घर आने वाले हैं बच्चे तो ग्रैंडपेरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चे ग्रैंडपेरेंट्स (Grandparents) के साथ रह कर जो सीखते हैं। वह बच्चे हम उम्र बच्चों के साथ नहीं सीख पाते हैं। भारत में संयुक्त परिवार की पद्धति आज भी है। लेकिन, अब की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में बेटे-बहू अपने पेरेंट्स के साथ नहीं रह पाते हैं। इस वजह से कई बच्चे अपने  ग्रैंडपेरेंट्स का साथ हमेशा नहीं रह पाते हैं, केवल छुटि्टयों पर रहने के लिए आते हैं।  विशेषज्ञों के मुताबिक बच्चे के मानसिक विकास के लिए ग्रैंडपैरेंट्स का साथ बहुत जरूरी है। लेकिन, जब बच्चा आपके घर पर आने वाले हो तो बतौर दादा-दादी आपको कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। ताकि, बच्चे के साथ कोई भी अनचाही घटना न होने पाए।

यह भी पढ़ें ः नवजात शिशु को घर लाने से पहले इस तरह तैयार करें शिशु का घर

ग्रैंडपेरेंट्स के काम आएंगे ये टिप्स

बच्चे के आने के पहले ग्रैंडपेरेंट्स को घर से लेकर बाहर तक कई तैयारियां करनी चाहिए, जैसे कि:

घर के अंदर ग्रैंडपेरेंट्स करें सुरक्षा के इंतजाम

बच्चे चंचल होते हैं और जब वह चलने लगते हैं तो एक कदम में ही पूरा घर नाप लेना चाहते हैं। ऐसे में घर में ऐसी कई चीजें होती हैं जिससे बच्चे के साथ कोई भी हादसा हो सकता है। 

  • घर में मौजूद स्मोक डिटेक्टर को हमेशा ऑन रखें ताकि ऐसा कोई भी हादसे के पहले आपको जानकारी हो जाए।
  • अगर घर में आपने कोई पेट पाल रखा है तो उसका फूड बच्चे की पहुंच से दूर रखें।
  • सीढ़ियों के दरवाजे ऊपर और नीचे दोनों तरफ से बंद कर के रखें। बच्चा अगर सीढ़ियों पर चढ़ेंगा तो गिरने से चोटिल हो सकता है।
  • घर में अगर इलेक्ट्रिक बोर्ड नीचे है तो उस पर टेप चिपका दें। बच्चा अगर सॉकेट में अंगुली डालेगा तो उसे करंट लगने का खतरा है। इसके अलावा, घर में मौजूद सभी इलैक्ट्रिक उपकरणों को बच्चे की पहुंच से दूर रखें।
  • घर में मौजूद फर्नीचर के कोने बच्चे को चोटिल कर सकते हैं। फर्नीचर के कोनों पर मुलायम कवर या रुई चिपका दें। 

यह भी पढ़ें ः पालन-पोषण के दौरान पेरेंट्स से होने वाली 4 सामान्य गलतियां

किचन में भी सुरक्षा के इंतजाम करें ग्रैंडपेरेंट्स

किचन में ऐसी कई चीजें होती है जिससे बच्चा जख्मी हो सकता है। पहली बात तो बच्चे को किचन से दूर रखें। अगर बच्चा किचन में आ भी जाएं तो आप उसकी सुरक्षा के लिए पहले से कमर कसे रहें।

  • किचन में मौजूद सभी धारदार चीजें बच्चे की पहुंच से दूर रख दें।
  • अगर किचन में किसी तरह का फ्लोर क्लीनर या कैमिकल रखा है तो उसे हटा दें। 
  • किचन में कॉफी मेकर और टोस्टर के प्लग को इलेक्ट्रिक बोर्ड से निकाल दें। इससे कोई भी अनचाहा हादसा हो सकता है।
  • बच्चे को खाना देते समय विशेष ध्यान रखें। खास कर तब जब खाना माइक्रोवेव में पका हो। क्योंकि, माइक्रोवेव में पका खाना बाहर से ठंडा हो जाता है, लेकिन अंदर से काफी गर्म होता है। इसलिए बच्चे को जब भी कुछ खाने को दें तो आप भी उसके साथ बैठें।
  • अगर आप गैस स्टोव पर कुछ पका रहे हैं तो उसकी हैंडल हमेशा पीछे की तरफ कर के रखें। ताकि, बच्चा कभी भी गलती से भी ना हैंडल तक पहुंच पाए।

बाथरूम में भी है कई खतरें

  • बाथरूम का दरवाजा हमेशा बंद रखें। अगर बच्चे को वॉशरूम जाना है तो साथ में जाएं।
  • बाथटब या बाल्टी में पानी कत्तई ना भर कर रखें। बच्चा उसमें गिर सकता है।
  • बाथरूम क्लीनर और एयर फ्रेशनर को हमेशा बच्चे के पहुंच से दूर रखें।

बच्चे को खिलौने देते वक्त ग्रैंडपेरेंट्स बरतें ये सावधानियां

  • बच्चे को बहलाने के लिए खिलौना एक अच्छा विकल्प है। लेकिन, कभी भी बच्चे को ऐसा खिलौना न दें जिससे उसे नुकसान पहुंचे।
  • बच्चे को छोटे पार्ट के खिलौनों को देने से बचें। इसलिए खिलौने के ऊपर दिए गए निर्देशों को पढ़ने के बाद ही बच्चे के लिए खिलौने खरीदें।
  • खिलौनों को खोलने के बाद उनके डिब्बे बाहर फेंक दें। खिलौनों की पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाला प्लास्टिक बच्चे के लिए हानिकारक है।

यह भी पढ़ें ः जानें पॉजिटिव पेरेंटिंग के कुछ खास टिप्स

बच्चे को लेकर ग्रैंडपेरेंट्स रहें हमेशा सजग

  • बच्चे को कभी भी ऊंची जगहों पर न बैठाएं। अपनी गैरमौजूदगी में बच्चे को ऊंची कुर्सी या टेबल पर न बैठाएं। ऐसा करने से बच्चा गिर कर घायल हो सकता है।
  • कमरे में कोई भी ऐसा विद्युत उपकरण ना रखें जिससे बच्चे के लिए खतरा हो।
  • बड़े-बुजुर्ग अक्सर अपनी दवाइयां सामने ही रखते हैं, ताकि उन्हें याद रहे कि दवाइयां कब लेनी है। लेकिन, बच्चा घर में है को दवाएं खुले में न रखें। बच्चों की हर चीज को मुंह में डालने की आदत होती है। ऐसे में अगर वह दवा मुंह में डाल ले तो कोई भी अप्रिय घटना घट सकती है।
  • घर में कहीं भी अगर पानी गिर गया है तो इसे तुरंत साफ कर दें। वरना बच्चा फिसल कर गिर सकता है।

ग्रैंडपेरेंट्स घर के बाहर भी बरतें ये सावधानियां

  • बच्चों को कार में कहीं ले जाने के लिए बेबी कार सीट खरीदें, जिसे ग्रैंडपेरेंट्स अपनी कार के अंदर रख सकते हैं। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि ये सीट आपकी कार ठीक से इंस्टॉल भी हो पा रही है या नहीं। बच्चों के लिए यह सीट उन्हें कार में आपके साथ कहीं जाते हुए अतिरिक्त सुरक्षा देती है।
  • बच्चों को कार में कहीं ले जाते हुए यह भी चेक कर लें कि आपने चाइल्ड लॉक किया है कि नहीं। चाइल्ड लॉक करने से गाड़ी के सारे कंट्रोल्स सिर्फ ड्राइवर के पास ही रह जाते हैं। ऐसे में बच्चा अगर गलती से खिड़की खोलने या दरवाजा खोलने की कोशिश करता है, तो वह नहीं खुलेगा।
  • हालांकि, बच्चों के साथ समय बिताने के लिए खेल के मैदान एक अच्छी जगह होती है, लेकिन साथ ही वे खतरनाक भी हो सकते हैं। ऐसे में बच्चों को ले जाने के लिए ऐसे ग्राउंड का इस्तेमाल करें, जिसे बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर तैयार किया गया हो।

ये सभी टिप्स ग्रैंडपेरेंट्स के साथ-साथ माता-पिता के लिए भी है। जिस भी घर में एक साल से ऊपर के बच्चे है, उस घर में सुरक्षा के सभी इंतजाम दुरुस्त होने चाहिए। हमेशा याद रखिए हादसे बता कर नहीं आते। अगर हादसों को कोई रोक सकता है तो वह आप खुद है। इसलिए बच्चों को लेकर सतर्क और सजग रहें।

और पढ़ें:

बच्चों की गट हेल्थ के लिए आजमाएं ये सुपर फूड्स

बच्चों के लिए सिंपल बेबी फूड रेसिपी, जिन्हें सरपट खाते हैं टॉडलर्स

बच्चों को खड़े होना सीखाना है, तो कपड़ों का भी रखें ध्यान

जुड़वां बच्चों की देखभाल के दौरान क्या करें और क्या न करें? जानें जरूरी टिप्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    रटी-रटाई बातें भूल जाता है बच्चा? ऐसे सुधारें बच्चों में भूलने की बीमारी वाली आदत

    जानिए बच्चों में भूलने की बीमारी in Hindi, बच्चों में भूलने की बीमारी कैसे ठीक करें, बच्चे की याददाश्त कैसे बढ़ाएं, baccho me bhulne ki bimari,

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    मायके में डिलिवरी के फायदे और नुकसान क्या हैं?

    जानिए मायके में डिलीवरी के क्या हैं फायदे और क्या है नुकसान? किन बातों को ध्यान में रखकर गर्भवती महिलाएं करें बेबी डिलिवरी की प्लानिंग?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चों में साइनसाइटिस का कारण: ऐसे पहचाने इसके लक्षण

    जानिए बच्चों में साइनसाइटिस का कारण in Hindi, बच्चों में साइनसाइटिस का कारण कैसे पहचानें, Baccho me sinus ka karan, शिशुओं में साइनसाइटिस के लक्षण और उपचार, बंद नाक के कारण।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    लॉकडाउन में बोरियत से बच्चों को बचाने के ब्रेन स्टॉर्मिंग इनडोर गेम्स

    लॉकडाउन में बोरियत से छोटे बच्चों को बचाने के लिए उन्हें मोबाइल न देकर दिमाग को शार्प करने वाले कुछ गेम्स से कराएं रूबरू। इन ब्रेन स्टॉर्मिंग इनडोर गेम्स से बच्चों का दिमाग भी तेज होगा, वे कुछ नया भी सीखेंगे। जानिए लॉकडाउन में बोरियत से बचने के तरीके in Hindi, Lockdown me Boriyat, कोरोना वायरस, कोविड-19, Brain storming indoor games for children.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    कोरोना वायरस, कोविड-19 अप्रैल 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    Online Education- बच्चों के लिए ऑनलाइन एज्युकेशन

    कोविड के दौरान ऑनलाइन एज्युकेशन का बच्चों की सेहत पर क्या असर हो रहा है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ अगस्त 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं/teach children kind to animals

    अपने बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया shalu
    प्रकाशित हुआ जुलाई 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    स्ट्रॉबेरी लेग्स

    आपकी खूबसूरती को बिगाड़ सकते हैं स्ट्रॉबेरी लेग्स, जानें इसे दूर करने के घरेलू उपाय

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    बच्चों में पिनवॉर्म -pinworms in kids

    बच्चों में पिनवॉर्म की समस्या और इसके घरेलू उपाय

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें