हर्निया से बचाव का क्या है विकल्प?

Medically reviewed by | By

Update Date जून 15, 2020 . 4 mins read
Share now

हर्निया क्या है?

शरीर के किसी हिस्से का जरुरत से ज्यादा विकास होने पर हर्निया की बीमारी होती है। ऐसा शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। हालांकि हर्निया सबसे ज्यादा शरीर के अन्य हिस्सों के मुकाबले पेट पर होता है। जब पेट की मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं हर्निया की बीमारी धीरे-धीरे शुरू हो जाती है। यह महिला और पुरुषों दोनों में होने वाली समस्या है। हर्निया से बचाव संभव है लेकिन, जीवनशैली में कुछ बदलावों से आप इससे बचाव कर सकते हैं। यदि आपका हर्निया कॉनजेनाइटल है तो भी इसे नियंत्रित करने के लिए आप इन तरीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं। हर्निया ऐसी समस्या है जो किसी को भी हो सकती है इसका सटीक कारण बता पाना जरा मुश्किल है। चोट लगने या फिर सर्जरी के बाद घाव के न भर पाने की स्थिति में मांसपेशियों में से कुछ टिशू अपनी जगह से बाहर आ जाते हैं। ये टिशू उभार के रूप में एब्डोमेन में दिखाई देते हैं और इस स्थिति को ही हर्निया कहते हैं। 

हर्निया से बचाव के पहले यह कितने तरह का होता है ये जानते हैं।

इंग्वाइनल हर्निया

इंग्वाइनल हर्निया ज्यादातर थाई (जांघ) पर होता है। इंग्वाइनल हर्निया कारण अंडकोष में बदलाव होता है। हाइड्रोसिल की समस्या का कारण यही है।

अम्बिलिकल हर्निया

अम्बिलाइकल हर्निया ज्यादातर कमजोर मासपेशियां और अत्यधिक वजन वाले व्यक्तियों को होता है।

फीमोरल हर्निया

फीमोरल हर्निया की समस्या महिलाओं में ज्यादा होती है। फीमोरल हर्निया की स्थिति में पैरों में खून की कमी हो जाती है।

एपीगैस्ट्रिक हर्निया

एपीगैस्ट्रिक हर्निया सर्जरी वाले हिस्सों पर ज्यादा होता है। सर्जरी वाली स्किन ठीक होने के बाद भी हर्निया की समस्या हो सकती है।

ये भी पढ़ें: Eyelid Surgery : आइलिड सर्जरी या ब्लेफेरोप्लास्टी क्या है?

हर्निया से बचाव करने का तरीका क्या है?

अगर आपके पेट में दर्द है या फिर शरीर के किसी अंग में ( मूल रूप से शरीर के निचले भाग में ) असमान सूजन महसूस कर रहें है तो ये हर्निया हो सकता है। हर्निया से बचाव या इसे नियंत्रित करने के लिए हर्निया इन बातों का ध्यान रखना जरूरी है। 

हर्निया को नियंत्रित रखने के बहुत से तरीके हो सकते हैं जिनमें से कुछ तरीके नीचे दिए गए हैं। 

  • धूम्रपान न करें। 
  • बहुत तेजी से कफ करने से या फिर छींकने से बचें। इससे समस्याएं बढ़ सकती हैं। 
  • अपने वजन को नियंत्रित रखें। 
  • भारी सामान न उठाएं इससे टिशूज के अपनी जगह से बाहर आने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है। 
  • हल्की समस्या दिखने पर भी नजरअंदाज न करें अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। 
  • अपनी डायट में ज्यादा से ज्यादा फलों और सब्ज़ियों को डालें। इससे भी हर्निया को नियंत्रित रखने में सहायता मिलेगी। 
  • अगर आपको लगता है की आपको हर्निया की समस्या हो सकती है तो ज्यादा तनाव देने वाला वर्कआउट न करें। ज्यादा तनाव डालने से समस्या बढ़ सकती है। 
  • फाइबर पूर्ण खाना खाएं इससे पाचन से होने वाली समस्याओं में आराम मिलेगा। 
  • बढ़ती उम्र में अपना विशेष ख्याल रखें इससे सेहत सही रहेगी और मांसपेशियां मजबूत रहेंगी। 
  • हर्निया में या हर्निया की समस्या से बचने के लिए योग भी लाभकारी है

ये भी पढ़ें: Cholesteatoma surgery : कोलेस्टेटोमा सर्जरी क्या है?

हर्निया से बचाव के क्या हैं दूसरे विकल्प?

हर्निया से बचाव के लिए निम्नलिखित खाद्य पदार्थों से दूरी बनाये रखें। जैसे-

  • तला और भुना हुआ खाना न खाएं।
  • वसा (फैट) बढ़ाने वाला भोजन भी नहीं खाना चाहिए।
  • लाल मांस (रेड मीट) का सेवन न करें।
  • कैफीन जैसे चाय, कॉफी या हर्बल टी का सेवन ज्यादा न करें।
  • शराब से अन्य बीमारियों के साथ-साथ हर्निया की भी समस्या हो सकती है। इसलिए न पीएं।
  • चॉकलेट वैसे तो कुछ लोगों को बहुत पसंद है लेकिन, हर्निया के पेशेंट को चॉकलेट नहीं खाना चाहिए।
  • हर्निया से बचाव के लिए टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन न करें।
  • टॉफी नहीं खाना चाहिए।
  • खीरा और ककड़ी वैसे तो शरीर के लिए फायदेमंद होता है लेकिन, हर्निया से बचाव करना चाहते हैं तो खीरा और ककड़ी नहीं खाएं।
  • बहुत अधिक नमक वाला खाना खाने से बचें। इससे ब्लड प्रेशर बढ़ने के साथ-साथ हर्निया की भी परेशानी हो सकती है।
  • फास्ट फूड या जंक फूड न खाएं

इन ऊपर बताये गये टिप्स को फॉलो कर हर्निया से बचाव किया जा सकता है।

हर्निया से बचाव के लिए निम्नलिखित बातें ध्यान रखें। जैसे –

  • ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं  (एक दिन में 2 से 3 लीटर पानी पीना चाहिए)
  • एक बार में ज्यादा खाना न खाएं। अपनी पूरी डायट को छोटे हिस्सों में बाट दें।
  • अत्याधिक फाइबर युक्त खाना खाएं।
  • किसी भी तरह के व्यायाम से पहले खाना न खाएं।
  • प्रोबायोटिक्स लें।
  • धूम्रपान न करें।

ये भी पढ़ें: डायबिटीज की दवा दिला सकती है स्मोकिंग से छुटकारा

क्या कहती है हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट?

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट के अनुसार जब तक हर्निया आपके रोजमर्रा के कामों में बाधा नहीं डाल रहा है तब तक सर्जरी नहीं करवाएं। आप योग या फिर दवाओं की मदद से इस पर नियंत्रण पा सकते हैं या फिर हर्निया बेल्ट का भी उपयोग कर सकते हैं। यदि स्थिति बहुत अधिक गंभीर है तो डॉक्टर से मिलें और सर्जरी करवाएं। अगर आपकी सर्जरी हो चुकी हैं, तो ऐसी स्थिति में अपना विशेष ध्यान रखें।

सर्जरी के बाद कब डॉक्टर से जल्दी मिलना चाहिए?

  • घाव की जगह से खून आने पर या परेशानी महसूस होने पर
  • पेशाब करने में परेशानी होने की स्थिति में इसकी जानकारी डॉक्टर को दें
  • ऑपरेटेड जगह पर अत्याधिक दर्द होना और सर्जरी के 6 से 7 दिनों के बाद भी राहत नहीं मिल पाने पर
  • सर्जरी के बहुत ज्यादा या बार-बार बुखार आने पर डॉक्टर को संपर्क करें
  • ऑपरेटेड जगह से पस आने पर
  • सर्जरी के बाद ज्यादा कमजोरी महसूस होना
  • उल्टियां होना और जी मचलाना भी परेशानी को बढ़ा सकता है

ऊपर बताई गई परिस्थति में जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

इसके अलावा इन बातों का भी खास ख्याल रखें। जैसे-

  • ज्यादा तेजी से न खांसें।
  • झटके या तेजी से कोई भी काम न करें।
  • दवाएं समय पर लेते रहें और अपनी मर्जी से दवा बंद न करें।
  • अपनी दवाओं का टाइम टेबल सही तरीके से मानें।
  • समय -समय पर डॉक्टर से मिलकर जांच करवाते रहें।

अगर आप हर्निया के बचाव से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:-

Hernia : हर्निया रिपेयर सर्जरी क्या है?

हर्निया का इलाज कैसे करें?

सफर में उल्टी आना हो सकता है मोशन सिकनेस की वजह से, जानें

मेडिकल स्टोर से दवा खरीदने से पहले जान लें जुकाम और फ्लू में अंतर

नाभि में तेल लगाने के अलग-अलग फायदें जिसके बारे में जानना है जरुरी

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Esophageal varices: एसोफैगल वैरिस क्या है?

जानिए एसोफैगल वैरिस क्या है in hindi. एसोफैगल वैरिस की समस्या क्यों होती है? Esophageal varices का इलाज कैसे किया जाता है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 8, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Anemia chronic disease: एनीमिया क्रोनिक डिजीज क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

एनीमिया क्रोनिक डिजीज क्या है in hindi, एनीमिया क्रोनिक डिजीज के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, anemia chronic disease को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 28, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें

Laryngitis: लेरिन्जाइटिस क्या है?

लेरिन्जाइटिस क्या है? Types of Laryngitis in Hindi, लेरिन्जाइटिस के लक्षण, Laryngitis Symptoms in Hindi, Laryngitis sympotms in hindi

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anu Sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 19, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें

Intestinal obstruction: इंटेस्टाइनलऑबस्ट्रक्शन क्या है ?

जानिए क्या है इंटेस्टाइनल ऑबस्ट्रक्शन in hindi, इंटेस्टाइनल ऑबस्ट्रक्शन के लक्षण, कारण और इलाज, Intestinal obstruction की समस्या से परेशान है तो अपनाएं ये टिस्प और सावधानियां, इंटेस्टाइनल ऑबस्ट्रक्शन से बचने के लिए ध्यान रखने योग्य बातें

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 19, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

इंटेस्टाइनल इस्किमिया

Intestinal Ischemia: जानें इंटेस्टाइनल इस्किमिया क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Poonam
Published on अप्रैल 20, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
एपिडिडीमाइटिस -Epididymitis

Epididymitis: एपिडिडीमाइटिस क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
Published on मार्च 23, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Cushing syndrome- कुशिंग सिंड्रोम क्या है?

Cushing Syndrome: कुशिंग सिंड्रोम क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
Published on फ़रवरी 14, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Calories - कैलोरी

कैलोरी और एनर्जी में क्या है संबंध? जानें कैसे इसका पड़ता है आपके शरीर पर असर

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on फ़रवरी 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें