क्या बच्चे के पेट में दर्द है ? कहीं गैस तो नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

गैस (Gas) एक आम समस्या है लेकिन, कभी-कभी सबसे ज्यादा तकलीफ देती है। पेट में दर्द (Stomach pain), भारीपन और  गैस  जैसी समस्या केवल बड़ों को ही नहीं बल्कि, बच्चों को भी होती हैं। कई ​बार बच्चे गैस की वजह से से होने वाले पेट में दर्द से परेशान होकर रोने लगते हैं। छोटे होने के कारण बच्चे अपनी समस्या बता नहीं पाते हैं।  जिसे समझ पाना काफी मुश्किल होता है। यदि बच्चा लगातार रो रहा है तो ऐसे में मां को बच्चे की तकलीफ को भांप कर तुरंत इलाज करना चाहिए।

बच्चे को पेट में दर्द होने का कारण

कई बच्चों को फार्मूला मिल्क के कारण भी गैस की समस्या होने लगती है।  बच्चा जब तेजी से दूध पीता है तो ज्यादा मात्रा में हवा भी बच्चे के पेट के अंदर चली जाती है। जिससे पेट में गैस भरने से दर्द शुरू हो जाता है। इसके अलावा, बच्चे के खानपान के कारण भी पेट में गैस बन जाती है।

यह भी पढ़ें ः पेट दर्द से निपटने के लिए 5 आसान घरेलू उपाय

कैसे पता करें कि बच्चे को पेट में दर्द की समस्या है ?

जब बच्चे के पेट में दर्द गैस होने पर होती है तो वह रोने लगता है। अक्सर मां समझ नहीं पाती है कि बच्चे को क्या तकलीफ है? ऐसे में बच्चे के पेट पर हाथ रखकर देखें कि कहीं उसका पेट कड़ा (Tight) तो नहीं है। यदि ऐसा है तो बच्चे के पेट में गैस की समस्या हो सकती है। 

बच्चे को पेट में दर्द से निजात दिलाने के उपाय

बच्चे को हल्की गैस से निजात दिलाना काफी आसान है। लेकिन, जब बच्चा ज्यादा परेशान हो तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए। एक वर्ष से अधिक बच्चे को गैस से राहत दिलाने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

घर में मौजूद चीजें करेंगी पेट में दर्द से बचाव

आमतौर पर ये समस्या कुछ समय तक रहती है और फिर अपने आप सही हो जाती है। इस समस्या के लिए कोई निश्चत उपचार नहीं है। अपना चक्र पूरा करने के बाद वायरस या बैक्टीरिया समाप्त हो जाते हैं। हालांकि, पेट में दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप घर पर मौजूद कुछ चीजों का सेवन कर सकते हैं, जो आपका बचाव कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : उल्टी रोकने के 8 आसान घरेलू उपाय

पेट में दर्द से बचाव: हींग 

हींग गैस के लिए सबसे रामबाण दवा है। गुनगुने पानी में हींग मिला कर बच्चे को पिलाएं। कुछ देर में बच्चे को गैस से राहत मिल जाएगी।

यह भी पढ़ें ः क्या आप महसूस कर रहे हैं पेट में जलन, इंफ्लमेटरी बाउल डिजीज हो सकता है कारण

पेट में दर्द से बचाव: जीरा 

एक ग्लिास पानी में जीरा को तब तक उबालें , जब तक पानी आधा न रह जाए। इसके बाद, इसे ठंडा कर के आप बच्चे को पिलाएं। जीरा पेट टर्द से तुरंत राहत दिलाने में मददगार होता है।

पेट में दर्द से बचाव: अजवाइन

अजवाइन एक प्रकार का मसाला है। जो पाचनतंत्र को दुरुस्त करने में मददगार होता है। बच्चे को अजवाइन की चाय बना कर हल्का गुनगुना ही दें। ये पेट में दर्द के साथ-साथ गैस से भी राहत दिलाएगा।

पेट में दर्द से बचाव: दही

बच्चे को दही खिलाना एक अच्छा विकल्प है। क्योंकि, दही में मौजूद प्रोबायोटिक्स (एक जीवाणु जो पाचनतंत्र को दुरुस्त रखता है) पाचनतंत्र को अच्छे से नियंत्रित करते है, जिससे गैस से राहत मिलती है।

यह भी पढ़ें ः AB Phylline: ए बी फाइलिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

पेट में दर्द से बचाव: इलायची 

एक साल से ऊपर के बच्चे को इलायची दी जा सकती है। इलायची पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन-सी भरपूर होती है। बच्चे को खाने में एक चुटकी इलायची मिला कर देने से गैस की समस्या नहीं होगी। अगर गैस है तो दिन में दो से तीन बार इलायची देने से दिक्कत दूर हो जाएगी।

पेट में दर्द से बचाव: पेट की सिकाई करें 

बच्चे को पेट में दर्द से निजात दिलाने के लिए उसके पेट की सिकाई करें। गुनगुने पानी में तौलिया भीगा कर बच्चे के पेट पर रखें। जिससे उसे दर्द में आराम होगा।

पेट में दर्द से बचाव: अदरक का सेवन

अदरक का सेवन पेट की समस्या से निजात दिलाता है। अदरक में मौजूद तत्व सूजन को कम करने के साथ ही डायजेशन को सही करते हैं। इससे जी मिचलाने या चक्कर आने की समस्या से भी राहत मिलती है। आप अदरक को पानी और शहद के साथ ले सकते हैं। इसे दिन में दो से तीन बार लिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

पेट में दर्द से बचाव: तरल पेय का सेवन

स्टमक फ्लू के दौरान खाना खाने का मन बिल्कुल नहीं करता है। इस दौरान वॉमटिंग, स्वेटिंग या मोशन के थ्रू पानी का लॉस होता है। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पानी के साथ ही तरल पदार्थों का सेवन करें । जितना हो सके एनर्जी ड्रिंक्स लें, ये आपके शरीर को एनर्जी देने के साथ पानी की कमी को भी पूरा करेगी। जिंगर पाउडर या जिंजर कैप्सूल का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।

पेट में दर्द से बचाव: पेपरमिंट

स्टमक फ्लू के दौरान कुछ खाने का मन नहीं करता है। ऐसे में पेपरमिंट के प्रयोग से आपके मुख का स्वाद बदलने के साथ ही पेट को राहत राहत मिलेगी। उबकाई से राहत दिलाने के लिए भी मिंट का प्रयोग किया जाता है। मिंट को पानी के साथ उबाल के चाय के रूप में भी लिया जा सकता है।

पेट में दर्द से बचाव: कैमोमाइल

कैमोमाइल का प्लांट पेट में दर्द से राहत दिलाने के लिए अच्छा उपाय है। पेट को रिलेक्सेशन देने के साथ ही इसमें एंटी इन्फामेट्री गुण होते हैं। जी मिचलाने, चक्कर आने, उबकाई की समस्या से राहत दिलाने के लिए इसका प्रयोग कर सकते हैं।

पेट में दर्द से बचाव: दालचीनी और हल्दी

हल्दी बहुत गुणकारी होती है। एंटीसेप्टिक गुण के कारण हल्दी का प्रयोग पेट में दर्द से राहत देगा। दालचीनी से पेट के ऐंठन की समस्या सही हो जाती है।

पेट में दर्द से बचाव: सेब का सिरका

जी मिचलाने की समस्या को दूर करने के लिए इसे प्रयोग किया जा सकता है।

पेट में दर्द से बचाव: नींबू का रस

नीबूं के रस को काले नमक के साथ दिया जा सकता है। नींबू को पानी के साथ भी ले सकते है। इससे पेट दर्द में राहत मिलेगी।

बच्चे बता नहीं पाते हैं कि पेट में दर्द क्यों है। इसलिए बच्चे को लेकर सतर्क रहें। साथ ही उसे बताए गए नुस्खे देने से गैस की समस्या से निजात मिलेगी। इसके अलावा, इन घरेलू उपायों को अपनाने से गैस की समस्या से बच्चे को राहत मिलेगी। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें:

पिता के लिए ब्रेस्टफीडिंग की जानकारी है जरूरी, पेरेंटिंग में मां को मिलेगी राहत

वजायनल सीडिंग (Vaginal Seeding) क्या सुरक्षित है शिशु के लिए?

ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम कम करता है स्तनपान, जानें कैसे

प्रेग्नेंसी के दौरान होता है टेलबोन पेन, जानिए इसके कारण और लक्षण

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Anafortan: एनाफोर्टन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एनाफोर्टन दवा की जानकारी in hindi वहीं दवा के डोज, सावधानी और चेतावनी के साथ उपयोग और रिएक्शन सहित कैसे करें दवा को स्टोर जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Ace Proxyvon: एस प्रोक्सीवोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एस प्रोक्सीवोन की जानकारी in hindi. एस प्रोक्सीवोन को कब लें, कैसे लें, खुराक, सावधानियां, ओवरडोज, उपयोग के पहले चेतावनियां आदि पूरी जानकारी मिलेगी इस आर्टिकल में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Cyclopam Syrup: साइक्लोपाम सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए साइक्लोपाम सिरप (Cyclopam Syrup) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, साइक्लोपाम सिरप डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Quiz: दर्द से जुड़े मिथ्स एंड फैक्ट्स के बीच सिर चकरा जाएगा आपका, खेलें क्विज

क्या आप दर्द से जुड़े मिथ्स एंड फैक्ट्स (Myths and Facts about Pain) के बारे में जानते हैं। अगर हां, तो इस क्विज को खेलकर जांचें अपना ज्ञान।

के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
क्विज जून 16, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से हैं परेशान? ये घरेलू उपाय ट्राई कीजिए।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
क्रीमैलेक्स टैबलेट

Cremalax Tablet: क्रीमैलेक्स टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कोल्डैक्ट

Coldact: कोल्डैक्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अकोशियामाइड /Acotiamide

Acotiamide: अकोशियामाइड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जून 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें