home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

न्यूबॉर्न ट्विन्स को पालने में हो रही है समस्या तो एक बार पढ़े लें ये आर्टिकल

न्यूबॉर्न ट्विन्स को पालने में हो रही है समस्या तो एक बार पढ़े लें ये आर्टिकल

किसी भी महिला के लिए एक बच्चे की जिम्मेदारी नया एहसास होती है और जब महिला को न्यूबॉर्न ट्विन्स की जिम्मेदारी मिलती है, तो वो उसके लिए कठिन काम हो सकता है। ग्लोबल लेवल की बात करें तो हर साल 100 प्रेग्नेंट वीमन में से 3 महिलाएं जुड़वां बच्चों (Twins) को जन्म देती हैं। समय के साथ ही जुड़वां बच्चों के पैदा होने की संख्या में इजाफा भी हो रहा है। न्यू मॉम (New Mother) के लिए एक बच्चे को संभालना किसी बड़ी जिम्मेदारी से कम नहीं होता है। न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) को संभालते समय एक साथ कई बातों को दिमाग में रखना पड़ता है।

ये बात सच है कि न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) घर में दोहरी खुशी लेकर आते हैं। साथ ही माता-पिता के लिए दोहरी जिम्मेदारी भी ले कर आते हैं। मां को नहीं पता होता है कि न्यूबॉर्न ट्विन्स को किस तरह से संभालें। कब बच्चे को दूध पिलाना है या फिर दोनों के एक साथ रोने पर कैसे हालात को संभाला जाए? ऐसी ही कई सारी समस्याएं हैं ,जो एक महिला को परेशान कर सकती है। माता-पिता के लिए बच्चों को मिलकर संभालना भी बहुत कठिन काम हो जाता है। इस आर्टिकल के माध्यम जानिए किस तरह से न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) को संभालना चाहिए।

और पढ़ें : मां से होने वाली बीमारी में शामिल है हार्ट अटैक और माइग्रेन

कैसे संभालें अपने न्यूबॉर्न ट्विन्स को? (How to take care of Newborn Twins?)

Newborn twins-न्यूबॉर्न ट्विन्स

न्यूबॉर्न ट्विन्स की देखभाल के लिए निम्नलिखित टिप्स फॉलो करें-

फीड के लिए टाइमिंग कर दी थी फिक्स

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर की रहने वाली रीना पांडे कहती हैं कि,’ मुझे 2004 में न्यूबॉर्न ट्विन्स हुए थे। दो बच्चे होने पर जिम्मेदारी बढ़ जाती है। अगर जुड़वां बच्चे को पालने की बात की जाए तो जैसे एक बच्चे को पाला जाता है, ठीक वैसे ही दूसरे के साथ भी होता है। दो बच्चों के साथ टाइमिंग का प्रॉब्लम हो सकता है। जब मेरे बच्चे छोटे थे तब मुझे परेशानी न हो इसलिए मैंने दोनों की ब्रेस्टफीडिंग (Breastfeeding) की टाइमिंग को फिस्क कर दिया था। जब एक बच्चे को फीड करा लेती थी, उसके बाद दूसरे बच्चे को फीड कराती थी। ऐसा करने से दोनों बच्चे दूध के लिए एक साथ नहीं रोते थे।’

और पढ़ें : वजन बढ़ाने के लिए एक साल के बच्चों के लिए टेस्टी और हेल्दी रेसिपी, बनाना भी है आसान

टाइम मैनेजमेंट है जरूरी

न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) के बारे में बात करते हुए झारखंड, रांची की प्रिया सिंह कहती हैं कि, ‘मुझे 2008 में जुड़वां बच्चे होने की खुशी मिली। न्यूबॉर्न ट्विन्स एक साथ मूमेंट करते हैं। साथ ही बच्चे की सोने की टाइमिंग भी सिमलर रहती है। मेरे बच्चे शौर्य और भूमिका एक-साथ नहीं रोते थे। न्यूबॉर्न ट्विन्स को संभालना बड़ी जिम्मेदारी होती है, लेकिन टाइम मैनेजमेंट करके दोनों को आसानी से संभाला जा सकता है।’

और पढ़ें : गर्भावस्था में पालतू जानवर से हो सकता है नुकसान, बरतें ये सावधानियां

बिना शेड्यूल के नहीं बनेगी बात

न्यूबॉर्न ट्विन्स को संभालने के लिए शेड्यूलिंग करना बहुत जरूरी है। अगर एक बच्चा है, तो उसके सोने, जागने, फीड करने का टाइम फिक्स होता है। ठीक वैसे ही न्यूबॉर्न ट्विन्स के साथ भी ऐसा ही होता है। न्यूबॉर्न ट्विन्स के सोने का टाइम, फीड करने का समय, पॉटी या यूरिन (Urine) पास करने का समय एक हो सकता है। मां को चाहिए कि न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) की गतिविधियों के टाइम को नोट करें और फिर उसी के हिसाब से दिन को शेड्यूल करें।

और पढ़ें : इन वजह से बच्चों का वजन होता है कम, ऐसे करें देखभाल

न्यूबॉर्न ट्विन्स को हो रही है फीड करने में समस्या

अगर न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) को फीड करवाने में समस्या हो रही है तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ेगा। जुड़वां बच्चों को हो सकता है कि एक साथ भूख लगी हो। दोनों बच्चों को एक साथ ब्रेस्टफीड (Breastfeeding) कराया जा सकता है। इसके लिए प्रैक्टिस की जरूरत पड़ सकती है। अगर ऐसा नहीं हो पा रहा है तो एक बच्चे को ब्रेस्टफीड और दूसरे बच्चे को ब्रेस्ट फीड पंप की हेल्प से बोतल से दूध पिलाया जा सकता है। मां को न्यूबॉर्न ट्विन्स को फीड कराने में 45 मिनट से ज्यादा का समय भी लग सकता है।

स्तनपान है बिल्कुल आसान, लेकिन कैसे? जानने के लिए नीचे दिए इस वीडियो पर क्लिक करें।

और पढ़ें : जानिए क्या है स्वाडलिंग? इससे शिशु को होते हैं क्या फायदे?

न्यूबॉर्न ट्विन्स को हो सकती है सांस की समस्या

कई बार न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) जल्दी पैदा हो जाते हैं। जल्दी पैदा होने की वजह से लंग्स के डेवलपमेंट में दिक्कत हो सकती है। इसी कारण से बच्चों को सांस संबंधी समस्या (Breathing problem) हो सकती है। अगर बच्चे32वें सप्ताह में पैदा हुए हैं तो उन्हें ब्रीथिंग ट्यूब की जरूरत भी पड़ सकती है। जुड़वां बच्चे में सांस संबंधी किसी भी प्रकार की समस्या होने पर डॉक्टर से इस बार में जरूर पूछें। हो सकता है कि रोजाना उनकी देखभाल के दौरान भी उन्हें सांस संबंधी समस्या हो रही है।

न्यूबॉर्न ट्विन्स को लेकर इन बातों का रखें ध्यान (Tips for Newborn Twins caring)

  • अपने साथ हमेशा ट्रेवल कोट रखें। जब भी आप एक बेबी के साथ बिजी हो तो दूसरे बच्चे को ट्रेवल कोट में रख सकती हैं। अगर दोनों बच्चे साथ में पॉटी कर देंगे तो उसे आसानी से साफ किया जा सकता है।
  • जब भी दोनों बच्चों को साथ में नहलाएं तो पास में ही टॉवेल, नैपीज और कपड़े रखें।
  • बच्चों को एक ही समय में ब्रेस्टफीड (Breastfeeding) कराया जा सकता है। हो सकता है कि इसमें थोड़ा ज्यादा समय लगे, लेकिन कुछ ही समय बाद जब दोनों बच्चे सो जाएंगे तो मां को भी एक साथ आराम मिल जाएगा।
  • आप एक ही बैग में नैपीज, वाइप्स, स्नैक्स और पानी रखें। अगर बैग पहले से तैयार होगा तो जब भी घर से बाहर निकलेंगे तो तैयारी करने में ज्यादा टाइम नहीं लगेगा।
  • न्यूबॉर्न ट्विन्स को बाथिंग शीट की हेल्प से एक साथ ही नहलाएं। आप चाहे तो किसी और की भी मदद ले सकती हैं।
  • दिनभर जुड़वां बच्चों (Newborn Twins) को किस चीज की जरूरत पड़ती है। इसकी लिस्ट तैयार करें। ऐसा करने से चीजों को ढूंढने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।

न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) नहीं होते हैं परेशानी

अगर आपके घर में न्यूबॉर्न ट्विन्स पैदा होते हैं तो ये परेशानी की बात नहीं है। दोनों का पोषण भी अच्छे से होगा और ग्रोथ भी। अच्छा ये रहेगा कि आप इस बात को मन में ना लाएं कि दो बच्चों का पालन-पोषण कैसे किया जाए। दोनों बच्चे दो से तीन साल बाद आपकी परेशानी कम कर देंगे। जब बच्चे थोड़े बड़े हो जाएंगे तो आपको भी महसूस होगा कि जुड़वां बच्चे समस्या नहीं होते हैं। बस टाइम मैनेज करके सभी काम को आसानी से किया जा सकता है।

न्यूबॉर्न ट्विन्स (Newborn Twins) को पालने का तरीना न्यू मॉम को नहीं पता होता है। मां को कुछ समय बाद ही बच्चों की आदतों का पता चलता है। बच्चों को कैसे फीड कराना है या फिर कैसे केयर करनी है, इस बारे में एक बार डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 18/03/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x