Beetroot : चुकंदर क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

चुकंदर का परिचय (Uses Of Beetroot In Hindi)

चुकंदर (Beetroot) क्या है?

चुकंदर (Beetroot) एक पौधा है, जिसकी जड़ (root) नेचुरल दवाओं के रूप में इस्तेमाल की जाती है। इसके सेवन के कई स्वास्थ फायदे हैं।

दवाओं के साथ चुकंदर का इस्तेमाल लीवर से जुडी बीमारियों और लीवर के फैट को ​कम करने में भी सहायक है। इसके अलावा,यह इसका खून में ट्राईग्लेसिराइड के लेवल को कम करने के साथ ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है। इसी के साथ-साथ इसका एथलीट परफॉरमेंस को बढाने में भी इस्तेमाल होता है।

चुकंदर कैसे काम करता है?

शरीर में चुकंदर कैसे काम करता है, इसको लेकर अभी ज्यादा शोध मौजूद नहीं है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी डॉक्टर या हर्बल विशेषज्ञ से सम्पर्क करें। हालांकि कुछ शोध यह बताते हैं कि इसमें मौजूद केमिकल लीवर में जमा होने वाले फैट को कम करता है।

इसके अलावा, चुकंदर में एक और भी केमिकल होता है, जिसकी वजह से इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। आपको बता दें कि यह शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड को बढ़ाने का काम करता है। इसमें पाया जाने वाला केमिकल रक्त वाहिका (blood vessels) को भी प्रभावित करता है।

सावधानियां और चेतावनी (How Safe Is Using Beetroot In Hindi)

चुकंदर के सेवन से पहले मुझे इसके बारे में क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए?

इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर, फार्मासिस्ट या फिर हर्बल विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए, यदि

  • आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि जब आप बच्चे को फीडिंग कराती हैं, तो अपने डॉक्टर के मुताबिक ही आपको दवाओं का सेवन करना चाहिए।
  • आप कोई दूसरी दवा लेते हैं जो कि बिना डॉक्टर की पर्ची के आसानी से मिल जाते हैं।
  • अगर आपको इससे या किसी दूसरे हर्ब्स से एलर्जी हो।
  • आप पहले से किसी तरह की बीमारी से ग्रसित हैं।
  • आपको पहले से ही किसी तरह एलर्जी हो, जैसे खानेपीने वाली चीजों से, डाइज से या किसी जानवर आदि से।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम अंग्रजी दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

कितना सुरक्षित है चुकंदर का सेवन?

आमतौर पर खाद्य पदार्थों के रूप में इसका सेवन करना ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित  है। दवा के रूप में भी इसका इस्तेमाल करना सुरक्षित होता है।

चुकंदर से जुड़ी विशेष सावधानियां और चेतावनी:

प्रेगनेंसी और स्तनपान के दौरान: प्रेगनेंसी और स्तनपान के समय इसका दवा की तरह इस्तेमाल करना कितना सुरक्षित है,  अभी इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। इसलिए खाद्य पदार्थों के रूप में ही इसका सेवन करें।

किडनी से जुडी बीमारी में:  अगर आप किडनी से जुड़ी बीमारी से ग्रसित हैं तो ज्यादा चुकंदर का इस्तेमाल उसे और अधिक खराब कर सकता है।

चुकंदर के साइड इफेक्ट (Beetroot Side Effect In Hindi)

चुकंदर के सेवन से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इसके सेवन से शरीर में कैल्शियम का लेवल कम हो सकता है और साथ ही किडनी भी खराब हो सकती है।हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो, ऐसा जरुरी नहीं है।

कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

चुकंदर के प्रभाव (Beetroot Effects In Hindi)

चुकंदर के सेवन से अन्य किन-किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

इसके सेवन से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं, उनके असर पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए इसके  सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय पर बात करें।

चुकंदर की खुराक (Understand the beetroot dosage in Hindi )

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह ज़रुर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में चुकंदर खाना चाहिए?

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

चुकंदर किन रूपों में उपलब्ध है?

यह निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हैः

  • कच्चा चुकंदर (Raw beet)
  • पाउडर
  • एक्सट्रेक्ट कैप्सूल

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जुलाई 20, 2019