home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स इंफेक्शन, जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स इंफेक्शन, जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

प्रेग्नेंसी के दौरान कई बार महिलाओं को पेट में दर्द महसूस होता है। जानकारी न होने की वजह से वो इससे परेशान हो जाती हैं। ये अपेंडिक्स में इंफेक्शन के कारण उत्पन्न हुआ दर्द हो सकता है। एपेंडिसाइटिस के कारण अपेंडिक्स में सूजन आ जाती है। प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स की समस्या होना आम बात है। प्रेग्नेंसी के दौरान अपेंडिक्स में इंफेक्शन होने के कई कारण हो सकते हैं। हमे पहले इस बारे में जानकारी होनी चाहिए कि आखिर अपेंडिक्स होता क्या है?

क्या होता है अपेंडिक्स?

अपेंडिक्स पेट के राइट साइड में एक अंग होता है।ये खाने में सेल्युलोज को पचाने का काम करता है। आज के समय में इसका उपयोग न के बराबर ही होता है। खाना खाने के दौरान अगर इसमे भोजन का कुछ अंश रह जाता है तो ये समस्या शुरू कर देता है। ऐसा नहीं है कि ये केवल प्रेग्नेंसी के दौरान ही होता है। इससे कोई भी व्यक्ति परेशान हो सकता है।

और पढ़ें : स्पर्म काउंट किस तरह फर्टिलिटी को करता है प्रभावित?

एक महिला के शरीर में अपेंडिक्स का क्या काम है?

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स का मुख्य काम इन्टेसटाइन के लिए अच्छे यानी स्वास्थ्यवर्धक बैक्टीरिया को स्टोर करना होता है। हाइजीन का ख्याल रखने के कारण अच्छे बैक्टीरिया का उपयोग शरीर कम मात्रा में करता है। ये कहां जा सकता है कि अपेंडिक्स की जरूरत तो होती है, लेकिन इसकी अधिक जरूरत का कोई प्रमाण नहीं है। शोधकर्ताओं के अनुसार, जब आंत से बचा हुआ खाना बाहर निकल जाता है तो अपेंडिक्स में ​छिपे हुए बैक्टीरिया बाहर आते हैं और एक ऐसी लाइनिंग तैयार करते हैं, जिससे दूसरे हार्मफुल बैक्टीरिया नुकसान नहीं पहुंचा पाते हैं। अगर किसी भी महिला या पुरुष में अपेंडिक्स नहीं है तो भी कोई घबराने की बात नहीं होती है। इसी कारण अपेंडिक्स में समस्या होने पर डॉक्टर उसे हटाना ही सरल उपाय समझते हैं।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही में अपनाएं ये डायट प्लान

किस कारण से होती है प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स (Appendix in pregnancy) की समस्या?

अपेंडिक्स की समस्या एक वार्म से जुड़ी है जिसे पिनवार्म कहा जाता है। जब पेट के निचले हिस्से में कोई चुभने वाली चीज चली जाती है तो इसके फंसने से इंफेक्शन की समस्या हो सकती है। कई बार तो मल-मूत्र ही अपेंडिक्स में जाकर फंस जाता है और सूजन का कारण बन जाता है। प्रेग्नेंसी के दौरान शिगेला बैक्टीरिया के कारण इंफेक्शन होने की संभावना रहती है। अगर अपेंडिक्स में स्टोन की समस्या है तो ये भी अपेंडिक्स के सूजन का कारण बन सकता है।

और पढ़ें : दूसरी तिमाही में गर्भवती महिला को क्यों और कौन से टेस्ट करवाने चाहिए?

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स (Appendix in pregnancy) के क्या हैं लक्षण?

डिस्चार्ज नहीं है अच्छा संकेत

प्रेग्नेंसी के दौरान अगर आपको डिस्चार्ज की समस्या हो रही है तो एक बार अपने डॉक्टर से जरूर मिलें, क्योंकि हो सकता है कि ये अपेंडिक्स में इंफेक्शन का लक्षण हो।

प्रेग्नेंसी के दौरान पेट में दर्द की समस्या

गर्भावस्था के दौरान पेट में कभी-कभार दर्द होना आम बात होती है। गर्भावस्था में इस बात की जानकारी जरूर होनी चाहिए कि दर्द किस कारण से हो रहा है । जब पेट के राइट लोअर हिस्से में दर्द महसूस हो तो ये अच्छा संकेत नहीं है। ये अपेंडिक्स के इंफेक्शन का कारण हो सकता है।

तेज बुखार के साथ जी मिचलाना

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स इंफेक्शन में जी मिचलाना और बुखार आना भी आम है। प्रेग्नेंसी के दौरान उल्टी को आम माना जाता है, लेकिन दूसरी तिमाही के बाद अगर आपको ऐसा महसूस हो रहा है तो ये खतरे का संकेत हो सकता है।

कब्ज की समस्या होना

प्रेग्नेंसी के दौरान भूख लगती है, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है या फिर कब्ज की समस्या हो रही है तो आपको सावधान हो जाना चाहिए।

और पढ़ें : गर्भावस्था में पेरेंटल बॉन्डिंग कैसे बनाएं?

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स (Appendix in pregnancy) कैसे किया जाता है डायग्नोस?

यदि प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स की समस्या है तो महिला को पेट में दर्द का अनुभव हो सकता है। अगर महिला को प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स की समस्या होती है तो डॉक्टर कुछ जांट के लिए लिख सकता है।

1. रक्त परीक्षण (Blood tests)

वाइट ब्लड सेल्स नंबर का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण किया जा सकता है, जो आमतौर पर बढ़ जाता है जब प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स होता है।

2. इमेजिंग परीक्षण (Imaging tests)

एमआरआई और सीटी इमेजिंग परीक्षण का उपयोग कर कम्प्यूटर की ईमेज प्राप्त की जाती है।ऐसा करके अपेंडिक्स की कंडीशन का पता लगाया जा सकता है।

3. यूरिन टेस्ट (Urine test)

प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स के कारण आमतौर पर यूटीआई की समस्या हो जाती है। मूत्र परीक्षण के माध्यम से समस्या का पता लगाया जाता है।

यदि आप प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स के लक्षणों में से किसी एक का अनुभव करते हैं, तो इसका मतलब हो सकता है कि आपको अपेंडिक्स सर्जरी की जरूरत पड़े। प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स का इलाज कैसे कराना है, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करें।

कैसे होता है गर्भावस्था में अपेंडिक्स की समस्या (Appendix in pregnancy) का उपचार?

जब आपको पेट में दर्द की समस्या हो और साथ ही कब्ज भी हो गया हो तो एक बार डॉक्टर से चेकअप जरूर कराएं। डॉक्टर आपके ब्लड की जांच करेगा। साथ ही एमआरआई और सीटी इमेजिंग परीक्षण भी कर सकता है। यूरिन की जांच भी की जा सकती है। अपेंडिक्स के दौरान हल्की सूजन को मेडिसिन की हेल्प से सही किया जाता है। समस्या ज्यादा होती है तो सर्जरी के माध्यम से इसे ठीक किया जाता है।

मेडिकेशन

अगर गर्भावस्था में अपेंडिक्स की समस्या की समस्या बहुत ज्यादा नहीं है तो डॉक्टर इसे मेडिकेशन के माध्यम से सही करने की कोशिश करेगा। टेबलेट्स और इंट्रावेनस मेडिकेशन की हेल्प से इसे ठीक करने की कोशिश की जा सकती है।

लेप्रोस्कोपिक एपेन्डेक्टॉमी

यदि प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स में अत्यधिक सूजन है या डॉक्टर को लगता है कि अपेंडिक्स में छिद्र है तो इसका एकमात्र तरीका लेप्रोस्कोपिक एपेन्डेक्टॉमी सर्जरी होगा। यदि प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स की समस्या पहले या दूसरे सेमेस्टर में हैं तो लेप्रोस्कोपी की मदद से इसे हटाया जा सकता है। अगर महिला तीसरी तिमाही में हैं तो इसे बड़े चीरे की आवश्यकता हो सकती है। ऐसे में एपेंडिसाइटिस सर्जरी की जरूरत पड़ेगी।

सर्जरी के बाद डॉक्टर ये देखता है कि शिशु को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो। साथ ही मां की डिलिवरी समय से पहले न हो जाए। ज्यादातर मामलों में, सर्जरी से कोई नुकसान नहीं होता है और मां को गर्भावस्था कोई परेशानी नहीं होती है।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : IVF को सक्सेसफुल बनाने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

गर्भावस्था में अपेंडिक्स की समस्या (Appendix in pregnancy) के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

अगर आपको प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स की समस्या है तो डॉक्टर से जांच कराके इसका निदान करें व कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें, जैसे

  1. खाने में हेल्दी डायट को शामिल करें। हो सके तो फाइबर फूड को ज्यादा लें। अगर आपकी सर्जरी हुई है तो इस दौरान भारी सामान उठाने से बचें।
  2. पानी की मात्रा शरीर में कम न होने दें। अधिक मात्रा में पानी पिएं
  3. सर्जरी के बाद खुद को आराम दें।
  4. डॉक्टर की दी गई सलाह को मानें, क्योंकि आपकी प्रेग्नेंसी भी साथ चल रही है। इस दौरान लापरवाही बरतना आपके बच्चे के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।
  5. अगर लंबे समय तक महिला अपेंडिक्स के लक्षणों को इग्नोर करती रहेगी तो एक समय ऐसा भी आएगा, जब अपेंडिक्स के फटने की संभावना बढ़ जाएगी। आगे चलकर ये मां और भ्रूण की मॉर्बिडिटी संबंधित समस्या को जन्म दे सकता है।

अगर प्रेग्नेंसी में अपेंडिक्स की समस्या बहुत ज्यादा नहीं है तो डॉक्टर अपने हिसाब से केस हैंडिल करेंगा। किसी भी समस्या के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

 

Appendicitis During Pregnancy      https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4923620/ Accessed 19 Dec, 2019

Appendicitis in pregnancy: diagnosis, management and complications https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/10535336/ Accessed 19 Dec, 2019

Appendicitis https://my.clevelandclinic.org/health/articles/5186-pregnancy-having-a-healthy-pregnancy Accessed 19 Dec, 2019

Appendicitis   https://www.clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT00371722 Accessed 19 Dec, 2019

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/08/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड