परिवार का साथ नाश्ता करना बच्चों के लिए क्याें है जरूरी?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

सुबह का नाश्ता स्वास्थ्य के लिहाज से दिन का सबसे जरूरी आहार माना जाता है। साथ ही इसके स्वास्थ्य लाभों से भी हम सभी अच्छे से वाकिफ हैं। लेकिन, क्या आप यह जानते हैं कि बच्चों का परिवार के साथ नाश्ता करना उन पर काफी असर डालता है। बीते दिनों हुई एक रिसर्च की मानें, तो परिवार के साथ नाश्ता करने से बच्चों और टीनएजर्स पर काफी सकारात्मक पड़ता है।

परिवार के साथ नाश्ता करने को लेकर क्या कहते हैं शोध के नतीजे

शोधकर्ताओं के अनुसार, कई कारणों से टीनएजर्स सोशल मीडिया के दवाब में रहते हैं। इसके चलते कई बार खाने-पीने से जुड़ी गलत जानकारी को भी सही समझ लेते हैं। इससे उन्हें ईटिंग डिसॉर्डर जैसी समस्याएं हो जाती हैं। यह अध्ययन सोशल वर्क इन पब्लिक हेल्थ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ था। इसमें मिसौरी कोलंबिया विश्वविद्यालय, टेनेसी-नॉक्सविले विश्वविद्यालय और वाशबर्न विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में 12,000 से अधिक छात्रों की खाने की आदतों का रिकॉर्ड रखा गया। शोधकर्ताओं ने परिवार का साथ खाना से जुड़े विषयों पर अध्ययन में पाया कि इन छात्रों में से 50% से अधिक ने सप्ताह में पांच दिन ठीक से नाश्ता किया, 30% से अधिक ने कम नाश्ता किया और लगभग 17% ने पूरे हफ्ते कभी भी नाश्ता ही नहीं किया, जो बच्चे नियमित रूप से नाश्ता करते हैं, उनमें सकारात्मक उर्जा होने की संभावना अधिक होती है, खासकर यदि वे नियमित रूप से परिवार के साथ नाश्ता करते हैं।

यह भी पढ़ें : बच्चे को ब्रश करना कैसे सिखाएं ?

परिवार का साथ नाश्ता करना बच्चों के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

  • माता-पिता के लिए यह सुनना कोई नई बात नहीं है कि बच्चे के विकास के लिए संतुलित भोजन आवश्यक है। एक परिवार के रूप में नाश्ते का रुटीन फॉलो करने के कई लाभ हैं। इससे आपस में आपके रिश्तों को मजबूत होने में मदद मिलती है।
  • इसके अलावा, जो बच्चे अपने परिवार के साथ नाश्ता करते हैं, “वे विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ खाते हैं और जंक फूड का सेवन कम करते हैं।” जिन घरों में बच्चों के साथ तीनों समय खाना खाया जाता है उनके बच्चे बाहर का खाना कम खाते हैं। ऐसा इसलिए भी होता है क्योंकि भूख के समय उनका पेट घर पर ही भर जाता है।
  • पूरे परिवार का साथ खाना/नाश्ता करने से न केवल बच्चों के शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार होता है, बल्कि उनकी मानसिक स्थिति में भी सुधार होता है। विकास और व्यवहार बाल रोग जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, जो बच्चे लंच और डिनर ज्यादातर घर पर ही करते हैं, उनमें अपने शरीर को लेकर आत्मविश्वास भी महसूस करते हैं। क्योंकि वे जानते हैं कि घर का हेल्दी खाना खाने से उनका शरीर मजबूत होता हैं और इन्हें स्वास्थ्य समस्याएं भी कम होती हैं।

यह भी पढ़ें : नवजात शिशु को घर लाने से पहले इस तरह तैयार करें शिशु का घर

परिवार के साथ नाश्ता करने को डेली रूटीन कैसे बनाएं

नाश्ते को पारिवारिक डेली रूटीन बनाना एक चुनौती हो सकती है। जैसा कि डॉ विंटर ने मिसौरी विश्वविद्यालय के एमयू न्यूज ब्यूरो के लिए एक वीडियो में कहा, “ब्रेकफास्ट का समय दिन का एक व्यस्त समय होता है, क्योंकि इस समय माता-पिता खुद काम पर जाने के लिए तैयार हो रहे होते हैं। साथ ही इस समय ही बच्चे स्कूल जाने की तैयारी कर रहे होते हैं। जल्दबाजी में सबका एक समय पर एक साथ बैठकर नाश्ता करना कई बार संभव नहीं हो पाता है।

किशोर बच्चों को पहले जागने के लिए प्रोत्साहित करें

रोजाना दस मिनट पहले जागने से परिवार का साथ नाश्ता करने का एक रुटीन बन सकता है। अपने बच्चों को अलार्म लगाकर सोने और जल्दी उठने के लिए प्रोत्साहित करें। इसके अलावा, उन्हें जल्दी तैयार होकर कपड़े बदलने की आदत डलवाएं।

यह भी पढ़ें : क्या आप अपने बच्चे को खिलाते हैं ये कलरफुल सुपरफूड ?

बच्चे का पसंदीदा भोजन तैयार करें

ब्रेकफास्ट में अपने बच्चे को उसका पसंदीदा खाना बनाकर दें। बच्चे को नाश्ते कराने का ये सबसे बेस्ट तरीका है। आप चाहें, तो सैंडविच या पैन केक बना सकते हैं। ये हेल्दी के साथ-साथ टेस्टी भी होते हैं। इससे आपका बच्चा न सिर्फ अपना पसंदीदा खाना खाएगा साथ ही दिन भर एनर्जेटिक भी रहेगा। ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर परिवार के साथ करने से बच्चे को खाने को लेकर सही जानकारी होगी और वो बाहर के खाने की तरफ कम आकर्षित होगा।

यह भी पढ़ें: आसानी से बनाएं ये पांच हेल्दी ब्रेकफास्ट; करेगा आपकी सेहत को काफी अपलिफ्ट

मदद करने की आदत बनाएं बच्चों में

परिवार के साथ नाश्ता करने से बच्चों को पोषण और अच्छी आदतों के बारे में मालूम होता है। सिर्फ साथ में खाना खाना ही नहीं अगर आप हर दिन की एक्टीविटी जैसे खरीदारी और कुछ स्पेशल बनाने में भी बच्चों को शामिल करेंगे, तो इससे उनमें उत्सुकता जागेगी।

यह भी पढ़ें: बच्चे की उम्र के अनुसार क्या आप उसे आवश्यक पोषण दे रहे हैं ?

सुबह का नाश्ता शरीर के लिए बहुत जरूरी होता है। यह दिनभर एनर्जेटिक रखता है। दिन की शुरुआत परिवार के साथ ब्रेकफास्ट करने से बच्चों में सकारात्मक सोच पैदा होती हैपरिवार के साथ में खाना खाने से बच्चे व अन्य सदस्यों में भी पॉजिटिव एनर्जी आती है।  

दिन का सबसे अहम भोजन होता है ब्रेकफास्ट

नाश्ता दिन का सबसे अहम भोजन माना जाता है। हेल्दी ब्रेकफास्ट करने से आप की सेहत और वजन दोनों कंट्रोल में रह सकते हैं। रिसर्च में सामने आया है कि नाश्ता न करने वालों की तुलना में रोजाना हेल्दी ब्रेकफास्ट करने वालों को वजन कम करने में आसानी होती है। हेल्दी ब्रेकफास्ट न सिर्फ आपके शरीर और दिमाग को ही ऊर्जा नहीं देता साथ ही पुरे दिन तरोताजा रहने की ताकत भी देता है।

नाश्ता करने वालों को दिन की शुरुआत में ही विटामिन और मिनरल्स जैसे अधिक महत्वपूर्ण पोषक तत्व मिल जाते हैं जो आगे चल कर आपको सेहतमंद रहने में मदद करते हैं। कई रिसर्च ने साबित किया है कि हेल्दी ब्रेकफास्ट दिल कि बीमारियां, डायबिटीज और अधिक वजन के कारण होने वाली बीमारियों के खतरे को टालता है।

नाश्ता मेटाबोलिज्म को तेज करता है जिससे दिन भर में अधिक कैलोरीज कम करने में मदद मिलती है। आमतौर पर, नाश्ते में अनाज, प्रोटीन, कम वसा वाले डेयरी प्रोडक्ट्स, फल और सब्जियां जैसे विभिन्न खाद्य पदार्थ शामिल होने चाहिए।

और पढ़ें :

बच्चों की स्वस्थ खाने की आदतें डलवाने के लिए फ्रीज में रखें हेल्दी फूड्स

एआरएफआईडी (ARFID) के कारण बच्चों में हो सकती है आयरन की कमी

बच्चों के लिए सिंपल बेबी फूड रेसिपी, जिन्हें सरपट खाते हैं टॉडलर्स

बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    बच्चों के लिए नुकसानदायक फूड, जो भूल कर भी उन्हें न दे

    जानिए बच्चों के लिए नुकसानदायक फूड की लिस्ट में कौन-से खाद्य पदार्थ शामिल हैं? एक साल से कम उम्र के बच्चों को अंडा और शहद क्यों नहीं देना चाहिए?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Nidhi Sinha
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    खेल में नंबर-1 आने के लिए बॉडी रखनी पड़ती है फिट, इस तरह खिलाड़ी रखते हैं अपनी बॉडी फिटनेस का ध्यान

    बॉडी फिटनेस खिलाड़ियों के लिए बहुत ही जरूरी होता है। सही डायट और एक्सरसाइज के जरिए ही बॉडी फिटनेस को कायम रखा जा सकता है।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    स्वास्थ्य बुलेटिन, इंटरनेशनल खबरें अप्रैल 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से कैसे बचें?

    जानिए गर्भावस्था के दौरान हिप पेन क्यों होता है? क्या यह परेशानी आम है?Pregnancy के दौरान Hip pain से बचने के क्या-क्या हैं आसान तरीके?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बुढ़ापे में हेल्थ इंश्योरेंस लेने से पहले इन बातों को जानना है जरूरी

    जानिए बुढ़ापे में हेल्थ इंश्योरेंस कैसे है मददगार in hindi. बुढ़ापे में हेल्थ इंश्योरेंस लेने से पहले किन-किन बातों का ध्यान रखें? बुढ़ापे में हेल्थ इंश्योरेंस ले रहें हैं, तो को-पेमेंट फीचर क्यों जानना है जरूरी?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    बीमा/इंश्योरेंस, स्वस्थ जीवन मार्च 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें