आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Tinnitus: कान में आवाज आना हो सकता है खतरनाक, इसे न करें नजरअंदाज

    Tinnitus: कान में आवाज आना हो सकता है खतरनाक, इसे न करें नजरअंदाज

    कान में आवाज आना या कान बजना एक समस्या है, जिसमें रिंगिंग, बजिंग, चिर्पिंग, सीटी या अन्य तरह की आवाजें सुनाई देती हैं। कान में आवाज आने की समस्या रुक-रुक कर हो सकती है या लगातार भी हो सकती है। इसके अलावा, इसकी वॉल्यूम में भी भिन्नता हो सकती है। अक्सर, यह समस्या तब ज्यादा परेशान करने लगती है, जब आपके आसपास की आवाज बिल्कुल कम होती है। क्योंकि, इस समय कान में आवाज बिल्कुल अच्छी तरह सुनाई देती है और इर्रिटेट करती है। उदाहरण के लिए, रात में हमारे आसपास की आवाज बिल्कुल कम हो जाती है और सन्नाटा छा जाता है, लेकिन इस वक्त ही कान में आवाज आने से आपको सोने में दिक्कत हो सकती है। कान में आवाज आने की समस्या कई बार आपकी धड़कन के साथ उतार-चढ़ाव करने लगती है। किन यह बहुत रेयर केस होता है। कान में आवाज आने या कान बजने की समस्या को टिनिटस भी कहते हैं।

    और पढ़ेंः जानिए क्या हैं कान से जुड़े इंटरेस्टिंग फैक्ट्स

    कान में आवाज आना और बहरेपन में संबंध

    कान बजना खुद में कोई बीमारी नहीं है। बल्कि, यह एक लक्षण है, जिससे पता चलता है कि आपके ऑडिटरी सिस्टम में कुछ खराबी आ गई है। ऑडिटरी सिस्टम में कान, इनर ईयर और दिमाग को जोड़ने वाली ऑडिटरी नर्व और साउंड को प्रोसेस करने वाला दिमाग का हिस्सा शामिल होता है। कान बजने की समस्या कान में वैक्स जमने जैसे सामान्य से कारण की वजह से हो सकती है। लेकिन, कई बार यह दूसरी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकती है। जैसे-

    कान में आवाज आना तेज साउंड की वजह से होने वाले बहरेपन का संकेत भी हो सकता है। क्योंकि, कान में आवाज आने की समस्या का सबसे आम कारण तेज साउंड के संपर्क में आना होता है। कान में आवाज आने की समस्या से परेशान 90 प्रतिशत लोगों को किसी न किसी स्तर का तेज साउंड की वजह से होने वाला बहरापन होता है।

    और पढ़ें : ये हैं 12 खतरनाक दुर्लभ बीमारियां, जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए

    दरअसल, तेज आवाज की वजह से हमारे कान के अंदरुनी हिस्से में एक स्पाइरल शेप का अंग क्षतिग्रस्त हो जाता है, जिसे कोक्लिया (Cochlea) कहा जाता है। तेज साउंड के संपर्क में सिर्फ एक बार आने से भी कान में आवाज आने की समस्या हो सकती है। इसीलिए, जब हमारे कान के पास कोई तेज आवाज सुनाई देती है या कान पर किसी भी वजह से कोई चीज लगती है, तो हमें कान में सीटी बजने जैसी आवाज सुनाई देने लगती है।

    इन लोगों में ज्यादा हो सकता है बहरापन

    तेज साउंड की वजह से होने वाले बहरेपन का खतरा सबसे ज्यादा कारपेंटर, पायलट, रॉक म्यूजिशियन, स्ट्रीट रिपेयर वर्कर या गन व तेज आवाज डिवाइस के साथ काम करने वालों को ज्यादा होता है। इस वजह से निम्नलिखित लोगों को काफी टाइम तक ऐसी जगह कार्य करते रहने की वजह से आगे चलकर कम सुनाई देना शुरू हो जाता है। हालांकि, इसके अलावा कान में आवाज आने की समस्या बूढ़े लोगों में होने वाले बहरेपन की भी निशानी होती है। कान बजने की समस्या कुछ दवाओं का सेवन शुरू करने या रोकने की वजह से भी होती है और विशेषज्ञों ने ऐसी 200 दवाओं को चिन्हित किया है, जो कि इस समस्या का कारण बनती हैं।

    कान में आवाज आने की वजह क्या है?

    कान में आवाज आने का मुख्य स्रोत न्यूरल सर्किट (ब्रेन सेल्स का नेटवर्क) होता है, जिसकी वजह से हमें किसी भी तरह की आवाज सुनने का आभास होता है। इसका मतलब यह है कि, जिस समस्या को हम कान से जोड़कर देखते हैं, वो दरअसल दिमाग से जुड़ी होती है। कान में आवाज आने के दिमागी कारण के पीछे वैज्ञानिकों के बीच अभी भी मतभेद बना हुआ है। कुछ लोगों को लगता है टिनिटस क्रोनिक पेन सिंड्रोम की तरह ही होता है, जिसमें किसी घाव या टूटी हड्डी के जुड़ जाने के बाद भी दर्द रहता है। इसके अलावा, अंदरुनी कान के क्षतिग्रस्त होने की वजह से ऑडिटरी सिस्टम को भेजे जा रहे साउंड के सिंग्नल का न्यूरल सर्किट द्वारा संतुलन बिगड़ जाने से भी कान में आवाज आने की समस्या हो सकती है।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    और पढ़ेंः कान बहना – इस समस्या से हैं परेशान, तो अपनाएं ये घरेलू उपचार

    इसके अलावा निम्नलिखित कारणों की वजह से भी कान में आवाज आने की समस्या हो सकती है। जैसे-

    • कानों में वैक्सहोने से भी कान में आवाज आने की समस्या हो सकती है।
    • कान में आवाज आने की समस्या के पीछे एस्पिरिन, कुछ एंटीबायोटिक्स, एंटी डिप्रेशन दवाएं या कीमोथेरेपी से संबंधित दवाएं खाना भी हो सकता है।
    • सिर की चोट भी कान में आवाज आने का कारण बन सकती है। इसलिए, डॉक्टर टिनिटस का उपचार करते हुए आपकी मेडिकल हिस्ट्री भी पूछते हैं।
    • दांत दर्द (Toothache) के कारण भी टिनिटस की शिकायत हो जाती है। क्योंकि, कानों की कुछ नसें आपके जबड़ों से जुड़ी रहती है। जिसके कारण कान में आवाज आ सकती है।
    • कुछ बीमारियों के कारण भी कान में आवाज आने की समस्या होती है। सर्दी-जुकाम, साइनस आदि में कभी-कभी कान जाम हो जाता है और उसमें आवाज आने लगती है।

    और पढ़ें : जानें ऑटोइम्यून बीमारी क्या है और इससे होने वाली 7 खतरनाक लाइलाज बीमारियां

    कान में आवाज आने की समस्या का इलाज कैसे किया जाता है?

    कान में आवाज आने की समस्या का इलाज उसके कारण पर निर्भर करता है। जैसे-

    ईयरवैक्स रिमूवल

    कान में वैक्स की वजह से ब्लॉकिंग हो जाती है, जिस वजह से कान में आवाज आने की समस्या हो सकती है। इसलिए, इसके इलाज के लिए ईयरवैक्स रिमूवल किया जाता है।

    रक्त वाहिकाओं का ट्रीटमेंट

    दवाइयों और सर्जरी की मदद से संकरी रक्त वाहिकाओं का इलाज किया जाता है।

    साउंड थेरेपी

    मशीन के द्वारा वाइट नॉइज (White Noise) या इन-ईयर डिवाइस की मदद से कान में आवाज आने की समस्या को मास्क किया जाता है।

    दवाइयों में बदलाव

    कई बार कुछ दवाइयों को शुरू करने या बंद करने से भी यह समस्या हो सकती है, इसलिए डॉक्टर आपकी मेडिकल हिस्ट्री को जांचकर दोबारा से दवाइयों में बदलाव कर सकता है।

    कान की मशीन

    बहरेपन की समस्या के कारण कान में आवाज आने की समस्या में कान की मशीन काफी कारगर साबित होती है। इससे, बाहरी आवाज के स्तर को नियंत्रित किया जाता है, जिससे आप जरूरी आवाज आसानी से सुन पाएं और इस समस्या पर कम गौर कर पाएं।

    डिप्रेशन या चिंता की दवा

    कई बार डॉक्टर आपको डिप्रेशन या चिंता से राहत दिलाने वाली दवाओं का सेवन करने को कहता है। ताकि, आपको पर्याप्त नींद मिल पाए और आपका मूड सही रहे।

    और पढ़ें- महिलाओं से जुड़े रोचक तथ्य: पुरुषों से ज्यादा रंग देख सकती हैं महिलाएं

    कान में आवाज आने की समस्या के घरेलू इलाज

    कान में आवाज आने की समस्या के लिए आप निम्नलिखित घरेलू इलाज का उपयोग कर सकते हैं। जैसे-

    • रोजाना एक्सरसाइज करने से आपकी रक्त वाहिकाएं और दिमाग की कार्यक्षमता मजबूत होती है।
    • धीमी आवाज पर रेडियो या बैकग्राउंड म्यूजिक सुनें।
    • धनिया की चाय बना कर पीने से कान में आवाज आने की समस्या कंट्रोल हो सकती है।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Tinnitus – https://www.nidcd.nih.gov/health/tinnitus – Accessed on 10/1/2020

    Tinnitus: Characteristics, Causes, Mechanisms, and Treatments –https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2686891/ – Accessed on 10/1/2020

    Why Is There No Cure for Tinnitus? – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6691100/ – Accessed on 10/1/2020

    ALL YOU NEED TO KNOW ABOUT TINNITUS/https://www.tinnitus.org.uk/ Accessed on 16th May 2021

    Tinnitus/ https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/tinnitus/symptoms-causes/syc-20350156/Accessed on 16th May 2021

    लेखक की तस्वीर
    Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/05/2021 को
    Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
    Next article: