफ करें। 

ये भी पढ़ें- जानें सफाई और कुकिंग के लिए नींबू के फायदे

वाइप पर दिए गए निर्देशों को फॉलो करेंः  वाइप पर दिए गए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। जिस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए जितना समय हो उतने समय तक ही सफाई करें। ध्यान रखें कि साफ करने के दौरान वाइप में नमी बने रहे और अगर जरुरत पड़े तो दूसरे वाइप्स का इस्तेमाल करें। जब आप किसी डिवाइस को साफ कर लें तो डिवाइस को हवा में सूखने दें। अपने दस्ताने हटा दें और अपने हाथों को फिर से धो लें।

  • इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का उपयोग करने से पहले और बाद में अच्छी तरह से हाथ की सफाई करें।
  • आईटी उपकरण का उपयोग करते समय दस्ताने पहनने से बचें।
  • उन वस्तुओं को सुरक्षित रखें जो साफ करने योग्य आवरणों के साथ कीटाणुरहित करना मुश्किल है।
  • कीबोर्ड और दूसरे उपकरणों को साफ करने के लिए कंप्रेस्ड एयर उपयोग न करें।

इसके अलावा सिर्फ हमें ही नहीं बल्कि डॉक्टर्स और अस्पताल के स्टाफ को भी निश्चित रूप से अस्पताल में इलेकट्रॉनिक डिवाइस की सफाई के लिए जिम्मेदार होना चाहिए। जिस तरह से वे सक्रिय रूप से रोगियों में इंफेक्शन को कम करने की कोशिश करते हैं। लेकिन इस प्रोटोकॉल को विकसित और लागू करने के लिए उच्च-स्तरीय कर्मचारियों की जिम्मेदारी अहम है। 

और पढ़ें- होटल में आपके साथ हो सकते हैं अनचाहे मेहमान, साथ लाते हैं एलर्जी

बेबी केयर के लिए 10 टिप्स जो हर पेरेंट को जानना है जरूरी

भारत में इस साल 67 हजार डेंगू के मामले रिकॉर्ड, जानें इससे बचाव के तरीके

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    एसेंशियल ऑयल के फायदे बेशुमार तो होते हैं कुछ नुकसान भी

    एसेंशियल ऑयल के फायदे क्या हैं? रोज, लेमन, जैस्मिन, चमेली, टी ट्री एसेंशियल ऑयल के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं? एसेंशियल तेल के नुकसान भी हो सकते हैं जैसे एलर्जी रिएक्शन, अस्थमा अटैक....essential oils benefits and side effects in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    नेचुरल डिजास्टर से स्वास्थ्य पर पड़ता है बुरा असर, हो सकती हैं कई बीमारियां

    प्राकृतिक आपदा में स्वास्थ्य बुरी तरह प्रभावित होता है। नेचुरल डिजास्टर के बाद बीमारियों से बचने के उपाय। ...natural disaster's health affects on human

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Shikha Patel

    बच्चाें में हेल्दी फूड हैबिट‌्स को डेवलप करने के टिप्स

    बच्चाें में हेल्दी फूड हैबिट‌्स का विकास कैसे करें? बेहतर और स्वस्थ खाना को चिन्हित करें... बच्चों को स्वस्थ खाना के प्रति ऐसे करें आकर्षित....

    Medically reviewed by Dr. Abhishek Kanade
    Written by Nikhil Kumar

    मोबाइल का बच्चों पर प्रभाव न पड़े बुरा, इसके लिए अपनाएं ये टिप्स

    दुनिया भर में कम उम्र के बच्चे मोबाइल और गैजेट के आदि बन रहे हैं। जिसके कारण बच्चे कई तरह की मानसिक परेशानियों से घिरते हैं। मोबाइल का बच्चों पर प्रभाव, बच्चों को मोबाइल से दूर कैसे रखें? इसके लिए पढ़ें ये टिप्स....

    Written by Nikhil Kumar