home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बायोवैक वैक्सीन: हेपेटाइटिस ए वायरस के गंभीर लक्षणों से राहत दिला सकती है ये वैक्सीन!

बायोवैक वैक्सीन: हेपेटाइटिस ए वायरस के गंभीर लक्षणों से राहत दिला सकती है ये वैक्सीन!

हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A virus) की वजह से संक्रामक लीवर इंफेक्शन (Contagious liver infection) की समस्या का सामना करना पड़ता है। हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) की समस्या हल्की से लेकर गंभीर तक हो सकती हैं। यही नहीं, दुर्लभ लेकिन कई मामलों में यह रोग मृत्यु का कारण भी बन सकता है। ऐसे में जरूरी है सही समय पर इसके लक्षणों को पहचानना और उपचार कराना। आज हम बात करने वाले हैं बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) के बारे में, जिसका इस्तेमाल हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A Virus) के उपचार के लिए किया जाता है। इस बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) को बायोवैक ए वैक्सीन भी कहा जाता है। आइए जानें इस वैक्सीन के बारे में विस्तार से।

बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) क्या है?

जैसा की पहले भी बताया गया है कि बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) का प्रयोग हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) से बचाव के लिए किया जाता है। यह हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A virus) के कारण होने वाली लीवर की एक गंभीर समस्या है। यह संक्रमण दूषित पानी और भोजन के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक फैल सकता है। अगर 6 महीनों के अंतराल में इस वैक्सीन के दो शॉट्स दिए जाएं, तो यह बेहद सुरक्षित और प्रभावी है। लॉन्ग टर्म प्रोटेक्शन के लिए दो शॉट्स लेना जरूरी है। इस इंजेक्शन को डॉक्टर द्वारा दिया जाता है। 12 महीने के शिशु से लेकर 18 साल तक के वयस्क को इस वैक्सिनेशन की सलाह दी जाती है। आप अपने बच्चे को इसकी पहली डोज कब दे सकते हैं, इसके बारे में जानना बेहद जरूरी है।

अगर किसी वयस्क ने पहले इस वैक्सीन को नहीं लिया है लेकिन वो हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) से सुरक्षा चाहता, तो वो भी इस वैक्सीन को ले सकता है। हेपेटाइटिस से बचाव का सबसे बेहतरीन तरीका है वैक्सिनेशन। वैक्सीन्स की संख्या और टाइमिंग इस बात पर निर्भर करता है कि आपको किस तरह की वैक्सीन दी जा रही है। हेपेटाइटिस ए को फैलने से बचाने में अच्छी हाइजीन की आदतें भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। लेकिन, इस वैक्सीन के कुछ साइड इफेक्ट्स भी नजर आ सकते हैं। गंभीर साइड इफेक्ट्स की सूरत में तुरंत डॉक्टर की सलाह जरूरी है। पहले जानते हैं कि बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) के लाभ क्या हैं?

और पढ़ें: Indirab vaccine: रेबीज के वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए जरूर जानिए इस वैक्सीन के बारे में!

बायोवैक वैक्सीन के फायदे (Benefits of Biovac Vaccine)

बायोवैक वैक्सीन(Biovac Vaccine) यानी बायोवैक ए वैक्सीन के प्रयोग हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) से बचाव के लिए किया जाता है। यह समस्या हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A virus) के कारण होती है। इस वैक्सीन की मदद से शरीर को एंटीबॉडीज बनाने में मदद मिलती है जिससे हमारे शरीर की इम्युनिटी विकसित होती है। इससे हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A virus) से बचाव होता है। आमतौर पर इस वैक्सिनेशन की सलाह उन लोगों को दी जाती है जिन्हें हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) होने की संभावना अधिक होती है। अब जानते हैं कि इस इंजेक्शन से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

और पढ़ें: बैक्टीरियल जॉइन्ट इन्फ्लेमेशन! जानिए दर्द और इंफेक्शन से जुड़ी इस तकलीफ को

बायोवैक वैक्सीन लेने से पहले इन बातों का रखें ख्याल!

बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) को हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) के लिए बहुत प्रभावी माना जाता है। लेकिन, इस वैक्सीन से पहले कुछ चीजों का खास ध्यान रखना बेहद जरूरी है। सबसे पहले तो इस वैक्सीन को बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। क्योंकि, इस वैक्सीन के कई साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। जानिए, इससे इस वैक्सीन को लेने से पहले किन बातों का ख्याल रखना चाहिए:

  • बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) को कभी भी गर्भावस्था की स्थिति में न लें। इस स्थिति में इस वैक्सीन को लेने से शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। अगर आप गर्भवती हैं या ब्रेस्टफीडिंग करा रही, हैं तो इस वैक्सीन से पहले डॉक्टर की सलाह लेना न भूलें।
  • अगर आपको कोई एलर्जी या अन्य हेल्थ संबंधी समस्या है, तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से इसके बारे में बात कर लें। क्योंकि, कुछ हेल्थ कंडिशंस में इस वैक्सीन को लेना आपकी कंडिशन को बदतर बना सकता है। हालांकि, किडनी और लीवर की समस्याओं में इसे लेना सुरक्षित माना जाता है। लेकिन, फिर भी डॉक्टर से सलाह लेना अनिवार्य है।
  • अगर आप किसी अन्य दवा, हर्बल उत्पाद या सप्लीमेंट का सेवन कर रहे हैं, तो भी इस वैक्सीन से पहले अपने डॉक्टर को अवश्य बताएं। क्योंकि, यह वैक्सीन आपके द्वारा ली जाने वाली दवा, हर्बल उत्पाद या सप्लीमेंट के प्रभाव को कम कर सकती है। यही नहीं, इससे वैक्सीन का प्रभाव भी कम हो सकता है या आपको कोई समस्या भी हो सकती है।

और पढ़ें: बैक्टीरियल एंडोकार्डाइटिस (Bacterial endocarditis): हार्ट में होने वाला ये इंफेक्शन हो सकता है जानलेवा

अगर आप एल्कोहॉल का सेवन करते हैं, तो भी बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) यानी बायोवैक ए वैक्सीन को लेने से पहले अपने डॉक्टर को अवश्य बताएं। क्योंकि एल्कोहॉल से भी इस वैक्सीन का प्रभाव कम हो सकता है। ऐसे में आपको डॉक्टर सीमित मात्रा में इसका सेवन करने की सलाह दे सकते हैं। अब जानते हैं कि इस वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स क्या हो सकते हैं?

बायोवैक वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स (Side effects of Biovac Vaccine)

बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) को पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है। इस वैक्सीन को प्रयोग से पहले कई सालों तक टेस्ट किया गया है। लेकिन, कुछ लोगों के इसके साइड इफेक्ट्स का अनुभव हो सकता है। यह साइड इफेक्ट्स माइल्ड से लेकर मॉडरेट तक हो सकते हैं। इसके सामान्य साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं:

  • जी मचलना (Nausea)
  • इंजेक्शन साइट पर दर्द (Pain at injection site)
  • गले में खराश (Sore throat)
  • पेट में दर्द (Abdominal pain)
  • एनाफिलेक्सिस रिएक्शन (Anaphylactic reaction)
  • कंवल्शन (Convulsion)
  • थकावट (Fatigue)
  • बुखार (Fever)
  • सिरदर्द (Headache)
  • भूख कम लगना (Loss of appetite)
  • बेचैनी का अनुभव होना (Feeling of discomfort)
  • इंजेक्शन साइट पर लालिमा (Redness at injection site)
  • इंजेक्शन साइट पर खुजली (Itching at injection site)
  • उल्टी आना (Vomiting)
  • फ्लशिंग (Flushing)

बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) के अधिकतर साइड इफेक्ट्स में किसी मेडिकल हेल्प की जरूरत नहीं होती है। यह लक्षण समय के साथ खुद ही ठीक हो जाते हैं। लेकिन, अगर यह समस्या अधिक बढ़ जाए, तुरंत डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है।

बायोवैक वैक्सीन

और पढ़ें: ट्रायकसपिड वॉल्व एंडोकार्डाइटिस : इस तरह से पहचानें दिल के इस इंफेक्शन के संकेतों को!

बायोवैक वैक्सीन को कब लेना चाहिए?

बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) को आमतौर पर सिंगल इनिशियल इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है। इसके बाद इसकी दूसरी डोज छह या बारह महीने बाद दी जाती है। यह दोनों डोज आपको कम से कम बीस साल तक इंफेक्शन से बचाव में मदद करती हैं। अगर कोई व्यक्ति ऐसी जगह पर ट्रेवल करने वाला है। जहां यह बीमारी होने की संभावना अधिक है, तो उसे जाने से कम से कम दो हफ़्तों पहले इस वैक्सीन की इनिशियल डोज ले लेनी चाहिए। इसके बारे में डॉक्टर से बात करना भी जरूरी है। अब जान लेते हैं इस वैक्सीन के इंटरैक्शन के बारे में।

और पढ़ें: दिल से जुड़ी तकलीफ ‘मायोकार्डियम इंफेक्शन’ बन सकती है परेशानी का सबब, कुछ ऐसे रखें अपना ख्याल!

बायोवैक वैक्सीन के साथ इंटरैक्शन (Interaction with Biovac Vaccine)

जैसा की पहले भी बताया गया है कि अगर आप कोई और मेडिसिन, ओवर द काउंटर मेडिसिन या सप्लीमेंट ले रहे हैं, तो आपको इस वैक्सीन से पहले अपने डॉक्टर को अवश्य बताना चाहिए। क्योंकि, इनके कारण इस वैक्सीन का प्रभाव बदल सकता है। इससे आपको साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं या ऐसा भी हो सकता है कि यह ड्रग सही से काम न करे। यह वैक्सीन इन ड्रग्स या उत्पादों के साथ इंटरैक्ट कर सकती है:

यह उन ड्रग्स या उत्पादों की पूरी लिस्ट नहीं हैं, जिनके कारण इस वैक्सीन का प्रभाव बदल सकता है। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। इस वैक्सीन के बाद कुछ लोग चक्कर आना या ध्यान लगाने में समस्या जैसी परेशानियां भी अनुभव कर सकते हैं। अगर ऐसा है तो इस वैक्सीन के बाद आपको ऐसा कोई भी काम नहीं करना चाहिए, जिसमें ध्यान लगाने की जरूरत हो जैसे ड्राइव करना। कुछ स्थितियों में भी इस वैक्सीन को न लेने की सलाह दी जाती है, जैसे:

इसके बारे में भी पहले ही अपने डॉक्टर से पूरी जानकारी ले लें। ताकि बाद में आपको कोई समस्या न हो। अब जानते हैं इसकी डोज के बारे में।

और पढ़ें: हार्ट इंफेक्शन और माइट्रल वॉल्व इंफेक्शन: बैक्टीरिया बन सकते हैं इस संक्रमण की वजह

बायोवैक वैक्सीन की डोज (Dose of Biovac Vaccine)

बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) की आपको कितनी डोज लेनी है, यह बात डॉक्टर निर्धारित करते हैं। इस डोज को निर्धारित करने के लिए रोगी की उम्र, कंडिशन आदि को ध्यान में रखा जाता है। कभी डॉक्टर द्वारा बताई डोज से अधिक मात्रा में इसे नहीं लेना चाहिए। क्योंकि, अधिक मात्रा में इसे लेने से आपकी समस्या का उपचार नहीं होगा। बल्कि, आपको गंभीर साइड इफेक्ट्स का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपको ऐसा महसूस होता है कि आपने बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) की अधिक डोज ग्रहण कर ली है, तो तुरंत मेडिकल हेल्प लेना जरूरी है। कभी भी अपने दोस्तों या अन्य लोगों के कहने पर इस वैक्सीन को न लें। इस वैक्सीन को तभी लेना चाहिए जब डॉक्टर इसकी सलाह लें।

यह वैक्सीन सभी के लिए इफेक्टिव है। अगर आपको ऐसा लगता है कि आप या आपका बच्चा हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A virus) के संपर्क में आ सकता है या आये हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें। ऐसी स्थिति में डॉक्टर आपको तुरंत वैक्सिनेशन के लिए कह सकते हैं। अगर आप हाल ही में हेपेटाइटिस ए वायरस (Hepatitis A virus) के संपर्क में आए हैं। लेकिन, आपने हेपेटाइटिस ए वैक्सिनेशन नहीं कराई है, तो आपको आपको हेपेटाइटिस ए वैक्सीन (Hepatitis A vaccine) या ग्लोब्युलिन से लाभ हो सकता है। लेकिन यह वैक्सीन और इम्यून ग्लोब्युलिन केवल तभी प्रभावी होती हैं। अगर वायरस के सम्पर्क में आने के दो हफ़्तों के भीतर इन्हें लिए जाए।

प्रेग्नेंसी में टीकाकरण की क्यों होती है जरूरत ?

और पढ़ें: Cholesterol Injection: कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने का इंजेक्शन कम करेगा हार्ट अटैक का खतरा

यह तो थी बायोवैक वैक्सीन (Biovac Vaccine) या बायोवैक ए वैक्सीन के बारे में पूरी जानकारी। लेकिन, इस वैक्सीन को लगाने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क अवश्य करें। हेपेटाइटिस ए (Hepatitis A) एक गंभीर समस्या है। इसलिए अगर आप इसके लक्षणों को सही समय पर पहचान कर उपचार करा लेते हैं, तो आप इसके कारण होने वाली समस्याओं से बच सकते हैं। हेपेटाइटिस ए से बचने के लिए आपको गुड हाइजीन हैबिट्स का पालन करना चाहिए। इसके साथ ही साफ-सफाई रखना भी जरूरी है। उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब अपने मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/08/2021 को
और Admin Writer द्वारा फैक्ट चेक्ड
x