home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

प्रेवेनर वैक्सीन: यह वैक्सीन बचा सकती है, बच्चों को कई गंभीर कंडिशंस से

प्रेवेनर वैक्सीन: यह वैक्सीन बचा सकती है, बच्चों को कई गंभीर कंडिशंस से

छोटे बच्चों में इंफेक्शन और कई अन्य समस्याएं अक्सर नोटिस की जा सकती है। असल में, बच्चों की इम्युनिटी कमजोर होती है। ऐसे में, वो बहुत जल्दी बीमार पड़ते हैं और जल्दी संक्रमण का शिकार होते हैं। बच्चों के जल्दी बीमारी पड़ना हर माता-पिता के लिए सबसे बड़ी चिंता का कारण है। ऐसे में, इन समस्याओं से बच्चों को बचाने के लिए वैक्सीनेशन को लगाने की भी सलाह दी जाती है। इन्हीं में से एक वैक्सीन है प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine)। प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) का प्रयोग इंफेक्शन से बचाव के लिए किया जाता है। आइए जानें क्या हैं इस वैक्सीन के फायदे और क्या हो सकते हैं इसके प्रयोग के साइड इफेक्ट्स।

प्रेवेनर वैक्सीन क्या है? (Prevenar vaccine)

प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) का प्रयोग निमोनिया (Pneumonia), मेनिंजाइटिस (Meningitis), ब्लड एंड ईयर इंफेक्शंस (Blood and ear infections) से बचाव के लिए किया जाता है। यह वैक्सीन शरीर को स्वयं की एंटीबॉडीज बनाने में मदद करती है, जिससे इन बीमारियों से बचाव होने में मदद मिलती है। यह वैक्सीन स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया बैक्टीरिया (Streptococcus pneumonia bacteria) के स्ट्रेंस के कारण होने वाली बीमारियों से बचाने में फायदेमंद मानी जाती है। इस वैक्सीन को इंजेक्शन के माध्यम से मसल्स में दिया जाता है। लेकिन, इसे केवल डॉक्टर की सलाह के बाद ही लेना चाहिए। अन्यथा, यह आपके बच्चे के स्वास्थय के लिए हानिकारक हो सकती है।

यह बहुत महत्वपूर्ण है कि इस टीके को प्रभावी बनाने के लिए इसकी सभी खुराकें अवश्य प्राप्त कर लें। हालांकि, इस टीके के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं जैसे वैक्सीन साइट पर रिएक्शंस, भूख में कमी आदि। यही नहीं, यह साइड इफेक्ट्स बदतर भी हो सकते हैं। हालांकि, डॉक्टर इन लक्षणों से बचने या इन्हें कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। अपनी सेफ्टी सुनिश्चित करने के लिए, वैक्सीन प्राप्त करने से पहले, अपने डॉक्टर को यह बताना ज़रूरी है कि क्या आपको कोई अन्य बीमारी है या नहीं। इसके साथ ही आपको डॉक्टर को उन सभी दवाओं के बारे में भी बताना चाहिए, जो आप ले रहे हैं।

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को टीका लगाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। इन सभी के बारे में विस्तार से जानने से पहले प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) के लाभों के बारे में जान लेते हैं।

और पढ़ें: बच्चों को टीकाकरण के बाद दर्द या सूजन की हो समस्या, तो अपनाएं ये उपाय

प्रेवेनर वैक्सीन के फायदे क्या हैं? (Benefits of Prevenar vaccine)

जैसा की पहले ही बताया गया है कि प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) निमोनिया (Pneumonia), मेनिंजाइटिस (Meningitis), ब्लड एंड ईयर इंफेक्शंस (Blood and ear infections) आदि के लिए लाभदायक है। प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) उन बैक्टीरिया से बचाती है, जो न्यूमोकोकल रोग (Pneumococcal disease) का कारण बन सकते है। न्यूमोकोकल डिजीज (Pneumococcal disease) किसी भी ऐसी बीमारी को कहा जा सकता है जो न्यूमोकोकल बैक्टीरिया के कारण होती है। जैसे ईयर इंफेक्शंस (Ear infections), साइनस इंफेक्शंस (Sinus infections), मेनिंजाइटिस (Meningitis), बैक्टीरिमिया (Bacteremia) या निमोनिया (Pneumonia) आदि

किसी भी व्यक्ति को न्यूमोकोकल डिजीज हो सकती है। लेकिन, दो साल से कम उम्र के लोगों, कुछ खास मेडिकल कंडीशंस से पीड़ित लोग, 65 साल से अधिक उम्र के लोग, स्मोकर्स और कमजोर इम्युनिटी (Week WEAK immunity) से पीड़ित लोगों को यह समस्या होने की संभावना अधिक रहती है। अधिकतर न्यूमोकोकल इंफेक्शन (Pneumococcal Infections) माइल्ड होते हैं। लेकिन, कुछ गंभीर सिम्पटम्स भी हो सकते हैं। राहत की बात यह है कि प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) से इस समस्या से बचाव संभव है। अगर बात की जाए प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) की डोज के बारे में, तो बच्चों को इसके चार इंजेक्शंस तक दिए जा सकते हैं।

यह इंजेक्शंस बच्चे की उम्र पर निर्भर करते हैं। वयस्कों को इसका केवल एक ही इंजेक्शन दिया जाता है। ध्यान रहे, कि कभी भी डॉक्टर की सलाह के बिना इस वैक्सीन का प्रयोग न करें। ऐसा करना आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। अब जानते हैं प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) के साइड इफेक्ट्स के बारे में।

प्रेवेनर वैक्सीन

और पढ़ें: प्रिजर्वेटिव फ्री फ्लू वैक्सीन लेना सही है क्या? इसके बारे में आपका जानना बहुत जरूरी है….

प्रेवेनर वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स (Side effects of Prevenar vaccine)

अगर आपके बच्चे को प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) की पहली डोज के बाद कुछ गंभीर एलर्जिक रिएक्शन (Severe allergic reactions) हुए हों, तो उन्हें बूस्टर वैक्सीन नहीं लेनी चाहिए। इसके साथ ही इस वैक्सीन को लेने के बाद साइड इफेक्ट्स पर पूरी नजर रखना जरूरी है। जब आप अपने बच्चे को इसकी बूस्टर डोज दे रहे हों, तो आपको डॉक्टर को बच्चों को इसके कारण पहले होने वाले साइड इफेक्ट्स के बारे में बता देना चाहिए। ऐसा जरूरी नहीं है कि हर किसी को इस वैक्सीन के बाद साइड इफेक्ट्स का अनुभव हो। लेकिन, इसके कारण होने वाले सामान्य साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं:

यह तो थी जानकारी प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) के सामान्य साइड इफेक्ट्स के बारे में। यह सामान्य साइड इफेक्ट्स आमतौर पर कुछ दिनों में खुद ही ठीक हो जाते हैं। लेकिन, अगर आपको इस वैक्सीन के कारण गंभीर एलर्जिक रिएक्शंस (Severe allergic reactions) नजर आएं जैसे सांस लेने में समस्या, होंठ, चेहरे, जीभ या गले आदि, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। इस वैक्सीन के बाद बच्चे को बुखार भी हो सकता है। अगर यह बुखार जल्दी ठीक न हो या यह फीवर 102 डिग्रीज फ़ारेनहाइट (crosses 102 degrees Fahrenheit) से अधिक हो जाए तो तुरंत डॉक्टर से इस बारे में बात करें। इसके अलावा अन्य गंभीर साइड इफेक्ट्स की स्थिति में भी तुरंत मेडिकल अटैंशन जरूरी है। अब जानते हैं कि प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) को लेने से पहले आपको किन चीजों के बारे में पता होना चाहिए?

और पढ़ें: बायोवैक वैक्सीन: हेपेटाइटिस ए वायरस के गंभीर लक्षणों से राहत दिला सकती है ये वैक्सीन!

प्रेवेनर वैक्सीन के बारे में इन चीजों का रखें ध्यान

प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) वो वैक्सीन है, जो माइल्ड इंफेक्शन की शुरुआत करके हमारा शरीर की इम्युनिटी को डेवेलप करने में मदद करती है। इस तरह का इंफेक्शन किसी बीमारी का कारण नहीं बनता है। लेकिन यह शरीर के इम्यून सिस्टम को स्टिमुलेट करता है, जिससे वो भविष्य में किसी भी इंफेक्शंस के खिलाफ बचाव के लिए एंटीबॉडीज प्रोड्यूस करता है। इस वैक्सीन को लेने से पहले आपको इन चीजों के बारे में जानकारी होना जरूरी है:

  • अगर आपके बच्चे को कोई मेडिकल समस्या है, तो प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) के इस्तेमाल से पहले इस बारे में डॉक्टर को अवश्य बता दें। ऐसे में इस वैक्सीन के इस्तेमाल से आपने बच्चे को नुकसान हो सकता है।
  • अगर आपका बच्चा किसी अन्य दवाई (Medicine), हर्बल उत्पाद (Herbal Products) या सप्लीमेंट (Supplement) का सेवन कर रहा है, तो इस बारे में भी अपने डॉक्टर को अवश्य बताएं। क्योंकि कुछ दवाइयां, हर्बल उत्पाद या सप्लीमेंट्स इस वैक्सीन के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं और नुकसानदायक साबित हो सकती हैं।
  • प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) को प्रेग्नेंसी की स्थिति में सुरक्षित माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसका गर्भ में शिशु को बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। हालांकि इसके बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं है। ब्रेस्टफीडिंग की स्थिति में इस वैक्सीन का प्रयोग कितना सुरक्षित है, इसके बारे में भी सही इंफॉर्मेशन मौजूद नहीं है। इसके अलावा यह वैक्सीन किडनी डिजीज या लिवर की समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए कितनी सुरक्षित है? इस बारे में भी लिमिटेड इंफॉर्मेशन मौजूद है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करना न भूलें।
  • अगर आपके बच्चे को इस वैक्सीन के किसी भी घटक से एलर्जी है या कोई अन्य एलर्जी है, तो इस स्थिति में भी इस वैक्सीनेशन से पहले डॉक्टर से बात करना जरूरी है।
  • अगर आपके बच्चे को हाय टेम्प्रेचर (High Temperature) के साथ इंफेक्शन हो, तो भी डॉक्टर को बताना जरूरी है। क्योंकि, इस स्थिति में वैक्सीनेशन को तब तक स्थगित करना जरूरी है, जब तक रोगी पूरी तरह से ठीक न हो जाए।

प्रेग्नेंसी में टीकाकरण की क्यों होती है जरूरत ?

(function() { var qs,js,q,s,d=document, gi=d.getElementById, ce=d.createElement, gt=d.getElementsByTagName, id="typef_orm", b="https://embed.typeform.com/"; if(!gi.call(d,id)) { js=ce.call(d,"script"); js.id=id; js.src=b+"embed.js"; q=gt.call(d,"script")[0]; q.parentNode.insertBefore(js,q) } })()

और पढ़ें: Indirab vaccine: रेबीज के वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए जरूर जानिए इस वैक्सीन के बारे में!

यह तो थी प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) के बारे में जानकारी। यह तो आप समझ ही गए होंगे कि इस वैक्सीन को लेने के बाद आपका शिशु कई समस्याओं और इंफेक्शंस से बच सकता है। लेकिन, इस वैक्सीन के इस्तेमाल से पहले इसके बारे में पूरी तरह से जान लें। अगर इसके इस्तेमाल के बाद आपके बच्चे को कोई भी समस्या होती है या साइड इफ़ेक्ट नजर आता है, तो तुरंत मेडिकल हेल्प लें। प्रेवेनर वैक्सीन (Prevenar vaccine) को लेकर सबसे जरुरी बात यह है कि इसे हमेशा डॉक्टर की सलाह के बाद ही अपने बच्चे को लगवाएं। अन्यथा, यह कई समस्याओं का कारण भी बन सकती है

आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड