ब्लड प्रेशर मेडिकेशन के बारे में आपका यह जानना है जरूरी!

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन के बारे में आपका यह जानना है जरूरी!

    हायपटेंशन आज के समय में होने वाली गंभीर स्वास्थ समस्याओं में एक है। उच्च रक्तचाप से कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि दिल का दौरा, दिल की विफलता, स्ट्रोक और गुर्दे की बीमारी आदि। इन और अन्य समस्याओं को रोकने के लिए उच्च रक्तचाप का जल्दी इलाज करना महत्वपूर्ण है। ब्लड प्रेशर मेडिकेशन की बात करें, तो कई विभिन्न दवाएं उच्च रक्तचाप के इलाज में मदद कर सकती हैं। इन दवाओं को एंटीहाइपरटेन्सिव कहा जाता है। वे कई अलग-अलग श्रेणियों में विभाजित हैं, जिनमें से प्रत्येक अलग-अलग तरह से काम करती हैं। हायपरटेंशन की समस्या होने पर आपके डॉक्टर इस तरह की दवाएं दे सकते हैं। ब्लड प्रेशर मेडिकेशन (Blood pressure medication) में देनी वाली दवाओं में शामिल हैं:

    और पढ़ें: डायबिटीज और हायपरटेंशन में क्या संबंध है? बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन (Blood pressure medication)

    अधिकांश लोगों के लिए, उच्च रक्तचाप के उपचार के लिए थियाजाइड डाइयुरेटिक्स की सलाह दी जाती है। गंभीर लोगों के लिए, केवल एक डाइयुरेटिक्स रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त नहीं है। इन मामलों में, एक डाइयुरेटिक्स को बीटा-ब्लॉकर, एसीई इनहिबिटर, एंजियोटेंसिन II रिसेप्टर ब्लॉकर, या कैल्शियम चैनल ब्लॉकर के साथ जोड़ा जा सकता है। जानिए यहां ब्लड प्रेशर मेडिकेशन के बारे में:

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : डाइयुरेटिक्स (Diuretics)

    उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए डाइयुरेटिक्स कुछ सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं हैं। यह गुर्दे को अतिरिक्त पानी और सोडियम, या नमक के दुश्परिणामों से दूर रखने में मदद करती है। यह आपके रक्त वाहिकाओं से गुजरने वाले रक्त की मात्रा के फ्लो को कंट्रोल करता है, जो आपके रक्तचाप को कम करता है। तीन प्रमुख प्रकार के डाइयुरेटिक्स हैं: थियाजाइड, पोटेशियम-स्पेयरिंग और लूप डाइयुरेटिक्स। थियाजाइड डाइयुरेटिक्स आमतौर पर दूसरों की तुलना में कम दुष्प्रभाव होते हैं। यह विशेष रूप से उन्हें निर्धारित किया जाता है, जो आमतौर पर प्रारंभिक स्टेज में उच्च रक्तचाप के इलाज में उपयोग किया जाता है।

    थियाजाइड डाइयुरेटिक्स में शामिल हैं:

    • क्लोर्थालिडोन (हाइग्रोटन)
    • क्लोरोथियाजाइड (ड्युरिल)
    • हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड (हाइड्रोडाययूरिल, माइक्रोजाइड)
    • इंडैपामाइड (लोज़ोल)
    • मेटालाजोन (जोरोक्सोलिन)

    और पढ़ें: हाय बीपी के कारण दिखाई ना देना : जानिए इस समस्या को कैसे करें हैंडल

    पोटेशियम-स्पेयरिंग वाले डाइयुरेटिक्स में शामिल हैं:

    लूप डाइयुरेटिक्स में शामिल हैं:

    • बुमेटेनाइड (ब्यूमेक्स)
    • फ्यूरोसेमाइड (लासिक्स)
    • टॉर्सेमाइड (डेमाडेक्स)

    संयोजन डाइयुरेटिक्स में शामिल हैं:

    • एमिलोराइड हाइड्रोक्लोराइड/हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड (मॉड्यूरेटिक)
    • स्पिरोनोलैक्टोन / हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड (एल्डैक्टाजाइड)
    • ट्रायमटेरिन/हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड (डायजाइड, मैक्सजाइड)

    और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज और हेरिडिटी: जानिए पेरेंट्स को डायबिटीज होने पर बच्चों में कितना बढ़ जाता है इसका रिस्क

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : बीटा ब्लॉकर्स (Beta-blockers)

    बीटा-ब्लॉकर्स आपके शरीर में रसायनों की क्रियाओं को ब्लॉक करके काम करते हैं, जो आपके तेज दिल की धडक्कन को कंट्रोल करने के साथ के फंकशन को सही करता है। यह हृदय प्रत्येक धड़कन के साथ रक्त वाहिकाओं के माध्यम से कम रक्त पंप करता है, इसलिए रक्तचाप कम हो जाता है। इन दवाओं में शामिल हैं:

    • ऐसब्यूटोलोल (सेक्ट्रल)
    • एटेनोलोल (टेनोर्मिन)
    • बेटैक्सोलोल (केरलोन)
    • बिसोप्रोलोल/हाइड्रोक्लोरोथियाज़ाइड (ज़ियाक)
    • मेटोप्रोलोल टार्ट्रेट (लोप्रेसर)
    • मेटोप्रोलोल सक्सिनेट (टॉपरोल-एक्सएल)
    • नाडोलोल (कॉर्गार्ड)
    • पिंडोलोल (विस्केन)
    • प्रोप्रानोलोल (इंडरल)
    • सोलोटोल (बीटापेस)
    • टिमोलोल (ब्लॉकाड्रेन)

    और पढ़ें: डायबिटीज और हायपरटेंशन में क्या संबंध है? बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : एंजियोटेंसिन एक्सचेंज एंजाइम (एसीई) ब्लॉर्क्स (Angiotensin converting enzyme (ACE) inhibitors)

    एसीई ब्लॉक्वर्स शरीर को एंजियोटेंसिन II नामक हाॅर्मोन को बनाने से रोकते हैं, जिससे रक्त वाहिकाएं संकरी हो जाती हैं। ये दवाएं संकुचित रक्त वाहिकाओं में रक्त के प्रवाह को ठीक कर के रक्तचाप को कम करती हैं।

    एसीई अवरोधकों के उदाहरणों में शामिल हैं:

    • बेनाज़िप्रिल (लोटेंसिन)
    • कैप्टोप्रिल (कैपोटेन)
    • एनालाप्रिल (वासोटेक)
    • फोसिनोप्रिल (मोनोप्रिल)
    • लिसिनोप्रिल (प्रिंसिल, ज़ेस्ट्रिल)
    • मोएक्सिप्रिल (यूनिवास्क)
    • पेरिंडोप्रिल (एसीन)
    • क्विनाप्रिल (एक्यूप्रिल)
    • रामिप्रिल (अल्टेस)
    • ट्रैंडोलैप्रिल (माविक)

    और पढ़ें: हाय ब्लड प्रेशर के लिए एक्सरसाइज की शुरुआत कैसे करें और कौन सी एक्सरसाइज करें जानिए

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : एंजियोटेंसिन II रिसेप्टर ब्लॉकर्स (Angiotensin II receptor blockers)

    दवाओं का यह वर्ग रक्त वाहिकाओं को एंजियोटेंसिन II से भी बचाता है। रक्त वाहिकाओं को ठीक रखने के लिए, एंजियोटेंसिन II को एक रिसेप्टर काम कर सकता है। एआरबी ऐसा होने से रोकते हैं। नतीजतन, रक्तचाप कम हो जाता है। एआरबी में शामिल हैं:

    • कैंडेसेर्टन (एटाकंद)
    • एप्रोसार्टन (टेवेटन)
    • इर्बेसार्टन (एवाप्रो)
    • लोसार्टन (कोजार)
    • टेल्मिसर्टन (माइकार्डिस)
    • वाल्सार्टन (दीवान)

    और पढ़ें: हायपरटेंशन को मैनेज करने के लिए यह खास फ्रूट्स और फ्रूट जूस हो सकते हैं फायदेमंद!

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : अल्फा-ब्लॉकर्स (Alpha-blockers)

    कुछ स्थितियों में, आपका शरीर कैटेकोलामाइन नामक हाॅर्मोन बनाता है। ये हार्मोन अल्फा-रिसेप्टर्स नामक कोशिकाओं के कुछ हिस्सों से जुड़ सकते हैं। जब ऐसा होता है, तो आपकी रक्त वाहिकाएं संकरी हो जाती हैं और आपका हार्ट तेजी से और अधिक गति के साथ धड़कता है। इसके कारण आपका रक्तचाप बढ़ जाता है। अल्फा-ब्लॉकर्स कैटेकोलामाइन को अल्फा-रिसेप्टर्स से बंधने से रोककर काम करते हैं। अल्फा-ब्लॉकर्स में शामिल हैं:

    • डॉक्साजोसिन (कार्डुरा)
    • प्राजोसिन (मिनीप्रेस)
    • टेराजोसिन (हाइट्रिन)

    और पढ़ें: हाय ब्लड प्रेशर और हार्ट डिजीज में क्या डैश डायट दिखाती है कमाल?

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : अल्फा बीटा ब्लॉकर्स (Alpha-beta-blockers)

    अल्फा-बीटा-ब्लॉकर्स का अधिक प्रभाव दे जा सकता है। वे कैटेकोलामाइन हॉर्मोन को अल्फा- और बीटा-रिसेप्टर्स दोनों के लिए अवरुद्ध करते हैं। इसलिए, वे रक्त वाहिकाओं के कसना को कम कर सकते हैं जैसे अल्फा-ब्लॉकर्स करते हैं। वे बीटा-ब्लॉकर्स की तरह दिल की धड़कन की गति को धीमा करता है।अल्फा-बीटा-ब्लॉकर्स में शामिल हैं:

    • कार्वेडिलोल (कोरग)
    • लेबेटालोल (नॉर्मोडाइन, ट्रैंडेट)

    और पढ़ें: पोस्टप्रांडियल हायपोटेंशन यानी भोजन के बाद ब्लड प्रेशर का कम होना, कहीं आपको भी नहीं है ये समस्या?

    ब्लड प्रेशर मेडिकेशन : वासोडलेटर (Vasodilators)

    वासोडलेटर रक्त वाहिकाओं की दीवारों में मांसपेशियों को आराम देते हैं, विशेष रूप से छोटी धमनियों में जिन्हें धमनी कहा जाता है। यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है और रक्त को उनके माध्यम से अधिक आसानी से बहने देता है। नतीजतन, रक्तचाप गिर जाता है।

    वैसोडिलेटर्स के उदाहरणों में शामिल हैं:

    • हाइड्रैलाजिन (एप्रेसोलिन)
    • मिनोक्सिडिल (लोनिटेन)
    • एल्डोस्टेरोन रिसेप्टर विरोधी

    एल्डोस्टेरोन रिसेप्टर विरोधी एल्डोस्टेरोन नामक एक रसायन को ब्लॉकर्स काम करते हैं। यह क्रिया आपके शरीर द्वारा बनाए गए तरल पदार्थों की मात्रा को कम करती है, जो आपके रक्तचाप को कम करने में मदद करती है। एल्डोस्टेरोन रिसेप्टर में शामिल हैं:

    इस प्रकार की रक्तचाप की दवा को डायरेक्ट रेनिन इनहिबिटर (DRI) कहा जाता है। ये दवाएं आपके शरीर में रेनिन नामक एक रसायन को करती हैं। यह क्रिया आपके रक्तवाहिकाओं को चौड़ा करने में मदद करती है, जो आपके रक्तचाप को कम करती है।

    कैल्शियम चैनल ब्लॉर्क्स (Calcium channel blockers)

    सभी मांसपेशियों की कोशिकाओं के अंदर और बाहर जाने के लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स कैल्शियम को हृदय और रक्त वाहिकाओं की चिकनी मांसपेशियों की कोशिकाओं में प्रवेश करने से रोकने में मदद करते हैं। इन दवाओं में शामिल हैं:

    • अम्लोदीपाइन (नॉरवस्क, लोट्रेल)
    • डिल्टियाज़ेम (कार्डिज़ेम सीडी, कार्डिज़ेम एसआर, दिलाकोर एक्सआर, टियाज़ैक)
    • फेलोडिपिन (प्लेंडिल)
    • इसराडिपिन (DynaCirc, DynaCirc CR)
    • निकार्डिपिन (कार्डीन एसआर)
    • निफेडिपिन (अदालत सीसी, प्रोकार्डिया एक्सएल)
    • निसोल्डिपिन (Sular)
    • वेरापामिल (कैलन एसआर, कवरा एचएस, आइसोप्टीन एसआर, वेरेलन)

    और पढ़ें: सेंट्रल-एक्टिंग एजेंट्स : हाय ब्लड प्रेशर को मैनेज करने में यह ड्रग्स हैं असरदार!

    संयोजन दवाएं

    यदि आपका डॉक्टर को लगता है कि आपको अपने रक्तचाप को मैनेजमेंट करने के लिए एक से अधिक दवाओं की आवश्यकता है, तो वे एक के साथ दूसरी कॉम्बिनेशन दवा लिख ​​​​सकते हैं। उदाहरण के लिए, वे डाइयुरेटिक्स के साथ बीटा-ब्लॉकर या कैल्शियम चैनल ब्लॉकर के साथ एआरबी लिख सकते हैं। हर दिन कई अलग-अलग दवाएं लेने से इन संयोजन दवाओं का उपयोग करना अधिक सुविधाजनक हो सकता है।

    और पढ़ें: पोस्टप्रांडियल हायपोटेंशन यानी भोजन के बाद ब्लड प्रेशर का कम होना, कहीं आपको भी नहीं है ये समस्या?

    आपके डॉक्टर द्वारा निर्धारित रक्तचाप की दवा का प्रकार इस बात पर निर्भर हो सकता है कि आपको कौन सी अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपको कोरोनरी धमनी की बीमारी (सीएडी) और उच्च रक्तचाप है, तो आपका डॉक्टर बीटा-ब्लॉकर लिख सकते है। यदि आपको मधुमेह है, तो आपका डॉक्टर एसीई अवरोधक या एआरबी चुन सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये दवाएं आपके गुर्दे में रक्तचाप को कम करके गुर्दे को मधुमेह की क्षति से बचाने में मदद कर सकती हैं। ब्लड प्रेशर मेडिकेशन के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से सपंर्क करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    https://higginsweb.psych.columbia.edu/ghxmcppressure/a-list-of-blood-pressure-medications-atbk

    https://higginsweb.psych.columbia.edu/ghxmcppressure/a-list-of-blood-pressure-medications-atbk

    Blood Pressure Medication :  https://www.cdc.gov/bloodpressure/medicines.htm Accessed 13 Jan,2022

    Blood Pressure Medication :  https://www.fda.gov/media/81967/download Accessed 13 Jan,2022

    Blood Pressure Medication :  https://www.health.harvard.edu/mind-and-mood/blood-pressure-medications-may-affect-your-mood  Accessed 13 Jan,2022

    लेखक की तस्वीर badge
    डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/01/2022 को