home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

वेट लॉस स्टोरी : ‘सोचा था कि अब जिम की कभी शक्ल भी नहीं देख पाउंगा'

वेट लॉस स्टोरी : ‘सोचा था कि अब जिम की कभी शक्ल भी नहीं देख पाउंगा'

कहते हैं कि अगर इरादा बुलंद हो तो कोई भी मुश्किल आपको मंजिल तक पहुंचने से नहीं रोक सकती। कुछ ऐसा ही दीपक खुराना के साथ हुआ। वे फिटनेस के प्रति काफी सजग हैं। उनकी वेट लॉस स्टोरी आज के दौर में हर व्यक्ति के लिए एक प्रेरणा का स्रोत है। नियमित एक्सरसाइज करना उनके रूटीन में शामिल है लेकिन, कुछ समय पहले उन्हें ऐसा लगा कि वे अब कभी जिम नहीं जा पाएंगे और हमेशा फिट रहने का उनका सपना पूरा नहीं होगा। दीपक ने मुश्किलों का सामना किया लेकिन, फिटनेस के प्रति अपने लगाव को कम नहीं होने दिया। हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए उन्होंने बताया कि कैसे उन्होंने बीमारी के बाद भी खुद को जिम जाने और फिट रहने के लिए प्रेरित किया। उनकी इस वेट लॉस स्टोरी के बारे में जानकर दूसरे लोगों को भी वजन कम करने में प्रेरणा मिलेगी।

और पढ़ें : अपर बॉडी में कसाव के लिए महिलाएं अपनाएं ये व्यायाम

पढ़िए दीपक की वेट लॉस स्टोरी

कमर में चोट के कारण छोड़ना पड़ा था जिम

दीपक खुराना वेट लॉस स्टोरी में बताते हैं कि लगभग डेढ़ साल पहले स्क्वैट्स (एक तरह की एक्सरसाइज) करते वक्त कमर में चोट आ गई थी। ”उस वक्त मैं 120 किलोग्राम वजन उठा रहा था। पॉश्चर सही न होने और बिना किसी की मदद लिए भारी वजन उठाना महंगा पड़ गया। डॉक्टर ने सीधे बेड रेस्ट की सलाह दे दी। इसी के चलते मुझे जिम जाना छोड़ना पड़ा।” इस चोट से उबरने में उन्हें लंबा वक्त लग गया। जब कमर की चोट ठीक हुई तो पता चला कि उन्हें थायरॉइड हो गया है।

एक्सरसाइज न करने की चुकानी पड़ी कीमत

खुराना का वेट लॉस स्टोरी में कहना है कि पिछले साल उन्होंने खून की जांच कराई। डॉक्टर ने बताया कि उन्हें थायरॉइड हो गया है। उनका कहना है कि कमर में लगी चोट के चलते नियमित एक्सरसाइज न कर पानी की वजह से मुझे थायरॉइड हुआ है।

और पढ़ें: खुल गया सारा के वेट लॉस का राज, फिटनेस डॉक्टर ने किया खुलासा

कम नहीं हुआ फिट रहने का जज्बा

उनका वेट लॉस स्टोरी में कहना है कि इस बीमारी के चलते एक्सरसाइज को लेकर मेरा जोश और बढ़ गया। ‘ मैं प्रतिदिन सुबह आठ बजे जिम जाता हूं। एक से डेढ़ घंटा जिम में पसीना बहाने के बाद हेल्दी डायट लेता हूं। फिर दफ्तर का काम संभालता हूं।’

दीपक अपनी वेट लॉस स्टोरी में बताते हैं कि हमें अपनी डायट को लेकर हमेशा जागरुक रहना चाहिए। हम क्या खा रहे हैं? वह कितना स्वास्थ्यवर्धक है? इन चीजों के बारे में जानना बेहद जरूरी है। उनका कहना है कि हमें कोशिश करनी चाहिए कि हम हेल्दी खाना खाएं।

और पढ़ें : इस बॉल से करें एक्सरसाइज, मोटापा होगा कम और बाजु भी आएंगे शेप में

6 महीने में घटाया 15 किलो वजन

दीपक का वेट लॉस स्टोरी में कहना है कि उनका वजन 105 किलोग्राम था। नियमित एक्सरसाइज से वजन घटकर 90 किलोग्राम तक आ गया। उन्होंने लगभग छह महीने में 16-17 किलो वजन कम कर लिया। वे बताते हैं कि, ”कमर में चोट आने पर एक पल के लिए लगा कि अब शायद ही जीवन में जिम जा पाऊंगा। उसके बाद रही सही कसर थायरॉइड ने पूरी कर दी लेकिन, मैंने हार नहीं मानी। मुझे जिम वापस आना था और वजन घटाकर खुद को फिट बनाना था। अब वेट लॉस करके बहुत खुश हूं। वजन कम करने से थायरॉइड के लेवल में भी असर दिख रहा है।

और पढ़ें: मोटापा छुपाने के लिए पहनते थे ढीले कपड़े, अब दिखते हैं ऐसे

अपनी वेट लॉस स्टोरी बताने के साथ ही दीपक ने कुछ टिप्स भी दिए। जानतें हैं उनके बारे में।

पॉश्चर को लेकर लोग रहें सतर्क

दीपक का वेट लॉस स्टोरी में कहना है कि लोगों को एक्सरसाइज करते वक्त हमेशा बॉडी पॉश्चर का ध्यान रखना चाहिए। कई बार हम लोग जोश में आकर क्षमता से ज्यादा वजन उठा लेते हैं। इसके चलते शरीर का पॉश्चर गड़बड़ हो जाता है और हम चोटिल हो जाते हैं। जिम में वजन उठाते वक्त खास ध्यान रखना चाहिए। यदि आसपास कोई न हो तो हमें उतना ही वजन उठाना चाहिए जितनी हमारी क्षमता है।

कई बार युवा बॉडी बनाने के चक्कर में अपनी क्षमता से ज्यादा वजन तो उठाते हैं और अपना पॉश्चर भी गलत रखते हैं। इसके चलते उन्हें चोट लगने की संभावना ज्यादा रहती है।

और पढें : जानें कैसा होना चाहिए आपका वर्कआउट प्लान!

सप्लिमेंट्स को लेकर लोग बदलें नजरिया

दीपक खुराना का वेट लॉस स्टोरी में कहना है कि , ‘आज हम एक भागदौड़ भरी जिंदगी जी रहे हैं। ऐसे में समय में सही डायट ले पाना बेहद ही चुनौतीपूर्ण होता है। ऐसी स्थिति में प्रोटीन सप्लिमेंट्स हमारे लिए मददगार साबित होते हैं। कम समय में आप इनका सेवन आसानी से कर सकते हैं। जिसमें पर्याप्त मात्रा में कैलोरी और प्रोटीन मिलता है।

लोगों के दिमाग में प्रोटीन सप्लिमेंट्स को लेकर कई वहम हैं। मुझे लगता है कि उन्हें प्रोटीन सप्लिमेंट्स को लेकर अपनी राय बदलनी चाहिए। इनका इस्तेमाल सिर्फ बॉडी बनाने में ही नहीं बल्कि फिट रहने में भी किया जा सकता है।

फैट से फिट होने का तरीका, इन बातों का रखें ध्यान

आपको वेट लॉस जर्नी के बारे में पढ़कर एक बात तो समझ आ गई होती कि वेट घटाने के लिए खानपाना में अनुशासन बहुत जरूरी है। अगर आप अपनी रेगुलर डायट में कुछ चेंजेस लाते हैं तो आपका वजन कम हो सकता है।

  • भूख मिटाने लिए खाने में सिर्फ वही फूड न शामिल करें जो आपको पसंद हो, बल्कि ऐसा आहार लें जो बैलेंस्ड हो। खाने में प्रोटीन, विटामिन्स, कार्बोहाइड्रेट, फैट आदि को शामिल करें।
  • खाना एक साथ बहुत ज्यादा न खाएं बल्कि दो घंटे के अंतराल में खाएं। दिन में ब्रेकफास्ट लंच और डिनर के अलावा भी आप टाइम स्लॉट को बांटे और करीब 6 से सात बार बड़े एंव छोटे मील लें।वेट लॉस के दौरान पानी की भी अहम भूमिका होती है। आप दिन की शुरूआत नींबू पानी के साथ करें। आप चाहे तो उसमे थोड़ा सा शहद भी मिला सकते हैं। नाश्ते में आप फाइबर से भरपूर फूड ले सकते हैं। नट्स और फ्रूट्स को भी नाश्ते में शामिल करें।
  • खाने में आप दही, सलाद को जरूर शामिल करें। दही पाचन को सही रखने के साथ ही प्रोटीन, कैल्शियम भी प्रदान करता है। आपको अगर लंच के कुछ समय बाद भूख लगती है तो आप फ्रूट्स सलाद भी बनाकर खा सकते हैं।
  • अक्सर लोग ऑफिस में टिफिन में सब्जी और रोटी ले जाते हैं और फिर भूख लगने पर फास्ट फूड खाते हैं। ऐसे करमे से आपको वजन में नियंत्रण करने में दिक्कत होगी। वजन कम करने का मतलब कम खाना नहीं होता है, बल्कि बैलेंस्ड डायट लेना होता है।
  • आपको प्रोटीन डायट के साथ प्रोटीन सप्लीमेंट की जरूरत है या फिर नहीं, इस बारे में डॉक्टर से जरूर सलाह लें। बिना जानकारी या सलाह के प्रोटीन सप्लीमेंट न लें।
  • अगर आप ग्रीन टी का सेवन करते हैं तो ये आपके मेटाबॉलिज्म पर अच्छा असर डालेगी। अगर आप गर्म पानी का सेवन करेंगे तो ये भी आपके लिए अच्छा रहेगा।
  • खाने के साथ ही आपको स्वीट में भी कंट्रोल करने की जरूरत है। कुछ लोगों को दिन में चार से पांच बार मीठा खाने आदत होती है, वहीं कुछ खाने के बाद मीठा जरूर खाते हैं। आप स्वीट, चॉकलेट या अधिक चीनी खाने से बचे क्योकिं ये भी आपका मोटापा बढ़ा सकती है।

और पढ़ें: प्रोटीन सप्लीमेंट (Protein Supplement) क्या है? क्या यह सुरक्षित है?

छुट्टियों में भी एक्सरसाइज की जा सकती है

खुराना का कहना है कि लोगों को छुट्टियों में भी वॉक या जॉगिंग का मजा उठाना चाहिए। कोशिश करें कि आप आसपास के जिम में जाकर कम से कम समय के लिए एक्सरसाइज करें। जिम न उपलब्ध होने पर पास के किसी पार्क में वॉक के लिए जरूर जाएं।

दीपक खुराना की वेट लॉस जर्नी से यह समझा जा सकता है कि अगर हमारा लक्ष्य निश्चित हो तो कठिनाओं के बावजूद भी हम उसे पा ही लेते हैं। जिम या एक्ससाइज के लिए सुबह जल्दी न उठ पाना, टाइम न मिलना ये सब मन को बहलाने वाले बहाने हैं। इसलिए अगर आप भी मोटापे से परेशान हैं और वजन घटाना चाहते हैं तो इस दिशा में छोटी ही सही शुरुआत कीजिए। दीपक की वेट लॉस स्टोरी से आपको एक सबक लेना चाहिए।

आशा है कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आपका वजन अधिक है तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप कुछ एक्सरसाइज और लाइफस्टाइल में बदलाव कर वजन कम कर सकते हैं। वेट लॉस कोई भी कर सकता है। एक बात का ध्यान रखें कि अगर आपको कोई हेल्थ कंडीशन है तो डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही वजन कम करें। हेल्थ कंडीशन के दौरान कई बदलाव पर भी ध्यान देना पड़ता है। अगर आपने ध्यान नहीं दिया हो सकता है कि आपको किसी प्रकार की समस्या का सामना कर पड़ जाए। इस स्थिति से बचने के लिए आप डॉक्टर के साथ ही एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। साथ ही आप हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Can I lose weight if my only exercise is walking?/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/weight-loss/expert-answers/walking/faq-20058345/Accessed on 12/12/2019

INTERESTED IN LOSING WEIGHT?. https://www.nutrition.gov/topics/healthy-living-and-weight/strategies-success/interested-losing-weight. Accessed on 27 August, 2020.

The Role of Exercise and Physical Activity in Weight Loss and Maintenance. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3925973/. Accessed on 27 August, 2020.

Physical Activity for a Healthy Weight. https://www.cdc.gov/healthyweight/physical_activity/index.html. Accessed on 27 August, 2020.

Weight loss and women. https://www.womenshealth.gov/healthy-weight/weight-loss-and-women. Accessed on 27 August, 2020.

लेखक की तस्वीर
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/05/2021 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x