डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा: शुगर कंट्रोल के साथ वेट भी कम करे!

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा: शुगर कंट्रोल के साथ वेट भी कम करे!

    डायबिटीज (Diabetes) के मरीज क्या खाते हैं और क्या नहीं, यह दोनों ही बाते बहुत महत्वूपर्ण हैं। यदि डायबिटीज के मरीजों की डायट में हल्की सी गड़बड़ी भी आ गई, तो इसका सीधा प्रभाव उनके ग्लूकोज लेवल (Glucose level) पर पड़ता है। शरीर में जब इंसुलिन हाॅर्मोन (Insulin hormone) का स्राव कम होता है, तब इस स्थिति को टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) कहते हैं। इसके होने के कई कारण हो सकते हैं। वैसे तो डायबिटीज एक लाइफस्टाइल डिजीज (Lifestyle disease) है और इसके मरीजों को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। आइए जानते हैं कि डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा (Flour For Diabetes-Patients) कौन सा बेस्ट होता है। सही आटे का चुनाव उनकी हेल्थ को भी बनाए रखने में मददगार है।

    डायबिटीज के मरीज जितना अपने डायट को हेल्दी और समय पर लेकर चलेंगे, उतना ही उनके लिए अच्छा है। डायबिटीज (Diabetes) वालों की खानपान में जो सबसे महत्वपूर्ण बात है, वो यह भी है कि वो कौन से आटे का सेवन कर रहे हैं। गूंहे के आटे से भी कई बार डायबिटीज की समस्या बढ़ सकती है। इसी के साथ यह भी जानें कि डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा (Flour For Diabetes Patients) कैसा हो:

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा : 5 फायदेमंद ऑप्शन (Flour For Diabetes-Patients)

    डायबिटीज के मरीजों को अपने खानपान में आटे का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। उन्हें गूहें के आटे की जगह दूसरे अन्य आटे का चुनाव करना चाहिए। इससे उनका शुगर के लेवल को कंट्रोल होने में मदद मिलती है। इसकी के साथ यह कई दूसरी बीमारियों के उपचार में भी प्रभावी है। जानिए इसके बेनेफिट्स के बारे में:

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा : जौ का आटा (Barley flour)

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा कौन सा फायदमेंद है, उसमें जौ का आटा भी शामिल है। इसमें जौ का आटा भी शामिल है। यह डायबिटीज वालों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसमें कई जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जैसे विटामिन (Vitamins), फाइबर (Fiber) और मैग्नीशियम (Magnesium) आदि। डायबिटीज के मरीजों के लिए जौ के आटे (Barley Flour) के सेवन के अनेक फायदे हैं। शुगर के मरीजों के शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन नहीं हो पाता है। जौ के आटे में मौजूद फेलोलिक्स (Felolix) और बीटा-ग्लूकेन (Beta-glucan) ब्लड में शुगर कम करने के लिए लाभकारी माना जाता है। तो ऐसे में जौ का आटा, शरीर में इंसुलिन के निमार्ण के कारकों में से एक है और यह मदद करता है।

    अगर अन्य जरूरी पोषक तत्वों की बात करें, तो इसमें प्रोटीन (Protein), कार्बोहायड्रेट (Carbohydrate), आयरन (Iron) और कैल्शियम (Calcium) जैसे पोषक तत्व पाये जाते हैं। जौ के आटे का सेवन डायबिटीज के अलावा अन्य कई डिजीज के इलाज में भी फायदेमंद है, जैसे कि ब्लड प्रेशर (Blood Pressure), पेट की प्रॉब्लम, हार्ट (Heart) और मोटापा (Obesity) जैसी कई समस्याओं में। यह शरीर में रोग प्रतिरोधिक क्षमता (Immunity Power) को भी बढ़ाता है। जौ में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं, जो इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार हैं। इसका सेवन रोज किया जा सकता है।

    और पढ़े:डायबिटीज टाइप 2 रिवर्सल के लिए सिर्फ 2 बातों को जानना है जरूरी

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा : कुट्टू का आटा (Buckwheat flour)

    वैसे तो अधिकतर लोग कुट्टू का आटा व्रत में खाते हैं, लेकिन क्या आपको यह पता है कि यह डायबिटीज वालों के लिए कितना फायदमेंद है। शुगर (Diabetes) वालों को गंहू के आटे की जगह इसे अपने डायट (Diet) में शामिल करना चाहिए। डायबिटीज के अलावा यह ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) और अस्थमा (Asthma) जैसे कई रोगों में फायदेमंद है। यह ब्लड शुगर के लेवल को मैनेज करता है और यह शुगर को कंट्रोल में रखता है। इसके सेवन से शरीर में इंसुलिन (Insulin) का स्तर कंट्राेल में रहता है। इसमें प्रोटीन (Protein), मैग्नीशियम (Magnesium), फाइबर (Fiber) और आयरन (Iron) जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसके सेवन से पाचन तंत्र भी अच्छा बना रहता है, इसके अलावा इसके और भी कई स्वास्थ्य लाभ (Health Benefits) है। यह वेट लॉस में भी काफी प्रभावकारी है।

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा: रागी का आटा (Ragi flour)

    रागी के आटे का सेवन कई रोगों के उपचार (Treatment) में काफी फायदेमंद माना जाता है। रागी के आटे में पॉलीफेनोल (Polyphenols) और फाइबर (Fiber) की हाय मात्रा पायी जाती है। इसके अलावा रागी में फाइटोकेमिकल्स (phytochemicals) भी मौजूद हैं, जो खाने को पचाने की प्रक्रिया को धीमा करने के साथ इंसुलिन (Insulin) के निमार्ण में भी साहयक है। इसके अलावा इसमें कैल्शियम (Calcium), फाइबर (Fiber), प्रोटीन (Protein), आयरन (Iron), मिथियोनिन (Methionine) और ट्रिपटोफैन (Tryptophan) आदि पाया जाता है। फाइबर के गुणों से भरपूर रागी का आटा डायबिटीज की समस्या में काफी असरदार साबित हो सकता है। यह डायजेस्टिव सिस्टम के लिए भी अच्छा माना जाता है।

    और पढ़े:डायबिटीज की वजह से हो सकती है हियरिंग लॉस की समस्या, यकीन नहीं होता तो पढ़िए यह लेख!

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा: बेसन (Gram flour)

    बेसन के आटे को डायबिटीज वालो के लिए वरदान कह सकते हैं। डायबिटीज के रोगियों का शरीर काफी कमजोर हो चुका होता है। इससे और भी कई बीमारियों को खतरा बढ़ जाता है। तो ऐसे बेसन के सेवन के कई बेनिफिट्स देखे गए हैं। इसमें प्रोटीन (Protein) की भी उच्च मात्रा पायी जाती है। यह डायबिटीज के अलावा हार्ट की प्रॉब्ल्म (Heart Problem), एनीमिया (Anemia) और ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) जैसे कई रोगों को दूर करती है। इसके अलावा जैसा कि बेसन में प्रोटीन अधिक होता है और इसमें लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स ( Low glycemic index) होता है, जिसके भी कई बेनेफिट्स है। इसीलिए जो लोग वेट लॉस (Weight Loss) कर रहे हैं, उनके लिए यह फायदेमंद साबित हो सकता है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण यह देर से ब्लड में पहुंचती है और शुगर का स्तर तेजी से बढ़ता नहीं है।

    और पढ़ें: आप में होने वाले मेमोरी लॉस का कारण हो सकती है डायबिटीज की समस्या, जानें दोनों में क्या है संबंध!

    डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा : राजगिरा का आटा (Rajgira Flour)

    राजगिरा का सेवन डायबिटीज से बचे रहने के लिए भी किया जा सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन में पता चला है कि राजगिरी में कई ऐसे एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं, जो डायबिटीज कंट्रोल करने के साथ शरीर को कई गंभीर रोग से बचाता है। इस आटे का सेवन हायपरग्लाइसीमिया (हाई ब्लड शुगर) को ठीक करने और मधुमेह के जोखिम को रोकने में फायदेमंद है।

    इस तरह से आपने जाना कि डायबिटीज के मरीजों के लिए आटा कौन सा फायदेमंद है और कोन से आटे का सेवन नहीं करना चाहिए, यह आपने जाना। डायबिटीज के रोगियों को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उनकी छोटी सी गलती भी उन पर भारी पड़ सकती है। यदि इनमें से किसी आटे के सेवन को आपको किसी प्रकार की एलर्जी है, तो आपको इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

     

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. अर्पिता सी राज

    आयुर्वेदा · क्लीनिकल


    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/09/2021

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement