home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जा सकता है इन जड़ी-बूटियों का सेवन

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जा सकता है इन जड़ी-बूटियों का सेवन

जब भी आप किसी डॉक्टर के पास चेकअप के लिए जाते हैं, तो वह आपका ब्लड प्रेशर चेक करता है। सही ब्लड प्रेशर किसी भी व्यक्ति की सेहत को सामान्य रखने के लिए जरूरी माना जाता है। ब्लड प्रेशर ज्यादा या कम होने पर व्यक्ति को कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आज हम बात करने जा रहे हैं ब्लड प्रेशर की उस स्थिति के बारे में, जिसे हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) का नाम दिया गया है। हाय ब्लड प्रेशर की समस्या आपके लिए कई तकलीफ़ों का कारण बन सकती है, इसलिए जल्द से जल्द इसके उपचार की सलाह दी जाती है। आम तौर पर हाय ब्लड प्रेशर के लिए एलोपैथिक दवाओं का सहारा लिया जा सकता है, लेकिन आयुर्वेद में भी कई ऐसी औषधियां हैं, जो हाय ब्लड प्रेशर की स्थिति को सम्भाल सकती हैं। आज हम बात करने जा रहे हैं हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के बारे में। हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) के इस्तेमाल से आपको आराम मिल सकता है, इसलिए आयुर्वेद को हाय बीपी के लिए एक अच्छा ऑप्शन माना जाता है। हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के बारे में अधिक जानकारी लेने से पहले आइए जानते हैं हाय ब्लड प्रेशर आपको किन स्थितियों में हो सकता है।

और पढ़ें: महिलाएं प्रेग्रेंसी में हाई ब्लड प्रेशर को न करें नजरअंदाज, हो सकता है ये खतरा

ये हो सकते हैं हाय ब्लड प्रेशर के रिस्क फैक्टर (Risk factors of High blood pressure)

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) के इस्तेमाल से पहले आपको हाय लड़ प्रेशर के रिस्क फैक्टर के बारे में जरूर पता होना चाहिए। आपको जान कर जानकार हैरानी होगी कि आपका जेंडर आपके ब्लड प्रेशर को अफेक्ट कर सकता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार पुरुषों में महिलाओं की तुलना में हाय ब्लड प्रेशर के केस ज्यादा देखे जाते हैं, लेकिन यह स्थिति 64 साल से कम उम्र के लोगों में देखी गई है। वहीं यदि 65 साल से ज़्यादा की उम्र के लोगों की बात करें, तो महिलाओं में हाय ब्लड प्रेशर की स्थिति ज्यादा देखी जा रही है। हाय ब्लड प्रेशर की समस्या के रिस्क फैक्टर कुछ इस तरह हो सकते हैं –

  • फैमिली में हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) की समस्या
  • मोटापे की समस्या
  • डायबिटीज की समस्या
  • हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या
  • किडनी डिजीज

और पढ़ें: जानिए हृदय रोग से जुड़े 7 रोचक तथ्य

इसके अलावा लाइफस्टाइल भी एक ऐसा फैक्टर है, जो हाय ब्लड प्रेशर की स्थिति को प्रभावित करता है। इसके अलावा जिन लोगों को स्लीप एप्निया की समस्या होती है। उन लोगों में भी हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) आमतौर पर देखा जाता है। स्लीप एप्निया के दौरान जब आप लंबे समय तक सांस नहीं लेते, तो यह आपके हृदय के काम को अफेक्ट करता है। यदि आप ठीक ढंग से नींद में सांस नहीं ले पा रहे, तो आपके ब्लड में ऑक्सीजन का लेवल कम हो जाता है और इससे आपका ब्लड प्रेशर बढ़ता है। यदि लंबे समय तक कोई व्यक्ति स्लीप एप्निया (Sleep apnea) से जूझ रहा है तो उससे आगे चलकर हाय ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती हैं। ऐसी स्थिति में आपको जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लेकर हाय बीपी का इलाज शुरू करवाना चाहिए। आप हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) का चयन कर सकते हैं, क्योंकि आयुर्वेद के अंतर्गत आपको नैचुरल मेडिसिंस दी जाती हैं, जो आपके शरीर के लिए कई तरह से फ़ायदेमंद साबित होती है। आइए अब जानते हैं हाय बीपी (High blood pressure) की समस्या को आप किस तरह मैनेज कर सकते हैं।

और पढ़ें:ब्रेन स्ट्रोक की बीमारी शरीर के किस अंग को सबसे ज्यादा डैमेज करती है?

कैसे मैनेज की जा सकती है हाय ब्लड प्रेशर की समस्या? (Management of high blood pressure)

हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) की समस्या, आमतौर पर आपकी लाइफस्टाइल में हो रही परेशानियों की वजह से हो सकती है। इसलिए लाइफस्टाइल में बदलाव लाकर आप हाय ब्लड प्रेशर की स्थिति में आराम पा सकते हैं। हालांकि कुछ लोगों में हाय ब्लड प्रेशर के लिए मेडिकेशन की भी जरूरत पड़ती है, जिसे आपको रोजाना लेना चाहिए। आप डॉक्टर की सलाह के बाद हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) का चयन भी कर सकते हैं, जिससे आपकी स्थिति बेहतर बन सकती है। लेकिन हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा का इस्तेमाल करने से पहले आपको ये बात ध्यान रखनी चाहिए कि इन दवाओं को डॉक्टर की सलाह के बग़ैर ना तो लेना चाहिए, ना ही इन्हें बंद करना चाहिए। अचानक इन दवाओं का इस्तेमाल बंद करने से आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आइए अब जानते हैं हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा से जुड़ी ये जरूरी जानकारी।

और पढ़ें: हाइयपरटेंशन से बचाव के लिए जरूरी है लाइफस्टाइल में ये बदलाव

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जा सकता है इन दवाओं का सेवन

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure)

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) के इस्तेमाल से पहले आपको कुछ बातों की जानकारी होनी चाहिए। जैसे कि आप की कंडिशन के अनुसार आपको आयुर्वेदिक दवा का इस्तेमाल करना चाहिए। आपकी पूरी जांच के बाद आपको सही आयुर्वेदिक दवाएं दी जा सकती हैं, जो आपकी हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) की स्थिति को सामान्य बनाने में मदद कर सकती हैं। आइए जानते हैं उन आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के बारे में, जो हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में इस्तेमाल की जा सकती हैं।

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा : अश्वगंधा (Ashwagandha)

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की बात हो, तो अश्वगंधा का नाम काफी चर्चित माना जाता है। अश्वगंधा को हाय बीपी बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में लिया जाता है। इससे शरीर में स्ट्रेस हॉर्मोन का स्त्राव कम होता है। स्ट्रेस हॉर्मोन कम होने से आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल में बना रहता है। यही वजह है कि अश्वगंधा एक हाय बीपी (High blood pressure) की समस्या में एक बेहतरीन जड़ी-बूटी मानी जाती है। अश्वगंधा को आप कैप्सूल या पाउडर के रूप में ले सकते हैं। लेकिन इस दवा को डॉक्टर की सलाह के बाद अपनी जरूरत के मुताबिक ही लिया जाना चाहिए, जिससे इसके साइड इफेक्ट ना हो।

और पढ़ें: हायपरटेंशन की दवा के फायदे और साइड इफेक्ट्स क्या हैं?

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा : शंखपुष्पी (Shankhpushpi)

शंखपुष्पी को आमतौर पर याददाश्त बढ़ाने की दवा माना जाता है, लेकिन आयुर्वेदिक एक्स्पर्ट हाय ब्लड प्रेशर की समस्या के लिए भी शंखपुष्पी का इस्तेमाल कर सकते हैं। शंखपुष्पी न सिर्फ आप का स्ट्रेस काम करती है, बल्कि आपके हाय ब्लड प्रेशर की समस्या को भी सामान्य बनाए रखने में मदद करती है। इसे आप सिरप के तौर पर ले सकते हैं। हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में शंखपुष्पी एक कारगर मेडिसिन मानी जाती है।

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा : जटामांसी (Jatamansi)

हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) के रूप में जटामांसी का इस्तेमाल बड़े तौर पर किया जाता है। जटामांसी को आप पाउडर फॉर्म में आसानी से ले सकते हैं, जो आपके हाय ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर के आप की स्थिति को बेहतर बना सकती है। साथ ही यह आपके शरीर में कई तरह के सकारात्मक बदलाव भी लेकर आती है। इसलिए हाय बीपी में के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में जटामांसी का इस्तेमाल आयुर्वेदिक एक्सपर्ट करते हैं।

और पढ़ें: जानें किन कारणों से बढ़ता है हाय ब्लड प्रेशर?

इसके अलावा आप कई तरह के हर्ब्स का इस्तेमाल भी हाय बीपी (High blood pressure) की समस्या में कर सकते हैं। आमतौर पर यह सभी हर्ब्स हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में दिए जा सकते हैं। अलग अलग व्यक्ति में इन हर्ब्स का इस्तेमाल अलग-अलग तरह से किया जा सकता है। व्यक्ति की पूरी जांच के बाद उसकी जरूरत के अनुसार इन हर्ब्स का चुनाव हाय बीपी की समस्या के लिए किया जाता है। हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) के रूप में इन हर्ब्स का इस्तेमाल आयुर्वेदिक एक्सपर्ट कर सकते हैं –

  • इलायची
  • तुलसी
  • अलसी
  • चोकर

यह सभी हर्ब्स अपने आप में बेहद अच्छे माने जाते हैं, जो आपके शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं। इसलिए हाय बीपी (High blood pressure) की समस्या में इन हर्ब्स का इस्तेमाल आमतौर पर किया जाता है। साथ ही आपको हाय ब्लड प्रेशर की समस्या में कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है। आइए जानते हैं हाय बीपी की समस्या में आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

और पढ़ेंः हायपरटेंशन के लिए हानिकारक फूड्स से दूर रहें और रहिये हेल्दी

हाय बीपी की समस्या में रखें इन बातों का ध्यान

जैसा कि आपने जाना हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic medicine for high blood pressure) के रूप में इन सभी पदार्थों का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन इसके साथ-साथ आपको अपनी लाइफ़स्टाइल से जुड़ी चीजों में भी बदलाव लाने की जरूरत पड़ती है। आपकी लाइफ स्टाइल के अंतर्गत आपका आहार भी एक जरूरी विषय माना जाता है। हायपरटेंशन की समस्या को कम करने के लिए आपको खास तौर पर नमक, सोडियम, प्रोसेस्ड फूड और जंक फूड से दूर रहना चाहिए। साथ ही साथ आपको शराब, स्मोकिंग भी नहीं करनी चाहिए। यदि आप हायपरटेंशन (High blood pressure) के साथ-साथ डायबिटीज के मरीज हैं, तो आपको चीनी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। अपने आहार में फल और सब्ज़ी का सामवेश करना और रोजाना एक्सरसाइज के साथ आपको ठीक ढंग से दवा का सेवन करना चाहिए। जो आपकी हायपरटेंशन की स्थिति को बेहतर बना सकता है। हाय बीपी के लिए आयुर्वेदिक दवा के इस्तेमाल से पहले आपको हमेशा डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। आपकी स्थिति को ध्यान में रखते हुए एक जरूरी मात्रा में आपको यह दवा दी जाती है। साथ ही साथ इस दवा को समय पर लेना चाहिए, जिससे आपको फायदा हो और आपकी सेहत को नुकसान ना पहुंचे।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Accessed on 18 Nov, 2021

Ayurvedic medicine for high blood pressure

https://www.ayurbethaniya.org/hypertension

Ayurvedic medicine for high blood pressure

https://familydoctor.org/condition/high-blood-pressure/

 High blood pressure

https://www.heart.org/en/health-topics/high-blood-pressure

High blood pressure

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6477925/

Ayurvedic medicine for high blood pressure

https://miayurveda.org/tag/ayurvedic-treatment-for-hip-pain-chennai/page/2/

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड